बपतिस्मा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
माज़ाशियो द्वारा नियोफाइट्स का बपतिस्मा, 15वीं सदी, ब्रंकासी चैपल, फ्लोरेंस.[1]


Part of a series on

Jesus Christ is the central figure of Christianity.

 
Jesus Christ
Virgin birth · Crucifixion · Resurrection · Easter · Jesus in Christianity
Foundations
Apostles · Church · Creeds · Gospel · Kingdom · New Covenant
Bible
Old Testament · New Testament ·
Books · Canon · Apocrypha
Theology
Apologetics · Baptism · Christology · Father · Son · Holy Spirit ·
History of theology · Salvation · Trinity
History and traditions
Timeline · Mary · Peter · Paul ·
Fathers · Early · Constantine the Great ·
Ecumenical councils · Missions ·
East–West Schism · Crusades ·
Protestant Reformation
Denominations and movements
साँचा:Christian denominations
General topics
Art · Criticism · Ecumenism · Liturgical year · Liturgy · Music · Other religions · Prayer · Sermon · Symbolism
P christianity.svg Christianity Portal

ईसाईयत में, बपतिस्मा (ग्रीक शब्द βαπτίζω baptizo से: "डुबोना", "प्रक्षालन करना", अर्थात् "धार्मिक स्नान")[2] जल के प्रयोग के साथ किया जाने वाला एक धार्मिक कृत्य है, जिसके द्वारा किसी व्यक्ति को चर्च की सदस्यता प्रदान की जाती है।[3]

स्वयं ईसा मसीह का बपतिस्मा किया गया था।[4] प्रारंभिक ईसाईयों में उम्मीदवार (अथवा "बपतिस्माधारी (Baptizand)") को पूरी तरह या आंशिक रूप से डुबोना बपतिस्मा का सामान्य रूप था।[5][6][7][8][9] हालांकि बपतिस्मा-दाता जॉन (John the Baptist) द्वारा अपने बपतिस्मा के लिये एक गहरी नदी का प्रयोग निमज्जन का सुझाव दिया गया है,[10] लेकिन ईसाई बपतिस्मा के संबंध में तीसरी शताब्दी और उसके बाद के चित्रात्मक तथा पुरातात्विक प्रमाण यह सूचित करते हैं कि सामान्य रूप से उम्मीदवार को पानी में खड़ा रखा जाता था और उसके शरीर के ऊपरी भाग पर जल छिड़का जाता था।[11][12][13][14] बपतिस्मा के अब प्रयोग किये जाने वाले अन्य सामान्य रूपों में माथे पर तीन बार जल छिड़कना शामिल है।

सोलहवीं सदी में हल्द्रिच ज़्विंगली (Huldrych Zwingli) द्वारा इसकी आवश्यकता को नकारे जाने तक बपतिस्मा को मोक्ष-प्राप्ति के लिये कुछ हद तक आवश्यक समझा जाता था।[15] चर्च के प्रारंभिक इतिहास में शहादत को "खून से बपतिस्मा" के रूप में पहचाना जाता था, ताकि जिन शहीदों का बपतिस्मा जल के द्वारा न किया गया हो, उन्हें बचाया जा सके. बाद में, कैथलिक चर्च ने इच्छा के द्वारा बपतिस्मा की पहचान की, जिसके द्वारा उन लोगों को सुरक्षित समझा जाता था, जो बपतिस्मा की तैयारी कर रहे हों, लेकिन वास्तव में इस परम संस्कार को पूर्ण कर पाने से पूर्व ही जिनकी मृत्यु हो जाए.[16]

कुछ ईसाई, विशिष्टतः क्वेकर (Quakers) तथा मुक्ति सेना (Salvation Army), बपतिस्मा को आवश्यक नहीं मानते और न ही वे इस रिवाज का पालन करते हैं। जो लोग इसका पालन करते हैं, उनमें भी बपतिस्मा लेने की पद्धति और माध्यम के संदर्भ में तथा इस रिवाज के महत्व की समझ के प्रति मतभेद देखे जा सकते हैं। अधिकांश ईसाई "पिता के, तथा पुत्र के, तथा पवित्र आत्मा के नाम पर" बपतिस्मा लेते हैं (ग्रेट कमीशन (Great Commission) का पालन करते हुए), लेकिन कुछ लोग केवल ईसा मसीह के नाम पर बपतिस्मा लेते हैं। अधिकांश ईसाई शिशुओं का बपतिस्मा करते हैं;[17] अनेक अन्य लोग यह मानते हैं कि केवल विश्वासकर्ता का बपतिस्मा ही सच्चा बपतिस्मा है। कुछ लोग इस बात पर बल देते हैं कि बपतिस्मा ले रहे व्यक्ति का निमज्जन किया जाए या उसे कम से कम आंशिक रूप से डुबोया जाए, जबकि अन्य लोग यह मानते हैं कि जल के द्वारा नहलाए जाने का कोई भी रूप पर्याप्त है, जब तक कि जल सिर पर प्रवाहित हो रहा हो.

अंग्रेजी शब्द "बपतिस्मा (Baptism)" का प्रयोग किसी भी ऐसे धार्मिक आयोजन, प्रयोग या अनुभव के संदर्भ में भी किया जाता रहा है, जिसमें व्यक्ति को दीक्षित या शुद्ध किया जाता है अथवा उसे कोई नाम दिया जाता है।[18] अन्य दीक्षा समारोहों को नीचे देखें.

अनुक्रम

नया करार में इस शब्द का अर्थ[संपादित करें]

Wiktionary-logo-en.png
βαπτίζω को विक्षनरी,
एक मुक्त शब्दकोष में देखें।
सैन कालिस्टो का कैटाकोम्ब्स: तीसरी सदी के चित्र में बपतिस्मा

चूंकि विभिन्न परंपराओं को माननेवाले ईसाईयों के बीच इस बात को लेकर मतभेद हैं कि बपतिस्मा के लिये पूर्ण रूप से डुबोना (निमज्जन) आवश्यक है या नहीं, अतः इस ग्रीक शब्द का उपयुक्त अर्थ चर्चा के लिये महत्वपूर्ण बन गया है।

लिडेल और स्कॉट (Liddell and Scott) का ग्रीक-अंग्रेजी शब्दकोश उस शब्द का प्राथमिक अर्थ "डुबकी लगाना, गोता लगाना" के रूप में देता है βαπτίζω ("बैप्तिज़ो (baptizô) के रूप में लिप्यंतरित), जिससे अंग्रेजी शब्द "बपतिस्मा (Baptism)" ग्रहण किया गया है, लेकिन एक उदाहरण के रूप में Luke 11:38 सूचित करता है कि इसका एक अन्य अर्थ "प्रक्षालन" है।[2]

βαπτίζω क्रिया का सामान्य अर्थ[संपादित करें]

हालांकि ग्रीक शब्द βαπτίζω का एकमात्र अर्थ डुबकी लगाना, गोता लगाना या डुबोना (कम से कम आंशिक रूप से) नहीं है, लेकिन शाब्दिक स्रोत सूचित करते हैं कि सेप्टुआजिन्ट (Septuagint)[19][20][21] और नया करार (New Testament) दोनों में यही इस शब्द का सामान्य अर्थ है।[22] इससे संबंधित एक शब्द, βάπτω, का प्रयोग भी नया करार में "डुबकी लगाना" या "रंगना" के अर्थ में किया गया है,[23][24][25][26] डुबकी अपूर्ण हो सकती है, जैसे शराब में ब्रेड के एक टुकड़े को डुबोना (Ruth 2:14).[27]

आरंभिक क्रिश्चियन कला में बपतिस्मा का प्रदर्शन.

उपरोक्त अर्थ से विचलन[संपादित करें]

नया करार (New Testament) के दो परिच्छेद यह सूचित करते हैं कि βαπτίζω शब्द जब किसी व्यक्ति पर लागू किया जाए, तो यह सदैव ही निमज्जन को सूचित नहीं करता था। इनमें से पहला ल्युक (Luke) 11:38 है,[28] जो यह बताता है कि किस प्रकार एक पाखण्डी (Pharisee), जिसके घर ईसा मसीह ने भोजन किया था, "यह देखकर स्तब्ध रह गया कि भोजन से पूर्व उन्होंने अपने हाथ नहीं धोये (ἐβαπτίσθη, βαπτίζω का अनिर्दिष्टकालीन कर्मवाच्य-शाब्दिक रूप से, "बपतिस्मा नहीं लिया")." यही वह परिच्छेद है, जिसका उल्लेख लिडेल और स्कॉट (Liddell and scott) ने निमज्जन करने के अर्थ में βαπτίζω के प्रयोग के उदाहरण के रूप में करते हैं। ईसा मसीह द्वारा इस कार्यवाही का पालन न करना उनके शिष्यों के ही समान है: "इसके बाद येरुशलम के धर्म-शास्री और पाखण्डी लोग ईसा मसीह के पास यह कहते हुए आए कि तेरे अनुयायी पूर्वजों की परंपरा का उल्लंघन क्यों करते हैं? क्योंकि वे नहीं धोते (νίπτω) अपने हाथ, जब वे भोजन करते हैं।"[Mt 15:1-2] नया करार के जिस अन्य परिच्छेद का उल्लेख किया गया है, वह है: "दिखावटी लोग…तब तक भोजन नहीं करते, जब तक कि वे धो न लें (νίπτω, धोने के लिये एक सामान्य शब्द) अपने हाथों को पूरी तरह, अपने पूर्वजों की परंपरा का पालन करते हुए; और जब वे बाजार से लौटते हैं, तो वे तब तक नहीं खाते, जब तक कि वे स्वयं को पूरी तरह धो न लें (शाब्दिक रूप से, "स्वयं का बपतिस्मा नहीं कर लेते"-βαπτίσωνται, βαπτίζω का कर्मवाच्य या मध्य स्वर)".[Mk 7:3–4]

विभिन्न संप्रदायों के विद्वानों[29][30][31] का दावा है कि ये दो परिच्छेद दर्शाते हैं कि आमंत्रित किये गये अतिथियों अथवा बाजार से लौटने वाले लोगों से स्वयं को पानी में पूरी तरह डुबोने ("स्वयं का बपतिस्मा करने") की उम्मीद नहीं की जानी चाहिये, बल्कि केवल अपने हाथों को आंशिक रूप से पानी में डुबोने या खुद पर जल छिड़कने की उम्मीद की जानी चाहिये, जैसा कि वर्तमान यहूदी पद्धति द्वारा अपनाया गया रूप है।[32]

ज़ोडिएट्स (Zohiates) और बाल्ज़ व श्नीडर (Balz & Schneider) के शब्द-विज्ञान संबंधी कार्य भी कहते हैं कि इनमें से दूसरी स्थिति में, Mark 7:4, βαπτίζω शब्द का अर्थ यह है कि बाजार से आने के बाद, पाखण्डी लोग एकत्रित किये गये पानी में केवल अपने हाथों में डुबोते थे और वे स्वयं को पूरी तरह नहीं डुबोते थे।[33] वे समझते हैं कि βαπτίζω शब्द का अर्थ βάπτω के ही समान, डुबकी लगाना या निमज्जन करना है,[34][35][36] एक शब्द जिसका प्रयोग हाथ में रखे टुकड़े को शराब में या एक अंगुली को फैले हुए खून में आंशिक रूप से डुबोने के अर्थ में किया जाता है।[37]

व्युत्पन्न संज्ञायें[संपादित करें]

नए करार में βαπτίζω से व्युत्पन्न दो संज्ञायें प्राप्त होती हैं: βαπτισμός और βάπτισμα.

Mark 7:4 में Βαπτισμός थालियों की शुद्धि, धुलाई, प्रक्षालन के उद्देश्य से किये जाने वाले एक जल-संबंधी कर्म-काण्ड को संदर्भित करता है;[38][39] उसी श्लोक में तथा Hebrews 9:10 में बर्तनों के अथवा शरीर के लेवीय प्रक्षालन (Levitical Cleansing) को;[40] तथा Hebrews 6:2 में संभवतः बपतिस्मा को भी, हालांकि संभवतः वहां यह किसी निर्जीव पदार्थ को धोने का उल्लेख कर सकता है।[39] Colossians 2:12 में, गौण पांडुलिपियों में βάπτισμα है, लेकिन सर्वश्रेष्ठ में βαπτισμός है और नए करार के आधुनिक समालोचनात्मक संस्करणों में यही अर्थ दिया गया है।[41] यह नया करार का एकमात्र उदाहरण है, जिसमें βαπτισμός का उल्लेख स्पष्ट रूप से ईसाई बपतिस्मा के अर्थ में किया गया है, न कि सामान्य धुलाई के अर्थ में, लेकिन Hebrews 6:2 भी बपतिस्मा का उल्लेख कर सकता है। [39] जब यह केवल उपकरणों के प्रक्षालन को संदर्भित कर रहा हो, βαπτισμός की तुलना ῥαντισμός (छिड़कना) के साथ की गई है, जो केवल Hebrews 12:24 और 1Peter 1:2 में मिलता है, एक ऐसा शब्द जिसका प्रयोग पुराने करार के पादरी द्वारा सांकेतिक प्रक्षालन को सूचित करने के लिये किया जाता था।[42]

Βάπτισμα, जिसे βαπτισμός समझकर भ्रमित नहीं होना चाहिए,[42] केवल ईसाईयों द्वारा किये गये लेखन में ही मिलता है।[38] नया करार में यह कम से कम 21 बार दिखाई देता है:

  • 13 बार बपतिस्मा-दाता जॉन (John the Baptist) द्वारा पालन किये जाने वाले कर्मकाण्ड के संदर्भ में;[43]
  • 3 बार विशिष्ट ईसाई कर्मकाण्ड के संदर्भ में[44] (यदि Colossians 2:12 में प्रयुक्त कुछ गौण पांडुलिपियों में किये गये प्रयोग को गिना जाए, तो 4 बार);
  • 5 बार लाक्षणिक अर्थ में.[45]

इतिहास[संपादित करें]

जैसा कि एक्ट्स ऑफ द एपोस्टल्स (Acts of the Apostles) तथा पाओलिन एपिस्टल्स (Pauline epistles) में अनेक उल्लेखों में प्रदर्शित है, बपतिस्मा शुरु से ही ईसाईयत का हिस्सा रहा है। ईसाई मानते हैं कि बपतिस्मा का संस्कार ईसा मसीह ने प्रारंभ किया था। ईसा मसीह के इरादे कितने स्पष्ट थे और क्या वे एक निरंतर जारी रहने वाले, व्यवस्थित चर्च की कल्पना करते थे, यह विद्वानों के बीच बहस का विषय है।[15]

यहूदी कर्मकाण्ड में पृष्ठभूमि[संपादित करें]

हालांकि "बपतिस्मा" शब्द का प्रयोग यहूदी कर्मकाण्ड का वर्णन करने के लिये नहीं किया जाता, लेकिन यहूदी नियमों और परंपरा में शुद्धिकरण संस्कार (अथवा मिकवाह (mikvah) -धार्मिक निमज्जन) की बपतिस्मा के साथ कुछ समानता है और ये दोनों आपस में जुड़े हुए हैं।[46] यहूदी बाइबिल और अन्य यहूदी पुस्तकों में, संस्कार शुद्धिकरण के लिये जल में निमज्जन की स्थापना विशिष्ट परिस्थितियों में "संस्कार शुद्धि" की स्थिति की पुनर्स्थापना करने के लिये की गई थी। उदाहरण के लिये, जो यहूदी (मूसा के नियम के अनुसार) शव के संपर्क में आने के कारण धार्मिक रूप से अपवित्र हो गए हों, उन्हें किसी पवित्र मंदिर में प्रवेश की अनुमति देने से पूर्व मिकवाह का प्रयोग आवश्यक था। यहूदी पंथ में आने वाले धर्मांतरितों के लिये उनके नियमों के अनुसार निमज्जन आवश्यक होता है। मिकवाह में निमज्जन शुद्धि, पुनर्स्थापना और समुदाय के जीवन में पूर्ण धार्मिक सहभागिता के लिये अर्हता के संदर्भ में अवस्था के परिवर्तन का प्रतिनिधित्व करता है, जिससे यह सुनिश्चित हो जाता है कि शुद्ध हो चुका व्यक्ति किसी भी संपत्ति या उसके स्वामियों पर कोई अशुद्धि नहीं थोपेगा Num. 19 तथा बेबीलोनियन टैलमड (Babylonian Talmud), ट्रैक्टेट चगीगा (Tractate Chagigah), पृ. 12). मिकवाह के द्वारा यह अवस्था परिवर्तन बार-बार प्राप्त किया जा सकता था, जबकि ईसाई बपतिस्मा, सुन्नत की तरह, ईसाईयों का एक सामान्य दृष्टिकोण है, अद्वितीय तथा गैर-पुनरावर्तनीय.[47] (हालांकि सेवन्थ-डे एडवेन्टिस्ट (Seventh-day Adventists) मानते हैं कि यदि विश्वास रखने वाला व्यक्ति ईसाईयत का कोई नया ज्ञान प्राप्त करे, तो बपतिस्मा पुनरावर्तनीय होता है, जैसे Acts 19:1-5 में. जो व्यक्ति ईसा के मार्ग से दूर चला गया हो, उसके लिये भी पुनःबपतिस्मा के द्वारा एक नया प्रण लेना संभव है।)[48]

बपतिस्मा-दाता जॉन (John the Baptist) ने अपने मसीहाई आंदोलन में बपतिस्मा-संबंधी निमज्जन को एक केंद्रीय संस्कार के रूप में स्वीकार किया।[49]

ईसा मसीह का बपतिस्मा[संपादित करें]

मसीह का बपतिस्मा, 1450 (नैशनल गैलरी, लंदन).

बपतिस्मा-दाता जॉन (John the Baptist) जॉर्डन नदी के तट पर निवासरत पहली-सदी के मिशन उपदेशक थे।[50] ईसाई धर्मशास्र के अनुसार, ईश्वर ने उन्हें ईसा के प्रथम आगमन की घोषणा करने के लिये चुना था। उन्होंने प्रायश्चित्त के लिये आए यहूदियों का बपतिस्मा जॉर्डन नदी में किया।[51]

इस प्रबंध के प्रारंभ में बपतिस्मा-दाता जॉन (John the Baptist) द्वारा ईसा का बपतिस्मा किया गया. ईसा के प्रारंभिक अनुयायियों में से अनेक वे अन्य लोग थे, जिनका बपतिस्मा, ईसा की ही तरह, बपतिस्मा-दाता जॉन (John the Baptist) द्वारा जॉर्डन में किया गया।[52]

मोटे तौर पर विद्वान इस बात पर एकमत हैं कि ऐतिहासिक ईसा के जीवन की घटनाओं में ईसा का बपतिस्मा सर्वाधिक प्रामाणिक, अथवा ऐतिहासिक रूप से उसके समान, घटना है। ईसा मसीह और उनके प्रारंभिक शिष्यों ने जॉन के बपतिस्मा की वैधता मान्य की, हालांकि स्वयं ईसा मसीह ने प्रायश्चित्त के विचार को बपतिस्मा से अलग कर दिया तथा कर्मकाण्ड के साथ तनाव में शुद्धता के नीतिशास्र को बढ़ावा दिया.[53] प्रारंभिक ईसाईयत एक प्रायश्चित्त के बपतिस्मा का पालन करती थी, जो पापों के लिये क्षमा प्रदान करता था। प्रत्यक्ष व ऐतिहासिक दोनों ही प्रकार से, ईसाई बपतिस्मा का मूल ईसा के बपतिस्मा में है।[54]

इस घटना ने बपतिस्मा-दाता जॉन (John the Baptist) के प्रति ईसा मसीह के संभावित समर्पण का मुद्दा उत्पन्न किया और यह ईसाईयत के इस विश्वास के विपरीत प्रतीत हुई कि ईसा मसीह का स्वरूप पाप-मुक्त है। जॉन का बपतिस्मा पाप से क्षमा नहीं करता था। यह केवल प्रायश्चित्त के लिये तथा ईसा का मार्ग तैयार करने के लिये था (पापों से क्षमा केवल ईसा मसीह में बपतिस्मा है, जिसका आदेश स्वयं ईसा मसीह द्वारा पुनरुत्थान के बाद दिया गया था). इस धार्मिक कठिनाई को सुलझाने के प्रयास गॉस्पेल सहित प्रारंभिक ईसाई लेखनों में देखे जा सकते हैं। मार्क (Mark) के लिये, जॉन द्वारा बपतिस्मा थियोफेनी (Theophany) के निर्धारण, ईश्वर के पुत्र के रूप में ईसा मसीह की दिव्य पहचान उजागर करने के लिये था।[Mk 1:7-11] मैथ्यू (Matthew) दर्शाते हैं कि जॉन को ईसा, स्वाभाविक रूप से उनसे एक श्रेष्ठ व्यक्ति, के बपतिस्मा पर आपत्ति थी और वे केवल तब राजी हुए, जब ईसा ने इस आपत्ति को अवस्वीकार कर दिया[Mt 3:14-15] और वे पापों के प्रति क्षमा के लिये मार्क द्वारा दिये गये बपतिस्मा के संदर्भ को ख़ारिज करते हैं। ल्यूक (Luke) ईसा की तुलना में जॉन की दासता पर जोर देते हैं, जबकि दोनों अभी गर्भ में ही थे [Lk 1:32-45] और ईसा के बपतिस्मा में जॉन की भूमिका को अस्वीकार करते हैं। [3:18-21] द गॉस्पेल ऑफ जॉन (The Gospel of John) इस प्रकरण को अस्वीकार करता है।[55]

ईसा के बपतिस्मा की जो प्रारंभिक व्याख्याएं लोकप्रिय बनीं हुईं हैं, उनमें इग्नेशियस ऑफ ऐन्टिओक (Ignatius of Antioch) का यह दावा कि बपतिस्मा के जल को शुद्ध करने के लिये ईसा का बपतिस्मा किया गया था तथा जस्टिन मार्टियर (Justin Martyr) की यह व्याख्या शामिल है कि ईसा का बपतिस्मा सभी के लिये आदर्श उदाहरण की उनकी भूमिका के चलते किया गया था।[55]

ईसा मसीह द्वारा बपतिस्मा[संपादित करें]

द गॉस्पेल ऑफ जॉन (The Gospel of John) [Jn 3:22-30] [4:1-4] के अनुसार शुरुआती दौर में ईसा ने बपतिस्मा के एक मिशन का नेतृत्व किया, जिससे लोग आकर्षित हुए. John 4:2, जिसे अनेक विद्वान मानते हैं कि यह संपादन के दौरान बाद में जोड़ा गया,[56] इस बात को नकारता है कि स्वयं ईसा मसीह ने बपतिस्मा लिया और कहता है कि ऐसा उन्होंने केवल अपने अनुयायियों के माध्यम से किया था।

कुछ प्रमुख विद्वानों का निष्कर्ष है कि ईसा मसीह का बपतिस्मा नहीं किया गया था। गर्ड थीसन (Gerd Theissen) तथा ऐनेट मर्ज़ (Annette Merz) दावा करते हैं कि ईसा का बपतिस्मा नहीं हुआ, उन्होंने बपतिस्मा से प्रायश्चित्त के विचार को अलग नहीं किया, जॉन के बपतिस्मा को मान्यता नहीं दी और बपतिस्मा से जुड़े तनाव में एक शुद्धता-संबंधी नैतिक आचरण प्रस्तावित नहीं किया।[53] विश्व के धर्मों का ऑक्सफोर्ड शब्दकोश (Oxford Dictionary of World Religions) भी कहता है कि अपने समूह के एक भाग के रूप में ईसा का बपतिस्मा नहीं हुआ था।[14][page needed]

ई. पी. सैण्डर्स (E.P. Sanders) एक ऐतिहासिक व्यक्तित्व के रूप में ईसा मसीह के अपने चित्रण से ईसा के बपतिस्मा मिशन के बारे में जॉन के वर्णन को अस्वीकार करते हैं।[57]

रॉबर्ट डब्ल्यू. फंक (Robert W. Funk) जॉन में ईसा के बपतिस्मा समूह के वर्णन को आंतरिक विरोधाभासों से युक्त मानते हैं: जैसे, उदाहरण के लिये, यह ईसा के ज्युडिया (Judea) आगमन का उल्लेख करता है, जबकि वह पहले ही येरुशलम में थे और इस प्रकार वे ज्युडिया में ही थे।[58] John 3:22 वस्तुतः ईसा और उनके शिष्यों के "εἰς τὴν Ἰουδαίαν" (ज्युडिया के भीतर) आने की बात नहीं कहता, बल्कि "εἰς τὴν Ἰουδαίαν γῆν" (ज्युडाई ग्रामीण क्षेत्र के भीतर) आने की बात कहता है,[59] जिसे कुछ लोग येरुशलम समझ लेते हैं, जो कि निकोडेमस के साथ हुई उस भेंट का स्थान था, जिसका वर्णन ठीक पहले किया गया है।[60] जीसस सेमिनार (Jesus Seminar) के अनुसार, ईसा मसीह द्वारा बपतिस्मा के मिशन का नेतृत्व किये जाने के बारे के बारे में परिच्छेद "ज्युडिया आगमन" (जैसी कि वे "εἰς τὴν Ἰουδαίαν γῆν" की व्याख्या करते हैं) में संभवतः कोई ऐतिहासिक जानकारी सम्मिलित नहीं है (एक "काली" रेटिंग).[58]

