इब्न सीना

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
अविसन्ना(अंग्रेजी में -"Avicenna")
(Ibn Sīnā  ابن سینا)

Conventional modern portrait (on a silver vase, Avicenna Mausoleum and Museum, Hamadan)
पूरा नाम अविसन्ना(अंग्रेजी में -"Avicenna")
(Ibn Sīnā  ابن سینا)

अबू अली सीना (फारसी: بو علی‌ سینا ; ९८० – १०३७, अंग्रेजी: Avicenna or Ibn-Sina) फारस के विद्वान, दार्शनिक एवं चिकित्सक थे। उन्होने विविध विषयों पर लगभग ४५० पुस्तकें लिखी जिसमें से २४० अब भी प्राप्य हैं। इसमें से १५ पुस्तकें चिकित्सा विज्ञान से संबंधित हैं। उनकी विश्वविख्यात किताब का नाम क़ानून है। यह किताब मध्यपूर्व जगत में मेडिकल सांइस की सबसे ज़्यादा प्रभावी और पढ़ी जाने वाली किताब है। इस प्रकार अपने समय के प्रसिद्ध चिकित्सक थे। अबू अली सीना न केवल नास्तिक चिकित्सकों और दार्शनिकों में सबसे आगे हैं बल्कि पश्चिम में शताब्दियों तक वे चिकित्सकों के सरदार के रूप मे प्रसिद्ध रहे।[कृपया उद्धरण जोड़ें]

इब्न सिन्ना (एविसेना) पर दुनिया की प्राचीनता, उसके (दुनिया के) बाद की अस्वीकृति और "भीतर की महान विचारधारा" के अलावा अन्य नास्तिक सिद्धांतों के बारे में अपने बयानों के कारण काफिर और नास्तिक होने का आरोप लगाया गया था।अन्य विद्वानों जिन्होंने यह कहा कि इब्न सिन्ना एक नास्तिक था (शेख अल-थुवैनी के पहले), अल-ग़ज़ाली, इब्न तैमियाह, इब्न अल-क़ायम और अल-ढाबी है।[1]

दर्शनशास्त्र और चिकित्सा के अलावा, इब्न सीना के संग्रह में खगोल विज्ञान, कीमियागरी, भूगोल और भूविज्ञान, मनोविज्ञान, इस्लामी धर्मशास्त्र, तर्कशास्त्र, गणित, भौतिकी और कविता पर लेखन शामिल है।

परिस्थितियाँ:[संपादित करें]

इब्न सीना ने इस्लामी स्वर्ण युग कहे जाने वाले दौर में लेखन का एक विशाल संग्रह बनाया, जिसमें बाइज़ेंटाइन यूनानी-रोमन, फारसी और भारतीय ग्रंथों के अनुवादों का बड़े पैमाने पर अध्ययन किया गया था।फारस के पूर्वी भाग, प्राचीन ख़ुरासान और मध्य एशिया में समानीद साम्राज्य और फारस के पश्चिमी भाग और इराक में बुईद साम्राज्य ने शैक्षिक और सांस्कृतिक विकास के लिए एक संपन्न वातावरण प्रदान किया।समानीद साम्राज्य के तहत, बुखारा इस्लामी दुनिया की सांस्कृतिक राजधानी के रूप में बगदाद का प्रतिद्वंद्वी बन गया। वहां कुरान और हदीस का अध्ययन बहुत ज़ोर-शोर से चल रहा था। विशेष रूप से इब्न सीना और उनके विरोधियों द्वारा दर्शनशास्त्र, फ़िक़्ह और धर्मशास्त्र (कलाम) को और विकसित किया गया।अल-राज़ी और अल-फराबी ने चिकित्सा और दर्शनशास्त्र में प्रणाली विज्ञान और ज्ञान प्रदान किया। इब्न सीना को बल्ख़, ख़्वारेज़्म, गोर्गान, रे, इस्फ़हान और हमादान के महान पुस्तकालयों तक पहुंच प्राप्त थी। विभिन्न ग्रंथों (जैसे बहमनियार के साथ अहद) से पता चलता है कि उन्होंने उस समय के महानतम विद्वानों के साथ दार्शनिक मुद्दों पर बहस की थी।अरुज़ी समरकंदी ने लिखा है कि कैसे इब्न सीना ने ख़्वारेज़्म छोड़ने से पहले अल बेरुनी (एक प्रसिद्ध वैज्ञानिक और खगोल विज्ञानी), अबू नस्र इराकी (एक प्रसिद्ध गणितज्ञ), अबू सहल मसिही (एक सम्मानित दार्शनिक) और अबू अल-खैर खम्मर एक महान चिकित्सक से मुलाकात की थी।

प्रारंभिक जीवन[संपादित करें]

इब्न सीना का जन्म (लगभग) 980 में, मध्य एशिया और प्राचीन ख़ुरासान के एक फारसी राजवंश, समानीद की राजधानी, बुखारा (वर्तमान उज़्बेकिस्तान में) के पास एक गाँव, अफशाना में हुआ था। उनकी माता, सितारा, बुखारा से थीं। जब कि, अधिकांश विद्वानों के अनुसार, इब्न सीना के अधिकांश परिवार वाले सुन्नी इस्लाम को मानते थे, लेकिन उनके पिता, अब्दुल्लाह, बल्ख़ (वर्तमान अफगानिस्तान में) के एक सम्मानित विद्वान थे, जो शायद इस्माइली पंथ में परिवर्तित हो गए थे या सुन्नी इस्लाम में ही बने रहे थे।

सन्दर्भ[संपादित करें]


बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]