सामग्री पर जाएँ

अबीजीय फलन

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से

उस फलन को अबीजीय फलन (transcendental function) कहते हैं जो किसी बहुपदीय समीकरण को संतुष्ट नहीं कर सकता। (इन बहुपदीय समीकरणों के गुणांक भी नियतांक हों या बहुपद होने चाहिये)। अबीजीय फलनों के मान f(x) को इसके चर x के योग, घटाना, गुणन, भाग, घात एवं मूल की सीमित बीजीय संक्रियाओं के द्वारा अभिव्यक्त नहीं किया जा सकता। इसके विपरीत बीजीय फलन वे होत हैं जिनको सीमित बीजीय संक्रियाओं के रूप में अभिव्यक्त करना सम्भव हो।

अबीजीय फलनों के कुछ उदाहरण[संपादित करें]

नीचे दिये गये सभी फलन अबीजीय हैं-

बिमीय विश्लेषण (Dimensional analysis)[संपादित करें]

बिमीय विश्लेषण में आने वाले अबीजीय फलनों के कोणांक (argument) बिमारहित होने चाहिये अन्यथा वे निरर्थक (absurd) होंगे। उदाहरण के लिये, log(10m) बिमाविहीन व्यंजक है जबकि  log(5 meters / 3 meters)  or  log(3) meters&nbsp नहीं। किसी बिमीय राशि पर कोई भी अबीजीय संक्रिया करने से अर्थहीन परिणाम प्राप्त होते हैं। [1]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

  • बीजीय फलन
  • विश्लेषिक फलन (Analytic function)
  • समिश्र फलन (Complex function)
  • सामान्यीकृत फलन (Generalized functions)
  • विशेष फलन (ecial function)

प्रतिक्रिया दें संदर्भ[संपादित करें]

  1. {{Doubut |url=https://www.doubtnut.com/qa-hindi/54830330 |title= संदेह द्वारा वीडियो समाधान |work=Doubtnut|url-status=live|archive

Not Bablu Don.