इजराइल-फिलिस्तीन संघर्ष

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
इज़राइल और पश्चिम किनारा, गाज़ा पट्टी और गोलन क्षेत्र

इज़रायली-फिलिस्तीनी संघर्ष जो अभी तक जारी है, इज़राइल और फिलिस्तिनियों के बिच का एक संघर्ष है। यह अरब-इजराइल संघर्ष की एक लम्बी कड़ी है। वास्तव में, यह दो समूहों के बिच एक हि क्षेत्र पर किये गए दावे का संघर्ष है। द्वि-राज्य सिद्धांत के लिए यहाँ कई प्रयास किये गए, जिसमें इजराइल से अलग एक स्वतंत्र फिलिस्तीन राज्य बनाने के लिए कहा गया था।[1] वर्तमान में, इसरायली और फिलिस्तीनियों की बहुमत चाहती है की, (कई मुख्य मत (पोल) के अनुसार) द्वि-राज्य सिद्धांत पर इस संघर्ष को ख़त्म कर दिया जाय।[2][3][4] कई फिलिस्तीनी हैं जो पश्चिम किनारे और गाज़ा पट्टी को भविष्य का अपना राज्य के रूप में देखते हैं, जिस नजरिये को कई इसरायलीयों ने स्वीकारा भी है।[5] कुछ शिक्षाविद एक-राज्य सिद्धांत की वकालत करते हैं और पुरे इजराइल, गाज़ा पट्टी और पश्चिम किनारे को एक साथ रखकर, दो राष्ट्रीयता को एक साथ रखकर एक राज्य बने जिसमें सब के लिए समान अधिकार हो।[6][7] यद्यपि, कुछ ऐसे महत्वपूर्ण क्षेत्र हैं जिनके कारण किसी भी अंतिम निर्णय पर पहुँचने में दोनों पक्ष में असंतोष दिखाई देता है और दोनों पक्षों में एक दुसरे के ऊपर विश्वास का स्तर भी कमजोर है, हर एक पक्ष में कुछ बुनियादी प्रतिबद्धता कायम रखे हुए दिखाई देता है।[8]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. The American Jewish Cocoon September 26, 2013 New York Review of Books
  2. "America through Arab eyes". By Rami G. Khouri. International Herald Tribune. Published April 21, 2008.
    • The latest survey, conducted in March, covered a representative sample of over 4,000 people in Egypt, Jordan, Lebanon, Morocco, Saudi Arabia and the United Arab Emirates (1.6 percent margin of error) ... A majority of Arabs continues to support the two-state solution based on the 1967 borders, though an increasing majority is pessimistic about its prospects.
  3. "Hamas won't go away." The Economist. Published 31 January 2008.
    • Several of Hamas's leaders have hinted that if a majority of Palestinians agreed to a two-state solution in a referendum, the Islamists would abide by the verdict ... The hope among the majority of Palestinians and Israelis who want two states living in peace side by side is that, over time, Hamas will disavow its determination to destroy the Jewish state and enter talks on a lasting peace.
  4. "Just another forgotten peace summit." Haaretz.com. By Prof. Ephraim Yaar and Prof. Tamar Hermann. Published 11/12/2007.
    • Moreover, a considerable majority of the Jewish public sees the Palestinians' demand for an independent state as just, and thinks Israel can agree to the establishment of such a state.
  5. Dershowitz, Alan. The Case for Peace: How the Arab-Israeli Conflict Can Be Resolved. Hoboken: John Wiley & Sons, Inc., 2005
  6. Israel: The Alternative, The New York Review of Books, Volume 50, Number 16, October 23, 2003
  7. Virginia Tilley, The One-State Solution, University of Michigan Press (May 24, 2005), ISBN 0472115138
  8. Haaretz.com.
    • The source of the Jewish public's skepticism - and even pessimism - is apparently the widespread belief that a peace agreement based on the "two states for two peoples" formula would not lead the Palestinians to end their conflict with Israel.