दूसरी ओर, कैम्ब्रिज कम्पैनियन टू जीसस (Cambridge Companion to Jesus) का एक भिन्न दृष्टिकोण है।[61] इस स्रोत के अनुसार, बपतिस्मा-दाता जॉन (John the Baptist) के प्रायश्चित्त, क्षमाशीलता और बपतिस्मा के संदेश को ईसा ने स्वीकार कर लिया और स्वयं का बना लिया;[62] जॉन से इसे लेते हुए, जब उसे जेल में बंद कर दिया गया, तो उन्होंने ईश्वर के शीघ्र ही आ रहे राज्य को स्वीकार करने के पहले चरण के रूप में प्रायश्चित्त और बपतिस्मा को अपनाने की अपील की;[63] और ईसा के बपतिस्मा के बारे में जॉन के परिच्छेद के द्वारा उनके संदेश में बपतिस्मा के केंद्रीय स्थान की पुष्टि होती है।[64] जॉन को फांसी पर लटका दिये जाने के बाद ईसा ने बपतिस्मा पर रोक लगा दी, हालांकि वे कभी-कभी इस पद्धति पर लौटे भी हो सकते हैं; इसी प्रकार, हालांकि, जॉन की मृत्यु से पूर्व ईसा के समूह में तथा उनके पुनरुत्थान के बाद उनके अनुयायियों के बीच पुनः बपतिस्मा ने एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी, लेकिन इनके बीच के काल-खण्ड में इसे इतना महत्व प्राप्त नहीं था।[65]

नये करार के विद्वान रेमण्ड ई. ब्राउन (Raymond E. Brown), जोहेनाइन लेखनों के एक विशेषज्ञ, यह मानते हैं कि कोष्ठकों के बीच John 4:2 द्वारा लिखी गई यह संपादकीय टिप्पणी कि ईसा ने केवल अपने शिष्यों के माध्यम से बपतिस्मा लिया, इससे पिछले श्लोक में दो बार दोहराए गए उस कथन को स्पष्ट करने अथवा सुधारने के उद्देश्य से लिखी गई थी कि ईसा ने बपतिस्मा लिया था और इस प्रविष्टि का कारण संभवतः यह रहा होगा कि लेखक का विचार यह था कि शिष्यों द्वारा प्रबंधित बपतिस्मा बपतिस्मा-दाता के कार्य को जारी रखने का प्रयास मात्र था, न कि पवित्र आत्मा में बपतिस्मा.[66]

नये करार के अन्य विद्वान भी जॉन में इस परिच्छेद के ऐतिहासिक महत्व को स्वीकार करते हैं। यह विचार जोएल बी. ग्रीन (Joel B. Green), स्कॉट मैकनाइट (Scott McKnight), आई. हॉवर्ड मार्शल (I. Howard Marshall) द्वारा व्यक्त किया गया है।[67] एक अन्य कथन कहता है कि "ईसा और उनके अनुयायियों द्वारा कुछ समय के बपतिस्मा के एक समूह का पालन करने की खबरों को अस्वीकार करने का कोई प्राथमिक (a priori) कारण नहीं है" और इस खबर का उल्लेख जॉन के संस्मरण [3:22-26] की एक वस्तु के रूप में करता है "जिनका ऐतिहासिक होना संभावित है और उन्हें उचित महत्व दिया जाना चाहिये."[68]

बपतिस्मा-दाता जॉन (John the Baptist) तथा नाज़ारेथ के ईसा (Jesus of Nazareth) के संबंधों पर लिखी गई अपनी पुस्तक में डैनियल एस. डापाह (Daniel S. Dapaah) कहते हैं कि जॉन का संस्मरण "ऐतिहासिक परंपरा का एक टुकड़ा हो सकता है" और टिप्पणी करते हैं कि सिनॉप्टिक गॉस्पेल (Synoptic उपदेश) के मौन का अर्थ यह नहीं है कि जॉन में दी गई जानकारी आविष्कारित थी और यह कि मार्क का संस्मरण भी यह सुझाव देता है कि गैलिली (Galilee) जाने से पूर्व ईसा ने पहले जॉन के साथ कार्य किया था।[69] फ्रेडरिक जे. स्वीकोवस्की (Frederick J. Cwiekowski) इस बात से सहमत हैं कि जॉन का संस्मरण "यह प्रभाव देता है" कि ईसा का बपतिस्मा हुआ था।[70]

द जोसेफ स्मिथ ट्रांस्लेशन ऑफ बाइबिल (The Joseph Smith Translation of Bible) के अनुसार "हालांकि उन्होंने [ईसा ने] स्वयं बपतिस्मा लिया था, लेकिन उनके शिष्यों में से अनेकों ने नहीं; 'क्योंकि उन्होंने एक उदाहरण के रूप में उन्हें कष्ट दिया, एक दूसरे को आगे करते हुए.'[71]

द गॉस्पेल ऑफ़ जॉन (the Gospel of John), John 3:32 में, टिप्पणी करता है, कि, हालांकि ईसा ने अनेक लोगों को अपने बपतिस्मा में खींचा, लेकिन फिर भी उन्होंने उनकी गवाही को स्वीकार नहीं किया,[72] और जोसेफस (Josephus) के संस्म्ररणों के आधार पर जीसस सेमिनार (Jesus Seminar) का निष्कर्ष है कि संभवतः लोगों के मन में ईसा की तुलना में बपतिस्मा-दाता जॉन (John the Baptist) की उपस्थिति अधिक व्यापक थी।[51]

नया करार[संपादित करें]

नया करार में इस बात के अनेक उल्लेख हैं कि प्रारंभिक ईसाईयों के बीच बपतिस्मा एक महत्वपूर्ण रिवाह्ज था और जबकि यह ईसा के द्वारा इसकी स्थापना का कोई वास्तविक विवरण नहीं देता, लेकिन यह उन्हें अपने पुनरुत्थान के बाद अपने अनुयायियों को इस संस्कार का पालन करने का निर्देश देते हुए चित्रित करता है (ग्रेट कमीशन देखें).[73] इसमें धर्मदूत पॉल (Apostle Paul) द्वारा दी गई व्याख्या और बपतिस्मा के महत्व के बारे में पीटर का पहला धर्मपत्र (First Epistle of Peter) भी शामिल हैं।

पॉल के धर्मपत्र[संपादित करें]

धर्मदूत पॉल ने 50वें दशक ईसवी में विभिन्न प्रभावपूर्ण पत्र लिखे, जिन्हें बाद में वैधानिक मान लिया गया। पॉल के लिये, बपतिस्मा ईसाईयत के साथ, ईसा की मृत्यु तथा पुनरुत्थान के साथ विश्वासकर्ता के संबंध को प्रभावित व प्रदर्शित करता है; व्यक्ति के पापों का प्रक्षालन करता है; व्यक्ति को ईसा मसीह के शरीर में शामिल करता है तथा व्यक्ति को "आत्मा का पेय" बनाता है।[1 Co 12:13][15] पॉल के लेखनों के आधार पर, बपतिस्मा की व्याख्या रहस्य धर्मों के संदर्भ में की गई थी।[74]

मार्क का गॉस्पेल[संपादित करें]

{{Bibleref2|Mark|1
1-11

यह गॉस्पेल, जिसे सामान्यतः प्रथम माना जाता है एवं जिसका प्रयोग मैथ्यू व ल्यूक (Matthew and Luke) के लिये एक आधार के रूप में किया जाता रहा है, पापों के प्रक्षालन के लिये बपतिस्मा के प्रायश्चित्त का उपदेश देने वाले जॉन द्वारा ईसा का बपतिस्मा किये जाने के साथ प्रारंभ होता है। जॉन ईसा के बारे में कहते हैं कि वे जल के साथ नहीं, बल्कि पवित्र आत्मा के साथ बपतिस्मा करेंगे. ईसा मसीह के बपतिस्मा के दौरान, उन्हें यह घोषणा करती हुई ईश्वरीय वाणी सुनाई देती है, ईसा मसीह ईश्वर के पुत्र हैं और वे एक आत्मा को किसी कबूतर की तरह उनकी ओर आते हुए देखते हैं। ईसा के समूह के दौरान, जब जेम्स और जॉन आने वाले राज्य में सम्मानजनक स्थान के बारे में ईसा मसीह से पूछते हैं, तो ईसा अपने भाग्य को एक बपतिस्मा और एक कप की उपमा देते हैं, वही बपतिस्मा और कप जॉन तथा जेम्स के लिये भी है (अर्थात्, शहादत).[75]

{{Bibleref2|Mark|16
19-20

ऐसा माना जाता है कि मार्क की परंपरागत समाप्ति दूसरी सदी के प्रारंभ में संकलित की गई थी तथा शुरूआती रूप से उस सदी के मध्य के दौरान गॉस्पेल में जोड़ी गई थी।[76] इसके अनुसार जो लोग विश्वास करते हैं तथा जिनका बपतिस्मा हुआ है, वे बच जाएंगे.[Mk 16:9-20]

मैथ्यू का गॉस्पेल[संपादित करें]

{{Bibleref2|Matthew|3
12-14
Matthew 28:18-20

मैथ्यू ने ईसा के बपतिस्मा का एक संक्षिप्त संस्करण शामिल किया है।[Mt 3:12-14]

द गॉस्पेल ऑफ मैथ्यू (The Gospel of Matthew) में ग्रेट कमीशन का सर्वाधिक प्रसिद्ध संस्करण भी शामिल है।[28:18-20] यहां, पुनरुत्थानित ईसा मसीह धर्मदूतों के समक्ष उपस्थित होते हैं और उन्हें शिष्य बनाने, बपतिस्मा देने और शिक्षा देने हेतु नियुक्त करते हैं।[77] यह नियुक्त ईसाई आंदोलन द्वारा अपनी शैशवावस्था में अपनाए गए कार्यक्रम को प्रतिबिंबित करती है।[77]

अधिनियम[संपादित करें]

c. 85–90 लिखित,[78] एक्ट्स ऑफ द एपोस्टल्स (Acts of the Apostles), के अनुसार ईस्टर के बाद सातवें रविवार (Pentecost) को येरुशलम में एक ही दिन लगभग 3,000 लोगों का बपतिस्मा किया गया।[2:41] आगे यह समारिया (Samaria) में पुरुषों व महिलाओं के बपतिस्मा, एक इथोपियाई हिजड़े के [8:12-13], सॉल ऑफ टार्सस (Saul of Tarsus) के [8:36-40], कॉर्नेलियस (Cornelius) के घर के [9:18] [22:16], लाइडिया (Lydia) के घर के [10:47-48], फिलिपि जेलर (Philippi Jailer) के घर के [16:15], अनेक कोरिन्थियाइयों (Corinthians) [18:8] के [16:33] और विशिष्ट कोरिन्थियाइयों के बीच संबंध को प्रदर्शित करता है, जिनका बपतिस्मा पॉल द्वारा व्यक्तिगत रूप से किया गया था।{{|1Cor|1:14-16||1 Co 1:14-16|date=May 2010}}

अधिनियमों में, विश्वास और प्रायश्चित्त को बपतिस्मा की पूर्व आवश्यकताओं के रूप में वर्णित किया गया है।[15] ये अधिनियम बपतिस्मा को आत्मा को प्राप्त करने के साथ जोड़ते हैं, लेकिन इनका अचूक संबंध सदैव समान नहीं होता.[15]

इसके अतिरिक्त अधिनियमों में, ऐसे बारह व्यक्ति, जिन्होंने जॉन से बपतिस्मा लिया था और इसके परिणामस्वरूप जिन्हें अभी भी पवित्र आत्मा की प्राप्ति होनी आवश्यक थी, को पॉल द्वारा पुनः बपतिस्मा किये जाने हेतु निर्देशित किया गया था, जिसके द्वारा उन्हें पवित्र आत्मा की प्राप्ति हुई.[19:1-7]

Acts 2:38, Acts 10:48 और Acts 19:5 "ईसा के नाम पर" अथवा "प्रभू ईसा मसीह के नाम पर" बपतिस्मा की बात करते हैं, लेकिन इस बात पर प्रश्न उठाए गए हैं कि क्या इसी नियम का प्रयोग किया गया था।[15]

धर्मदूतीय अवधि[संपादित करें]

धर्मदूतीय काल (The Apostolic Age) ईसा के जीवन से लेकर अंतिम धर्मदूत की मृत्यु साँचा:C. तक का काल था (प्रिय शिष्य देखें). अधिकांश नया करार इसी अवधि में लिखा गया था और बपतिस्मा के प्राथमिक संस्कार एवं परम प्रसाद की स्थापना की गई थी। विशिष्ट रूप से प्रोटेस्टैंट समुदाय के लोग ईसा के सच्चे संदेश के एक गवाह के रूप में धर्मदूतीय काल के चर्च को महत्वपूर्ण मानते हैं, जिनके बारे में उनका विश्वास है कि वह महान स्वधर्म त्याग (Great Apostasy) के दौरान धीरे-धीरे भ्रष्ट हो गया।

उपवास के साथ, जॉन के पूर्व अनुयायियों के प्रभाव के चलते बपतिस्मा की पद्धति ईसाई पद्धति में प्रविष्ट हुई होगी.[51]

डिडाचे (The Didache) अथवा टीचिंग ऑफ द ट्वेल्व एपोस्टल्स (Teaching of the Twelve Apostles) 16 संक्षिप्त अध्यायों की एक गुमनाम पुस्तक, बपतिस्मा के प्रशासन के लिये, बाइबिल के बाहर, संभवतः सबसे प्रथम ज्ञात निर्देश हैं। पहला संस्करण साँचा:C. में लिखा गया।[79] प्रविष्टियों और अनुवृद्धियों के साथ दूसरा साँचा:C. में लिखा गया था।[79] 19वीं सदी में पुनः खोजा गया यह कार्य धर्मदूतीय काल की ईसाईयत पर एक अद्वितीय दृष्टि प्रदान करता है। विशिष्ट रूप से, यह ईसाईयत के दो बुनियादी संस्कारों का वर्णन करता है: परम प्रसाद तथा बपतिस्मा. यह "जीवित जल" (अर्थात् बहता हुआ जल, जिसे जीवन का संकेत माना जाता है)[80] अथवा, यदि यह अनुपलब्ध हो, तो इसके प्राकृतिक तापमान पर, रूके हुए जल में निमज्जन के द्वारा बपतिस्मा को प्राथमिकता देता है, लेकिन यह मानता है कि, जब निमज्जन के लिये पर्याप्त जल उपलब्ध न हो, तो सिर पर जल छिड़कना पर्याप्त होता है।[81][82][83][84][85]

मैथ्यू के (साँचा:C.[78]) ग्रेट कमीशन में, ईसाईयों का बपतिस्मा पिता, तथा पुत्र, तथा पवित्र आत्मा के नाम पर किया जाना है।[77] कम से कम पहली सदी के अंत से ही पिता, तथा पुत्र, तथा पवित्र आत्मा के नाम पर बपतिस्मा किया जाता रहा है।[15] अधिनियमों में (साँचा:C.),[78] ईसाई "ईसा के नाम पर" बपतिस्मा लेते हैं [Ac 19:5] हालांकि, इस बात पर प्रश्न उठाए गए हैं कि क्या इसका प्रयोग एक मौखिक नियम के अर्थ में किया गया था।[15]

इस बात पर एक आम सहमति है कि नया करार में शिशुओं के बपतिस्मा का कोई सकारात्मक प्रमाण नहीं है,[86][87] और डिडाचे द्वारा बपतिस्मा के उम्मीदवारों पर लगाई गई आवश्यकताएं विशिष्ट रूप से शिशु बपतिस्मा को प्रतिबंधित करती हुई समझी जाती हैं।[88][89][90]

प्रारंभिक ईसाईयत[संपादित करें]

बपतिस्मा के संदर्भ में प्रारंभिक ईसाई विश्वास (धर्मदूतीय काल के बाद अनुपालित ईसाईयत) परिवर्तनीय थे।[14] प्रारंभिक ईसाई बपतिस्मा के सर्वाधिक सामान्य रूप में, उम्मीदवार जल में खड़ा रहता था और उसके शरीर के ऊपरी भाग पर जल डाला जाता था।[14] बीमार अथवा मरते हुए व्यक्ति का बपतिस्मा के लिये सामान्यतः आंशिक निमज्जन के अतिरिक्त अन्य माध्यमों का प्रयोग किया जाता था और फिर भी इसे वैध माना जाता था।[91] बपतिस्मा के धर्मशास्र ने तीसरी और चौथी सदी में अचूकता प्राप.[14]

शुरू में जहां निर्देश बपतिस्मा के बाद दिये जाते थे, वहीं विशेष रूप से चौथी सदी के अपधर्म की शुरुआत में, विश्वासकर्ताओं को बपतिस्मा किये जाने से पूर्व बढ़ती हुई विशिष्टता से युक्त निर्देश दिये जाने लगे.[92] तब तक, बपतिस्मा का स्थगन सामान्य हो चुका था और विश्वासकर्ताओं का एक बड़ा हिस्सा केवल नव-धर्मांतरितों से मिलकर बना था (कॉन्स्टैन्टाइन का बपतिस्मा तब तक नहीं किया गया था, जब तक कि उसकी मृत्यु निकट नहीं आ गई); लेकिन जब वयस्कों के लिये अभीष्ट कर्मकाण्डों के एक अपनाए गए रूप का प्रयोग करते हुए ईसाईयों की संतानों का बपतिस्मा करना, वयस्क धर्मांतरितों के बपतिस्मा से अधिक आम बन गया, तो नव-धर्मांतरितों की संख्या घट गई।[92]

चूंकि बपतिस्मा को पापों को क्षमा करने वाला माना जाता था, अतः बपतिस्मा के बाद किये गये पापों का मुद्दा उपस्थित हुआ। कुछ लोगों ने इस बात पर बल दिया कि स्वधर्म त्याग, यहां तक कि मृत्यु के भय के अधीन होने पर भी, तथा अन्य घोर पाप व्यक्ति को सदैव के लिये ईसाईयत से दूर कर देते हैं। जैसा कि संत साइप्रियन (Saint Cyprian) के लेखनों में सूचित किया गया है, अन्यों ने "लप्सी (Lapsi)" को सरलतापूर्वक पुनर्स्वीकृत कर लिये जाने का समर्थन किया। यह नियम प्रचलित हुआ कि उन्हें केवल प्रायश्चित्त की अवधि से गुज़रने के बाद ही पुनर्स्वीकृत किया जाता था, जो सच्चे पश्चाताप को प्रदर्शित करती थी।

जिसे अब आम तौर पर नाइसीनी पंथ (Nicene Creed) कहा जाता है, 325 की नाइसिया की पहली सभा द्वारा अपनाये गये पाठ्य से लंबी, तथा 381 में कॉन्स्टैन्टिनोपल की पहली सभा द्वारा उसे उस रूप में अपनाए जाने के कारण नाइसीनो-कॉन्स्टैण्टिनोपॉलिटन पंथ के रूप में जाना जाने वाला पंथ, संभवतः कॉन्स्टैन्टिनोपल, 381 सभा का आयोजन-स्थल, में प्रयुक्त बपतिस्मात्मक पंथ था।[93]

प्रारंभिक मध्य युग[संपादित करें]

मूल पाप के धर्मशास्र के विकास के साथ-साथ, मृत्यु-शैय्या पर पहुंचने तक बपतिस्मा को टालने की आम पद्धति के विपरीत शिशु बपतिस्मा आम बन गया।[14] पेलैजियस के विपरीत, ऑगस्टाइन ने इस बात पर ज़ोर दिया कि मोक्ष-प्राप्ति हेतु बपतिस्मा धार्मिक लोगों तथा बच्चों के लिये भी आवश्यक था।

ट्रोयेस कैथेड्रल में एक मूर्तिकला समूह में प्रदर्शित हिप्पो के अगस्तीन का बपतिस्मा (1549)

मध्य युग[संपादित करें]

बारहवीं शताब्दी ने "संस्कार" शब्द के अर्थ को संकुचित होता हुआ तथा साथ रस्मों तक सीमित होता हुआ पाया, जिनमें बपतिस्मा भी शामिल था, जबकि अन्य प्रतीकात्मक रस्मों को "संस्कारात्मक" कहा जाने लगा.[94]

बारहवीं और चौदहवीं शताब्दियों के बीच की अवधि में, पश्चिमी यूरोप में अभिसिंचन बपतिस्मा को प्रशासित करने का सामान्य तरीका बन गया, हालांकि सोलहवीं सदी के अंत तक भी कुछ स्थानों पर निमज्जन जारी रहा.[91] अतः पूरे मध्य युगों के दौरान, बपतिस्मा के लिये आवश्यक सुविधाओं के प्रकार में उल्लेखनीय विविधता रही, तेरहवीं सदी की पीसा की बैपटिस्टेरी (Baptistery at Pisa) में बने बपतिस्मात्मक तालाब, जिसमें एक साथ अनेक वयस्क लोग समा सकते थे, से लेकर पुराने कोलोन कैथेड्रल (Cologne Cathedral) की छठी सदी की बैपटिस्टेरी (Baptistery) में बने आधे-मीटर गहरे बेसिन तक.[95]

पूर्व और पश्चिम दोनों ही इस रस्म के प्रबंधन के लिये जल से धोने और ट्रिनिटेरियाई बपतिस्मात्मक नियम को आवश्यक मानते हैं। अरस्तू के तत्कालीन प्रचलित दर्शन-शास्र से ली गई शब्दावली का प्रयोग करते हुए, शास्रीय रूढ़िवादिता ने इन दोनों तत्वों का उल्लेख संस्कार के माध्यम और प्रारूप के रूप में किया है। दोनों तत्वों की आवश्यकता की शिक्षा के दौरान, कैथलिक चर्च की धार्मिक शिक्षा, किसी भी संस्कार की बात करते समय कहीं भी दर्शन-शास्र की इन शब्दावलियों का प्रयोग नहीं करती.[96]

Lutheranism
Lutherrose.svg
Luther's Seal
 Lutheranism portal


सुधार[संपादित करें]

जॉर्डन नदी में डुबकी बपतिस्मा की प्रतीक्षा

सोलहवीं सदी में, मार्टिन लूथर (Martin Luther) ने बपतिस्मा को एक संस्कार माना. लूथरों (Lutherans) के लिये, बपतिस्मा "कृपा का एक माध्यम" है, जिसके द्वारा ईश्वर "पुनरुज्जीवन की धुलाई" के रूप में "बचावात्मक विश्वास" को निर्मित करता है व शक्तिशाली बनाता है [Titus 3:5], जिसमें शिशु तथा वयस्क पुनः जन्म लेते हैं।[Jn 3:3-7] चूंकि आस्था का सृजन अद्वितीय रूप से केवल ईश्वर का कार्य है, अतः यह बपतिस्मा लेने वाले, शिशु या वयस्क, के कृत्यों पर निर्भर नहीं होता. हालांकि, बपतिस्मा लेने वाले शिशु विश्वास को व्यक्त नहीं कर सकते, लेकिन लूथरों का विश्वास है कि यह समान रूप से उपस्थित होता है।[97] चूंकि केवल विश्वास ही ये दिव्य उपहार प्राप्त करता है, अतः लूथर स्वीकार करते हैं कि बपतिस्मा "इस पर विश्वास रखने वालों के पापों को क्षमा करने का कार्य करता है, मृत्यु तथा शैतान से बचाता है, तथा अंतहीन मोक्ष प्रदान करता है, जैसी कि ईश्वर के शब्द तथा वचन घोषणा करते हैं।"[98] अपनी विस्तृत धर्मशिक्षा के अंतर्गत, शिशु बपतिस्मा के विशेष भाग में, लूथर यह तर्क देते हैं कि शिशु बपतिस्मा ईश्वर को पसंद है कि क्योंकि इस प्रकार बपतिस्मा लेने वाले व्यक्तियों को पुनर्जन्म प्राप्त हुआ है तथा पवित्र आत्मा द्वारा उन्हें दोषमुक्त किया गया है।[99]

बपतिस्मा की संस्कारात्मक स्थिति को नकारते हुए स्विस सुधारक हल्द्रिच ज़्विंगली (Huldrych Zwingli) लूथरों से मतभेद रखते हैं। ज़्विंगली ने बपतिस्मा और प्रभु के रात्रि-भोज को संस्कारों के रूप में माना, लेकिन केवल एक प्रारंभिक आयोजन के तौर पर.[15] इन संस्कारों को प्रतीकात्मक मानने का उनका विचार उन्हें लूथर से अलग करता है।

