विद्युत परिपथ

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
एक सरल विद्युत परिपथ जो एक वोल्टेज स्रोत एवं एक प्रतिरोध से मिलकर बना है

विद्युत अवयवों (वोल्टेज स्रोत, प्रतिरोध, प्रेरकत्व, संधारित्र एवं कुंजियों आदि) एवं विद्युतयांत्रिक अवयवों (स्विच, मोटर, स्पीकर आदि) का परस्पर संयोजन विद्युत परिपथ (Electric circuit) अथवा विद्युत नेटवर्क (electrical network) कहलाता है।

विद्युत परिपथ बहुत विशाल क्षेत्र में फैले हो सकते हैं; जैसे-विद्युत-शक्ति के उत्पादन, ट्रान्समिसन, वितरण एवं उपभोग का नेटवर्क। बहुत से विद्युत परिपथ प्राय: प्रिन्टेड सर्किट बोर्डों पर संजोये जाते हैं। विद्युत परिपथ अत्यन्त लघु आकार के भी हो सकते हैं; जैसे एकीकृत परिपथ

जब किसी परिपथ में डायोड, ट्रान्जिस्टर या आईसी आदि लगे होते हैं तो उसे एलेक्ट्रॉनिक परिपथ भी कहा जाता है जो कि विद्युत परिपथ का ही एक रूप है।

विद्युत परिपथ को परिपथ आरेख (सर्किट डायग्राम) के द्वारा प्रदर्शित किया जाता है।

प्रायः एक या अधिक बन्द लूप वाले नेटवर्क ही विद्युत परिपथ कहलाते हैं।

परिपथ सम्बन्धी प्रमुख नियम[संपादित करें]

परिपथ विश्लेषण या नेटवर्क विश्लेषण (Circuit analysis or Network analysis)[संपादित करें]

परिपथ सम्बन्धी नियमों एवं प्रमेयों का उपयोग करते हुए मानवी रीति (मनुअली) से परिपथ के विभिन्न नोडों का वोल्टेज या विभिन्न शाखाओं की धारा ज्ञात की जा सकती है। किन्तु जटिल एवं बहुत से अवयवों वाले परिपथ का विश्लेषण आजकल कम्प्यूटर प्रोग्रामों की सहायता से किया जाता है। इसे परिपथ सिमुलेशन या सर्किट सिमुलेशन कहते हैं। इसके लिये पीस्पाइस (PSpice), पीसिम (PSIM), सिमूलिंक (Simulink), साईकॉस, सेबर, gEDA, EMTP आदि सॉफ्टवेयरों का प्रयोग किया जाता है।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]