मनिहार

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मनिहार (अंग्रेजी: Manihar) हिन्दुस्तान में पायी जाने वाली एक मुस्लिम बिरादरी की जाति है। इस जाति के लोगों का मुख्य पेशा चूड़ी बेचना है। इसलिये इन्हें कहीं-कहीं चूड़ीहार भी कहा जाता है। मुख्यतः यह जाति उत्तरी भारत और पाकिस्तान के सिन्ध प्रान्त में पायी जाती है। यूँ तो नेपाल की तराई क्षेत्र में भी मनिहारों के वंशज मिलते हैं। ये लोग अपने नाम के आगे जातिसूचक शब्द के रूप में प्राय: सिद्दीकी ही लगाते हैं।

उत्पत्ति का इतिहास[संपादित करें]

इस जाति की उत्पत्ति के विषय में दो सिद्धान्त हैं एक भारतीय, दूसरा मध्य एशियाई। भारतीय सिद्धान्त के अनुसार ये मूलत: राजपूत थे जो सत्ता के लालचवश मुसलमान बने। इसका प्रमाण यह है कि इनकी उपजातियों क़े नाम राजपूत उपजातियों से काफी कुछ मिलते हैं जैसे-भट्टी, सोलंकी, चौहान, बैसवारा, आदि। दूसरी ओर मध्य एशियाई सिद्धान्त के अनुसार ये मुस्लिम खलीफ़ा अबू बकर के वंशज हैं जो 1000 ई० में महमूद गज़नवी क़े साथ भारत आये और फिरोजाबाद के आस-पास बस गये। इनमें पाये जाने वाले क़बीले बनू तैय्याम, बनी खोखर, बनी इजराइल इसके साक्ष्य हैं। इस जाति के लोग रायबरेली जिले की पसतौर, जिहवा, थुलेण्डी आदि रियासतों के जमींदार भी रहे।

उप जातियाँ[संपादित करें]

(1) इसहानी, (2) कछानी, (3) लोहानी, (4) शेख़ावत, (5) ग़ोरी, (6) कसाउली, (7) भनोट, (8) चौहान, (9) पाण्ड्या, (10) मुग़ल, (11) सैय्यद, (12) खोखर, (13) कचेर, (14) बैसवारा, (15) राठी और (16) तोमर।