एनाबाप्टिस्टों (Anabaptists) (एक शब्द, जिसका अर्थ है "पुनर्बपतिस्मा-दाता") ने लूथरों तथा कैथलिकों द्वारा बनाई रखी गई परंपराओं का इतना कड़ा विरोध किया कि उन्होंने अपने समूह के बाहर किये गये बपतिस्मा की वैधता ही अस्वीकार कर दी. उन्होंने इस आधार पर धर्मांतरितों का "पुनर्बपतिस्मा" किया कि व्यक्ति की इच्छा के बिना उसका बपतिस्मा नहीं किया जा सकता और एक शिशु, जो यह समझ ही नहीं सकता कि बपतिस्मा की रस्म में होता क्या है और जिसे ईसाईयत की अवधारणाओं का कोई ज्ञान नहीं है, वास्तव में उसका बपतिस्मा हुआ ही नहीं है। उन्होंने शिशुओं के बपतिस्मा को गैर-बाइबिल पूर्ण माना क्योंकि वे अपने विश्वास को व्यक्त नहीं कर सकते और चूंकि उन्होंने अभी तक कोई पाप ही नहीं किये हैं, अतः उन्हें मोक्ष की समान रूप से आवश्यकता भी नहीं है। पुनर्बपतिस्मादाता तथा अन्य बपतिस्मादाता समूह यह नहीं मानते कि जिन लोगों का बपतिस्मा शैशव-काल में हुआ था, वे वस्तुतः उनका पुनः बपतिस्मा कर रहे हैं, क्योंकि उनके अनुसार शिशु बपतिस्मा का कोई प्रभाव नहीं होता. एमिश (The Amish), पुनरुद्धार चर्च (Restoration Church) (ईसा के चर्च (Churches of Christ)/ क्रिश्चियन चर्च (Christian Church)), हटेराइट (Hatterites), बाप्टिस्ट (Baptist), मेनोनाइट (Mennonites) तथा अन्य समूह इस परंपरा से उत्पन्न हुए हैं। पेंटाकोस्टल (Pentecostal), करिश्माई (Charismatic) तथा अधिकांश गैर-संप्रदायों के चर्च भी इस दृष्टिकोण को मानते हैं।[100]

आधुनिक पद्धति[संपादित करें]

आज, बपतिस्मा को सर्वाधिक स्वाभाविक रूप से ईसाईयत के साथ पहचाना जाता है, जहां यह पापों के प्रक्षालन (क्षमा) का, एवं ईसा की मृत्यु, दफन-विधि तथा पुनर्जीवन के साथ विश्वासकर्ता के मिलन का प्रतीक है, ताकि उसे "सुरक्षित" अथवा "पुनः जन्मा हुआ" कहा जा सके. अधिकांश ईसाई समूह बपतिस्मा के लिये जल का प्रयोग करते हैं तथा इस बात सहमत हैं कि यह महत्वपूर्ण है, लेकिन फिर भी वे इस रस्म के कुछ पहलुओं के संदर्भ में अन्य समूहों के साथ असहमत हो सकते हैं, जैसे:

  • बपतिस्मा का ढंग या विधि
  • बपतिस्मा के प्राप्तकर्ता
  • बपतिस्मा का अर्थ और प्रभाव

ढंग और विधि[संपादित करें]

नामकरण संस्कार में जरू छिड़कने के कार्य द्वारा एक बच्चे का बपतिस्मा

किसी ईसाई बपतिस्मा का प्रशासन किसी कृति को एक बार या तीन बार करते हुए निम्नलिखित रूपों में से किसी एक में किया जाता है:[101][102]

कलंक[संपादित करें]

कलंक सिर पर पानी का छिड़काव है।

अभिसिंचन[संपादित करें]

सिर पर जल छिड़कना अभिसिंचन कहलाता है।

निमज्जन[संपादित करें]

"निमज्जन" शब्द पुराने लैटिन शब्द इमर्सियोनेम (immersionem) से लिया गया है, जो इमर्गेर (immergere) (in - "के भीतर" + mergere "डुबोना") क्रिया से प्राप्त की गई एक संज्ञा है। बपतिस्मा के संदर्भ में, कुछ लोग इसका प्रयोग किसी भी प्रकार से डुबोये जाने को संदर्भित करने के लिये करते हैं, चाहे शरीर को पूरी तरह पानी के भीतर रखा गया हो अथवा केवल आंशिक रूप से जल में डुबोया गया हो; इस प्रकार वे संपूर्ण अथवा आंशिक निमज्जन की बात करते हैं। अन्य लोग, पुनर्दीक्षादाता परंपरा का पालन करनेवाले, विशिष्ट रूप से व्यक्ति को पूरी तरह पानी की सतह के भीतर डुबोये जाने (डुबकी) को व्यक्त करने के लिये ही "निमज्जन" का प्रयोग करते हैं।[103][104]. "निमज्जन" शब्दावली का प्रयोग बपतिस्मा के एक अन्य प्रकार के लिये भी किया जाता है, जिसमें व्यक्ति के निमज्जन के बिना जल में खड़े किसी व्यक्ति पर जल छिड़का जाता है।[105][106] "निमज्जन" शब्द के इन तीन अर्थों के लिये, निमज्जन बपतिस्मा देखें.

जब "निमज्जन" का प्रयोग "डुबकी" के विपरीत किया जाता है,[107] तो यह बपतिस्मा के उस प्रकार को सूचित करता है, जिसमें उम्मीदवार जल में खड़ा या घुटनों के बल बैठा होता है और उसके शरीर के ऊपरी भाग पर जल छिड़का जाता है। इस अर्थ में निमज्जन का प्रयोग पश्चिम और पूर्व में कम से कम दूसरी सदी से किया जाता रहा है और यह एक ऐसा रूप है, जिसमें बपतिस्मा को सामान्यतः प्रारंभिक ईसाई कला में चित्रित किया गया है। पश्चिम में, बपतिस्मा की इस विधि को अभिसिंचन बपतिस्मा के द्वारा प्रतिस्थापित किये जाने की शुरुआत आठवीं सदी के आस-पास हुई, लेकिन पूर्वी ईसाईयत में इसका प्रयोग अभी भी जारी है।[105][106][108]

डुबकी[संपादित करें]

पूर्वी रूढ़िवादी चर्च (सोफिया कैथेड्रल, 2005) में डुबकी द्वारा बपतिस्मा

डुबकी (Submersion) शब्द पुराने लैटिन शब्द (sub- "के अंतर्गत, के नीचे" + mergere "गोता, डुबकी")[109] से आता है और कभी-कभी इसे "पूर्ण निमज्जन" भी कहा जाता है। यह बपतिस्मा का एक रूप है, जिसमें जल उम्मीदवार के शरीर को पूरी तरह ढंक लेता है। डुबकी का प्रयोग रूढ़िवादी तथा विभिन्न पौर्वात्य चर्चों में तथा साथ ही एंब्रोसियाई रस्म (Ambrosian Rite) में किया जाता है (हालांकि निमज्जन, डुबकी से भिन्न, का प्रयोग भी अब आम है). यह शिशुओं के बपतिस्मा की रोमन रस्म में प्रदान की गई विधियों में से एक है। प्राचीन चित्रात्मक प्रदर्शनों तथा प्रारंभिक बपतिस्मा के बचे हुए जल-पात्रों के मापन के आधार पर इस अनुमान को चुनौती दी गई है कि "निमज्जन" शब्दावली, जिसका प्रयोग इतिहासकारों द्वारा प्रारंभिक ईसाईयों की सामान्य पद्धति के बारे में बात करते समय किया जाता था,[83][84] डुबकी को संदर्भित करती है।[110] अभी भी इसे भूलवश निमज्जन मान लिया जाता है।

एक नदी में डुबकी द्वारा एक इंजील कट्टर बपतिस्मा

बपतिस्मा-दाताओं का विश्वास है कि "ईसाई बपतिस्मा विश्वासकर्ता का जल में निमज्जन है। ...यह आज्ञापालन का एक कार्य है, जो सूली पर चढ़ाये गये, दफनाये गये तथा पुनःप्रकट हुये मुक्तिदाता में, पाप के चलते विश्वासकर्ता की मृत्यु में, पुराने जीवन की दफन क्रिया में तथा ईसा मसीह में जीवन के नयेपन में प्रवेश के पुनरुद्धार में विश्वासकर्ता के विश्वास का प्रतीक है" [अध्याहार संदर्भित पाठ्य के अनुसार ही रखे गये हैं].[111] पूर्ण निमज्जन में विश्वास रखने वाले अधिकांश अन्य ईसाईयों की ही तरह, बपतिस्मा-दाता भी बाइबिल के परिच्छेद[112] का पठन करके यह सूचित करते हैं कि यह विधि उद्देश्यपूर्ण रूप से दफन तथा पुनर्जीवन को प्रतिबिंबित करती है। विशेषतः देखनेवालों के सामने किये जाने पर, पूर्ण निमज्जन की रस्म एक दफन-क्रिया (जब बपतिस्मा ले रहे व्यक्ति को पानी के भीतर डुबोया जाता है, मानो उसे दफन किया जा रहा हो), तथा पुनर्जीवन (जब वह व्यक्ति जल से बाहर ऊपर आता है, मानो कब्र से निकल रहा हो) को व्यक्त करती है-एक "मृत्यु" तथा पाप पर केंद्रित जीवन के पुराने तरीके को "दफनाना", तथा ईश्वर पर केंद्रित एक ईसाई के रूप में एक नये जीवन की शुरुआत करने के लिये एक "पुनरुत्थान". विशिष्ट रूप से ऐसे ईसाईयों का यह विश्वास है कि John 3:3-5 भी इस दृष्टिकोण का समर्थन करता है क्योंकि उसमें यह निहित है कि जल बपतिस्मा आध्यात्मिक रूप से एक ईसाई के "पुनः जन्म लेने" का प्रतीक है (लेकिन यह उसे उत्पन्न नहीं करता).[113]

चित्र:Submersion baptism, Pichilemu, Chile.jpg
चिली के पिचिलेमु के लास टेराज़स बीच में मसीह के समुदाय में एक विसर्जन बपतिस्मा.

डुबकी के द्वारा बपतिस्मा का अनुपालन क्रिश्चियन चर्च (ईसा के अनुयायियों (Disciples of Christ))[114] द्वारा भी किया जाता है, हालांकि यह विश्वास उन लोगों के पुनर्बपतिस्मा का सुझाव नहीं देता, जिन्होंने ईसाई बपतिस्मा की किसी अन्य परंपरा का पालन किया हो.[115] चर्चेस ऑफ क्राइस्ट (Churches of Christ), जिनकी जड़ें पुनरुद्धार आंदोलन में भी हैं, में बपतिस्मा केवल पूर्ण शरीर के निमज्जन द्वारा ही किया जाता है।[116]:p.107 [117]:p.124 यह नये करार में प्रयुक्त बैप्तिज़ो (baptizo) शब्द की उनकी समझ पर आधारित है और उनका विश्वास है कि यह बहुत-बहुत अधिक निकटता से ईसा की मृत्यु, दफन-विधि तथा पुनर्जागरण की पुष्टि करता है, तथा यह कि ऐतिहासिक रूप से निमज्जन ही प्रथम सदी में प्रयुक्त विधि थी और डुबोने एवं छिड़काव का प्रयोग बाद में निमज्जन के द्वितीयक तरीकों के रूप में बाद में प्रारंभ हुआ, जहां निमज्जन संभव नहीं था।[118][119]:p.139-140

सातवें-दिन के पुनर्बपतिस्मा-दाताओं का विश्वास है कि "बपतिस्मा स्वयं की मृत्यु तथा ईसा में पुनः जीवित होने का प्रतीक है।" वे पूर्ण निमज्जन बपतिस्मा का पालन करते हैं।[120]

बपतिस्मा के संदर्भ में हालिया-दिनों के संत कहते हैं कि "जिस प्रकार ईसा मसीह का बपतिस्मा किया गया था, उसी प्रकार आपको भी जल में संक्षिप्त रूप से डुबोया जाता है। निमज्जन के द्वारा बपतिस्मा ईसा मसीह की मृत्यु, दफन-क्रिया तथा पुनरुद्धार का एक पवित्र प्रतीक है तथा यह आपके पुराने जीवन की समाप्ति एवं ईसा मसीह के एक अनुयायी के रूप में एक नये जीवन की शुरुआत का प्रतिनिधित्व करता है।"[121] द कम्युनिटी ऑफ क्राइस्ट (The Community of Christ) भी अपने बपतिस्मा के लिये डुबकी की पद्धतियों का पालन करता है।

जेनोवा के गवाह (Jehovah's Witnesses) शिक्षा देते हैं कि "जब किसी व्यक्ति का बपतिस्मा किया जाता है, तो उसके पूरी शरीर को क्षण-भर के लिये पानी के भीतर रखा जाना चाहिये."[122]

वस्र[संपादित करें]

मध्य-काल तक, अधिकांश बपतिस्मा में उम्मीदवार को पूर्णतः नग्न किया जाता था-जैसा कि बपतिस्मा के अधिकांश प्रारंभिक चित्रणों (जिनमें से कुछ इस लेख में दर्शाये गये हैं) तथा प्रारंभिक ईसाई पादरियों एवं ईसाई लेखकों द्वारा वर्णित किया गया है। येरुशलम का सीरिल (Cyril of Jerusalem) इनमें से विशिष्ट है, जिसने "ऑन द मिस्ट्रीज़ ऑफ बैप्टिस्म (On the Mysteries of Baptism)" चौथी शताब्दी (c. 350 A.D.) लिखा:

Do you not know, that so many of us as were baptized into Jesus Christ, were baptized into His death? etc.…for you are not under the Law, but under grace.

1. Therefore, I shall necessarily lay before you the sequel of yesterday's Lecture, that you may learn of what those things, which were done by you in the inner chamber, were symbolic.

2. As soon, then, as you entered, you put off your tunic; and this was an image of putting off the old man with his deeds.[Col 3:9] Having stripped yourselves, you were naked; in this also imitating Christ, who was stripped naked on the Cross, and by His nakedness put off from Himself the principalities and powers, and openly triumphed over them on the tree. For since the adverse powers made their lair in your members, you may no longer wear that old garment; I do not at all mean this visible one, but the old man, which waxes corrupt in the lusts of deceit.[Eph 4:22] May the soul which has once put him off, never again put him on, but say with the Spouse of Christ in the Song of Songs, I have put off my garment, how shall I put it on?[Song of Sol 5:3] O wondrous thing! You were naked in the sight of all, and were not ashamed; for truly ye bore the likeness of the first-formed Adam, who was naked in the garden, and was not ashamed.

3. Then, when you were stripped, you were anointed with exorcised oil, from the very hairs of your head to your feet, and were made partakers of the good olive-tree, Jesus Christ.

4. After these things, you were led to the holy pool of Divine Baptism, as Christ was carried from the Cross to the Sepulchre which is before our eyes. And each of you was asked, whether he believed in the name of the Father, and of the Son, and of the Holy Ghost, and you made that saving confession, and descended three times into the water, and ascended again; here also hinting by a symbol at the three days burial of Christ.… And at the self-same moment you were both dying and being born;[123]

यह प्रतीकात्मकता त्रि-स्तरीय है:

1. बपतिस्मा को पुनर्जन्म का एक रूप माना जाता है-"जल तथा आत्मा के द्वारा"[Jn 3:5]-बपतिस्मा की नग्नावस्था (द्वितीय जन्म) व्यक्ति के मूल जन्म की स्थिति के समानांतर थी। उदाहरण के लिये, संत जॉन क्रिसोस्तम (St. John Chrysostom) बपतिस्मा को "λοχείαν", अर्थात्, जन्म देना तथा "जल एवं आत्मा से…निर्माण का एक नया रूप" कहते हैं ("जॉन को" भाषण 25,2), तथा बाद में स्पष्ट करते हैं:

"For nothing perceivable was handed over to us by Jesus; but with perceivable things, all of them however conceivable. This is also the way with the baptism; the gift of the water is done with a perceivable thing, but the things being conducted, i.e., the rebirth and renovation, are conceivable. For, if you were without a body, He would hand over these bodiless gifts as naked [gifts] to you. But because the soul is closely linked to the body, He hands over the perceivable ones to you with conceivable things " (Chrysostom to Matthew., speech 82, 4, c. 390 A.D.)

2. वस्रों को हटाया जाना "पुराने व्यक्ति को उसके कर्मों से अलग करने के चित्र" का प्रतिनिधित्व करता है (सीरिल के अनुसार, ऊपर), अतः बपतिस्मा के पूर्व शरीर को अनावृत करना पापपूर्ण अहं-भाव के पाश को हटाने का प्रतिनिधित्व करता था, ताकि "नया व्यक्ति", जो कि ईसा द्वारा प्रदान किया गया है, को धारण किया जा सके.

3. जैसा कि संत सीरिल ने ऊपर कहा है, जैसा कि आदम तथा हव्वा अदनवाटिका (Garden of Eden) में नग्न, मासूल तथा संकोचहीन थे, बपतिस्मा के दौरान नग्नावस्था को उसी मासूमियत तथा पापहीनता की मूल-स्थिति के एक नवीनीकरण के रूप में देखा जाता था। अन्य समानतायें भी निकाली जा सकतीं हैं, जैसे सूली पर चढ़ाये जाने के दौरान ईसा की उजागर स्थिति तथा बपतिस्मा के लिये तैयारी के समय पश्चाताप करने वाले पापी के "पुराने व्यक्ति" को सूली पर चढ़ाये जाने के बीच.

संभवतः लज्जा के संदर्भ में बदलती हुई परंपराओं और चिंताओं ने बपतिस्मा लेने वाले व्यक्ति के लिये अपने अंतर्वस्रों को पहने रहने (जैसा कि बपतिस्मा के अनेक पुनर्जागरण चित्रों में प्रदर्शित है, जो डा विंची (da Vinci), टिंटोरेटो (tintoretto), वैन स्कोरेल (Van Scorel), मसाचियो (Masaccio), डी विट (de Wit) तथा अन्यों द्वारा बनाये गये हैं) तथा/या उसे बपतिस्मा का चोगा पहनने, जो कि आज एक लगभग वैश्विक पद्धति है, की अनुमति देने या इसे आवश्यक बनाने की पद्धति में अपना योगदान दिया है। ये चोगे लगभग सदैव ही सफेद होते हैं, जो कि शुद्धता का प्रतीक हैं। आज कुछ समूह किसी भी उपयुक्त वस्र, जैसे ट्राउज़र या टी-शर्ट, को पहनने की अनुमति देते हैं-व्यावहारिक विचार इस बात को सम्मिलित करते हैं कि वस्र कितनी सरला से सूख जायेगा (डेनिम को हतोत्साहित किया जाता है), तथा वह गीला होने पर पारदर्शी तो नहीं हो जायेगा.

अर्थ और प्रभाव[संपादित करें]

इस दृष्टिकोण के संदर्भ में मतभेद हैं कि किसी ईसाई पर बपतिस्मा का क्या प्रभाव होता है। कुछ ईसाई समूह बपतिस्मा को मोक्ष के लिये एक आवश्यकता तथा एक संस्कार मानते हैं एवं "बपतिस्मात्मक पुनर्जीवन" की बात कहते हैं। कैथलिक तथा पूर्वी रूढ़िवादी परंपरायें एवं प्रोटेस्टेंट पुनर्जागरण के दौरान निर्मित लूथरन एवं एंग्लिकन चर्च इस दृष्टिकोण को साझा करते हैं। उदाहरण के लिए, मार्टिन लूथर ने कहा:

To put it most simply, the power, effect, benefit, fruit, and purpose of Baptism is to save. No one is baptized in order to become a prince, but as the words say, to "be saved". To be saved, we know, is nothing else than to be delivered from sin, death, and the devil and to enter into the kingdom of Christ and live with him forever.

Luther's Large Catechism, 1529

द चर्चेस ऑफ क्राइस्ट (The Churches of Christ) तथा द चर्च ऑफ जीसस क्राइस्ट ऑफ लेटर-डे सेंट्स (The Church of Jesus Christ of Latter-day Saints) भी बपतिस्मा को मोक्ष के लिये आवश्यक समझते हैं।

रोमन कैथलिकों के लिये, जल के द्वारा बपतिस्मा ईश्वर की संतानों के जीवन में प्रवेश का एक संस्कार है (कैथलिक चर्च की धार्मिक-शिक्षा (Catechism of the Catholic Church), 1212-13). यह व्यक्ति का ईसा की ओर संरूपण करता है (CCC 1272), तथा चर्च की धर्मदूतीय एवं मिशनरी गतिविधि को साझा करना ईसाई व्यक्ति के लिये अनिवार्य बनाता है (CCC 1270). कैथलिक परंपरा के अनुसार बपतिस्मा के तीन प्रकार हैं जिनके द्वारा व्यक्ति को बचाया जा सकता है: संस्कारात्मक बपतिस्मा (जल के साथ), इच्छा का बपतिस्मा (ईसा मसीह द्वारा स्थापित चर्च का भाग बनने की व्यक्त या अव्यक्त इच्छा), तथा रक्त का बपतिस्मा (बलिदान).

इसके विपरीत, अधिकांश पुनर्जागृत (कैल्वेनिस्ट), इवेंजेलिकल तथा कट्टर प्रोटेस्टेंट समूह बपतिस्मा को एक मसीहा के रूप में ईसा की पहचान करने तथा उसकी आज्ञा का पालन करने का एक कार्य मानते हैं। वे कहते हैं कि बपतिस्मा में कोई संस्कारात्मक (बचानेवाली) शक्ति नहीं होती और यह केवल ईश्वर की शक्ति, जो कि स्वयं इस रस्म से पूर्णतः भिन्न है, के अदृश्य एवं आंतरिक कार्य को बाह्य रूप से जांचता है।

चर्चेस ऑफ क्राइस्ट (Churches of Christ) लगातार यह शिक्षा देते हैं कि बपतिस्मा में एक विश्वासकर्ता अपना जीवन ईश्वर में विश्वास तथा उसके प्रति आज्ञापालन के लिये समर्पित कर देता है, तथा ईश्वर "ईसा के रक्त की श्रेष्ठता के द्वारा व्यक्ति को पाप को पाप से मुक्त करता है तथा व्यक्ति की अवस्था को बदलकर उसे बाह्य व्यक्ति के बजाय ईश्वर के राज्य का एक नागरिक बना देता है। बपतिस्मा कोई मानवीय कार्य नहीं है; यह वह स्थान है, जहां ईश्वर कार्य करता है और केवल ईश्वर ही कर सकता है।"[124]:p.66 इस प्रकार वे बपतिस्मा को श्रेष्ठतापूर्ण कार्य के बजाय विश्वास के एक अप्रत्यक्ष कार्य के रूप में देखते हैं; यह "इस बात की स्वीकृति है कि ईश्वर को समर्पित करने के लिये व्यक्ति के पास कुछ भी नहीं है।"[125]:p.112

अधिकांश ईसाई परंपराओं में बपतिस्मा[संपादित करें]

आयोवा के डुबुक्वे के सेंट राफेल्स कैथेड्रल में बपतिस्मा-नाद.वयस्कों के विसर्जन बपतिस्मा का प्रबंध करने के लिए एक छोटे तालाब को शामिल करने के लिए इस विशेष पात्र का 2005 में विस्तार किया गया था। आठ किनारों वाले पात्र की वास्तुकला मसीह के मृतोत्थान के दिन: "आठवें दिन" का आम प्रतीकविद्या है।

कैथलिक, पूर्वी रुढ़िवादी, लूथरन, एंग्लिकन तथा मेथोडिस्ट परंपराओं में बपतिस्मा की पद्धति बपतिस्मा का एक स्पष्ट संदर्भ न केवल दफन तथा पुनरुद्धार के लिये देती हैं, बल्कि इसे एक अलौकिक शक्ति का रूपांतरण भी मानती हैं, एक ऐसा रूपांतरण, जो नोआह के तथा मूसा द्वारा विभाजित लाल सागर से होते हुए इज़राइलियों के गमन के अनुभव के समान है। इस प्रकार, शाब्दिक तथा सांकेतिक रूप से बपतिस्मा का अर्थ न केवल प्रक्षालन, बल्कि मृत्यु तथा ईसा के साथ पुनर्जीवन भी है। कैथलिकों का मानना है कि बपतिस्मा मूल पाप के दाग़ के प्रक्षालन के लिये आवश्यक है और यही कारण है कि शिशुओं का बपतिस्मा की पद्धति आमतौर पर प्रचलित है। पूर्वी चर्चों (पूर्वी रुढ़िवादी चर्च तथा ओरिएंटल रुढ़िवादी) भी शिशुओं का बपतिस्मा, Matthew 19:14 जैसे पाठ्यों के आधार पर करते हैं, जिनकी व्याख्या बच्चों के लिये चर्च की पूर्ण सदस्यता का समर्थन करने वालों के रूप में की जाती है। इन परंपराओं में, आयु के प्रति निरपेक्ष रहते हुए क्रिस्मेशन (Chrismation) तथा अगली दिव्य-पूजन के साथ सम्मिलन के तुरंत बाद बपतिस्मा किया जाता है। इसी प्रकार रुढ़िवादियों के अनुसार बपतिस्मा उस पाप को मिटा देता है, जिसे वे आदम का पैतृक पाप कहते हैं।[126] एंग्लिकनों का विश्वास है कि बपतिस्मा का अर्थ चर्च में प्रवेश भी है और इसलिये यह उन्हें पूर्ण सदस्यों के रूप में सभी अधिकारों व उत्तरदायित्वों के अभिगम की अनुमति देता है, जिसमें पवित्र सम्मिलन प्राप्त करने का विशेषाधिकार शामिल है। अधिकांश एंग्लिकन इस बात से सहमत हैं कि यह उस दाग़ का प्रक्षालन भी है, जिसे पश्चिम में मूल पाप तथा पूर्व में पैतृक पाप कहा जाता है।

