कार्तवेली भाषाएँ

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
कॉकस क्षेत्र में कार्तवेली भाषाओँ का फैलाव

कार्तवेली भाषाएँ (जोर्जियाई: ქართველური ენები, अंग्रेज़ी: Kartvelian languages) या दक्षिण कॉकसी भाषाएँ (South Caucasian) कॉकस क्षेत्र में मुख्य रूप से जोर्जिया में बोली जानी वाली भाषाओँ का एक समूह है। जोर्जिया के आलावा इन्हें रूस, संयुक्त राज्य अमेरिका, यूरोप, इस्राइल और पूर्वोत्तरी तुर्की में भी जहाँ-तहाँ बोला जाता है।[1][2] दुनिया भर में इन्हें बोलने वालों की संख्या क़रीब ५२ लाख अनुमानित की गई है। इन भाषाओँ का विश्व की अन्य भाषाओँ से कोई सम्बन्ध ज्ञात नहीं है।[3] जोर्जियाई भाषा सबसे अधिक बोले जानी वाली कार्तवेली भाषा है और इसे जोर्जिया की राष्ट्रभाषा होने का गौरव प्राप्त है। विश्व की सबसे पुरानी कार्तवेली लिखाई सन् ४४० ईसवी में बेथलहम शहर के जोर्जियाई ईसाई मठ में लगे एक शिलालेख पर मिलती है।[4][5]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "Languages of Israel". मूल से 3 फ़रवरी 2013 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 14 मई 2012.
  2. "Ethnologue entry about the Kartvelian language family". मूल से 2 फ़रवरी 2013 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 14 मई 2012.
  3. Dalby (2002), p. 38
  4. Lang (1966), p. 154
  5. Ruhlen (1987), p. 72