कन्हैया (1959 फ़िल्म)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
कन्हैया
कन्हैया.jpg
कन्हैया का पोस्टर
निर्देशक ओम प्रकाश
अभिनेता राज कपूर,
नूतन,
ललिता पवार,
मदन पुरी
संगीतकार शंकर-जयकिशन
प्रदर्शन तिथि(याँ) 1959
देश भारत
भाषा हिन्दी

कन्हैया 1959 में बनी हिन्दी भाषा की फिल्म है। यह ओम प्रकाश द्वारा निर्देशित है। फिल्म में राज कपूर, नूतन और ललिता पवार हैं। संगीत शंकर जयकिशन का था।

संक्षेप[संपादित करें]

शन्नो (नूतन) भारत के एक छोटे से गाँव में अपनी माँ, पारो (लीला मिश्रा) और पिता के साथ रहती है। पारो जानती है कि उसकी बेटी थोड़ी खास है क्योंकि उसने उसे अजीब व्यवहार करते हुए देखा है। कई बार वह बैठ कर गाय से बात करती है। वह भगवान श्री किशन उर्फ ​​कन्हैया की बड़ी भक्त है और वह अकेले जंगल में अपने कन्हैया की धुन पर नाचती रहती है। एक दिन तक, वह वास्तव में कन्हैया (राज कपूर) से मिलती है और उसकी बाहों में गिर जाती है। यह खबर जंगल में आग की तरह फैलती है कि कन्हैया और शन्नो का चक्कर चल रहा है। उन्हें उसी गाँव में रहने के लिए पहले शादी करनी होगी।

शन्नो इस पर रोमांचित होती है और अपनी सहमति दे देती है। कन्हैया अपनी किस्मत पर विश्वास नहीं कर पाता कि वह शन्नो जैसी सुंदर लड़की से शादी कर रहा है। शादी के दौरान, शन्नो को एक झटका लगता है जब वह देखती है कि उसका "कन्हैया" वास्तव में कौन है - शराबी और आलसी आदमी जिसने भगवान किशन के लिए उसके प्यार का फायदा उठाया और उसकी भावनाओं के साथ खेला। अब वह उससे शादी करने पर तुला हुआ है। शन्नो कन्हैया से शादी करने से इनकार कर देती है। यह सब तब होता है जब गाँव बिमारी की चपेट में आता है जो उनके समुदाय को तबाह कर सकता है।

मुख्य कलाकार[संपादित करें]

संगीत[संपादित करें]

सभी शंकर जयकिशन द्वारा संगीतबद्ध।

क्र॰शीर्षकगीतकारगायकअवधि
1."दिल में समाँ के"शैलेन्द्रलता मंगेश्कर3:37
2."रुक जा ओ जाने वाली"शैलेन्द्रमुकेश5:13
3."कहाँ है कहाँ है कन्हैया"हसरत जयपुरीलता मंगेश्कर3:45
4."नि बलिये ऋत है बहार की"शैलेन्द्रलता मंगेशकर, मुकेश4:59
5."ओ कन्हैया ओ कन्हैया"हसरत जयपुरीलता मंगेश्कर6:06
6."ओ मेरे साँवरे सलोने पिया"शैलेन्द्रलता मंगेश्कर,5:16
7."मुझे मेरे हाल पे छोड़ दो"शैलेन्द्रमुकेश5:13
8."याद आई आधी रात को"शैलेन्द्रमुकेश3:57

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]