पूर्वी रुढ़िवादी ईसाई मृत्यु एवं ईसा में पुनर्जीवन दोनों के एक संकेत के रूप में तथा पापों को नष्ट करने के संकेत के रूप में सामान्यतः पूर्ण त्रि-स्तरीय निमज्जन पर जोर देते हैं। लैटिन अनुष्ठान को माननेवाले कैथलिक सामान्यतः अभिसिंचन (डुबोने); पूर्वी कैथलिक सामान्यतः डुबकी अथवा कम से कम आंशिक निमज्जन के द्वारा बपतिस्मा करते हैं। हालांकि, निम्मजन लैटिन कैथलिक चर्च के अंतर्गत लोकप्रियता हासिल कर रहा है। चर्च के नये शरण स्थलों में, बपतिस्मात्मक जल-पात्र की रचना निमज्जन के द्वारा स्पष्ट रूप से बपतिस्मा की अनुमति देने के लिये की जा सकती है।[कृपया उद्धरण जोड़ें] एंग्लिकन निमज्जन, डुबकी, अभिसिंचन अथवा छिड़काव के द्वारा बपतिस्मा लेते हैं।

एक परंपरा के अनुसार, जिसके प्रमाण कम से कम वर्ष 200 तक देखे जा सकते हैं,[127] प्रायोजन अथवा धर्म-अभिभावक बपतिस्मा के दौरान उपस्थित रहते हैं बपतिस्मा ले रहे व्यक्ति की ईसाई शिक्षा व जीवन में समर्थन करने की शपथ लेते हैं।

बपतिस्मा-दाताओं में इस बात पर मतभेद है कि ग्रीक शब्द βαπτίζω का मूल अर्थ "निमज्जन करना" था। वे बाइबिल के बपतिस्मा से संबंधित कुछ परिच्छेदों की व्याख्या इस प्रकार करते हैं कि इसके लिये शरीर का जल में निमज्जन आवश्यक होता है। वे यह भी कहते हैं कि केवल निमज्जन ही "दफनाए जाने" तथा ईसा के साथ "जीवित होने" के प्रतीकात्मक महत्व को प्रतिबिंबित करता है।[Rom 6:3-4] बपतिस्मा-दाता चर्च त्रिमूर्ति- पिता, पुत्र तथा पवित्र आत्मा, के नाम पर बपतिस्मा करते हैं। हालांकि, वे इस बात में विश्वास नहीं करते कि मोक्ष के लिये बपतिस्मा आवश्यक है; लेकिन इसके बजाय वे मानते हैं कि यह ईसाई अनुपालन का एक कार्य है।

कुछ "पूर्ण गॉस्पेल" करिश्माई चर्च, जैसे वननेस पेंटाकोस्टल (Oneness Pentacostals) उनके अधिकारी के रूप में ईसा के नाम पर बपतिस्मा लेने के पीटर के उपदेश का उल्लेख करते हुए केवल ईसा मसीह के नाम पर बपतिस्मा लेते हैं।[Ac 2:38] वे उन विभिन्न ऐतिहासिक स्रोतों की ओर भी इशारा करते हैं, जो कहते हैं कि दूसरी सदी में त्रिमूर्ति-सिद्धांत का विकास होने से पूर्व तक प्रारंभिक चर्च सदैव प्रभु ईसा मसीह के नाम पर बपतिस्मा लेते थे।[128][129]

सार्वभौम कथन[संपादित करें]

1982 में, वर्ल्ड काउंसिल ऑफ चर्चेस (World Council of Churches) ने एक सार्वभौम पत्र बैप्टिस्म, युकैरिस्ट एण्ड मिनिस्ट्री (Baptism, Eucharist and Ministry) प्रकाशित किया। इस दस्तावेज की प्रस्तावना के अनुसार:

Those who know how widely the churches have differed in doctrine and practice on baptism, Eucharist and ministry, will appreciate the importance of the large measure of agreement registered here. Virtually all the confessional traditions are included in the Commission's membership. That theologians of such widely different traditions should be able to speak so harmoniously about baptism, Eucharist and ministry is unprecedented in the modern ecumenical movement. Particularly noteworthy is the fact that the Commission also includes among its full members theologians of the Catholic and other churches which do not belong to the World Council of Churches itself."[130]

1997 के एक दस्तावेज, बिकमिंग अ क्रिश्चियन: द एक्युमेनिकल इंप्लीकेशन्स ऑफ ऑर कॉमन बैप्टिस्म (Becoming a Christian: The Ecumenical Implications of Our Common Baptism), ने वर्ल्ड काउंसिल ऑफ चर्चेस (World COuncil of Churches) के संरक्षण में एक साथ लाये गये विशेषज्ञों के दृष्टिकोण प्रस्तुत किये. इसके अनुसार:

…according to Acts 2:38, baptisms follow from Peter's preaching baptism in the name of Jesus and lead those baptized to the receiving of Christ's Spirit, the Holy Ghost, and life in the community: "They devoted themselves to the apostles' teaching and fellowship, to the breaking of bread and the prayers"[2:42] as well as to the distribution of goods to those in need.[2:45]

जिन्होंने सुना, जिनका बपतिस्मा किया गया था और जिन्होंने समुदाय के जीवन में प्रवेश किया, पहले से ही ईश्वर के अंतिम दिनों के वचनों के गवाह तथा सहभागी बनाये गये थे: ईसा के नाम पर बपतिस्मा के द्वारा पापों से क्षमा तथा सभी के मांस में पवित्र शैतान को उंडेलना.[Ac 2:38] इसी प्रकार, जिसे एक बपतिस्मात्मक पैटर्न माने जा सकता है, में 1 पीटर ने इस घोषणा का परीक्षण किया है कि ईसा मसीह के पुनर्जागरण तथा नये जीवन के प्रति उपदेश [1 Pe 1:3-21] का परिणाम शुद्धीकरण एवं नये जन्म के रूप में मिला.[1:22-23] आगे, इसके बाद ईश्वर का भोजन ग्रहण किया जाता है,[2:2-3] सामुदायिक जीवन में सहभागिता के द्वारा-राजकीय पौरोहित्य, नया मंदिर, ईश्वर के लोग[2:4-10]-तथा आगे नैतिक निर्माण के द्वारा.[2:11ff] 1 पीटर के प्रारंभ में लेखक बपतिस्मा को ईसा के आज्ञापालन तथा आत्मा के द्वारा पवित्रीकरण के संदर्भ में निर्धारित करता है।[1:2] अतः ईसा में बपतिस्मा को आत्मा में बपतिस्मा के रूप में देखा जाता है।cf. [1 Co 12:13] चौथे गॉस्पेल में निकोडेमस (Nicodemus) के साथ ईसा का संभाषण यह सूचित करता है कि जल एवं आत्मा के द्वारा जन्म उस स्थान में प्रवेश का एक दयाशील माध्यम बन जाता है, जहां ईश्वर का शासन है। [Jn 3:5][131]

कुछ चर्चों द्वारा वैधता विचार[संपादित करें]

रूसी रूढ़िवादी पादरी सेक्रेड मिस्ट्री ऑफ़ बैपटिज्म के आरम्भ में चर्च की सीढ़ियों पर एक शिशु और इसके धर्म-माता-पिता का अभिवादन कर रहे हैं।

चूंकि कैथलिक, ऑर्थोडॉक्स, एंग्लिकन, मेथोडिस्ट एवं लूथरन चर्च यह शिक्षा देते हैं कि बपतिस्मा एक ऐसा संस्कार है, जिसका वास्तविक आध्यात्मिक एवं मोक्षदायी प्रभाव पड़ता है, अतः इसकी वैधता को सुनिश्चित करने के लिये, अर्थात् इन प्रभावों को वास्तव में प्राप्त करने के लिये, कुछ विशिष्ट प्रमुख मापदण्ड अनिवार्य रूप से संकलित किये जाने चाहिये. यदि इन प्रमुख मापदण्डों को पूर्ण किया गया हो, तो बपतिस्मा के संदर्भ में कुछ नियमों का उल्लंघन, जैसे इस आयोजन के लिये प्राधिकृत रस्म में भिन्नता, बपतिस्मा को शास्र-विरुद्ध (चर्च के नियमों के विपरीत), लेकिन फिर भी वैध बना देता है।

शब्दों के सही रूप का प्रयोग वैधता के लिये एक मापदण्ड है। रोमन कैथलिक चर्च के अनुसार कि "बैप्टाइज़ (baptize)" क्रिया का प्रयोग आवश्यक है।[91] लैटिन अनुष्ठान को मानने वाले कैथलिक, एंग्लिकन तथा मेथोडिस्ट "मैं तुम्हारा बपतिस्मा करता हूं…" का प्रयोग करते हैं। पूर्वी रुढ़िवादी तथा कुछ पूर्वी कैथलिक "ईसा के इस सेवक का बपतिस्मा किया गया है…" अथवा "मेरे हाथों इस व्यक्ति का बपतिस्मा किया गया है…" का प्रयोग करते हैं। सामान्यतः ये चर्च बपतिस्मा के एक-दूसरे के रूपों को वैध मानते हैं।

"पिता के नाम पर, पुत्र के नाम पर तथा पवित्र आत्मा के नाम पर" के त्रिमूर्तिपरक नियम का प्रयोग भी आवश्यक माना जाता है; इस प्रकार ये चर्च गैर-त्रिमूर्तिपरक चर्चों, जैसे वननेस पेंटाकोस्टल, के बपतिस्मा की वैधता को स्वीकार नहीं करते.

एक अन्य आवश्यक शर्त जल का प्रयोग है। एक ऐसा बपतिस्मा, जिसमें किसी अन्य द्रव का प्रयोग किया गया हो, उसे वैध नहीं माना जायेगा.

एक अन्य आवश्यकता यह है कि आयोजक का इरादा बपतिस्मा लेने का हो. इस आवश्यकता में केवल "जो चर्च करता हो, वह करने" का इरादा, न कि ईसाई श्रद्धा, होना आवश्यक होता है क्योंकि इस संस्कार के प्रभाव बपतिस्मा देने वाले व्यक्ति के द्वारा नहीं, बल्कि इस संस्कार के माध्यम से कार्य कर रही पवित्र आत्मा के द्वारा उत्पन्न किये जाते हैं। इस प्रकार, बपतिस्मा देने वाले की श्रद्धा पर संदेह बपतिस्मा की वैधता के बारे में संदेह का कोई आधार नहीं है।

कुछ स्थितियां व्यक्त रूप से वैधता को प्रभावित नहीं करतीं-उदाहरण के लिये, क्या निमज्जन, डुबकी, अभिसिंचन या कलंक का प्रयोग किया गया है। हालांकि, यदि जल का छिड़काव किया गया है, तो इस बात का ख़तरा है कि जल ने गैर-बपतिस्मा धारी की त्वचा को न छुआ हो. यदि जल त्वचा पर प्रवाहित नहीं होता, तो प्रक्षालन और इसी कारण बपतिस्मा भी, नहीं हुआ है।

यदि किसी चिकित्सीय अथवा किसी अन्य वैध कारण से सिर पर जल न डाला जा सकता हो, तो इसे शरीर के किसी अन्य प्रमुख भाग, जैसे सीने, पर डाला जा सकता है। ऐसी स्थितियों में, वैधता अनिश्चित होती है और उस व्यक्ति को उस समय तक के लिये सशर्त रूप से बपतिस्मा-युक्त माना जायेगा, जब तक कि बाद में पारंपरिक पद्धति से उसका न कर लिया जाये.

अनेक सम्मिलनों के लिये, तीन डुबकियों अथवा निमज्जनों के बजाय केवल एक करने पर भी वैधता प्रभावित नहीं होती, लेकिन रुढ़िवादिता में यह विवादास्पद है।

कैथलिक चर्च के अनुसार, बपतिस्मा लेने वाले व्यक्ति की आत्मा पर बपतिस्मा एक अमिट "छाप" लगा देता है और इसलिये जिस व्यक्ति का बपतिस्मा पहले ही हो चुका हो, उसका बपतिस्मा पुनः किया जाना शास्रीय रूप से मान्य नहीं है। यह शिक्षा डोनाटिस्टों (Donatists) के विपरीत थी, जिनमें पुनर्बपतिस्मा का पालन किया जाता था। ऐसा विश्वास है कि बपतिस्मा में प्राप्त अनुग्रह एक्स ऑपेरे ऑपरेटो (ex opere operato) संचालित होता है और इसलिये धर्मविरोधी (heretical) अथवा विच्छिन्न (schismatic) समूहों में प्रशासित किये जाने पर भी इसे वैध माना जाता है।[14]

अन्य संप्रदायों के बपतिस्मा की मान्यता[संपादित करें]

यदि कुछ विशिष्ट शर्तों, जिनमें त्रिमूर्ति नियम का प्रयोग शामिल है, का पालन किया गया हो, तो कैथलिक, लूथरन, एंग्लिकन, प्रेस्बिटेरियन तथा मेथोडिस्ट चर्च उनके समूह के अन्य संप्रदायों द्वारा किये गये बपतिस्मा को वैध मानते हैं। बपतिस्मा केवल एक ही बार लेना संभव है, अतः अन्य संप्रदायों के वैध बपतिस्मा वाले लोगों का बपतिस्मा धर्मांतरण अथवा स्थानांतरण के बाद पुन नहीं किया जाना चाहिये. ऐसे लोगों को विश्वास की एक प्रतिज्ञा लेने पर और यदि उन्होंने वैध रूप से पुष्टि अथवा क्रिस्मेशन (Chrismation) का संस्कार प्राप्त न किया हो, तो पुष्टिकरण के बाद उन्हें स्वीकार कर लिया जाता है। कुछ स्थितियों में, यह निर्धारित करना कठिन हो सकता है कि क्या मूल बपतिस्मा वास्तव में वैध था; और यदि कोई शंका हो, तो "यदि अभी तक तुम्हारा बपतिस्मा नहीं हुआ है, तो मैं तुम्हारा बपतिस्मा करता हूं…" की पंक्तियों के एक नियम के साथ सशर्त बपतिस्मा का प्रशासन किया जाता है।[132]

हालिया भूतकाल में भी, रोमन कैथलिक चर्च में प्रोटेस्टेंट पंथ से लगभग प्रत्येक धर्मांतरित व्यक्ति का सशर्त बपतिस्मा करना आम तौर पर प्रचलित विधि थी क्योंकि किसी भी मज़बूत स्थिति में इसकी वैधता का निर्धारण करना कठिन माना जाता था। प्रमुख प्रोटेस्टेंट चर्चों में, उनके द्वारा बपतिस्मा का प्रशासन किये जाने की विधि के बारे में आश्वासन को शामिल करने वाले समझौतों ने इस पद्धति को समाप्त कर दिया है, जो कभी-कभी प्रोटेस्टेंट परंपरा के अन्य समूहों के लिये जारी रहती है। चर्चेस ऑफ इस्टर्न क्रिश्चियानिटी (Churches of Eastern Christianity) में हुए बपतिस्मा की वैधता को कैथलिक चर्च ने सदैव ही मान्यता प्रदान की है, लेकिन द चर्च ऑफ जीसस क्राइस्ट ऑफ लेटर-डे सेंट्स (The Church of Jesus Christ of Latter-day Saints) में किये जाने वाले बपतिस्मा की वैधता को इसने स्पष्ट रूप से नकारा है।[133]

पूर्वी रुढ़िवादी चर्च में अन्य सम्मिलनों से धर्मांतरित हुए व्यक्तियों के लिये अपनाई जाने वाली पद्धति एक समान नहीं है। हालांकि, पवित्र त्रिमूर्ति के नाम पर लिये गये बपतिस्मा को सामान्यतः रूढ़िवादी क्रिश्चियन चर्च द्वारा स्वीकार्यता दी जाती है। यदि किसी धर्मांतरित व्यक्ति ने बपतिस्मा का संस्कार (पवित्र रहस्य) प्राप्त न किया हो, तो रुढ़िवादी चर्च में सम्मिलित किये जाने से पूर्व पवित्र त्रिमूर्ति के नाम पर उनका बपतिस्मा किया जाना अनिवार्य होता है। यदि उसने किसी अन्य ईसाई विश्वास में (रुढ़िवादी ईसाईयत के अलावा) बपतिस्मा लिया हो, तो उसके पिछले बपतिस्मा को क्रिस्मेशन (Chrismation) द्वारा प्राप्त कृपा से पूर्व क्रियाकलाप के अनुसार अथवा दुर्लभ परिस्थितियों में, केवल विश्वास की स्वीकार्यता के द्वारा पूर्ण मान लिया जाता है, जब तक बपतिस्मा पवित्र त्रिमूर्ति (पिता, पुत्र और पवित्र आत्मा) के नाम पर लिया गया हो. सटीक प्रक्रिया स्थानीय पादरी पर निर्भर होती है और यह थोड़े विवाद का विषय है।[कृपया उद्धरण जोड़ें]पूर्वी रुढ़िवादी चर्च (Oriental Orthodox Church) पूर्वी रुढ़िवादी सम्मिलन के भीतर किये गये बपतिस्मा की वैधता को स्वीकार करता है। इनमें से कुछ चर्च कैथलिक चर्चों द्वारा किये जाने वाले बपतिस्मा की वैधता को भी स्वीकार करते हैं। त्रिमूर्ति नियम का प्रयोग किये बिना किया गया कोई भी अभीष्ट बपतिस्मा मान्य नहीं होता.[कृपया उद्धरण जोड़ें]

कैथलिक चर्च, सभी रुढ़िवादी चर्च, एंग्लिकन तथा लूथरन चर्च की दृष्टि में चर्च ऑफ जीसस क्राइस्ट ऑफ लेटर-डे सेंट्स (Church of Jesus Christ of Latter-day Saints) द्वारा किया गया बपतिस्मा अमान्य होता है।[134] उस प्रभाव की औपचारिक घोषणा के साथ प्रकाशित एक लेख ने भी इस निर्णय के लिये आधार प्रदान किया था, जिसे इन शब्दों में संक्षेपित किया गया है: "कैथलिक चर्च तथा चर्च ऑफ जीसस क्राइस्ट ऑफ लेटर-डे सेन्ट्स (Church of Jesus Christ of Latter-day Saints) के बपतिस्मा में पिता, पुत्र तथा पवित्र आत्मा में विश्वास एवं इसके संस्थापक के ईसा के साथ संबंध दोनों के बारे में इनमें आवश्यक रूप से अंतर हैं।"[135]

चर्च ऑफ जीसस क्राइस्ट ऑफ लेटर-डे सेन्ट्स (Church of Jesus Christ of Latter-day Saints) इस बार पर ज़ोर देता है कि बपतिस्मा का प्रशासन उपयुक्त प्राधिकार-युक्त व्यक्ति द्वारा किया जाना अनिवार्य है; इसके फलस्वरूप, यह चर्च किसी भी अन्य चर्च के बपतिस्मा को मान्यता नहीं देता.[136]

जेनोवा की गवाहियां (Jehovah's Witnesses) 1914 के बाद हुए किसी भी बपतिस्मा[137] को मान्यता प्रदान नहीं करतीं[138] क्योंकि उनका विश्वास है कि अब केवल वे ही ईसा का एकमात्र सच्चे चर्च हैं[139] और शेष "ईसाई जगत्" झूठा धर्म है।[140]

बपतिस्मा का प्रशासन कौन कर सकता है[संपादित करें]

इराक में अमेरिकी नौसेना के एक पादरी द्वारा संचालित एक बपतिस्मा

क्रिश्चियन चर्चों के बीच इस बात को लेकर विवाद है कि बपतिस्मा का प्रशासन कौन कर सकता है। नये करार में दिये गये उदाहरण केवल धर्मदूतों एवं उपयाजकों को ही बपतिस्मा का प्रशासन करते हुए प्रदर्शित करते हैं। प्राचीन क्रिश्चियन चर्च इसकी व्याख्या इस बात के सूचक के रूप में करते हैं कि चरम (in exremis) स्थितियों, अर्थात् जब किसी व्यक्ति का बपतिस्मा तत्काल मृत्यु के खतरे के चलते किया जा रहा हो, के अतिरिक्त बपतिस्मा सदैव पादरियों के समूह (Clergy) द्वारा ही किया जाना चाहिये. इसके बाद कोई भी वयक्ति बपतिस्मा दे सकता है, यदि, पूर्वी रुढ़िवादी चर्च के दृष्टिकोण में, बपतिस्मा करने वाला व्यक्ति चर्च का सदस्य है, अथवा, कैथलिक चर्च की दृष्टि में, इस रस्म के प्रशासन में उस व्यक्ति, भले ही उसका बपतिस्मा न हुआ हो, का उद्देश्य वही होना चाहिये, जो चर्च करता है। अनेक प्रोटेस्टेंट चर्च बाइबिल के किसी भी उदाहरण में कोई विशिष्ट निषेध नहीं देखते और किसी भी श्रद्धालु को एक-दूसरे का बपतिस्मा करने की अनुमति देते हैं।

कैथलिक चर्च में बपतिस्मा का सामान्य मंत्री पादरियों के समूह (Clergy) का एक सदस्य (बिशप, पादरी अथवा उपयाजक) होना चाहिये,[141] लेकिन सामान्य परिस्थियों में, बपतिस्मा लेने वाले व्यक्ति के इलाके के पादरी (Parish Priest), अथवा उनका कोई वरिष्ठ व्यक्ति, अथवा इलाके के पादरी द्वारा प्राधिकृत कोई व्यक्ति ही वैध रूप से यह कार्य कर सकता है। "यदि सामान्य मंत्री अनुपस्थित या बाधित हो, तो नवधर्मांतरितों को प्रशिक्षित करनेवाला व्यक्ति (Catechist) अथवा स्थानीय सामान्य मंत्री द्वारा इस कार्यालय में नियुक्त कोई अन्य व्यक्ति ही क़ानूनी रूप से बपतिस्मा प्रदान कर सकता है;[142] हालांकि आवश्यक स्थिति में, कोई भी व्यक्ति जिसके पास ऐसा करने का आवश्यक इरादा हो,[141] वह भी यह कार्य कर सकता है। "आवश्यक परिस्थिति" का आशय किसी बीमारी अथवा किसी बाहरी खतरे के कारण आसन्न मृत्यु से है। न्यूनतम स्तर पर, "आवश्यक इरादा" का आशय बपतिस्मा की रस्म के माध्यम से "जो चर्च करता है वह करने" का इरादा से है।

पूर्वी कैथलिक चर्चों में, किसी उपयाजक को एक सामान्य मंत्री नहीं समझ जाता. कैथलिक रस्म की तरह, संस्कार का प्रशासन स्थानीय पादरी के लिये आरक्षित होता है। लेकिन, "आवश्यक स्थिति में, किसी उपयाजक अथवा, उसकी अनुपस्थिति में अथवा यदि वह बाधित हो, तो किसी अन्य पुरोहित वर्ग द्वारा, जीवन (consecrated ife) के किसी संस्थान के सदस्य द्वारा अथवा किसी अन्य ईसाई विश्वासकर्ता द्वारा बपतिस्मा का प्रशासन किया जाता है; यहां तक कि यदि बपतिस्मा की विधि का ज्ञान रखने वाला कोई अन्य व्यक्ति उपलब्ध न हो, तो माता अथवा पिता द्वारा भी बपतिस्मा का प्रशासन किया जाता है।[143]

पूर्वी रुढ़िवादी चर्च, ओरिएंटल रुढ़िवादी तथा आसीरियन चर्च ऑफ द ईस्ट (Assyrian Church of the East) का अनुशासन पूर्वी कैथलिक चर्चों के अनुशासन के समान ही है। यहां तक कि आवश्यक स्थितियों में भी, उन्हें बपतिस्मा देने वाले एक व्यक्ति की आवश्यकता होती है, जो स्वयं उनकी विचारधारा को मानने वाला हो, इस आधार पर कि कोई व्यक्ति किसी अन्य को वह वस्तु नहीं दे सकता, जो स्वयं उसके पास न हो, इस स्थिति में, चर्च में सदस्यता.[144] इस संस्कार के प्रभाव पर विचार करते हुए, लैटिन रस्म को मानने वाला कैथलिक चर्च इस शर्त पर ज़ोर नहीं देता, क्योंकि चर्च की सदस्यता बपतिस्मा देने वाले व्यक्ति के द्वारा नहीं, बल्कि पवित्र आत्मा द्वारा उत्पन्न की जाती है। रुढ़िवादियों के लिये, जहां चरम (in extremis) स्थितियों में बपतिस्मा का प्रशासन किसी उपयाजक अथवा किसी भी सामान्य-व्यक्ति द्वारा किया जा सकता है, यदि नव-बपतिस्मा धारी व्यक्ति बच जाता है, तो किसी पादरी को पुनः बपतिस्मा की रस्म की अन्य प्रार्थनाएं पूर्ण करनी चाहिये और क्रिस्मेशन के रहस्य (Mystery of Chrismation) का प्रशासन कर सकता है।

एंग्लिकनों तथा लूथरनों का अनुशासन लैटिन रस्मों को मानने वाले कैथलिक चर्च के अनुशासन के समान होता है। मेथोडिस्टों तथा अनेक अन्य प्रोटेस्टेंट संप्रदायों के लिये भी, बपतिस्मा के सामान्य मंत्री की विधिवत् स्थापना अथवा नियुक्ति धर्म के मंत्री द्वारा की जाती है।

प्रोटेस्टेंन्ट इवेंजेलिकल चर्चों के नए आंदोलन, विशिष्टतः गैर-सांप्रदायिक, उन व्यक्तियों के बपतिस्मा को भी अनुमति देने लगे हैं, जो स्वयं के विश्वास में सर्वाधिक साधक हों.

