अरवी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
अरवी के पौधे

अरबी या घुइयाँ (अंग्रेजी:Taro) के नाम से भी जाना जाता है | मुख्य रूप से इसकी खेती कन्द के लिए ही की जाती है | इसके अन्द की सब्जी बनायी जाती है, उपवास के समय इन्हीं कन्दों का उपयोग फलाहार के लिए किया जाता है | इसके पत्तों की भी सब्जी बनाई जाती है | कुछ प्रजातियों के कन्दों में कनकानाहट पायी जाती है | जो उबाल देने के बाद समाप्त हो जाती है | पत्तियों में कनकनाहट कंन्द की तुलना में अधिक पायी जाती है |

प्रजातियाँ[संपादित करें]

अरवी के कन्द

पत्तों तथा डंठलों के रंग के अनुसार अरवी की दो किस्में होती है : एक किस्म में डंठलें बैगनी रंग की तथा दूसरी में हरी होती है।

इसी प्रकार हरी और गोल कन्द वाली किस्में होती है। कुछ कन्दों के गूदे सफेद कुछ के पीले कुछ के नांरगी व बैगनी होते हैं |

अरवी की प्रमुख प्रजातियाँ निम्न हैं- गौरिया, काका कच्चू, पंचमुखी, फैजाबादी गेडिया, एफ.सी. १, एफ.सी.४, तथा एफ.सी. ६ इत्यादि

पूसा कोमल, पूसा बरसाती, पूसा फागुनी तथा पूसा दो फसली

अरवी के गुण[संपादित करें]

अरवी (अरुई )बलकारक ,स्निग्ध ,गुरु,कफ को दूर करने वाली एवं विष्टम्भकजनक होती है और तेल में तली हुई अरवी अत्यंत रुचिकारक होती है।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]