करतारपुर

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
करतारपुर, जालंधर ,पंजाब,भारत
करतारपुर, जालंधर ,पंजाब,भारत की पंजाब के मानचित्र पर अवस्थिति
करतारपुर, जालंधर ,पंजाब,भारत
करतारपुर, जालंधर ,पंजाब,भारत
Location in Punjab, India
करतारपुर, जालंधर ,पंजाब,भारत की भारत के मानचित्र पर अवस्थिति
करतारपुर, जालंधर ,पंजाब,भारत
करतारपुर, जालंधर ,पंजाब,भारत
करतारपुर, जालंधर ,पंजाब,भारत (भारत)
निर्देशांक: 31°26′N 75°30′E / 31.44°N 75.5°E / 31.44; 75.5निर्देशांक: 31°26′N 75°30′E / 31.44°N 75.5°E / 31.44; 75.5
संस्थापकश्री गुरु अर्जुन देव जी
ऊँचाई228 मी (748 फीट)
जनसंख्या (2001)
 • कुल25,152

करतारपुर(English: Kartarpur) जालंधर शहर के पास एक शहर है और राज्य के दोआबा क्षेत्र में स्थित है। यह सिखों के पांचवें गुरु, श्री गुरु अर्जुन देव जी द्वारा स्थापित किया गया था।

भूगोल[संपादित करें]

करतारपुर जालंधर से 15 किलोमीटर की दूरी पर जी.टी. पर अमृतसर की तरफ स्थित है। रोड (राष्ट्रीय राजमार्ग 1)

जनसांख्यिकी[संपादित करें]

2001 की जनगणना के अनुसार, करतारपुर की जनसंख्या 25,152 थी। पुरुषों का आबादी का 54% और महिलाओं की संख्या 46% है। करतारपुर में औसत साक्षरता दर 69% है, जो राष्ट्रीय औसत 59.5% से अधिक है: पुरुष साक्षरता 72% है और महिला साक्षरता 66% है। करतारपुर में, जनसंख्या का 12% 6 साल से कम उम्र का है। करतारपुर में 14 नगरपालिका वार्ड हैं। मैंने इसमें एक नई पृष्ठ के बारे में जानकारी जानकारी दी है

शिक्षा[संपादित करें]

करतारपुर में कॉलेज:-

  • एमजीएसएम जनता कॉलेज, करतारपुर
  • माता गुर्जरी खालसा कॉलेज, करतारपुर

करतारपुर में स्कूल:-

  • माता गुर्जरी पब्लिक स्कूल
  • आर्य गर्ल्स हाई स्कूल
  • दश्मेश पब्लिक स्कूल, खसुपरपुर
  • डीएवी वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय
  • संत बाबा ओकर नाथ वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय, कला बहिया
  • सरकारी वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय
  • सेंट फ्रांसिस कॉन्वेंट स्कूल
  • सेंट सोलिस्टर पब्लिक स्कूल
  • श्री गुरु अर्जुन देव वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय
  • आर्य मॉडल स्कूल
  • दयानंद मॉडल स्कूल
  • दश्मेश पब्लिक स्कूल, खुसरोपुर

धर्म[संपादित करें]

करतारपुर में गुरुद्वारा:-

  • गुरुद्वारा श्री थोमाजी साहिब
  • गुरुद्वारा माता गुर्जरी जी
  • गुरुद्वारा श्री माई भागो जी
  • गुरुद्वारा श्री गंगसर साहिब

मान्यताओं के अनुसार गुरू अर्जुन देव जी ने चमत्कार करके दिखाया था। गुरूद्वारे जाकर उस स्थान के दर्शन किये जा सकते हैं।