द चर्च ऑफ जीसस क्राइस्ट ऑफ लेटर-डे सेंट्स (The Church of Jesus Chrsit of Latter-day Saints) में, केवल कोई ऐसा व्यक्ति ही बपतिस्मा का प्रशासन कर सकता है, जिसे मेल्चिज़ेदेक पौरोहित्य (Melchizedek Priesthood) में पादरी के पौरोहित्य का अधिकार रखने वाले आरोनिक पौरोहित्य (Aaronic Priesthood) अथवा उससे उच्च कार्यालय में विधिवत् रूप से नियुक्त किया गया हो.[145]

जेवोवाह के गवाह का बपतिस्मा किसी "समर्पित पुरुष" अनुयायी द्वारा किया जाता है।[146][147] केवल असामान्य परिस्थितियों में ही किसी "समर्पित" बपतिस्म-धारी को बपतिस्मा-विहीन (unbaptized) किया जा सकता है (खण्ड जेवोवाह की गवाहियां देखें).

अन्य परंपराएं[संपादित करें]

एनाबैप्टिस्ट बपतिस्मा[संपादित करें]

20वीं सदी के मोड़ पर उत्तर कैरोलिना में एक नदी बपतिस्मा.पूर्ण-निम्मजन (विसर्जन) बपतिस्मा आज कई अफ़्रीकी-अमेरिकी ईसाई सभाओं में एक आम अभ्यास के रूप में जारी है।

एनाबैप्टिस्ट ("पुनः-दीक्षादाता") तथा बैप्टिस्ट वयस्क बपतिस्मा, अथवा "विश्वासकर्ता के बपतिस्मा" को प्रोत्साहित करते हैं। बपतिस्मा को इस रूप में देखा जाता है कि व्यक्ति ने ईसा मसीह को मुक्तिदाता के रूप में स्वीकार कर लिया है।

प्रारंभिक एनाबैप्टिस्टों को यह नाम इसलिये दिया गया क्योंकि वे ऐसे व्यक्तियों का पुनर्बपतिस्मा करते थे, जिन्हें यह महसूस होता था कि उनका बपतिस्मा भली-भांति नहीं हुआ था क्योंकि उनका बपतिस्मा उनके शैशव-काल में, छिड़काव के द्वारा अथवा किसी अन्य संप्रदाय द्वारा किसी भी अन्य प्रकार से किया गया था।

एनाबैप्टिस्ट संप्रदाय में बपतिस्मा किसी बपतिस्मा-पात्र में, स्विमिंग पूल में, अथवा बाथटब में आंतरिक रूप से, अथवा किसी खाड़ी या नदी में बाह्य रूप से आयोजित किया जाता है। बपतिस्मा ईसा की मौत, दफन-क्रिया तथा पुनरुत्थान का स्मरण कराता है।[Rom 6] स्वयं अपने आप में बपतिस्मा किसी बात की पूर्ति नहीं करता, बल्कि यह बाह्य रूप से व्यक्त किया गया एक व्यक्तिगत संकेत या गवाही है कि इस व्यक्ति के पापों को पहले ही ईसा की सलीब के द्वारा धो दिया गया है।[148] इसे एक अनुबंधात्मक कार्य माना जाता है, जो ईसा के नए समझौते में प्रवेश का सूचक है।[148][149]

बैपटिस्ट दृष्टिकोण[संपादित करें]

अधिकांश बप्टिस्टों के लिये, ईसाई बपतिस्मा किसी विश्वासकर्ता को पिता, पुत्र एवं पवित्र आत्मा के नाम पर जल में निमज्जित करने की क्रिया है।[Mt 28:19] यह आज्ञापालन का एक कार्य है, जो सूली पर चढ़ाये गये, दफनाये गये और पुनः जागृत हुए मुक्तिदाता में विश्वास कर्ता की श्रद्धा, विश्वासकर्ता के पापों के विनाश, पुराने जीवन को दफनाये जाने और जीवन के नयेपन में ईसा मसीह के पथ का अनुसरण करते पुनरुत्थान की ओर संकेत करता है। यह मृतक के अंतिम पुनरुत्थान में विश्वासकर्ता की गवाही है।[150]

अधिकांश बप्टिस्ट विश्वास करते हैं कि बपतिस्मा अपने आप में मोक्ष अथवा रूपांतरण नहीं प्रदान करता, बल्कि यह उस बात का संकेत है, जो एक आध्यात्मिक अर्थ में नव-विश्वासकर्ता में पहले ही हो चुकी है। चूंकि ऐसा माना जाता है कि यह "संरक्ष कृपा" प्रदान करने वाला अथवा मोक्षदाता नहीं है, अतः बैप्टिस्ट इसे किसी "संस्कार" के बजाय एक "अधिनियम" मानते हैं। चर्च का एक "अधिनियम"-बाइबिल की वह शिक्षा, जिसका पालन ईसा मसीह अपने अनुयायियों से करवाना चाहते थे,[100] होने के कारण यह चर्च की सदस्यता तथा प्रभु के रात्रि-भोज (Lord's Supper) (सम्मिलन के लिये बैप्टिस्टों द्वारा पसंद की जाने वाली शब्दावली) को प्राप्त करने की पूर्व-आवश्यकता है।[150]

बपतिस्मा को ईसा के प्रति व्यक्ति के मत से अलग नहीं किया जा सकता क्योंकि स्वयं ईसा का बपतिस्मा हुआ था और बपतिस्मा में निमज्जन के द्वारा उनका विमोचक कार्य ईसा में एक नये संबंध के रूप में चित्रित किया जाता है, जिसका आनंद सभी विश्वासकर्ता उठाते हैं।[100]

बप्टिस्टों का यह भी विश्वास है कि बपतिस्मा ईसा में किसी व्यक्ति के विश्वास को स्वीकार करने का एक महत्वपूर्ण तरीका भी है। विशिष्टतः, वयस्क, युवा अथवा बड़ी आयु के बच्चे, जो ईसा में विश्वास की वचनबद्धता को समझते हों और ईश्वर की पुकार का जवाब देना चाहते हों, बपतिस्मा के लिये स्वीकार्य उम्मीदवार होते हैं।[100]

इस बात के लिये बैप्टिस्टों की आलोचना की जाती रही है कि उनके द्वारा शिशु बपतिस्मा को अस्वीकार किया जाना यह दर्शाता है कि एक वयस्क अथवा विश्वासकर्ता के चर्च में बच्चों के लिये कोई स्थान नहीं है। छोटे बच्चों तथा शिशुओं का बपतिस्मा करने के बजाय, बैप्टिस्ट किसी सार्वजनिक चर्च सेवा, जिसमें अभिभावकों तथा चर्च के सदस्यों से एक ऐसा जीवन जीने, जो बच्चों के लिये उदाहरण बन सके, तथा उन्हें प्रभु के मार्गों की शिक्षा देने की अपील की जाती है, में बच्चों को प्रभु पर समर्पित किये जाने को प्राथमिकता देते हैं। जल बपतिस्मा उस सेवा का एक भाग नहीं होता.[100] इस आलोचना का जवाब बैप्टिस्ट यह कहकर देते हैं कि ईश्वर का प्रेम सभी व्यक्तियों तक, तथा स्पष्ट रूप से बच्चों तक, फैला हुआ है; कि बपतिस्मा स्वयं में एक संस्कार नहीं है और इसलिये इसके द्वारा वह मोक्ष प्रदान नहीं किया जाता, जिसके बारे में आलोचक मानते हैं कि बच्चे इससे वंचित हैं; और चूंकि बपतिस्मा केवल विश्वास को व्यक्त रूप से स्वीकार करने का एक बाह्य-संकेत है, अतः जब तक बपतिस्मा लेने वाला व्यक्ति इतना परिपक्व होना चाहिये कि वह उस स्वीकृति के बारे में एक सूचित निर्णय ले सके.[100]

चर्चेस ऑफ क्राइस्ट[संपादित करें]

चर्चेस ऑफ क्राइस्ट (Churches of Christ) में बपतिस्मा शरीर के पूर्ण निमज्जन के द्वारा ही किया जाता है,[116] :p.107 [117] :p.124 , जिसका आधार ग्रीक बोली की एक क्रिया बैप्टिज़ो (baptizo) है, जिसका अर्थ डुबकी, डुबोना, निमज्जन अथवा माना जाता है।[118][119]:p.139 [151]:p.313-314 [152]:p.22 [153]:p.45-46 बपतिस्मा की अन्य विधियों की तुलना में डुबकी को ईसा की मृत्यु, दफन-विधि तथा पुनरुत्थान की अभिव्यक्ति के अधिक निकट माना जाता है।[118]:p.140 [151]:p.314-316 चर्चेस ऑफ क्राइस्ट का तर्क है कि ऐतिहासिक रूप से निमज्जन पहली सदी में प्रयुक्त विधि है और जल डालने और छिड़कने की शुरुआत बात में द्वितीयक तरीकों के रूप में उन स्थितियों के लिये हुई, जिनमें निमज्जन संभव न हो.[119]:p.140 समय बीतने पर इन द्वितीयक विधियों ने निमज्जन का स्थान ले लिया।[119]:p.140 विश्वास और पश्चाताप के प्रति मानसिक रूप से सक्षम लोगों का ही बपतिस्मा किया जाता है (अर्थात् शिशु बपतिस्मा का प्रचलन नहीं है क्योंकि नये करार में इसका कोई उदाहरण नहीं मिलता).[117]:p.124 [118][151]:p.318-319 [154]:p.195

ऐतिहासिक रूप से बपतिस्मा के संदर्भ में चर्चेस ऑफ क्राइस्ट की स्थिति पुनर्स्थापना आंदोलन (Restoration Movement) की विभिन्न शाखाओं में सर्वाधिक अनुदार रही है, क्योंकि वे निमज्जन द्वारा बपतिस्मा को धर्मांतरण का एक आवश्यक भाग मानते हैं।[124]:p.61 सर्वाधिक उल्लेखनीय असहमतियां बपतिस्मा की वैधता के लिये इसकी आवश्यक भूमिका की उचित समझ के विस्तार से संबंधित हैं।[124]:p.61 डेविड लिप्सकॉम्ब (David Lipscomb) इस बात पर बल देते हैं कि यदि किसी विश्वासकर्ता का बपतिस्मा ईश्वर की आज्ञा का पालन करने की इच्छा के चलते हुआ था, तो चाहे वह व्यक्ति मोक्ष में बपतिस्मा की भूमिका को पूरी तरह न समझता हो, तब भी यह बपतिस्मा वैध नहीं है।[124]:p.61 ऑस्टिन मैक्गैरी (Austin McGary) इसके वैध होने का दावा करते हैं, अनिवार्य रूप से धर्मांतरित को यह भी समझना चाहिये कि बपतिस्मा पापों को क्षमा करने के लिये है।[124]:p.62 मैकगैरी का दृष्टिकोण बीसवीं सदी में सर्वाधिक प्रचलित दृष्टिकोण बन गया, लेकिन लिप्सकॉम्ब द्वारा प्रतिपादित सिद्धांत कभी भी पूरी तरह नष्ट नहीं हुआ।[124]:p.62 हाल ही में, इंटरनैशनल चर्चेस ऑफ क्राइस्ट (International Churches of Christ) (जिन्होंने उनके आंदोलन से जुड़नेवाले किसी भी व्यक्ति के पुनर्बपतिस्मा पर ज़ोर दिया) के कारण कुछ लोगों को इस मुद्दे का पुनर्परीक्षण करना पड़ा है।[124]:p.66

चर्चेस ऑफ क्राइस्ट लगातार यह शिक्षा देते हैं कि बपतिस्मा में एक विश्वासकर्ता अपना जीवन ईश्वर के प्रति विश्वास और आज्ञापालन के प्रति समर्पित कर देता है और ईश्वर "ईसा के रक्त के गुणों के द्वारा, व्यक्ति को पापों से मुक्त करता है तथा ईश्वर के राज्य में व्यक्ति की स्थिति को एक बाहरी व्यक्ति से नागरिक में वास्तविक रूप से बदलता है। बपतिस्मा कोई मानवीय कार्य नहीं है; यह वह स्थान है, जहां ईश्वर कार्य करता है और केवल ईश्वर ही कर सकता है।"[124]:p.66 बपतिस्मा कोई सराहनीय कार्य नहीं, बल्कि विश्वास का एक अप्रत्यक्ष कर्म है; यह "इस बात की एक स्वीकृति है कि व्यक्ति के पास ईश्वर को समर्पित करने के लिये कुछ भी नहीं है।"[125]:p.112 एक ओर जहां चर्चेस ऑफ क्राइस्ट बपतिस्मा का वर्णन एक संस्कार के रूप में नहीं करते, वहीं इसके बारे में उनके दृष्टिकोण को तर्कसंगत रूप से "संस्कारात्मक" कहा जा सकता है।[124]:p.66 [152]:p.186 जल से अथवा इस कार्य से आने वाली शक्ति मानने के बजाय बपतिस्मा की शक्ति को वे ईश्वर, जिसने एक वाहन के रूप में प्रयोग किये जाने के लिये बपतिस्मा को चुना, से आती हुई शक्ति के रूप में देखते हैं[152]:p.186 और बपतिस्मा को धर्मांतरण का केवल एक संकेत-मात्र मानने के बजाय वे इसे धर्मांतरण प्रक्रिया का एक अभिन्न अंग मानते हैं।[152]:p.184 बपतिस्मा के रूपांतरणात्मक पहलू पर बल देना एक हालिया प्रचलन है: इसे केवल एक क़ानूनी आवश्यकता अथवा अतीत में घटित हुई किसी घटना एक संकेत-मात्र मानने के बजाय, इसे "एक ऐसी घटना के रूप में देखा जाता है, जो व्यक्ति को "ईसा में" रख देती है, जहां ईश्वर रूपांतरण का अविरत कार्य करता है।"[124]:p.66 ऐसे लोगों की एक अल्पसंख्या भी है, जो संप्रदायवाद से बचने के लिये बपतिस्मा के महत्व को कम करके आंकते हैं, लेकिन "बपतिस्मा के बारे में बाइबिल की शिक्षाओं की प्रचुरता का पुनर्परीक्षण करना तथा ईसाईयत में इसके केंद्रीय व आवश्यक स्थान को पुनर्स्थापित करना" ही व्यापक रूप से प्रचलित मान्यता है।[124]:p.66

चूंकि ऐसा विश्वास है कि बपतिस्मा मोक्ष का एक आवश्यक भाग है, अतः कुछ बपतिस्मा-दाता यह मानते हैं कि चर्चेस ऑफ क्राइस्ट बपतिस्मात्मक पुनरूज्जीवन को प्रचारित करता है।[155] हालांकि चर्चेस ऑफ क्राइस्ट के सदस्य यह तर्क देते हुए इसे अस्वीकार करते हैं कि चूंकि विश्वास तथा पश्चाताप आवश्यक हैं, तथा पापों का प्रक्षालन ईसा के रक्त के द्वारा ईश्वर की कृपा से होता है, अतः बपतिस्मा एक अंतर्निहित रूप से मुक्ति दिलानेवाली रस्म नहीं है।[119]:p.133 [155][156]:p.630,631 इसके बजाय, उनका झुकाव बाइबिल के उस परिच्छेद की ओर सूचित करने पर है, जिसमें पीटर, नोआह की बाढ़ के लिये बपतिस्मा को सादृश्य प्रस्तुत करते हुए, यह विचार रखते हैं कि "इसी प्रकार बपतिस्मा की शिक्षा भी अब हमें बचायेगी", लेकिन कोष्ठकों के बीच रखते हुए यह स्पष्ट करते हैं कि "मांस की अपवित्रता को दूर करना नहीं, बल्कि ईश्वर के प्रति एक अच्छे अंतर्मन के प्रति प्रतिक्रिया " (1 पीटर 3:21).[157] चर्चेस ऑफ क्राइस्ट का लेखक विश्वास और बपतिस्मा के बीच संबंध का वर्णन इस प्रकार करता है, "विश्वास इस बात का कारण है कि कोई व्यक्ति ईश्वर की संतान क्यों है; बपतिस्मा वह समय है, जब किसी व्यक्ति को ईसा में सम्मिलित किया जाता है और इसलिये वह ईश्वर की संतान बन जाता है" (तिरछे लिखे अक्षर स्रोत हैं).[154]:p.170 मोक्ष प्रदान करने वाले एक "कार्य" के बजाय बपतिस्मा को विश्वास तथा पश्चाताप की एक स्वीकृति-परक अभिव्यक्ति[154]:p.179-182 के रूप में समझा जाता है।[154]:p.170

सुधारवादी तथा अनुबंधात्मक धर्मशास्र का दृष्टिकोण[संपादित करें]

शिशु-बपतिस्मावादी (Paedobaptist) अनुबंध धर्मशास्री नये अनुबंधों सहित बाइबिल के सभी अनुबधों के प्रशासन को पारिवारिक, व्यावसायिक सम्मिलन अथवा "पीढ़ीगत उत्तराधिकार" के एक सिद्धांत के रूप में देखते हैं। ईश्वर तथा मनुष्य के बीच के बाइबिल के अनुबंधों में ऐसे संकेत तथा ठप्पे हैं, जो दृश्यमान रूप से इन अनुबंधों के पीछे की सच्चाइयों का प्रतिनिधित्व करते हैं। ईश्वर के अनुबंध से मुक्ति के इन दृश्यमान संकेतों तथा चिह्नों का प्रशासन एक व्यावसायिक रूप से (उदाहरणार्थ परिवार चलाने के लिये) किया जाता है, न कि पूर्णतः व्यक्तिवादी रूप से.

सुधारवादी चर्चों द्वारा बपतिस्मा को नये अनुबंध में प्रवेश का एक दृश्यमान संकेत माना जाता है और इसलिये अपने विश्वास को किसी सार्वजनिक व्यवसाय बनाने वाले नये विश्वासकर्ताओं के लिये इसका प्रशासन व्यक्तिगत रूप से किया जा सकता है। शिशु-बपतिस्मावादियों का यह भी विश्वास है कि व्यावसायिक रूप से विश्वासकर्ताओं के परिवारों, विशिष्ट रूप से जिनमें बच्चे शामिल होते हैं, तथा व्यक्तिगत रूप से विश्वासकर्ता अभिभावकों के बच्चों एवं शिशुओं तक आगे इसका विस्तार होता है (शिशु बपतिस्मा देखें). इस प्रकार इस दृष्टिकोण में, बपतिस्मा को ख़तना करने के अब्राहमिक रिवाज़ का कार्यात्मक प्रतिस्थापन तथा संस्कारात्मक समकक्ष के रूप में देखा जाता है और अन्य बातों के अतिरिक्त यह पाप से आंतरिक प्रक्षालन का भी प्रतीक है।

कैथलिक बपतिस्मा[संपादित करें]

कैथलिक शिक्षा में, सामान्यतः बपतिस्मा को मोक्ष के लिये आवश्यक माना जाता है।[158] यह शिक्षा पहली-सदी के ईसाईयों की शिक्षा तथा पद्धतियों के समय से चली आ रही है, जब मोक्ष तथा बपतिस्मा के बीच का संबंध, पूरी तरह, विवाद का एक मुख्य विषय नहीं था, जब तक कि हल्द्रिच ज़्विंगली ने बपतिस्मा, जिसे वे केवल ईसाई समुदाय में प्रवेश की अनुमति के एक सूचक के रूप में देखते थे, की आवश्यकता को नहीं नकारा.[15] कैथलिक चर्च की धार्मिक शिक्षा कहती है कि "मोक्ष-प्राप्ति हेतु बपतिस्मा उन लोगों के लिये आवश्यक है, जिनके लिये गॉस्पेल घोषित किया गया है तथा जिनके द्वारा इस संस्कार की मांग किये जाने की संभावना रही है।[16] इसके अनुसार, जो व्यक्ति जानबूझकर, स्वेच्छा से तथा किसी भी पश्चाताप के बिना बपतिस्मा को अस्वीकार कर देता है, उसके लिये मोक्ष-प्राप्ति की कोई आशा नहीं है। जॉन के अनुसार गॉस्पेल में यह शिक्षा ईसा के शब्दों पर आधारित है: "सत्य है, सत्य है, मैं तुमसे कहता हूं, जब तक कि जल एवं आत्मा से व्यक्ति का जन्म नहीं होता, तब तक वह ईश्वर के राज्य में प्रवेश नहीं कर सकता."[Jn 3:5]

कैथलिकों का बपतिस्मा जल में, डुबकी, निमज्जन अथवा जल डालकर पिता, पुत्र तथा पवित्र आत्मा के नाम पर (एकवचन) किया जाता है[159]-तीन देवताओं के नहीं, बल्कि तीन व्यक्तियों में स्थित एक ईश्वर के नाम पर. हालांकि वे एक ही दिव्य अर्क को साझा करते हैं, लेकिन पिता, पुत्र एवं पवित्र आत्मा भिन्न हैं, वे किसी एक दिव्य व्यक्तित्व के तीन "मुखौटे" अथवा अवतार नहीं हैं। चर्च और व्यक्तिगत ईसाई का विश्वास एक ईश्वर के इन तीन "व्यक्तियों" के साथ संबंध पर आधारित है। वयस्कों के ईसाई प्रवर्तन के अनुष्ठान (Rite of Christian Initiation of Adults) के द्वारा वयस्कों का बपतिस्मा भी किया जा सकता है।

यह दावा किया जाता है कि पोप स्टीफन प्रथम (Pope Stephen I), संत एम्ब्रोस (St. Ambrose) तथा पोप निकोलस प्रथम (Pope Nicholas I) ने यह घोषित किया कि केवल "ईसा" के नाम पर तथा साथ ही "पिता, पुत्र एवं पवित्र आत्मा" के नाम पर किये गये बपतिस्मा ही मान्य थे। उनके शब्दों की सही व्याख्या विवादित है।[91] वर्तमान धार्मिक क़ानून के अनुसार वैधता के लिये त्रिमूर्ति नियम एवं जल की आवश्यकता होती है।[158]

चर्च ने जल के साथ लिये गये बपतिस्मा के दो समकक्ष रूपों की पहचान की है: "रक्त का बपतिस्मा" तथा "इच्छा का बपतिस्मा". रक्त का बपतिस्मा उन बपतिस्मा-विहीन व्यक्तियों द्वारा किया जाता है, जिन्होंने अपने विश्वास के लिये स्वयं का बलिदान किया हो, जबकि इच्छा का बपतिस्मा सामान्यतः ईसाई धर्म की शिक्षा ले रहे ऐसे नव-धर्मांतरितों पर लागू होता है, जिनकी मृत्यु उनके बपतिस्मा से पूर्व ही हो गई हो. कैथलिक चर्च की धर्म शिक्षा इन दो रूपों का वर्णन इस प्रकार करती है:

चर्च ने सदैव ही दृढ़ विश्वास रहा है कि जिन बपतिस्मा-विहीन लोगों की मृत्यु बपतिस्मा प्राप्त किये बिना ही अपने विश्वास की रक्षा के लिये हो जाती है, का बपतिस्मा उनकी मृत्यु के द्वारा तथा ईसा के साथ होता है। रक्त का बपतिस्मा, इच्छा के बपतिस्मा की तरह, किसी संस्कार के बिना भी बपतिस्मा के फल प्रदान करता है। (1258)

ईसाई धर्म की शिक्षा ले रहे ऐसे नव-धर्मांतरितों के लिये, जिनकी मृत्यु अपने बपतिस्मा से पूर्व ही हो जाए, अपने पापों के लिये पश्चाताप तथा दान के साथ, इसे प्राप्त करने की उनकी व्यक्त इच्छा, उन्हें उस मोक्ष की प्राप्ति का आश्वासन देती है, जिसे वे इस संस्कार के द्वारा प्राप्त कर पाने में सक्षम नहीं थे। (1259)

कैथलिक चर्च का मानना यह है कि जो गैर-ईसाई एक ईमानदार ह्रदय के साथ ईश्वर को प्राप्त करने की इच्छा रखते हों तथा उसकी कृपा से प्रेरित होकर, ईश्वर की इच्छा, जैसी कि वे अपनी अंतरात्मा की आवाज़ के द्वारा समझते हैं, के अनुसार चलने का प्रयास करते हैं, उन्हें भी जल बपतिस्मा के बिना बचाया जा सकता है क्योंकि ऐसा कहा जाता है कि यह उनकी अव्यक्त इच्छा है।[160] बपतिस्मा-विहीन शिशुओं के लिये, यह चर्च उनके भाग्य के बारे में अनिश्चित है: "चर्च उन्हें केवल ईश्वर की कृपा पर ही छोड़ सकता है"

जेनोवा के गवाह[संपादित करें]

जेनोवा के गवाहों (Jehovah's Witnesses) के द्वारा भी बपतिस्मा का पालन किया जाता है। वे मानते हैं कि इसे पूर्ण निमज्जन (डुबकी) के द्वारा केवल तभी किया जाना चाहिये, जब व्यक्ति इसके महत्व को समझ पाने लायक बड़ा हो गया हो. वे यह शिक्षा देते हैं कि जल बपतिस्मा इस बात का एक व्यक्त संकेत है कि व्यक्ति ने ईसा मसीह के माध्यम से जेनोवा ईश्वर की इच्छा का पालन करने का एक पूर्ण, अनारक्षित तथा बिना शर्त समर्पण किया है; पुरुषों तथा महिलाओं के लिये बपतिस्मा मिलकर एक अनुष्ठान बनता है।[161]

एक उम्मीदवार को किसी नियोजित बपतिस्मा आयोजन से कुछ समय पूर्व बपतिस्मा के लिये निवेदन करना चाहिये क्योंकि इसकी अर्हता प्राप्त करने के लिये तैयारी की आवश्यकता होती है।[162] संभव है कि धार्मिक सभा के वरिष्ठ-जन किसी उम्मीदवार को केवल तभी स्वीकृत करें, जब वह इस बात को समझ लेता है कि जेनोवा के गवाहों से जुड़े किसी ईसाई से क्या अपेक्षा की जाती है तथा वह इस विश्वास के प्रति सच्चा समर्पण प्रदर्शित करता है।[163] एक बपतिस्मा-पूर्व वार्ता की समाप्ति पर, वास्तविक बपतिस्मा से पूर्व, निम्न बातों को दृढ़तापूर्वक स्वीकार करना उम्मीदवार के लिये आवश्यक होता है:[164]

  1. ईसा मसीह के बलिदान के आधार पर, क्या तुमने अपने पापों का प्रायश्चित्त किया है और स्वयं को जेनोवा की इच्छा के अनुरूप चलने के लिये उसके प्रति समर्पित कर दिया है?
  2. क्या तुम यह समझते हो कि तुम्हारा समर्पण तथा बपतिस्मा ईश्वर की आत्मा द्वारा निर्देशित संगठन के साथ जेनोवा के गवाह के रूप में तुम्हारी पहचान बनाता है?

