सेनापति जिला

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सेनापति भारतीय राज्य मणिपुर का एक जिला है।

जिले का मुख्यालय सेनापति है।

क्षेत्रफल - 3271.00 वर्ग कि.मी.

जनसंख्या - 2,08,406 (2001 जनगणना)

समुद्र तल से उचाई -

अक्षांश - 24.37 o N - 25.37 o N

देशान्तर -93.29o E - 94.15 o E

औसत वर्षा (सालाना) -671 mm से 1454 mm

साक्षरता - 46.68%

एस. टी. डी (STD) कोड - 03878

जिलाधिकारी - (सितम्बर 2006 में)

व‍र्णन[संपादित करें]

सेनापति जिला मणिपुर के उत्त्तरी भाग में स्थित है जो नागालैण्ड की सीमा पर पडता है। यह जिला पूरी तरह से पहाड पर बसा है। इसके बीचों-बीच NH-39 से गुजरता है। पहाड होने के कारण यहां चा‍रों तरफ हरियाली है। इसके बीचों-बीच इम्फाल नदी भी बहती है।

प्रमुख स्थान[संपादित करें]

कौब्रु पहाड यह यहां के प्रमुख पहाडों में से एक है। इसकी ऊंचाई लगभग २००० मी है। इसे यहां के लोग पवित्र स्थान मानते हैं और गर्मियों पर यहां चढते है। सर्दियों में यहां बहुत ठण्ड रहती है। इस पर्वत पर चढना लोग शुभ मानते हैं। गर्मियों में लोग झुण्ड बनाकर इसपर चढते हैं। लोगों का कहना है कि यहां पाण्डवों का आना हुआ था। यहां पर एक सुरंग भी है जिसमें लोगों को घुसना शुभ माना जाता है। इस पहाड पर चढने का मुख्य रास्ता मोट्बुंग नामक गांव से है।

कौब्रु लैखा यह एक शिव मन्दिर है। यह सेनापति से इम्फाल जाते वक्त्त NH-39 पर बीच में पडता है। यह मन्दिर इम्फाल नदी के किनारे पडता है। यहां की शिवरात्रि मणिपुर भर में विशेष माना जाता है। इस दिन यहां के सब बिहार निवासी एकत्रित होते हैं और शिव की पुजा करते हैं। कहते हैं कौब्रु पहाड में शिवलिंग पर चढाया गया दुध यहां के शिवलिंग पर गिरता है। लोग यहां के क्षेत्रिय कांवड में भी यहां आते हैं।

कांपोक्पी यह यहां की प्रमुख नगरों में से एक है। यह भी NH-39 के किनारे पडता है। इम्फाल नदी यहां से निकलती है। यहां से सेनापति और इम्फाल विपरित दिशाओं में २५ किमी दूर पडते हैं।

माओ गेट यह मणिपुर और नागालैण्ड के बोर्डर में पडता है। यहां से मणिपुर की सीमा प्रारम्भ होती है। यहां के निवासी नागा हैं। यह पहाड पर स्थित होने के कारण यहां पर बहुत ठण्ड पडती है। यहां से पहाडों के नजारें देखने लायक हैं।

कुछ गांव[संपादित करें]

मोट्बुंग यह दक्षिणी सेनापति में पडता है। यह घाटियों मं स्थित है। यह एक पहाडी बाजार है जो मंगलवार और शुक्रवार को खुलता है। यहां कुकी,मितै,नेपाली लोग रहते हैं। यहां के कुछ मुख्य स्कूलों में Baptist High School,Apex Christian High School हैं। यहां से इम्फाल तक के लिए बस चलती हैं।

चारहजारे यह मोट्बुंग से एक किमी की दूरी पर स्थित है। यह नेपालियों का गांव है। इसके किनारे कुकी जनजाति का भी गांव है। यहां दो स्कूल हैं - सनातन संस्क्रित विद्यालय और Ideal English High School। यह मेरा भी गांव है।

सपरमैना

मारम

तोक्फान

बाहरी कड़ी[संपादित करें]