राजा राममोहन राय

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
राजा राममोहन राय

राजा राममोहन राय (बांग्ला: রাজা রামমোহন রায়) (२२ मई १७७२ - २७ सितंबर १८३३) को भारतीय पुनर्जागरण का अग्रदूत और आधुनिक भारत का जनक कहा जाता है। भारतीय सामाजिक और धार्मिक पुनर्जागरण के क्षेत्र में उनका विशिष्ट स्थान है। वे ब्रह्म समाज के संस्थापक, भारतीय भाषायी प्रेस के प्रवर्तक, जनजागरण और सामाजिक सुधार आंदोलन के प्रणेता तथा बंगाल में नव-जागरण युग के पितामह थे। उन्होंने भारत में स्वतंत्रता आंदोलन और पत्रकारिता के कुशल संयोग से दोनों क्षेत्रों को गति प्रदान की। उनके आन्दोलनों ने जहाँ पत्रकारिता को चमक दी, वहीं उनकी पत्रकारिता ने आन्दोलनों को सही दिशा दिखाने का कार्य किया।

राजा राममोहन राय की दूर‍दर्शिता और वैचारिकता के सैकड़ों उदाहरण इतिहास में दर्ज हैं। हिन्दी के प्रति उनका अगाध स्नेह था। वे रू‍ढ़िवाद और कुरीतियों के विरोधी थे लेकिन संस्कार, परंपरा और राष्ट्र गौरव उनके दिल के करीब थे। वे स्वतंत्रता चाहते थे लेकिन चाहते थे कि इस देश के नागरिक उसकी कीमत पहचानें।

जीवनी[संपादित करें]

राजा राममोहन राय का जन्म बंगाल में 1772 में एक ब्राह्मण परिवार में हुआ था । इनके पिता एक वैष्णव थे जबकि माता शाक्त । १५ वर्ष की आयु तक उन्हें बंगाली, संस्कृत, अरबी तथा फ़ारसी का ज्ञान हो गया था । किशोरावस्था में उन्होने काफी भ्रमण किया । उन्होने 1803-1814 तक ईस्ट इंडिया कम्पनी के लिए भी काम किया । उन्होने ब्रह्म समाज की स्थापना की तथा विदेश (इंग्लैण्ड तथा फ़्रांस) भ्रमण भी किया ।

कुरीतियों के विरुद्ध संघर्ष[संपादित करें]

राममोहन राय ने ईस्ट इंडिया कंपनी की नौकरी छोड़कर अपने आपको राष्ट्र सेवा में झोंक दिया। भारत की स्वतंत्रता प्राप्ति के अलावा वे दोहरी लड़ाई लड़ रहे थे। दूसरी लड़ाई उनकी अपने ही देश के नागरिकों से थी। जो अंधविश्वास और कुरीतियों में जकड़े थे। राजा राममोहन राय ने उन्हें झकझोरने का काम किया। बाल-विवाह, सती प्रथा, जातिवाद, कर्मकांड, पर्दा प्रथा आदि का उन्होंने भरपूर विरोध किया। धर्म प्रचार के क्षेत्र में अलेक्जेंडर डफ्फ ने उनकी काफी सहायता की।द्वारका नाथ टैगोर उनके सबसे प्रमुख अनुयायी थे।

पत्रकारिता[संपादित करें]

राजा राममोहन राय ने 'ब्रह्ममैनिकल मैग्ज़ीन' , 'संवाद कौमुदी' , मिरात-उल-अखबार, बंगदूत जैसे स्तरीय पत्रों का संपादन-प्रकाशन किया। बंगदूत एक अनोखा पत्र था। इसमें बांग्ला, हिन्दी और फारसी भाषा का प्रयोग एक साथ किया जाता था। उनके जुझारू और सशक्त व्यक्तित्व का इस बात से अंदाज लगाया जा सकता है कि सन् 1821 में अँग्रेज जज द्वारा एक भारतीय प्रतापनारायण दास को कोड़े लगाने की सजा दी गई। फलस्वरूप उसकी मृत्यु हो गई। इस बर्बरता के खिलाफ राय ने एक लेख लिखा।

आलोचना[संपादित करें]

अंग्रेजी शासन, अंग्रेजी भाषा एवं अंग्रेजी सभ्यता की प्रशंशा करने के लिये राममोहन राय की आलोचना की जाती है। उन्होने स्वतंत्रता आन्दोलन में कोई प्रत्यक्ष भाग नहीं लिया। उनकी अन्तिम सांस भी ब्रिटेन में निकली। कुछ लोगों का विचार है कि वे अपनी जमींदारी को चमकाते हुए भारतीय समाज में हीन भावना भरने का कार्य कर रहे थे और अंग्रेजों के अदृश्य सिपाही थे। उन्होने भारत में अंग्रेजी राज्य (गुलामी) की स्थापना एवं उसके सशक्तीकरण के लिये रास्ता तैयार किया। वे अंग्रेजी कूटनीति को समझ नहीं सके और भारतीय जनता का सही मार्गदर्शन नहीं कर सके।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