व्यवहार में, जेनोवा के गवाहों के अंतर्गत अधिकांश बपतिस्मा वरिष्ठ-जनों तथा अधिकार-प्राप्त सेवकों द्वारा पूर्व-निर्धारित सभाओं एवं सम्मेलनों में किये जाते हैं, हालांकि बपतिस्मा देने वाले व्यक्ति के लिये केवल इतना आवश्यक होता है कि वह स्वयं एक बपतिस्मा-धारी पुरुष हो.[165][166] यदि उम्मीदवार शारीरिक रूप से विकलांग न हो अथवा कोई अन्य विशेष परिस्थिति उत्पन्न न हो जाये, तो एक विशिष्ट उम्मीदवार को केवल एक बपतिस्मा-दाता द्वारा ही जल में डुबोया जाता है।[167] केवल कुछ दुर्लभ अवसरों पर ही बपतिस्मा का आयोजन स्थानीय राज-भवनों (Kingdom Halls) में किया जाता है,[146] हालांकि दर्शकों के बिना होने वाली छोटी सेवाओं को भी धार्मिक माना जाता है।[168] विस्तारित पृथकता की परिस्थितियों में, एक अर्ह उम्मीदवार का प्रार्थनापूर्ण समर्पण एवं यथासंभव बपतिस्मा प्रदान किये जाने का सार्वजनिक रूप से व्यक्त इरादा एक समर्पित ईसाई के रूप में उसके जीवन की शुरुआत का प्रतीक होता है, भले ही निमज्जन को विलंबित किया जाना अनिवार्य हो.[169] कुछ दुर्लभ उदाहरणों में, किसी बपतिस्मा-विहीन व्यक्ति, जिसने एक सार्वजनिक समर्पण किया हो, ने किसी अन्य व्यक्ति का बपतिस्मा किया है, जिसने तुरंत प्रतिदान दिया है; गवाह इन दोनों बपतिस्माओं को वैध मानकर स्वीकार करते हैं।[170] जिन गवाहों का बपतिस्मा 1930 के दशक एवं 1940 के दशक में महिला मंत्रियों द्वारा किया गया है, जैसे ध्यान शिविरों में, का पुनर्बपतिस्मा किया गया, लेकिन उन्होंने अपनी "बपतिस्मा तिथियों" के रूप में पिछली तिथियों का ही उल्लेख किया।[146]

मॉर्मोनवाद (Mormonism)[संपादित करें]

एक मोर्मोन बपतिस्मा, 1850 के दशक के आसपास

मॉर्मोनवाद (Mormonism) में, बपतिस्मा का मुख्य उद्देश्य सहभागी के पापों का निवारण होता है। इसके बाद पुष्टि की जाती है, जिसके बाद व्यक्ति को चर्च की सदस्यता में शामिल कर लिया जाता है और यह पवित्र आत्मा के साथ एक बपतिस्मा से मिलकर बना होता है। लेटर-डे सेंट्स (Latter-day Saints) का विश्वास है कि बपतिस्मा पूर्ण निमज्जन, तथा एक सही रस्म-युक्त अधिनियम, के द्वारा किया जाना अनिवार्य होता है: यदि सहभागी का कोई अंग पूरी तरह डूबा हुआ न हो, अथवा अधिनियम को शब्दशः न पढ़ा गया हो, तो यह रस्म पुनः दोहराई जानी चाहिये.[171] इसे विशिष्ट रूप से एक बपतिस्मात्मक पात्र में किया जाता है। इसके अतिरिक्त, लेटर-डे सेंट्स (Latter-day Saints) बपतिस्मा को वैध नहीं मानते, जब तक कि वह लेटर-डे सेंट्स के किसी पादरी अथवा वरिष्ठ-जन के द्वारा न किया गया हो.[172] प्राधिकार एक धर्मदूतीय उत्तराधिकार के रूप में नीचे की ओर प्रदान किया जाता है। पंथ में आने वाले सभी नव-धर्मांतरितों का बपतिस्मा अथवा पुनर्बपतिस्मा करना अनिवार्य होता है। बपतिस्मा को ईसा की मृत्यु, दफन-क्रिया तथा पुनरुत्थान के रूप में देखा जाता है[173] तथा यह बपतिस्मा-धारी व्यक्ति द्वारा उनके "प्राकृतिक" स्व को अस्वीकार करने एवं ईसा के एक अनुयायी के रूप में एक नई पहचान धारण करने का प्रतीक है।

लेटर-डे सेन्ट (Latter-day Saint) के धर्मशास्र के अनुसार, विश्वास एवं पश्चाताप बपतिस्मा की पूर्व आवश्यकतायें हैं। यह अनुष्ठान सहभागी के मूल पाप का प्रक्षालन नहीं करता क्योंकि लेटर-डे सेन्ट्स (Latter-day Saints) मूल पाप के सिद्धांत को नहीं मानते. बपतिस्मा "जवाबदेही की आयु" के बाद ही किया जाना चाहिये, जो लेटर-डे सेंट के साहित्य में आठ वर्ष बताई गई है।[174] मॉर्मोनवाद शिशु बपतिस्मा को अस्वीकार करता है।[175] लेटर-डे सेंट धर्मशास्र मृतकों के लिये बपतिस्मा की भी व्यवस्था प्रदान करता है, जिसके अंतर्गत जीवित व्यक्तियों द्वारा अपने दिवंगत पूर्वजों का बपतिस्मा स्थानापन्न रूप से किया जाता है और यह मानता है कि उनकी यह पद्धति वही है, जिसके बारे में पॉल ने 1 Corinthians 15:29 में लिखा है। सामान्यतः यह लेटर-डे सेंट के मंदिरों में आयोजित होती है।[176]

जल बपतिस्मा का विरोध[संपादित करें]

क्वेकर और बपतिस्मा[संपादित करें]

क्वेकर (Quaker) (रिलीजियस सोसाइटी ऑफ फ्रेन्ड्स (Religious Society of Friends) के सदस्य) बच्चों अथवा वयस्कों किसी के लिये जल के साथ होने वाले किसी भी बपतिस्मा को नहीं मानते तथा वे अपने धार्मिक जीवन में सभी व्यक्त संस्कारों को अस्वीकार करते हैं। रॉबर्ट बार्क्ले (Robert Barclay) की एपोलॉजी फॉर द ट्रू क्रिश्चियन डिविनिटी (Apology for the True Christian Divinity) (क्वेकर धर्मशास्र की सत्रहवीं सदी की एक ऐतिहासिक व्याख्या), जल के द्वारा बपतिस्मा के क्वेकर के विरोध को इस प्रकार समझाती है:

"I indeed baptize you with water unto repentance; but he that cometh after me is mightier than I, whose shoes I am not worthy to bear; he shall baptize you with the Holy Ghost and with fire".[Mt 3:11] Here John mentions two manners of baptizings and two different baptisms, the one with water, and the other with the Spirit, the one whereof he was the minister of, the other whereof Christ was the minister of: and such as were baptized with the first were not therefore baptized with the second: "I indeed baptize you, but he shall baptize you." Though in the present time they were baptized with the baptism of water, yet they were not as yet, but were to be, baptized with the baptism of Christ.

Robert Barclay, 1678

[177]

बार्क्ले ने तर्क दिया कि जल-बपतिस्मा केवल ईसा के समय तक ही किया जाता था, लेकिन अब लोगों का बपतिस्मा आंतरिक रूप से ईसा की आत्मा के द्वारा किया जाता है, अतः जल-बलतिस्मा के किसी बाहरी संस्कार की कोई आवश्यकता नहीं है, जो कि क्वेकर के अनुसार अर्थहीन है।

मुक्ति-सेना तथा बपतिस्मा[संपादित करें]

मुक्ति-सेना (Salvation Army) जल-बपतिस्मा, वस्तुतः अन्य व्यक्त संस्कारों का भी, पालन नहीं करती. मुक्ति-सेना के संस्थापकों, विलियम बूथ (William Booth) तथा कैथरिन बूथ (Catherine Booth) का विश्वास था कि अनेक ईसाई स्वयं कृपा के बजाय आध्यात्मिक कृपा के अन्य व्यक्त संकेतों पर निर्भर रहने लगे थे, जबकि उनका मानना था कि स्वयं आध्यात्मिक कृपा महत्वपूर्ण थी। हालांकि, मुक्ति-सेना बपतिस्मा का पालन नहीं करती, लेकिन वे अन्य ईसाई संप्रदायों के अंतर्गत होने वाले बपति्स्मा के विरोधी नहीं हैं।[178]

अतिवितरणवाद (Hyperdispensationalism)[संपादित करें]

कुछ ऐसे ईसाई हैं, जो इतनी चरम सीमा तक वितरणवाद का पालन करते हैं कि वे केवल पॉल के धर्मपत्रों को ही आज के चर्च के लिये लागू मानते हैं।[neutralityis disputed] इसके परिणामस्वरूप, वे बपतिस्मा अथवा प्रभु के रात्रि-भोज (Lord's Supper) को स्वीकार नहीं करते क्योंकि वे प्रिज़न एपिस्टल्स (Prison Epistles) में नहीं मिलते हैं। वे यह शिक्षा भी देते हैं कि पीटर का गॉस्पेल संदेश पॉल के संदेश के समान नहीं था।[179] अतिवितरणवादी इस बात पर ज़ोर देते हैं कि:

  • महान आयोग (The great commission)Matthew 28:18-20 और इसका बपतिस्मा प्रारंभिक यहूदी विश्वासकर्ताओं की ओर निर्देशित है, न कि मिड-एक्ट (Mid-Acts) अथवा इसके बाद के गैर-यहूदी विश्वासकर्ताओं की ओर.
  • Acts 2:36-38 का बपतिस्मा पीटर का इज़राइल से मसीहा की मृत्यु में सहापराधिता के लिये पश्चाताप करने का आह्वान है; पाप के लिये प्रायश्चित्त की एक गॉस्पेल घोषणा के रूप में नहीं, जो कि पॉल द्वारा बाद में उजागर किया एक सिद्धांत है।

इस दृष्टिकोण के अनुसार बुक ऑफ एक्ट्स (Book of Acts) में पूर्व में मिलने वाले जल-बपतिस्मा का स्थान अब बपतिस्मा-दाता जॉन (John the Baptist) द्वारा पहले बताये गये एक बपतिस्मा [1 Cor 12:13] द्वारा ले लिये गया है।[180] इस बात पर जोर दिया जाता है कि आज के लिये एक बपतिस्मा "पवित्र आत्मा द्वारा बपतिस्मा" है।[Ac 11:15-16] हालांकि, यह, "आत्मा" बपतिस्मा, असंभावित है क्योंकि पाठ्य व तथ्य कहते हैं कि नपुंसकों[Ac 8:36] तथा कॉर्नेलियस के परिवार (household of Cornelius)[10:47-48] का बपतिस्मा स्पष्ट रूप से जल में था। साक्ष्य आगे मानवीय रूप से प्रशासित महान आयोग (Great Commission) की ओर संकेत करते हैं, जिसे विश्व की समाप्ति तक रहना था।[Mt 28:19-20] इसलिये, संदर्भ के द्वारा एफेसियाइयों (Ephesians) द्वारा लिया गया बपतिस्मा जल के साथ था।[181] इसी प्रकार, बुक ऑफ एक्ट्स (Book of Acts) में पवित्र आत्मा द्वारा बपतिस्मा का उल्लेख चयनित व्यक्तियों के लिये केवल दो बार प्राप्त हुआ है।[Ac 2:1-4] [10:44-46] अंत में, यह विवाद का विषय है कि पवित्र आत्मा तथा अग्नि, जो अब तक किये गये सारे नश्वर कार्य को नष्ट कर देती है, के साथ बपतिस्मा देने की शक्ति केवल ईसा के पास थी।[Mt 3:11] [Lk 3:16]

जॉन ने उत्तर दिया, सभी से कहते हुए, "मैं तुम्हें वस्तुतः जल के साथ बपतिस्मा देता हूं; लेकिन मुझसे शक्तिशाली एक व्यक्ति आ रहा है, मैं जिसके चंदन के फीते को खोलने योग्य नहीं हूं. वह पवित्र आत्मा तथा अग्नि के साथ तुम्हारा बपतिस्मा करेगा."[Lk 3:16]

अग्नि के द्वारा इस विश्व के विनाश का उल्लेख करते हुए इस समूह के अनेक लोग यह तर्क भी देते हैं कि जॉन द्वारा अभिवचनित अग्नि द्वारा बपतिस्मा होना अभी शेष है।[182]

जॉन, जैसा कि उन्होंने कहा, "जल के साथ बपतिस्मा" देते थे, जिस प्रकार ईसा के अनुयायी प्रारंभिक यहूदी क्रिश्चियन चर्च को दिया करते थे। स्वयं ईसा का बपतिस्मा कभी जल के साथ नहीं हुआ, लेकिन उन्होंने अपने अनुयायियों के माध्यम से ऐसा किया।[Jn 4:1-2] ईसा के पहले धर्मदूत, पॉल, गैर-यहूदियों के पास भेजा गया उनका धर्मदूत, बपतिस्मा देने के बजाय उपदेश देने के लिये भेजा गया था[1 Co 1:17] लेकिन वह कभी-कभी बपतिस्मा दिया करता था, उदाहरण के लिये, कोरिन्थ (Corinth)[1:14-16] में तथा फिलिपि (Philippi)[Ac 16:13] में उसी प्रकार, जिस प्रकार वे करते थे।cf.[Mt 28:19] उन्होंने बपतिस्मा में निमज्जन के आध्यात्मिक महत्व की शिक्षा भी दी और यह भी बताया कि इसके द्वारा कोई व्यक्ति किस प्रकार ईसा की मृत्यु के प्रायश्चित्त से संपर्क करता है।[Rom 6:4]

अन्य अतिवितरणवादी मानते हैं कि बपतिस्मा केवल ईसा के आरोहण तथा मिड-एक्ट्स (mid-Acts) के बीच एक एक संक्षिप्त काल के लिये ही आवश्यक था। महान आयोग (The Great Commission)[Mt 28:18-20] तथा इसका बपतिस्मा प्रारंभिक यहूदी विश्वासकर्ताओं की ओर निर्देशित था, न कि मिड-एक्ट्स (mid-Acts) अथवा इसके बाद वाले गैर-यहूदी विश्वासकर्ताओं की ओर. विश्वास रखनेवाले किसी भी यहूदी को तब तक मोक्ष[Mk 16:16] [1 Pe 3:21] अथवा पवित्र आत्मा[Ac 2:38] की प्राप्ति नहीं हुई, जब तक कि उन्होंने बपतिस्मा नहीं लिया। इस काल की समाप्ति पॉल के आह्वान के साथ हुई.[9:17-18] गैर-यहूदियों द्वारा बपतिस्मा से पूर्व पवित्र आत्मा की प्राप्ति के बारे में पीटर की प्रतिक्रिया[10:44-48] ध्यान दिये जाने योग्य है।

अन्य प्रवर्तन समारोह[संपादित करें]

प्राचीन मिस्र की संस्कृति, हिब्रू/यहूदी संस्कृति, बेबीलोनियाई संस्कृति, माया संस्कृति तथा नॉर्स (Norse) संस्कृतियों सहित अनेक संस्कृतियां प्रवर्तन रस्मों का पालन करती हैं अथवा करती रही हैं। मियामाइरी (Miyamairi) की आधुनिक जापानी पद्धति एक ऐसा समारोह है, जिसमें जल का प्रयोग नहीं किया जाता. कुछ में, ऐसे प्रमाण का स्वरूप एक आधुनिक पद्धति के बजाय पुरातात्विक अथवा वर्णनात्मक हो सकता है।

रहस्य धर्म की प्रवर्तन रस्में[संपादित करें]

दूसरी सदी के रोमन लेखक एप्युलियस (Apulius) ने आइसिस (Isis) के रहस्यों में प्रवर्तन का वर्णन इस प्रकार किया:

Then, when the priest said the moment had come, he led me to the nearest baths, escorted by the faithful in a body, and there, after I had bathed in the usual way, having invoked the blessing of the gods he ceremoniously aspersed and purified me.[183]

उस देवी की रस्मों की क्रमिक श्रेणियों में ल्युशियस (Lucius), एप्युलियस की कहानी में वह पात्र जिसे एक गधे में बदल दिया गया था और आइसिस द्वारा पुनः मनुष्य के रूप में लाया गया, का यह प्रवर्तन उसकी ईमानदारी और विश्वसनीयता के अध्ययन के एक उल्लेखनीय काल के बाद ही पूरा हुआ था, जो कि ईसाईयत में नव-धर्मांतरितों के साथ पालन की जाने वाली पद्धतियों के समान ही है।[184]

मैन्डेइयाई बपतिस्मा (Mandaean baptism)[संपादित करें]

मैन्डेइयाई (Mandaean), जो ईसा तथा मूसा को ईश्वर के झूठे दूत मानकर उनसे नफरत करते हैं[कृपया उद्धरण जोड़ें], बपतिस्मा-दाता जॉन का सम्मान करते हैं तथा नित्य बपतिस्मा का पालन करते हैं, जो कि इस कारण प्रवर्तन की नहीं, बल्कि शुद्धि की एक रस्म है।

सिख बपतिस्मा समारोह[संपादित करें]

सिख प्रवर्तन समारोह, जिसमें पीना, न कि धुलाई, शामिल होता है, की शुरुआत 1699 में हुई, जब इस पंथ के दसवें गुरु (गुरु गोबिंद सिंग) ने 5 अनुयायियों को अपने पंथ की दीक्षा दी और इसके बाद उनके अनुयायियों द्वारा स्वयं उनका प्रवर्तन किया गया। सिख बपतिस्मा समारोह को अमृत संचार या खण्डे दी पहुल कहा जाता है। एक बार उनका प्रवर्तन हो जाने पर सिखों ने अमृत ले लिया है। सिख संप्रदाय में, प्रवर्तित सिख को अमृतधारी भी कहा जाता है, जिसका शाब्दिक अर्थ होता है, अमृत लेने वाला अथवा ऐसा व्यक्ति जिसने अमृत लिया हो .

खण्डे दी पहुल (अमृत समारोह) का प्रारंभ गुरु गोबिंद सिंग के काल में हुआ, जब 1699 में बैसाखी के दिन श्री आनंदपुर साहिब में खालसा की स्थापना हुई थी। गुरु गोबिंद सिंग ने सिखों की भीड़ से पूछा कि ईश्वर के लिये मरने को कौन तैयार है? पहले-पहल लोग झिझक रहे थे और फिर एक व्यक्ति आगे बढ़ा और उसे एक तम्बू में ले जाया गया। कुछ देर बाद अपनी खून से लथपथ तलवार के साथ गुरु गोबिंद सिंग उस तम्बू से बाहर आये. उन्होंने पुनः वही प्रश्न किया। जब अगले चार स्वयंसेवक तम्बू में थे, तो वे उन चारों के साथ पुनः प्रकट हुए, जिनकी वेशभूषा उन्हीं के समान थी। ये पांच लोग पंज प्यारे अथवा पांच प्रियजनों के रूप में प्रसिद्ध हुए. अमृत प्राप्त करके इन पांचों ने खालसा की दीक्षा ली. ये पांच लोग भाई दया सिंग, भाई मुखम सिंग, भाई साहिब सिंग, भाई धरम सिंग और भाई हिम्मत सिंग थे। तभी से सिख पुरुषों को "सिंग" अर्थात् "सिंह" नाम दिया गया और महिलाओं को अंतिम नाम "कौर" प्राप्त हुआ, जिसका अर्थ है "राजकुमारी".

लोहे के एक कटोरे को साफ पानी से भरकर, पांच पवित्र पाठ्यों अथवा बानियों- जपजी, जाप साहिब, सवैये, चौपाई और आनंद साहिब का उच्चारण करते हुए वे इसे एक दु-धारी तलवार (जिसे खण्डा कहते हैं) से हिलाते रहे. गुरु की धर्मपत्नी, माता जितो (जिन्हें माता साहिब कौर भी कहा जाता है) ने इस पात्र में चीनी के टुकड़े डाले, जिससे मिठास लोहे के रासायनिक गुणों के साथ मिल गई। जब पवित्र मंत्रों के उच्चारण के साथ पवित्र जल को हिलाया जा रहा था, तो वे पांचों सिख उस पात्र के चारों ओर भक्तिभाव के साथ ज़मीन पर बैठ गये।

पांचों बानियों का पाठ पूरा हो जाने पर, खण्डे दी पहुल या अमृत, अमरता का रस, प्रशासन के लिये तैयार था। गुरु गोबिंद सिंग ने पांचों सिखों में से प्रत्येक को पांच अंजुलियों में भरकर वह पीने को दिया.

