अम्बा तारा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

अम्बा तारा
Alcyone
Image of the Pleiades star cluster
Red circle.svg

कृत्तिका तारागुच्छ में अम्बा तारा (लाल चक्र में)
प्रेक्षण तथ्य
युग J2000      विषुव J2000
तारामंडल वृष तारामंडल
दायाँ आरोहण 03h 47m 29.077s[1]
झुकाव 24° 06′ 18.49″[1]
सापेक्ष कांतिमान (V)2.87[2]
विशेषताएँ
तारकीय श्रेणीB5IIIe[3]
U−B रंग सूचक−0.34[2]
B−V रंग सूचक−0.09[2]
खगोलमिति
रेडियल वेग (Rv)5.40[4] किमी/सै
विशेष चाल (μ) दाआ.: 19.34 ± 0.39[1] मिआसै/वर्ष
झु.: -43.67 ± 0.33[1] मिआसै/वर्ष
लंबन (π)8.09 ± 0.42[1] मिआसै
दूरी136[5] पार
निरपेक्ष कांतिमान (MV)-2.62[6]
विवरण
द्रव्यमान5.9-6.1[7] M
त्रिज्या9.3±0.7[8] R
सतही गुरुत्वाकर्षण (log g)3.047[3]
तेजस्विता2,030[9] L
तापमान12,258[3] K
घूर्णन गति (v sin i)149[3] किमी/सै
अन्य नाम
η Tau, 25 Tau, HR 1165, HD 23630, BD+23 541, FK5 139, HIP 17702, SAO 76199, GC 4541, BDS 1875, CCDM 03474+2407
डेटाबेस संदर्भ
सिम्बादdata

अम्बा या ऐलसायनी (Alcyone), जिसका बायर नामांकन एटा टाओरी (η Tau या η Tauri) है, वृष तारामंडल में स्थित एक तारा है। यह कृत्तिका तारागुच्छ का सब से रोशन तारा भी है और इसका पृथ्वी से देखा गया औसत सापेक्ष कांतिमान (यानि चमक) का मैग्निट्यूड +२.८७ है। कृत्तिका के अन्य तारों की तरह यह भी पृथ्वी से लगभग ३७० प्रकाश-वर्ष की दूरी पर स्थित है। हालाँकि यह बिना दूरबीन के एक ही तारा नज़र आता है वास्तव में यह कई तारों का मंडल है, जिसमें अभी तक एक मुख्य द्वितारा और तीन अन्य साथी तारे (यानि कुल मिलाकर पाँच तारे) ज्ञात हुए हैं।[10][11]

वर्णन[संपादित करें]

अम्बा मंडल का मुख्य तारा एक नीला-सफ़ेद B7 IIIe श्रेणी का दानव तारा है। इसकी अंदरूनी चमक (निरपेक्ष कान्तिमान) हमारे सूरज की लगभग २,४०० गुना है। इसका व्यास (डायामीटर) हमारे सूरज के व्यास का क़रीब १० गुना और इसका द्रव्यमान (मास) सूरज के द्रव्यमान का ६ गुना है। इसका सतही तापमान लगभग १३,००० कैल्विन है। यह अपने अक्ष पर बहुत तेज़ी से (२१५ किलोमीटर प्रति सैकिंड की गति से) घूम रहा है जिस से गैस का एक विशाल चक्र इस से उखड़कर इसके इर्द-गिर्द इकठ्ठा हो गया है। यह मुख्य तारा एक द्वितारे में एक साथी तारे से गुरुत्वाकर्षक बंधन में है। इन दोनों तारों का एक-दूसरे से क़रीब उतना ही फ़ासला है जितना हमारे सौर मंडल में सूरज और बृहस्पति ग्रह का है।[1]