आधुनिक भारत के निर्माता, सबसे बड़ी सामाजिक - धार्मिक सुधार आंदोलनों के संस्थापक, ब्रह्म समाज, राजा राम मोहन राय सती प्रणाली जैसी सामाजिक बुराइयों के उन्मूलन में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है. वह भी अंग्रेजी, आधुनिक चिकित्सा प्रौद्योगिकी और विज्ञान के अध्ययन को लोकप्रिय भारतीय समाज में विभिन्न बदलाव की वकालत की. यह कारण है कि वह "मुगल सम्राट 'राजा के रूप में भेजा गया था.

राजा राम मोहन राय बंगाल में Hiigly जिले के Radhanagar में कौन था एक viashnavite और तारिणी जो Shakta community.Raja राम मोहन राय के थे पटना में हाय उच्चतर अध्ययन का पीछा और बांग्ला बोलने में कुशल था Ramakanto रॉय पर 22 मई 1772 को पैदा हुआ था, अरबी, फारसी, और पंद्रह साल की उम्र से संस्कृत. वह कभी मूर्ति पूजा की अवधारणा और हिंदुओं के रूढ़िवादी अनुष्ठानों का पालन किया. वह एक स्वतंत्र विचारक जो अंधविश्वासों और सामाजिक कट्टरता में कभी विश्वास नहीं किया था. उनका एक रूढ़िवादी हिंदू ब्राह्मण होने पिता अक्सर अपने बेटे के इस विचार प्रक्रिया की आलोचना की है और यह दोनों के बीच मतभेद के परिणामस्वरूप. राजा राम मोहन राय और ये तो घर छोड़ दिया मतभेद नहीं सहन और हिमालय, तिब्बत भर में यात्रा की और फिर एक बहुत लंबी अवधि के बाद घर लौट आए.

वह एक आशा है कि वह बदल जाएगा के साथ अपने परिवार द्वारा शादी के लिए मजबूर किया गया था. लेकिन सब कुछ व्यर्थ में था. राजा राम मोहन राय तो वाराणसी गया था और विस्तार में सभी वेद, उपनिषद और हिंदू दर्शन का अध्ययन किया. 1803 में अपने पिता की मृत्यु के उसे वापस Murshiabad पर लौटने के लिए मजबूर किया. वह तो ऊपर कलकत्ता में moneylending की एक व्यापार 1809-1814 के दौरान ईस्ट इंडिया कंपनी के राजस्व विभाग में एक नौकरी से लेने का फैसला किया.

वह वर्ष 1814 में Atmiya समाज की स्थापना करने के लिए समाज में विभिन्न सामाजिक और धार्मिक सुधारों टपकाना. वह सती अधिकारों के साथ महिलाओं के प्रतिपादन के पुनर्विवाह और पैतृक संपत्ति में संपत्ति पकड़ द्वारा पीछा प्रणाली के उन्मूलन के लिए मुश्किल प्रयासरत. वह भी कुछ हद तक बहुविवाह की प्रणाली को दबा दिया.

वह महिलाओं को शिक्षित और अंग्रेजी भाषा की शिक्षा की जरूरत प्रचारित किया गया. उन्होंने यह भी 1822 वर्ष है कि अंग्रेजी शिक्षण पर जोर दिया में एक स्कूल की स्थापना की है और भी करने के लिए स्कूलों में संस्कृत पढ़ाने के लिए सरकार द्वारा उपलब्ध कराए गए धन का विरोध किया.

ब्रह्म समाज उसके द्वारा 1828 में धर्म का घूंघट के तहत किए गए लोगों के hypocrisies की जाँच करने के लिए स्थापित किया गया था. अंत में सती प्रणाली वर्ष 1829 में समाप्त कर दिया गया था. मुगल सम्राट ने यूनाइटेड किंगडम के लिए एक राजदूत उनके (सम्राट) पेंशन और भत्ते कि वह प्राप्त करने का हकदार था और वह वर्ष 1830 में ब्रिटेन के लिए कूच सिफ़ारिश के रूप में नियुक्त है. वर्ष 1833 राजा राम मोहन राय में 27 सितंबर ब्रिस्टल के निकट Stapleton में मेनिनजाइटिस के आगे घुटने टेक दिए हैं.