इस्लाम में रस्मी धुलाई[संपादित करें]

इस्लाम में घुसुल[185] (धुलाई के लिये अरबी शब्द) नामक एक प्रकार की धुलाई की आवश्यकता होती है, जो ऊपर वर्णित यहूदी पद्धति के ही समान है, जिसमें एक विशेष क्रम में पूरे शरीर की धुलाई अथवा पूरे शरीर को डुबोना (निमज्जन), उदाहरणार्थ किसी नदी में, शामिल होना चाहिये. इस्लाम को स्वीकार कर रहे किसी वयस्क के लिये इसकी आवश्यकता नहीं होती, लेकिन इसे प्रत्येक संभोग अथवा स्वप्न दोष अथवा प्रत्येक माहवारी के बाद किया जाना अनिवार्य होता है, ताकि वे अपनी पांच दैनिक प्रार्थनायें पुनः प्रारंभ कर सकें. साथ ही, मृत शरीर के लिये भी यह किया जाना आवश्यक होता है। यह धारणा गलत है कि अनिवार्य रूप से प्रार्थनायें अशुद्ध विचारों तथा कार्यों के लिये ईश्वर से क्षमा मांगने हेतु ही की जानी चाहिये; यह केवल वांछित है।[कृपया उद्धरण जोड़ें]

ऐसा घुसुल अन्य धर्मों की पद्धतियों से बहुत भिन्न है। जब भी इसका संकेत प्राप्त हो या इसे करना वांछित हो, तो व्यक्ति इसे अकेले में तथा निजी रूप से करता है।[कृपया उद्धरण जोड़ें]

इसके अतिरिक्त, दैनिक प्रार्थनाओं से पूर्व भी धुलाई आवश्यक होती है और इसे वुदु कहा जाता है। मुस्लिम धर्मावलंबियों का विश्वास है कि ईश्वर से अपने पापों के लिये क्षमा मांगने से पूर्व किसी को भी ईश्वर की प्रार्थना नहीं करनी चाहिये. औपचारिक प्रार्थनायें प्रतिदिन पांच बार की जाती हैं। धुलाई के दौरान, व्यक्ति ईश्वर से पूरे दिन, जानबूझकर या अनजाने में, किये गये पापों के लिये क्षमायाचना करता है। यह स्वयं को ये याद दिलाने की मुस्लिम विधि है कि ईश्वर को प्रसन्न करना तथा उसकी क्षमा व कृपा प्राप्त करने के लिये प्रार्थना करना ही इस जीवन का लक्ष्य है।[कृपया उद्धरण जोड़ें]

क़ुरान की इस पंक्ति के द्वारा ईसाई बपतिस्मा को चुनौती दी गई है: "हमारा धर्म अल्लाह का बपतिस्मा है; और अल्लाह से बेहतर कौन बपतिस्मा कर सकता है? और यही वह है, जिसकी हम आराधना करते हैं". इसका अर्थ यह है कि इस्लाम में ईश्वर के एकेश्वरवाद में विश्वास कर लेना ही इस संप्रदाय में प्रवेश करने के लिये पर्याप्त है और इसके लिये बपतिस्मा के किसी रस्मी स्वरूप की आवश्यकता नहीं होती.[186]

ग्नॉस्टिक कैथलिकवाद तथा थेलेमा (Gnostic Catholicism and Thelema)[संपादित करें]

द एक्सेलेशिया ग्नॉस्टिक कैथलिका (The Ecclesia Gnostica Catholica) अथवा ग्नॉस्टिक कैथलिक चर्च (ऑर्डो टेम्पली ऑरियेंटिस (Ordo Templi Orientis) की चर्च संबंधी शाखा), किसी भी ऐसे व्यक्ति को बपतिस्मा की अपनी रस्म प्रदान करती है, जिसकी आयु कम से कम 11 वर्ष हो.[187] यह समारोह ग्नॉस्टिक धर्मसभा (Gnostic Mass) के पूर्व किया जाता है और यह थेलेमिक समुदाय में एक सांकेतिक जन्म को सूचित करता है।[188]

तुलनात्मक सारांश[संपादित करें]

ईसाई प्रभाव वाले संप्रदायों में बपतिस्मा का तुलनात्मक सारांश.[189][190][191] (यह भाग संप्रदायों का एक पूरी सूचीकरण प्रदान नहीं करता और इसलिये यह चर्च के केवल उन भागों का उल्लेख करता है, जो "विश्वासकर्ता के बपतिस्मा" का पालन करते हैं।)

सम्प्रदाय बपतिस्मा के बारे में विश्वास बपतिस्मा का प्रकार शिशुओं को बपतिस्मा प्रदान किया जाए? बपतिस्मा पुनर्जन्म देता है / आध्यात्मिक जीवन प्रदान करता है आदर्श
ऐंग्लिकन कम्युनियन "बपतिस्मा केवल पेशे का एक संकेत और अंतर-भेद का चिह्न नहीं है, जिसके द्वारा अन्य लोगों से ईसाई लोगों की अलग पहचान होती है, बल्कि यह पुनर्जन्म या नव-जन्म का एक संकेत भी है, जिसके द्वारा, एक साधन के रूप में, उन्हें जो बप्तिस्पा प्राप्त होता है उसे चर्च में मिला दिया जाता है; पाप क्षम्यता और पवित्र आत्मा द्वारा ईश्वर के पुत्रों को गोद लेने के वचनों पर प्रत्यक्ष रूप से हस्ताक्षर किया जाता है और उन पर मुहर लगाई जाती है; विश्वास की पुष्टि की जाती है और ईश्वर की प्रार्थना के गुण से ईश्वर की दया में वृद्धि होती है।"[190] डुबकी, विसर्जन, डालकर, या छिड़काव द्वारा. हां (अधिकांश उप-सम्प्रदायों में) हां (अधिकांश उप-सम्प्रदायों में) त्रिमूर्ति
एपोस्टोलिक ब्रेदरेन मुक्ति के लिए आवश्यक है क्योंकि यह आध्यात्मिक पुनर्जन्म का कारक है। केवल डुबकी द्वारा. इसके अलावा पवित्र आत्मा से एक विशेष उड़ेलन के एक "द्वितीय" बतिस्मा की आवश्यकता पर जोर देकर.[192] हां हां यीशु[193]
बपतिस्मादाता एक दिव्य अध्यादेश, एक प्रतीकात्मक रस्म, किसी व्यक्ति की आस्था की खुलेआम घोषणा की क्रियाविधि और पहले से ही बचे होने का एक संकेत, लेकिन मुक्ति के लिए आवश्यक नहीं. केवल डुबकी द्वारा. नहीं नहीं त्रिमूर्ति
क्रिस्टाडेलफियंस बपतिस्मा एक विश्वासी की मुक्ति के लिए आवश्यक है।[194] यह केवल तभी प्रभावी होता है जब कोई व्यक्ति बपतिस्मा प्राप्त करने से पहले सच्चे उपदेश सन्देश पर विश्वास करता है।[195] बपतिस्मा आस्तिक में एक आतंरिक बदलाव का एक बाहरी प्रतीक है: यह जीवन के एक पुराने और पापयुक्त तरीके के अंत और एक ईसाई के रूप में एक नए जीवन के आरम्भ का प्रतिनिधित्व करता है, जिसे संक्षेप में आस्तिक का पश्चाताप कहा जा सकता है इसलिए इसके परिणामस्वरूप उसे ईश्वर से क्षमा की प्राप्ति होती है, जो पश्चाताप करने वाले लोगों को क्षमा कर देते हैं।[196] हालांकि किसी व्यक्ति को केवल एक बार ही बपतिस्मा प्रदान किया जाता है, इसलिए एक आस्तिक को आजीवन अपने बपतिस्मा (अर्थात्, पाप का अंत और प्रभु के दिखाए मार्ग का अनुसरण करते हुए एक नए जीवन की शुरुआत करना) के सिद्धांतों के अनुसार ही जीना चाहिए.[197] केवल डुबकी द्वारा[198] कोई[198] हां पिता, पुत्र और पवित्र आत्मा (हालांकि क्रिस्टाडेलफियंस, नाइसियन त्रिमूर्ति में विश्वास नहीं करते हैं)
डिसिपल्स ऑफ़ क्राइस्ट बपतिस्मा, ईश्वर की कृपा का एक बाहरी और सार्वजनिक संकेत है जो व्यक्ति में प्रत्यक्ष दिखाई देता है। डुबकी प्रक्रिया में, व्यक्ति प्रतीकात्मक ढ़ंग से ईसा मसीह के साथ मरने और उसके बाद उनके साथ जन्मे लेने का अनुभव करता है।[199] आमतौर पर डुबकी द्वारा नहीं नहीं त्रिमूर्ति
चर्च्स ऑफ़ क्राइस्ट चर्च्स ऑफ़ क्राइस्ट ऐतिहासिक दृष्टि से

पुनरुद्धार आन्दोलन की विभिन्न शाखाओं में सबसे ज्यादा रूढ़िवादी स्थिति पर विद्यमान है, जो विसर्जन द्वारा बपतिस्मा को रूपांतरण का एक आवश्यक हिस्सा मानते हैं।[124] :p.61

केवल विसर्जन द्वारा[116] :p.107 [117] :p.124 [118] नहीं[117][151] :p.318-319 [154] :p.195 इस विश्वास की वजह से कि बपतिस्मा मुक्ति का एक आवश्यक हिस्सा है, कुछ बपतिस्मादाता इस बात पर अडिग है कि चर्च्स ऑफ़ क्राइस्ट बपतिस्माई पुनर्जन्म के सिद्धांत का समर्थन करते हैं।[155] हालांकि, चर्च्स ऑफ़ क्राइस्ट के सदस्य इस बात से अस्वीकार करते हैं और तर्क देते हैं कि चूंकि आस्था और पश्चाताप आवश्यक हैं और यह भी कि ईश्वर की दया से मसीह के लहू के द्वारा पाप से मुक्ति मिलती है, बपतिस्मा

सहज रूप से मुक्ति दिलाने वाली एक रस्म है।[119] :p.133 [155][156] :p.630,631 बपतिस्मा को मुक्ति दिलाने वाले एक "कृत्य" के बजाय आस्था एवं पश्चाताप का एक स्वीकारात्मक अभिव्यक्ति माना जाता है।[154]:p.179-182 [154] :p.170

त्रिमूर्ति
द चर्च ऑफ़ जीसस क्राइस्ट ऑफ़ लैटर-डे सेंट्स सेलेस्टियल किंगडम ऑफ़ हीवन में प्रवेश करने के लिए आवश्यक एक अध्यादेश और हाथ पसारकर पवित्र आत्मा के उपहार को प्राप्त करने की तैयारी. उचित पादरीपन अधिकार का उपभोग करने वाले व्यक्ति द्वारा किए गए विसर्जन द्वारा.[200] नहीं (कम से कम 8 वर्ष का) हां पिता और पुत्र और पवित्र आत्मा (एलडीएस चर्च नाइसियन त्रिमूर्ति में विश्वास नहीं करता है, लेकिन देवत्व में विश्वास करता है)[201]
पूर्वी रूढ़िवादी चर्च / ओरिएंटल रूढ़िवादी चर्च / पूर्वी कैथोलिक पुराने इन्सान का अंत होता है और "नए इन्सान" का जन्म होता है जो पैतृक पाप के कलंक से मुक्त होता है। एक नया नाम दिया जाता है। सभी पिछली प्रतिबद्धताएं एवं पाप

बातिल एवं शून्य हो जाते हैं।[कृपया उद्धरण जोड़ें]

3 बार डुबकी या विसर्जन द्वारा (अन्य तरीकों का इस्तेमाल केवल आपातकाल में होना चाहिए और यदि संभव हो तो पादरी द्वारा अवश्य सही किया जाना चाहिए).[कृपया उद्धरण जोड़ें] हां. क्रिस्मेशन (अर्थात्, पुष्टि) और पवित्र समुदाय तुरंत पालन करते हैं।[कृपया उद्धरण जोड़ें] हां त्रिमूर्ति
जेनोवा'स विट्नेसेस बपतिस्मा सम्पूर्ण बपतिस्माई व्यवस्था के हिस्से के रूप में मुक्ति के लिए आवश्यक है: मसीह के आदेश के पालन की एक अभिव्यक्ति के रूप में (मैथ्यू 28:19-20), ईसा मसीह के मुक्ति बलिदान में बचावकारी आस्था के एक सार्वजनिक प्रतीक के रूप में (रोमंस 10:10) और बुरे कर्मों के पश्चाताप के संकेत और जेनोवा के लिए किसी के जीवन के समर्पण के रूप में. (1 पीटर 2:21) हालांकि, बपतिस्मा मुक्ति की गारंटी नहीं देता है।[202] केवल डुबकी द्वारा; उम्मीदवारों को जिले और सर्किट सम्मेलनों में बपतिस्मा प्रदान किया जाता है।[203] नहीं नहीं ईसा
सम्प्रदाय (जारी) बपतिस्मा के बारे में विश्वास बपतिस्मा का प्रकार शिशुओं को बपतिस्मा प्रदान किया जाए? बपतिस्मा पुनर्जन्म देता है / आध्यात्मिक जीवन प्रदान करता है आदर्श
लुथरवादी बपतिस्मा एक चमत्कारी धर्मविधि है जिसके माध्यम से ईश्वर व्यक्ति के दिल में आस्था के उपहार का निर्माण और/या

सुदृढ़ीकरण करते हैं। "यद्यपि हम यह समझने का दावा नहीं करते हैं कि यह कैसे होता है या यह कैसे संभव है, हमें विश्वास है (जिसकी वजह से बाइबिल बपतिस्मा के बारे में बताता है) कि जब एक शिशु को बपतिस्मा दिया जाता है, ईश्वर उस शिशु के दिल में आस्था का निर्माण करते हैं।"[204]

छिड़काव द्वारा या डालकर.[205][206] हां[207][208] हां[208] त्रिमूर्ति
मेथोडिस्ट (आर्मिनियावादी, वेस्लेवादी) मसीह के पवित्र चर्च में दीक्षा की धर्मविधि जिससे व्यक्ति मुक्ति के ईश्वरीय शक्तिशाली कामों में अंतर्भुक्त हो जाता है और जल एवं आत्मा के माध्यम से उसका एक नया जन्म होता है। बपतिस्मा व्यक्ति के सारे पाप धो डालता है और उसे मसीह के धर्म का चोला पहना देता है। छिड़काव करके, डालकर, या विसर्जन द्वारा.[209] हां[210] हां, हालांकि पश्चाताप की सम्भावना और मुक्तिदाता के रूप में मसीह की एक निजी स्वीकृति.[211][212] त्रिमूर्ति
ट्रिनिटेरियन पेंटेकोस्टल्स और विभिन्न "पवित्रता" समूह, क्रिश्चियन मिशनरी अलायंस, असेम्ब्लीज़ ऑफ़ गॉड जल बपतिस्मा एक अध्यादेश है, जो निजी मुक्तिदाता के रूप में मसीह को स्वीकार किए होने की गवाही देने के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला एक प्रतीकात्मक रस्म है।[कृपया उद्धरण जोड़ें] डुबकी लगाकर. इसके अलावा पवित्र आत्मा से एक विशेष उड़ेलन के एक "द्वितीय" बतिस्मा की आवश्यकता पर जोर देकर.[213] नहीं बदलता रहता है त्रिमूर्ति
एकता पेंटेकोस्टल्स मुक्ति के लिए आवश्यक केवल डुबकी द्वारा नहीं हां ईसा का नाम
प्रेस्बिटेरियन और अधिकांश रिफोर्म्ड चर्च एक धर्मविधि, एक प्रतीकात्मक रस्म और वयस्क आस्तिक के मौजूदा आस्था का एक दृढ़ीकरण. यह एक अंदरूनी कृपा का एक बाहरी संकेत है।[कृपया उद्धरण जोड़ें] छिड़काव करके, डालकर, विसर्जन या डुबकी लगाकर[कृपया उद्धरण जोड़ें] हां, न्यू कोवेनांट में सदस्यता को इंगित करने के लिए.[कृपया उद्धरण जोड़ें] नहीं त्रिमूर्ति
क्वेकर्स (रिलीजियस सोसाइटी ऑफ़ फ्रेंड्स) केवल एक बाह्य प्रतीक जिसका अब इस्तेमाल नहीं किया जाता है।[कृपया उद्धरण जोड़ें] जल के बप्तिस्मा में विश्वास नहीं करते हैं, बल्कि सिर्फ पवित्र आत्मा के नेतृत्व में एक अनुशासनात्मक जीवन में मानव आत्मा के अंदरूनी, विकासशील शुद्धिकरण में विश्वास करते हैं।[कृपया उद्धरण जोड़ें] - - -
पुनरुत्थानवाद मुक्ति या मोक्ष का एक आवश्यक कदम. पवित्र आत्मा को प्राप्त करने की उम्मीद के साथ डुबकी द्वारा. नहीं हां त्रिमूर्ति
रोमन कैथोलिक चर्च "उन लोगों के लिए मुक्ति के लिए आवश्यक है जिनके लिए उपदेश को प्रस्तुत किया गया है और जिनके द्वारा इस धर्मविधि की मांग करने की सम्भावना थी"[16] पश्चिम में आमतौर पर डालकर, पूर्व में डुबकी या विसर्जन द्वारा; छिड़काव की अनुमति केवल तभी दी जाती है जब जल सिर पर प्रवाहित होता है।[214][215] हां हां त्रिमूर्ति
सेवंथ-डे एड्वेंटिस्ट्स मुक्ति के लिए पूर्वापेक्षित विधि के रूप में नहीं, बल्कि चर्च में प्रवेश के लिए एक पूर्वापेक्षित विधि के रूप में वर्णित है। यह पाप के अंत और ईसा मसीह में नए जन्म का प्रतीक है।[216] "यह ईश्वर के परिवार में शामिल होने की पुष्टि करता है और एक सेवारत जीवन को अलग करता है।"[216] डुबकी से.[217] नहीं नहीं त्रिमूर्ति
यूनाइटेड चर्च ऑफ़ क्राइस्ट (इवेंजलिकल एवं रिफोर्म्ड चर्च्स और कोंग्रेगेशनल क्रिश्चियन चर्च्स) दो धर्मविधियों में से एक. बपतिस्मा ईश्वर की अंदरूनी कृपा का एक बाहरी संकेत है। एक स्थानीय मंडली में सदस्यता के लिए यह आवश्यक हो सकता है / नहीं हो सकता है। हालांकि, यह शिशुओं और वयस्कों दोनों के लिए एक आम अभ्यास है।[कृपया उद्धरण जोड़ें] छिड़काव करके, डालकर, विसर्जन या डुबकी लगाकर.[कृपया उद्धरण जोड़ें] हां, न्यू कोवेनांट में सदस्यता को इंगित करने के लिए.[कृपया उद्धरण जोड़ें] नहीं त्रिमूर्ति
पुनर्दीक्षादाता अधिकांश पुनर्दीक्षादाता चर्चों का मानना है (पुनर्दीक्षादाता का अर्थ है फिर से बप्तिस्मा प्रदान करने वाला) कि बपतिस्मा ईसाई धर्म के लिए जरूरी है, न कि मुक्ति के लिए. इसे समन्वय, पैर धोना, पवित्र चुम्बन, ईसाई महिला के सिर का ढंकना, तेल से अभिषेक करना और शादी के साथ बाइबिल का एक अध्यादेश माना जाता है। पुनर्दीक्षादाता ऐतिहासिक तौर पर शिशु बपतिस्मा के अभ्यास के खिलाफ भी खड़े हुए हैं। पुनर्दीक्षादाता एक ऐसे समय में शिशु बपतिस्मा के खिलाफ दृढ़तापूर्वक खड़े हुए जब चर्च और राज्य एक थे और जब लोगों को आधिकारिक तौर पर स्वीकृत चर्च (रिफोर्म्ड या कैथोलिक) में बपतिस्मा के माध्यम से के नागरिक बनाया जाता था। ऐसा विश्वास है कि विश्वास और पश्चाताप अस्तित्व बपतिस्मा से पहले होता है और उसके बाद इसका पालन किया जाता है।[कृपया उद्धरण जोड़ें] डालकर, विसर्जन या डुबकी लगाकर.[कृपया उद्धरण जोड़ें] नहीं नहीं त्रिमूर्ति

गैर धार्मिक प्रवर्तन[संपादित करें]

हालांकि अक्सर पानी का उपयोग भी नदारद रहता है, बपतिस्मा शब्द का इस्तेमाल धर्मनिरपेक्ष जीवन के गमन के रास्ते के रस्म के रूप में विभिन्न प्रवार्तनों के लिए भी किया जाता है।

  • बेल्जियम में, उदाहरण के लिए, विश्वविद्यालय प्रतिज्ञा के लिए एक शब्द डच में स्चैच्टेंडूप ('बपतिस्मा प्रतिज्ञा') या फ्रेंच में बैप्टीम है। छात्र समाज (आम तौर पर मिश्रित लिंग) में प्रवेश करने का यह एक पारंपरिक तरीका है और यह उच्चतर शिक्षण संस्थानों द्वारा स्वीकृत है और कभी-कभी ये इसका नियंत्रण भी करते हैं, उदाहरणार्थ, बेल्जियम के विश्वविद्यालयों - यूनिवर्सिटी कैथोलिक डे लाउवें और उनिवार्सिती लिब्रे डे ब्रुक्सेलेस.[कृपया उद्धरण जोड़ें]
  • ब्राजील के मार्शल आर्ट कापोइरा में, एक वार्षिक पदोन्नति समारोह का आयोजन होता है, जिसे बैटिजाडो (शाब्दिक रूप से "बपतिस्मा") के रूप में जाना जाता है। अपनी पहली बैटिजाडो में भाग लेने वाले चिकित्सकों के लिए, एक चिह्न के रूप में उस समय अपने कैपोइरा नामों को पाना पारंपरिक होता है जिसे उन्होंने कैपोइरिस्टास के समुदाय में प्राप्त किया है। यह नाम अक्सर किसी वरिष्ठ प्रशिक्षक या अन्य वरिष्ठ छात्रों द्वारा प्रदान किया जाता है और जयादातर इसका निर्धारण किसी व्यक्तिगत तरीके से किया जाता है जिस तरीके से वे एक आन्दोलन का प्रदर्शन करते हैं, वे कैसे दिखते हैं, या कुछ ऐसा जो व्यक्ति के लिए अद्वितीय हो. उनके कैपोइरा नाम को कैपोइरा समुदाय के भीतर अक्सर एक नोम डे गुएरे (nom de guerre) के रूप में इस्तेमाल किया जाता है जो एक उस समय की एक परंपरा है जब कैपोइरा का अभ्यास ब्राज़ील में गैरकानूनी था।

वस्तुओं का बपतिस्मा[संपादित करें]

यूएसएस डेवी का नामकरण

"बपतिस्मा" या "नामकरण" शब्द का इस्तेमाल कभी-कभी इस्तेमाल की जाने वाली कुछ ख़ास वस्तुओं के उद्घाटन का वर्णन करने के लिए किया जाता है।

  • घंटियों का बपतिस्मा नाम, कम से कम फ़्रांस में, ग्यारहवीं सदी के बाद से, (संगीतीय, ख़ास तौर पर चर्च) घंटियों के आशीर्वाद को दिया जाता है। यह क्रिज़्म के साथ या क्रिज़्म के बिना शिथिलंग के तेल से घंटी का तेलाभिषेक करने से पहले बिशप द्वारा पवित्र जल से घंटी को धोने से व्युत्पन्न हुआ है; इसके नीचे एक धूपदानी रखा जाता है और बिशप प्रार्थना करते हैं कि चर्च की ये धर्मविधियां घंटी के ध्वनि पर राक्षसों को भगा दें, तूफानों से रक्षा करें और प्रार्थना करने वाले के लिए लाभकारी हो.
  • जहाज़ों का बपतिस्मा: कम से कम क्रुसेड के समय से, रस्मों में जहाज़ों के लिए एक आशीर्वाद को निहित है। पादरी ईश्वर से याचना करते हैं कि वे जहाज पर अपनी कृपा बनाए रखें और इसे चलाने वालों की रक्षा करें. जहाज पर आमतौर पर पवित्र जल से छिड़काव किया जाता है।

एंडनोट्स[संपादित करें]

