कृपाराम बारहठ

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कृपाराम बारहठ राजस्थानी कवि एवं नीतिकार थे। उन्होने 'राजिया रा दूहा' नामक नीतिग्रन्थ की रचना की। वे राव राजा देवी सिंह के समय में हुए थे।

कवि कृपाराम जी तत्कालीन मारवाड़ राज्य के खराडी गांव के निवासी खिडिया शाखा के चारण जाति के जगराम जी के पुत्र थे | वे राजस्थान में शेखावाटी क्षेत्र में सीकर के राव राजा देवीसिंह के दरबार में रहते थे. पिता जगराम जी को नागौर के कुचामण के शासक ठाकुर जालिम सिंह जी ने जसुरी गांव की जागीर प्रदान की थी. वहीं इस विद्वान कवि का जन्म हुआ था | राजस्थानी भाषा डिंगल और पिंगल के उतम कवि व अच्छे संस्कृज्ञ होने नाते उनकी विद्वता और गुणों से प्रभावित हो सीकर के राव राजा लक्ष्मण सिंह जी ने महाराजपुर और लछमनपुरा गांव इन्हे वि.स, 1847 और 1858 में जागीर में दिए थे.


राजिया रा सौरठा

नीति सम्बन्धी राजस्थानी सोरठों में "राजिया रा सौरठा" सबसे ज्यादा प्रसिद्ध है भाषा और भाव दोनों दृष्टि से इनके समक्ष अन्य कोई दोहा संग्रह नही ठहरता | संबोधन काव्य के रूप में शायद यह पहली रचना है | इन सौरठों की रचना राजस्थान के प्रसिद्ध कवि कृपाराम जी ने अपने सेवक राजिया को संबोधित करते हुए की थी. किंवदंती है कि अपने पुत्र विहीन सेवक राजिया को अमर करने के लिए ही विद्वान कवि ने उसे संबोधित करते हुए नीति सम्बन्धी दोहों की रचना की थी. माना जाता है कि कृपाराम रचित सोरठों की संख्या लगभग 500 रही है, लेकिन अब तक 170 दोहे ही सामने आये हैं. इनमें लगभग 125 प्रामाणिक तौर पर उनकी रचना हैं।

राजिया कृपाराम का नौकर था. उसने कवि कृपाराम की अच्छी सेवा की थी. उसकी सेवा से प्रसन्न होकर कवि ने उससे कहा कि मैं तेरा नाम अमर कर दूंगा. ऐसा भी प्रसिद्ध है कि राजिया के कोई संतान नहीं थी, जिससे वह उदास रहा करता था उसकी उदास आकृति देखकर कृपाराम ने उसकी उदासी का कारण पूछा. तब राजिया ने कहा "मेरे कोई संतान नहीं हैं और संतान के आभाव में मेरा वंश आगे नहीं चलेगा और मेरा नाम ही संसार से लुप्त हो जाएगा." इस पर कवि ने उससे कहा- 'तू चिंता मत कर तेरा नाम लुप्त नहीं होगा, मैं तेरा नाम अमर कर दूंगा.

फिर कवि कृपा राम ने नीति के दोहों की रचना की और उनके द्वारा उन्होंने रजिया का नाम सचमुच अमर कर दिया है. इन दोहों की रचना कवि ने रजिया को सम्बोधित करते हुए की. प्रत्येक दोहे के अंत में 'राजिया' (हे राजिया ) सम्बोधन आता है। ये दोहे भी राजिया के दोहे या राजिया रे सौरठे नाम से ही प्रसिद्ध हुए. किसी कवि ने अपने नाम की बजाय अपने सेवक का नाम प्रतिष्ठित करने के लिए कृति रची हो, इसकी केवल यही मिसाल है।

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

jkft;k jk nwgk uSUgk feu[k uthd mejkoka vknj ughaA Bdj ft.kuS Bhd j.k ess iM+lh jkft;kAA tks NksVs vknfe;ksa ¼Nqnz fopkjksa okys½ dks lnSo vius fudV j[krk gS vkSj mejkoksa ¼lq;ksX; o l{ke O;fDr;ksa½ dk tgk¡ vuknj gS] ml Bkdqj ¼iz’kkld½ dks j.kHkwfe esa ¼ladV ds le;½ ijkt; dk eaqg ns[kus ij gh viuh Hkwy dk vglkl gksrk gSA ekuS dj fut ehp ij lair ns[ks virA fuiV nq%[kh OgS uhp] jhlk cG&cG jkft;kAA yks ?kM+rk t yqgkj eu lqHkbZ ns ns eq.kSA lqeka jS mj lkj jgS ?k.kk fnu jkft;kAA gqoS u cw>/lgkj tk.kS dq.k dher tBSA fcu xzkgd O;kikj] :G~;ka fxf.ktS jkft;kAA rte u lkjh ?kkr bdrkjh jk[kS b/kdA ok feu[kka jh ckr] jke fuHkkoS jkft;kAA ifV;kGkS ykgkSj than Hkjriqj tks;ySA tkVka gh es tksj fjtd izek.kS jkft;kAA [kx >M+ okT;k [ksr ix ft.k ij ikNk iMSA jtiwrh es jsr jkG uphrks jkft;kAA l=q lw fny L;ki] lS.kk lw nks[kh lnkA

csVk lk: cki jkN ?kL;k D;w jkft;kAA

xSyka fxaMd xqyke cqpdkj~;ka ckFkka iMSA dwV~;ka nsoS dke jhl u dhtS jkft;kAA [khap eq¶r jks [kk; djM+ko.k Mwadj djSA yij ?k.kkS yijk; jkaM mpdklh jkft;kAA pkoG ftrjh pksV vfr lkoG dgSA [kksVS eu jks [kksV jgS fpedrkS jkft;kAA vkNk gS mejko] fg;k QwV Bkdqj gqoSA tfM+;k ykSg tM+ko] jru u QkcS jkft;kAA [kx r.kS cG [kk; flj lkVk jkS lwjekA T;kjksa gd jg tk;] jke u HkkoS jkft;kAA le>। kgh.k ljnkj jkth fpr D;klwa jgSA Hkwfe r.kkS Hkjrkj jh>S xq.k lwa jkft;kAA mn~ne djkS vusd vFkok vumn~ne djkSA gkslh fupdS gsd jke djS lks jkft;kAA