इस द्वितारे के इर्द-गिर्द तीन अन्य साथी तारे परिक्रमा करते हैं। इनमें से दो - ऐलसायनी बी (Alcyone B) और ऐलसायनी सी (Alcyone C) - तो +८.०० मैग्निट्यूड वाले A श्रेणी के बौने तारे हैं। तीसरा, जिसका नाम ऐलसायनी डी (Alcyone D) है, एक पीला-सफ़ेद रंग का F श्रेणी का बौना तारा है। ऐलसायनी सी एक परिवर्ती तारा है और इसकी चमक ऊपर-नीचे होती रहती है।[8]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. van Leeuwen, F. (2007). "Validation of the new Hipparcos reduction". Astronomy and Astrophysics 474 (2): 653–664. arXiv:0708.1752. Bibcode 2007A&A...474..653V. doi:10.1051/0004-6361:20078357. https://www.aanda.org/articles/aa/full/2007/41/aa8357-07/aa8357-07.html.  Vizier catalog entry
  2. Ducati, J. R. (2002). "VizieR Online Data Catalog: Catalogue of Stellar Photometry in Johnson's 11-color system". CDS/ADC Collection of Electronic Catalogues 2237. Bibcode 2002yCat.2237....0D. 
  3. Touhami, Y.; Gies, D. R.; Schaefer, G. H.; McAlister, H. A.; Ridgway, S. T.; Richardson, N. D.; Matson, R.; Grundstrom, E. D. एवम् अन्य (2013). "A CHARA Array Survey of Circumstellar Disks around Nearby Be-type Stars". The Astrophysical Journal 768 (2): 128. arXiv:1302.6135. Bibcode 2013ApJ...768..128T. doi:10.1088/0004-637X/768/2/128. 
  4. Gontcharov, G. A. (2006). "Pulkovo Compilation of Radial Velocities for 35 495 Hipparcos stars in a common system". Astronomy Letters 32 (11): 759. arXiv:1606.08053. Bibcode 2006AstL...32..759G. doi:10.1134/S1063773706110065. 
  5. Melis, Carl; Reid, Mark J.; Mioduszewski, Amy J.; Stauffer, John R. एवम् अन्य (29 August 2014). "A VLBI resolution of the Pleiades distance controversy". Science 345 (6200): 1029–1032. arXiv:1408.6544. Bibcode 2014Sci...345.1029M. doi:10.1126/science.1256101. PMID 25170147. 
  6. Zhang, P.; Liu, C. Q.; Chen, P. S. (2006). "Absolute Magnitudes of Be Stars Based on Hipparcos Parallaxes". Astrophysics and Space Science 306 (3): 113. Bibcode 2006Ap&SS.306..113Z. doi:10.1007/s10509-006-9173-1. 
  7. Zorec, J.; Frémat, Y.; Cidale, L. (2005). "On the evolutionary status of Be stars. I. Field Be stars near the Sun". Astronomy and Astrophysics 441: 235. arXiv:astro-ph/0509119. Bibcode 2005A&A...441..235Z. doi:10.1051/0004-6361:20053051. 
  8. White, T. R. (2017). "Beyond the Kepler/K2 bright limit: Variability in the seven brightest members of the Pleiades". Monthly Notices of the Royal Astronomical Society 471 (3): 2882–2901. arXiv:1708.07462. Bibcode 2017MNRAS.471.2882W. doi:10.1093/mnras/stx1050. 
  9. Harmanec, P. (2000). "Physical Properties and Evolutionary Stage of Be Stars". The Be Phenomenon in Early-Type Stars 214: 13. Bibcode 2000ASPC..214...13H. 
  10. Tara Mata. "Astrological World Cycles". Lulu.com, 2008. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9780615185002. http://books.google.com/books?id=Ixue8wTCoqgC. "... It was Amba, "The Mother" of the Hindus, and its present name of Alcyone was derived from a Greek word ..." 
  11. "Goddessess in Ancient India," Prithvi Kumar Agrawala, Abhinav Publications, 1984, ISBN 9780391029606, ... They form a group of seven stars which are named in the Taittiriya Brahmana as Amba, Dula, Nitatni, Abhrayanti, Meghayanti, Varshayanti and Chupunika ...