आईयूपीएसी नामपद्धति

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

कार्बन हाईड्रोजन के अलावे दूसरे तत्वों के परमाणुओं से भी संयोग कर यौगिक बनाते हैं यथा: हैलोजन (क्लोरीन, फ्लोरीन, आयोडीन तथा ब्रोमीन), ऑक्सीजन, नाईट्रोजन, सल्फर आदि।

हाईड्रोकार्बन में ये परमाणु एक या एक से अधिक हाईड्रोजन के परमाणु को विस्थापित कर नये यौगिक का निर्माण करते हैं। ये परमाणु हाईड्रोजन के परमाणु को इस तरह विस्थापित करते हैं कि कार्बन की संयोजकता संतुष्ट रहे। ऐसे परमाणुओं को विषम परमाणु कहा जाता है।

विषम परमाणु के समूह जिनसे कार्बन श्रृंखला की लम्बाई तथा प्रकृति पर निर्भर न करते हुए यौगिक को विशिष्ट गुण मिलते हैं, प्रकार्यात्मक समूह (FUNCTIONAL GROUP) कहते हैं।

उदारण: प्रकार्यात्मक समूह (FUNCTIONAL GROUP) की सूची:

हैलो समूह (Halo group:) –Cl [क्लोराईड (Chloride)], –Br [ब्रोमाईड (Bromide)], –I [आयोडाइड (Iodide)] तथा –F [फ्लोराइड (Fluoride)] को हैलो समूह (HALO GROUP) कहा जाता है।

ऐल्कोहल (Alcohol): –OH [ऐल्कोहल समूह (Alcohol group)]

ऐल्डिहाइड (Aldehyde): –COH [ऐल्डिहाइड समूह(Aldehyde group)]

कीटोन (Ketone): –CO– [कीटोन समूह (Ketone group)]

कार्बोक्सिलिक अम्ल (Carboxylic Acid): –COOH [कार्बोक्सिलिक अम्ल समूह (Carboxylic acid group)]

ये प्रकार्यात्मक समूह हाइड्रोकार्बन की श्रृंखला के साथ जुड़्कर नये यौगिक का निर्माण करते हैं। इस तरह से बने नये यौगिक के गुण हाइड्रोकार्बन जिनसे वे बने हैं, बिल्कुल अलग होते हैं।

समान प्रकार्यात्मक समूह (FUNCTIONAL GROUP) वाले यौगिकों के रासायनिक गुण लगभग समान होते हैं।

समजातीय श्रेणी (Homologous Series) यौगिकों की ऐसी श्रृंखला जिसमें कार्बन श्रृंखला में स्थित हाईड्रोजन को एक ही प्रकार का प्रकार्यात्मक समूह प्रतिस्थापित करता है, को समजातीय श्रेणी (HOMOLOGOUS SERIES) कहते हैं। एक समजातीय श्रेणी (HOMOLOGOUS SERIES) के सभी सदस्य के रासायनिक गुण समान होते हैं।

उदारण (Example):

CH4 [मिथेन (Methane)], C2H6[एथेन (Ethane)], C3H8[प्रोपेन (Propane)], C4H10[ब्युटेन (Butane)] ?. एक समजातीय श्रेणी (HOMOLOGOUS SERIES) बनाते हैं।

CH3OH, C2H5OH, CH5OH, ?. एक समजातीय श्रेणी (HOMOLOGOUS SERIES) बनाते हैं। इस समजातीय श्रेणी (HOMOLOGOUS SERIES) के सदस्य एल्कोहल कहलाते हैं।

CH3COH, C2H5COH, CH5COH, ?. एक समजातीय श्रेणी (HOMOLOGOUS SERIES) बनाते हैं। इस समजातीय श्रेणी (HOMOLOGOUS SERIES) के सदस्य एल्डिहाइड कहलाते हैं।

CH3COOH, C2H5COOH, CH5COOH, ?. एक समजातीय श्रेणी (HOMOLOGOUS SERIES) बनाते हैं। इस समजातीय श्रेणी (HOMOLOGOUS SERIES) के सदस्य एसिड कहलाते हैं।

समजातीय श्रेणी (HOMOLOGOUS SERIES) के गुण समजातीय श्रेणी (HOMOLOGOUS SERIES) के प्रत्येक सदस्य का अपने उतरोत्तर सदस्य से –CH2 का अंतर होता है।

समजातीय श्रेणी (HOMOLOGOUS SERIES) के प्रत्येक सदस्य का अपने उतरोत्तर सदस्य के परमाणु भार में 14 u का अंतर होता है।

उदाहरण (Example):

CH4 and C2H6 – में – CH2 इकाई का अंतर है तथा इनके परमाणु भार में 14 u का अंतर है।

[कार्बन [carbon (C)] का परमाणु भार = 12 तथा हाइड्रोजन [Hydrogen (H)] का परमाणु भार = 1

∴ अत: मिथेन [methane (CH4)] का परमाणु भार = 12 + (1 x 4) = 16 तथा

एथेन [Ethane (C2H6)]का परमाणु भार = (12 x 2) + (1 x 6) = 30

∴ एथेन (Ethane) तथा मिथेन (Methane) के परमाणु भार में अंतर = 30 – 16 = 14 u]

CH3OH तथा C2H5OH – में – CH2 इकाई का अंतर है तथा इनके परमाणु भार में 14 u का अंतर है।

[CH3OH का परमाणु भार = 12 + (1 x 3) + 16 + 1 = 31

तथा C2H5OH का परमाणु भार = (12 x 2) + (1 x 5) + 16 + 1 = 45

अत: इनके परमाणु भारों में अंतर = 45 – 32 = 14 u]

C2H5COOH and C3H7COOH – इनमें – CH2 इकाई का अंतर है तथा इनके परमाणु भार में 14 u का अंतर है।

कार्बनिक यौगिकों का नामकरण[संपादित करें]

अकार्बनिक यौगिकों का नामकरण[संपादित करें]

टाइप-१ ऑयनिक द्विक यौगिक[संपादित करें]

LiBr—लिथियम ब्रोमाइड

CaO—कैल्सियम ऑक्साइड

टाइप-२ ऑयनिक द्विक यौगिक[संपादित करें]

Fe2O3 -- आइरन (III) क्लोराइड

PbS2 -- लेड (IV) सल्फाइड

Some ionic compounds contain polyatomic ions, which are charged entities containing two or more covalently bonded types of atoms. It is important to know the names of common polyatomic ions; these include:

टाइप-३ ऑयनिक द्विक यौगिक[संपादित करें]

CO2 -- कार्बन डाईऑक्साइड

SF4 -- सल्फर टेट्राफ्लोराइड

किन्तु H2O को प्रायः जल ही कहा जाता है, न कि 'डाईहाइड्रोजन मोनो आक्साइड'। इसी प्रकार NH2 को अमोनिया कहते हैं न कि 'हाइड्रोजन नाइट्राइड'।

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]