अत्यधिक चराई

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
ऊपरी दाएं कोने में, पश्चिमी न्यू साउथ वेल्स (ऑस्ट्रेलिया) में मूल पशुवर्ग के द्वारा अत्यधिक चराई क्षेत्र
इजरायल और मिस्र के बीच की सीमा की सैटेलाइट छवि, बाईं तरफ मिस्र का अत्यधिक चराई

अत्यधिक चराई की स्थित तब पैदा होती हैं जब चरागाह एवं पौधों की गहन चराई के कारण उसे पुनः पनपने का समय नहीं मिल पाता, अंततः वहाँ एक बंजरनुमा क्षेत्र का निर्माण हो जाता हैं। इस स्थिति का प्रमुख कारण खराब पशु प्रबंधन है। यह पालतू या जंगली जानवरों की जनसंख्या में बढ़ोत्तरी के कारण भी हो सकता है। इस स्थिति को रोकने हेतु जानवरों की चराई और घूमने की जगह को सीमित करना होगा। गायों के द्वारा सबसे अत्यधिक चराई की जाती हैं और वह क्षेत्र आगे चल कर रेगिस्तान को जन्म दे सकता हैं। इससे जमीन की उपयोगिता, उत्पादकता और जैव विविधता कम होती जाती है और यह मरुस्थलीकरण और क्षरण का भी एक कारण है। [1][2][3]

पारिस्थितिक प्रभाव[संपादित करें]

अधिक चराई से मिट्टी का क्षरण बढ़ जाता है। मिट्टी की गहराई, कार्बनिक पदार्थ तथा मिट्टी की उर्वरता में कमी से भविष्य के प्राकृतिक और कृषि उत्पादकता को कम होती जाती है। हालांकि, जैविक उर्वरक के द्वारा मिट्टी की उर्वरता बढ़ाया जा सकता है। परन्तु, मिट्टी की गहराई और कार्बनिक पदार्थों की हानि को ठीक करने के लिए सदियों लग जाते है, जोकि मिट्टी की जल-धारण क्षमता का निर्धारण और शुष्क मौसम के दौरान पौधे का निष्पादन को प्रभावित करते हैं।

अत्यधिक चराई की रोकथाम[संपादित करें]

सतत चरागाह उत्पादन, घास और चरागाह प्रबंधन, भूमि प्रबंधन, पशु प्रबंधन और पशुधन विपणन पर निर्भर है। चराई प्रबंधन, टिकाऊ कृषि और कृषि अभ्यास प्रथाओं के साथ, चरागाह आधारित पशुधन उत्पादन की नींव है। चूंकि यह जानवर और पौधों के स्वास्थ्य और उत्पादकता दोनों को प्रभावित करता है। कई नए चरागाह मॉडल और प्रबंधन प्रणालियां हैं, जैसे की समग्र प्रबंधन और परमाकल्चर, जिसके द्वारा अत्यधिक चराई को कम करने या खत्म करने का प्रयास किया जा सकता हैं।[4][5][6]

संदर्भ[संपादित करें]

  1. Laduke, Winona (1999). All Our Relations: Native Struggles for Land and Life. Cambridge, MA: South End Press. प॰ 146. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0896085996. http://zinelibrary.info/files/All_Our_Relations.pdf. अभिगमन तिथि: 30 March 2015. 
  2. Duval, Clay. "Bison Conservation: Saving an Ecologically and Culturally Keystone Species". Duke University. https://twp.duke.edu/uploads/assets/Duval.pdf. 
  3. "Holistic Land Management: Key to Global Stability" by Terry Waghorn.
  4. Savory, Allan. "How to green the world's deserts and reverse climate change". TED. https://www.youtube.com/watch?v=vpTHi7O66pI. अभिगमन तिथि: 14 September 2015. 
  5. Savory, Allan. "Can sheep save the planet?". IWTOCHANNEL. https://www.youtube.com/watch?v=WUMQVqtjUAQ. अभिगमन तिथि: 14 September 2015. 
  6. West Virginia University Extension Service Overgrazing Can Hurt Environment, Your Pocketbook Ed Rayburn. 2000.