  1. ध्यान दें कि यह नीचे समझाए गए अर्थ में निमज्जन द्वारा बपतिस्मा की एक छवि है, जो जल के नीचे विसर्जन द्वारा बप्तिस्मा से अलग है। बपतिस्मा की यह विधि शिशुओं को छोड़कर पूर्व में जारी है, लेकिन पश्चिम में 15वीं सदी तक प्रायः पूरी तरह से इसका उपयोग बंद हो गया था और हो सकता है कलाकार ने सेंट पीटर द्वारा बपतिस्मा के इस बयान के लिए एक पुराने रूप का चयन किया हो.
  2. Liddell, Henry George।; Robert Scott, Henry Stuart Jones and Roderick McKenzie (1940)। "βαπτίζω". A Greek-English LexiconMedford, Massachusetts: Tufts University
  3. "बपतिस्मा के माध्यम से हम पाप से मुक्त हो जाते हैं और ईश्वर की संतान के रूप में फिर से जन्म लेते हैं; हम ईसा के सदस्य बन जाते हैं, चर्च में हमें शामिल कर लिया जाता है और उनके मिशन में हमें भागीदार बना लिया जाता है" (कैटेशिज्म ऑफ़ द कैथोलिक चर्च, 1213; "पवित्र बपतिस्मा ऐसी धर्मविधि है जिसके द्वारा ईश्वर अपने बच्चों की तरह हमें अपना लेते हैं और ईसा के निकाय, चर्च, का सदस्य और ईश्वर के राज्य का वारिस बना देते हैं" (बुक ऑफ़ कॉमन प्रेयर, 1979, एपिस्कोपल); "बपतिस्मा ईसा के निकाय में प्रवर्तन एवं निगमन की धर्मविधि है" (ऐन यूनाइटेड मेथोडिस्ट अंडरस्टैंडिंग ऑफ़ बैप्टिज्म); "ईश्वर के परिवार की सदस्यता में एक प्रारंभिक रस्म के रूप में बपतिस्माई उम्मीदवारों को प्रतीकात्मक ढंग से शुद्धिकरण या धुलाई किया जाता है जैसे कि उनके पाप को माफ़ कर दिया गया हो और धुल गया हो" (विलियम एच. ब्रैकने, बिलीवर्स बैप्टिज्म).
  4. Matthew 3:16, Mark 1:9-10, Luke 3:21
  5. Schaff, Philip (2009). "Baptism". History of the Christian Church, Volume I: Apostolic Christianity. A.D. 1-100.. http://www.ccel.org/ccel/schaff/hcc1.i.IX.54.html. "The usual form of baptism was immersion…. But sprinkling, also, or copious pouring rather, was practised at an early day with sick and dying persons, and in all such cases where total or partial immersion was impracticable" 
  6. Fanning, W.। (1907)। "Baptism". Catholic Encyclopedia। New York City: Robert Appleton Company। “The most ancient form usually employed was unquestionably immersion”
  7. "Roman Catholicism: Baptism". Encyclopædia Britannica. 2009. http://www.britannica.com/EBchecked/topic/507284/Roman-Catholicism/43691/Baptism. "Two points of controversy still exist in modern times. One is baptism by pouring or sprinkling water on the head rather than by immersion of the entire body, even though immersion was probably the biblical and early Christian rite" 
  8. Collins, Adela Yarbro (1995). "The Origin of Christian Baptism". In Maxwell E. Johnson. Living Water, Sealing Spirit: Readings on Christian Initiation. Collegeville Township, Stearns County, Minnesota: Liturgical Press. pp. 35–57. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-8146-6140-8. OCLC 31610445. http://books.google.com/books?id=dWx4GGR3jusC&pg=PA35. "The baptism of John did have certain similarities to the ritual washings at Qumran: both involved withdrawal to the desert to await the lord; both were linked to an ascetic lifestyle; both included total immersion in water; and both had an eschatological context" 
  9. Dau, W. H. T. (1979). "Baptism". In Geoffrey W. Bromiley. International Standard Bible Encyclopedia: A-D. Grand Rapids, Michigan: William B. Eerdmans Publishing Company. प॰ 416. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-8028-3781-6. OCLC 50333603. http://books.google.com/books?id=wo8csizDv0gC&pg=PA410. "It is to be noted that for pouring another word ‘’(ekcheo)’’ is used, clearly showing that baptizo does not mean pour. …There is thus no doubt that early in the 2nd century some Christians felt baptism was so important that, 'when the real baptism (immersion) could not be performed because of lack of water, a token pouring might be used in its place" 
  10. France, R. T. (2007). The Gospel of Matthew. Grand Rapids, Michigan: William B. Eerdmans Publishing Company. प॰ 109. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-8028-2501-X. OCLC 122701585. "The fact that he chose a permanent and deep river suggests that more than a token quantity of water was needed, and both the preposition 'in' (the Jordan) and the basic meaning of the verb 'baptize' probably indicate immersion. In v. 16 Matthew will speak of Jesus 'coming up out of the water.' The traditional depiction in Christian art of John the Baptist pouring water over Jesus' head may therefore be based on later Christian practice" 
  11. Warfield, Benjamin Breckinridge. "The Archæology of the Mode of Baptism". http://www.lgmarshall.org/Warfield/warfield_modebaptism.html. "We may then probably assume that normal patristic baptism was by a trine immersion upon a standing catechumen, and that this immersion was completed either by lowering the candidate's head beneath the water, or (possibly more commonly) by raising the water over his head and pouring it upon it" 
  12. "जबकि कुछ स्थानों में और कुछ विशेष परिस्थितियों में सम्पूर्ण विसर्जन शायद ही किया जाता था, सभी गवाह (और भी बहुत कुछ है) अधिकांश मामलों में आंशिक विसर्जन या अभिसिंचन (सिर को डुबाकर या सिर पर जल डालकर, आम तौर पर जब बपतिस्मा प्राप्त करने वाला व्यक्ति बपतिस्माई तालाब में खड़ा होता था) द्वारा बपतिस्मा प्रदान करने की ओर इशारा करते हैं। यहां सेंट जॉन क्रिसोस्टॉम के शब्दों पर ध्यान दिया जा सकता है: "यह जैसी किसी कब्र में है जहां जल में हम अपने सिरों को विसर्जित करते हैं।.. उसके बाद जब हम अपने सिरों को वापस उठाते हैं तो नए इन्सान का जन्म होता है" (ऑन जॉन 25.2, पीजी 59:151). एक शब्द में, जबकि आरंभिक ईसाई बपतिस्मा से संबंधित प्रतीकवाद के प्रति बहुत चौकस रहते थे (cf. बप्तिस्मा के निर्माण का अंत्येष्टि का आकार; कदम, आम तौर पर तीन, पात्र से उतरने और बढ़ने के लिए; पुनर्जन्म, इत्यादि से संबंधित प्रतीमा शास्र), वे सम्पूर्ण विसर्जन के साथ पूर्वव्यस्तता के कुछ संकेत दिखाते हैं। (सेंत व्लादिमीर क्वार्टरली में फादर जॉन एरिक्सन, 41, 77 (1997), द बाइज़ेन्टाइन फोरम में उद्धृत)
  13. McGuckin, John Anthony (2004). "Baptism". The Westminster handbook to patristic theology. Louisville, Kentucky: Westminster John Knox Press. pp. 41–44. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-664-22396-6. OCLC 52858567. http://books.google.com/books?id=u4i8jv0b7IkC&pg=PA41. "Eastern tradition strongly defended the practice of three-fold immersion under the waters, but Latin practice increasingly came to use a sprinkling of water on the head (also mentioned in Didache 7 if there was not sufficient water for immersion.)" 
  14. Bowker, John (1999). The Oxford Dictionary of World Religions. Oxford: Oxford University Press. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-19-866242-4. OCLC 60181672. [page needed]
  15. Cross, Frank Leslie; Elizabeth A. Livingstone (2005). "Baptism". The Oxford Dictionary of the Christian Church. Oxford: Oxford University Press. pp. 151–154. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-19-280290-9. OCLC 58998735. 
  16. "The Necessity of Baptism". Catechism of the Catholic Church. Vatican Publishing House. 1993. http://www.vatican.va/archive/ENG0015/__P3M.HTM. अभिगमन तिथि: February 24, 2009. 
  17. उदाहरण के लिए, कैथोलिक चर्च: 1,100,000,000; पूर्वी रूढ़िवादी चर्च: 225,000,000; ऐंग्लिकन कम्युनियन के 77,000,000 सदस्यों में से अधिकांश सदस्य; लुथरवादी और अन्य (कम से कम 1 मिलियन अनुयायिओं वाले दुनिया के धार्मिक निकाय; ईसाई धर्म के मुख्य साम्प्रदायिक परिवार). वर्ल्डवाइड ऐड्हियरेंट्स ऑफ़ ऑल रिलीजन्स बाई सिक्स कॉन्टिनेंटल एरियाज़, मिड-1995 को भी देखें
  18. "baptism". The American Heritage Dictionary of the English Language (Fourth)। (2000)। संपादक: Joseph P. Pickett। Boston: Houghton Mifflin। अभिगमन तिथि: February 24, 2009
  19. 'सितम्बर में: 2 किलोग्राम, 5:13, 14 स्नान करने और बपतिस्मा प्राप्त करने के लिए हमारे पास लोयूओ (3068), है। 28, 40;&version=ESV; Lev. 11:25, 28, 40 भी देखें, जहां डुबोकर कपड़े धोने के लिए प्लुनो (4150) और नहाने के लिए लोयूओ (3068) का इस्तेमाल किया जाता है। 19;&version=ESV; Num. 19:18, 19 में, डुबोने के लिए बाफो और डुबोकर धोने के लिए प्लुनो का इस्तेमाल किया जाता है', एस. ज़ोडहियाट्स, (2000, 1992 के आसपास, 1993 के आसपास). द कम्प्लीट वर्ड स्टडी डिक्शनरी : न्यू टेस्टामेंट (इलेक्ट्रॉनिक एड.) (G908). चट्टानूगा, टीएन (TN): एएमजी पब्लिशर्स (Publishers).
  20. LXX βάπτειν (βαπτίζειν सिर्फ 4 Βασ. 5:14 में होता है) में, טָבַל के रूपांतरण के रूप में, "डुबोना" का इस्तेमाल Ru. 2:14 में निवाले को, Jos. 3:15 में नदी में पैरों को, Lv. 4:6, 17 इत्यादि में बलि के टोरा में लहू में अंगुली को, Lv. 11:32 (בא hiph)' में शुद्धिकरण के क़ानून में जल में अपवित्र वर्तनों को डुबाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है, न्यू टेस्टामेंट का आध्यात्मिक शब्दकोष, 1964 से 1976 के आसपास. गेर्हार्ड फ्रेडरिक द्वारा संपादित खंड 5-9. रोनाल्ड पिटकिन द्वारा संकलित खंड 10. (जी. किटेल, जी. डब्ल्यू. ब्रॉमिले और जी. फ्रेडरिच, एड.) (इलेक्ट्रॉनिक एड.) (1:535). ग्रैंड रैपिड्स, एमआई: एर्डमैन्स.
  21. 'Ex 12,22; Lv 4,6.17; 9,9; 11,32 sth [τι εἴς τι] Lv 9,9 में sth को विसर्जित करना; id. [τι ἔν τινι] Dt 33,24; id. [τι ἀπό τινος] Ex 12,22; sth [τινα ἔν τινι] Jb 9,31' में sb को डुबाना या डुबोना, आइनिकेल ई. लस्ट जे. और के. हॉस्पी (2003). सेप्टुआगिंट का एक ग्रीक-अंग्रेजी शब्दकोष : संशोधित संस्करण. ड्यूश बाइबिलगेसेलल्स्चाफ्ट: स्टुटगार्ट.
  22. 'मार्क 7:3 में, “wash their hands” (उनके हाथ धोना) वाक्यांश, निप्टो (3538) का अनुवाद है, हाथों की तरह शरीर के अंगों को धोना. मार्क 7:4 में “except they wash” (उनका धोना छोड़कर) में wash (धोना) क्रिया का मतलब है - बपतिस्मा प्रदान करना, विसर्जित करना. यह इस बात की तरफ इशारा करता है कि हाथों को धोने का काम एकत्र जल में उन्हें विसर्जित करके किया जाता है। ल्यूक 11:38 देखें जो खाने से पहले किसी के हाथ धोने की क्रिया को हाथों को बपतिस्मा प्रदान करने के लिए बपतिस्मा प्रदान करने के उपयोग के साथ संदर्भित करता है।', एस. ज़ोडहियाट्स (2000, 1992 के आसपास, 1993 के आसपास). द कम्प्लीट वर्ड स्टडी डिक्शनरी : न्यू टेस्टामेंट (इलेक्ट्रॉनिक एड.) (G907). चट्टानूगा, टीएन (TN): एएमजी पब्लिशर्स (AMG Publishers).
  23. 'एनटी, βάπτω का इस्तेमाल Lk 16:24 में केवल शाब्दिक अर्थ में, Jn 13:26 में "अन्दर डुबोना" के लिए और Rev. 19:13 में "रंगने" के लिए करते हैं।', न्यू टेस्टामेंट का आध्यात्मिक शब्दकोष. 1964 से 1976 के आसपास. गेर्हार्ड फ्रेडरिक द्वारा संपादित खंड 5-9. रोनाल्ड पिटकिन द्वारा संकलित खंड 10. (जी. किटेल, जी. डब्ल्यू. ब्रॉमिले और जी. फ्रेडरिच, एड.) (इलेक्ट्रॉनिक एड.) (1:530). ग्रैंड रैपिड्स, एमआई: एर्डमैन्स.
  24. 'J 13:26 में एक द्रव में बिलकुल गहराई में किसी चीज़ को डुबाना', एस. ज़ोडहियाट्स (2000, 1992 के आसपास, 1993 के आसपास). द कम्प्लीट वर्ड स्टडी डिक्शनरी : न्यू टेस्टामेंट (इलेक्ट्रॉनिक एड.) (G907). चट्टानूगा, टीएन (TN): एएमजी पब्लिशर्स (AMG Publishers).
  25. 'βάπτω fut. βάψω; 1aor. ἔβαψα; pf. pass. ptc. βεβαμμένος; (1) भीतर या अन्दर डुबोना, एक द्रव में विसर्जित करना (LU 16.24); (2) रंग में डुबोकर कपड़े को रंगने की तरह, रंग (RV 19.13)', टी. फ्रीबर्ग, बी. फ्रीबर्ग और एन. एफ. मिलर (2000). खंड 4: ग्रीक न्यू टेस्टामेंट का विश्लेषणात्मक कोष. बेकर्स ग्रीम न्यू टेस्टमेंट लाइब्रेरी (87). ग्रैंड रैपिड्स, मिच.: बेकार बुक्स.
  26. '970 βάπτω (baptō): vb.; ≡ DBLHebr 3188; Str 911; TDNT 1.529—LN 47.11 डुबोना (Lk 16:24; Jn 13:26(2×); Rev 19:13+)', जे. स्वैन्सन (1997). सेमैन्टिक डोमेन्स के साथ बिब्लिकल लैंग्वेज की डिक्शनरी : ग्रीक (न्यू टेस्टामेंट) (इलेक्ट्रॉनिक एड.) (डिबीएलजी (DBLG) 970). ओक हार्बर: लोगोज़ रिसर्च सिस्टम, इंक.
  27. न्यू टेस्टामेंट की थियोलॉजिकल डिक्शनरी. 1964-c1976. गेर्हार्ड फ्रेडरिक द्वारा संपादित खंड 5-9. रोनाल्ड पिटकिन द्वारा संकलित खंड 10. (जी. किटेल, जी. डब्ल्यू. ब्रॉमिले और जी. फ्रेडरिच, एड.) (इलेक्ट्रॉनिक एड.) (1:535). ग्रैंड रैपिड्स, एमआई: एर्डमैन्स.
  28. Luke 11:38
  29. ए.ए. हॉज, धर्मशास्र की रूपरेखा 1992 ISBN 0-85151-160-0, 9780851511603 Bremmer, Michael (September 7, 2001). "The Mode of Baptism". Archived from the original on January 26, 2002. http://web.archive.org/web/20020126072506/http://mbrem.com/baptism/aabap.htm. अभिगमन तिथि: February 25, 2009.  में उद्धृत
  30. Naumann, Bertram (2006). "The Sacrament of Baptism". In Paul Naumann. Learn From Me. Church of the Lutheran Confession. http://www.clclutheran.org/lfm/lfm12.pdf. अभिगमन तिथि: February 24, 2009. 
  31. Brom, Robert H. (August 10, 2004). "Baptism: Immersion Only?". Catholic Answers. http://www.catholic.com/library/Baptism_Immersion_Only.asp. अभिगमन तिथि: February 24, 2009. 
  32. Drachman, Bernard।; Kaufmann Kohler "Ablution". Jewish Encyclopedia। संपादक: Cyrus Adler
  33. 'धोने या स्नान करने के काम को बार-बार विसर्जन की क्रिया द्वारा किया जाता था जो या तो बैपटिजो या निप्टो (3538) अर्थात धोने का संकेत था। Mark 7:3 में, “wash their hands” (उनके हाथ धोना) वाक्यांश, निप्टो (3538) का अनुवाद है, हाथों की तरह शरीर के अंगों को धोना. मार्क 7:4 में “except they wash” (उनका धोना छोड़कर) में wash (धोना) क्रिया का मतलब है - बपतिस्मा प्रदान करना, विसर्जित करना. यह इस बात की तरफ इशारा करता है कि हाथों को धोने का काम एकत्र जल में उन्हें विसर्जित करके किया जाता है।', एस. ज़ोडहियाट्स (2000, 1992 के आसपास, 1993 के आसपास). द कम्प्लीट वर्ड स्टडी डिक्शनरी : न्यू टेस्टामेंट (इलेक्ट्रॉनिक एड.) (G908). चट्टानूगा, टीएन (TN): एएमजी पब्लिशर्स (AMG Publishers).
  34. 'मार्क 7:4 [v. 8 में v.l.]; यहां कोइन डी Θ pl में ῥαντίσωνται की जगह βαπτίσωνται दिखाई देता है, जो βάπτω' का अर्थ βαπτίζω प्रदान करता है, एच. आर. बाल्ज़ और जी. श्नीडर (1990 से 1993 के आसपास). न्यू टेस्टामेंट का एक्सेगेटिकल डिक्शनरी. Exegetisches Worterbuch zum Neuen Testament का अनुवाद. (1:195). ग्रैंड रैपिड्स, मिच: एर्डमैन्स.
  35. 'Βάπτω डुबोना, विसर्जित करना', एच. आर. बाल्ज़ और जी. श्नीडर (1990 से 1993 के आसपास). न्यू टेस्टामेंट का एक्सेगेटिकल डिक्शनरी. Exegetisches Worterbuch zum Neuen Testament का अनुवाद (1:195). ग्रैंड रैपिड्स, मिच: एर्डमैन्स.
  36. 'βάπτω; ἐμβάπτω: किसी द्रव में एक vstu को डुबोना - 'अन्दर डुबोना., जे. पी. लौव और ई. ए. निडा (1996, 1989 के आसपास). न्यू टेस्टामेंट का यूनानी-अंग्रेज़ी कोष: सीमेंटिक डोमेन पर आधारित (द्वितीय संस्करण का इलेक्ट्रॉनिक संस्करण.) (1:522). न्यूयॉर्क: यूनाइटेड बाइबिल सोसाइटीज़.
  37. LXX में βάπτειν का इस्तेमाल शराब में निवाले को, Lv. 4:6, 17 इत्यादि में बलि के टोरा में लहू में अंगुली को डूबने के लिए किया जाता है", न्यू टेस्टामेंट का आध्यात्मिक शब्दकोष. 1964 से 1976 के आसपास. गेर्हार्ड फ्रेडरिक द्वारा संपादित खंड 5-9. रोनाल्ड पिटकिन द्वारा संकलित खंड 10. (जी. किटेल, जी. डब्ल्यू. ब्रॉमिले और जी. फ्रेडरिच, एड.) (इलेक्ट्रॉनिक एड.) (1:535). ग्रैंड रैपिड्स, एमआई: एर्डमैन्स.
  38. अरंडट, डब्ल्यू., डैनकर, एफ. डब्ल्यू. और बौयर, डब्ल्यू. (2000). नई टैस्टमैंट और अन्य प्रारंभिक ईसाई साहित्य का एक यूनानी, अंग्रेजी शब्दकोश, (3 एड.) (165). शिकागो: यूनिवर्सिटी ऑफ़ शिकागो प्रेस
  39. फ्रीबर्ग, टी., फ्रीबर्ग, बी. और मिलर, एन.एफ. (2000). खंड 4: ग्रीक न्यू टेस्टामेंट का विश्लेषणात्मक कोष. बेकर्स ग्रीक न्यू टेस्टामेंट लाइब्रेरी (87). ग्रैंड रैपिड्स, मीच: बेकर बुक्स.
  40. न्यू टेस्टामेंट का आध्यात्मिक शब्दकोष. 1964 से 1976 के आसपास. गेर्हार्ड फ्रेडरिक द्वारा संपादित खंड 5-9. रोनाल्ड पिटकिन द्वारा संकलित खंड 10. (जी. किटेल, जी. डब्ल्यू. ब्रॉमिले और जी. फ्रेडरिच, एड.) (इलेक्ट्रॉनिक एड.) (1:545). ग्रैंड रैपिड्स, एमआई: एर्डमैन्स.
  41. http://www.bibelwissenschaft.de/online-bibeln/novum-testamentum-graece-na-27/lesen-im-bibeltext/bibelstelle/Kol%202/cache/d3cb350c68/#v12 नेस्ले-अलंड 27थ (नवीनतम) संस्करण देखें.
  42. ज़ोडहियाट्स, एस. (2000, c1992, c1993). द कम्प्लीट वर्ड स्टडी डिक्शनरी : न्यू टेस्टामेंट (इलेक्ट्रॉनिक एड.) (G908). चट्टानूगा, टीएन (TN): एएमजी पब्लिशर्स (AMG Publishers).
  43. Matthew 3:7, Matthew 21:25; Mark 1:4; Mark 11:30; Luke 3:3; Luke 7:29; Luke 20:4; Acts 1:22; Acts 10:37; Acts 13:24; Acts 18:25; Acts 19:3-4)
  44. Romans 6:4, Ephesians 4:5, 1Peter 3:21
  45. Matthew 20:22-23, Mark 10:38-39, Luke 12:50
  46. Stoltz, Eric (2005). "A Christian Glossary: Baptism". The Abraham Project. http://www.theabrahamproject.com/resources/glossary-christian.html. अभिगमन तिथि: February 25, 2009. [अविश्वनीय स्रोत?]
  47. Pongratz-Lippitt, Christa (May 5, 2007). "Churches mutually recognise baptisms". The Tablet. http://www.thetablet.co.uk/article/9737. अभिगमन तिथि: February 25, 2009. 
  48. एसडिए (SDA) चर्च मैनुअल, 2005, पीपी 42-3
  49. स्कैरामेंट (2009). इनसाइक्लोपीडिया ब्रिटानिका में. 20 मई 2009 को पुनःप्राप्त, इनसाइक्लोपीडिया ब्रिटानिका ऑनलाइन से: http://www.britannica.com/EBchecked/topic/515366/sacrament
  50. Cross, Frank Leslie; Elizabeth A. Livingstone (2005). "John the Baptist". The Oxford dictionary of the Christian Church. Oxford: Oxford University Press. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-19-280290-9. OCLC 58998735. [page needed]
  51. Funk, Robert W. (1998). "John the Baptist". The Acts of Jesus: The Search for the Authentic Deeds of Jesus. San Francisco: HarperSanFrancisco. प॰ 268. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-06-062978-9. OCLC 37854370. 
  52. Chadwick, Henry (2001). "John Baptist". The Church in Ancient Society: From Galilee to Gregory the Great. Oxford: Oxford University Press. प॰ 12. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-19-924695-5. OCLC 191826204. 
  53. Theissen, Gerd; Annette Merz (1998). The Historical Jesus: A Comprehensive Guide. Minneapolis: Fortress Press. pp. 209, 377. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-8006-3122-6. OCLC 38590348. 
  54. Lichtenberger, Herman (1999). "Syncretistic Features in Jewish and Jewish-Christian Baptism Movements". In James D. G. Dunn. Jews and Christians: The Parting of the Ways, A.D. 70 to 135. Grand Rapids, Michigan: William B. Eerdmans Publishing Company. प॰ 87. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-8028-4498-7. OCLC 40433122. http://books.google.com/books?id=9zCh9SBb6Y8C&printsec=frontcover&source=gbs_summary_r&cad=0#PPA85,M1. अभिगमन तिथि: January 19, 2009. 
  55. Dapaah, Daniel S. (2005). The relationship between John the Baptist and Jesus of Nazareth: a critical study. Washington, D.C.: University Press of America. pp. 86–88. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-7618-3109-6. OCLC 60342941. 
  56. देखें, जैसे, रेमंड इ.ब्राउन से ऐसी सारांश की राय, द गॉस्पेल अकौर्डिंग टू जॉन (i-xii): इंट्रोडकशन, ट्रांसलेशन, एण्ड नोट्स (2न्ड एड.) द एंकर बाइबिल, खंड 29 (गार्डेन सिटी, एनवाई: डबलडे, 1966) पीपी 164-165, 188-189.
  57. Sanders, E. P. (1993). The Historical Figure of Jesus. London: Allen Lane. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-7139-9059-7. OCLC 30112315. [page needed]
  58. Funk, Robert W. (1998). "John". The Acts of Jesus: The Search for the Authentic Deeds of Jesus. San Francisco: HarperSanFrancisco. pp. 365–440. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-06-062978-9. OCLC 37854370. 
  59. कॉलिन जी. क्रूस, जॉन के अनुसार गॉस्पेल: एक परिचय और टीका (व्म. बी. एर्डमैन्स प्रकाशन, 2004), पृष्ठ 119
  60. दपाह, डैनियल एस. द रिलेशनशिप बिटवीन जॉन द बैपटिस्ट एण्ड जेसस ऑफ़ नाज़रेथ: एक गंभीर अध्ययन . अमेरिका के विश्वविद्यालय प्रेस, 2005, पृष्ठ 98
  61. [मार्कस बौक्मुएल (एड.), द कैम्ब्रिज कम्पैनियन टू जीज़ज़(कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी प्रेस 2001 ISBN 978-0-521-79678-1), पृष्ठ 27
  62. Tomson, Peter J. (2001). "Jesus and His Judaism". In Markus Bockmuehl. The Cambridge Companion to Jesus. Cambridge: Cambridge University Press. प॰ 27. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-521-79678-4. http://books.google.com/books?id=vSehrtQpcYcC&pg=PA25. 
  63. कैम्ब्रिज कम्पेनियन, पृष्ठ 40
  64. कैम्ब्रिज कम्पेनियन, पृष्ठ 30
  65. Chilton, Bruce (2001). "Friends and enemies". In Markus Bockmuehl. The Cambridge Companion to Jesus. Cambridge: Cambridge University Press. प॰ 75. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-521-79678-4. http://books.google.com/books?id=vSehrtQpcYcC&pg=PA25. 
  66. रेमंड एडवर्ड ब्राउन, जॉन के उपदेश एवं धर्म्पत्र: एक संक्षिप्त टीका, पृष्ठ 3,
  67. जोएल बी. ग्रीन, स्कॉट मैकनाईट, आई. हावर्ड मार्शल, डिक्शनरी ऑफ़ जीसस एण्ड द गोस्पल्स: ए कॉम्पेंडियम ऑफ़ कॉन्टेम्पोररी बाइबिलिकल स्कोलरशिप . इंटरवर्सिटी प्रेस (InterVarsity Press), 1992, पृष्ठ 375: "केवल जॉन में ही सूचना पाए जाने की वजह से ही ऐतिहासिक मूल्य न होने के रूप में इसे त्यागने की कोई वजह नहीं है।.. विद्वान इसे संभव मानते हैं, उदाहरण के लिए, कि ईसा का प्रभुत्व दो या तीन वर्षों (जैसा कि जॉन का तात्पर्य है) तक ही कायम रहा, कि वह जेरुसलम में और उसके बाहर थे (जैसे कि अन्य उपदेशों का संकेत है, उदाहरणार्थ, Luke 13:34), कि उनके शिष्यों में से कुछ जॉन द बैप्टिस्ट के प्रथम शिष्य थे, [Lk 1:35-37] और यह भी कि ईसा और उनके शिष्यों ने बपतिस्मा के प्रबंध का आयोजन किया था।"
  68. ड्वाइट मूडी स्मिथ|स्मिथ, डी. मूडी, आर. एलन कुल्पेपर, सी. क्लिफटन ब्लैक. एक्सप्लोरिंग द गोस्पल ऑफ़ जॉन: इन ऑनर ऑफ़ डी. मूडी स्मिथ. वेस्टमिंस्टर जॉन नॉक्स प्रेस, 1996, पृष्ठ 28: "केवल जॉन की सामग्रियां ही ऐतिहासिक हो सकती हैं और केवल इन सामग्रियों को ही महत्व दिया जाना चाहिए. ईसा के पहले शिष्य कभी बपतिस्मादाता के अनुयायी हो सकते हैं (लगभग John 1:35-42)"
  69. डैनियल एस. डापाह, जॉन द बैप्टिस्ट और नाज़ारेथ के ईसा के बीच संबध: एक गंभीर अध्ययन (यूनिवर्सिटी प्रेस ऑफ़ अमेरिका, 2005): "हमलोग जोहानीन सामग्रियों के इस टुकड़े की ऐतिहासिकता की रक्षा करते हैं। हमलोग तर्क करेंगे कि ईसा की बपतिस्माई गतिविधि का जोहानीन साक्ष्य ऐतिहासिक परंपरा का एक टुकड़ा हो सकता है, क्योंकि जानकारी के उस टुकड़े के पीछे कोई प्रत्यक्ष धार्मिक एजेंडा नहीं है। इसके अलावा, अन्य सामग्रियों के दरम्यान अनुमान से सिनोप्टिस्ट की चुप्पी की व्याख्या की जा सकती है कि ईसाई मत के प्रचारक इस घटना से शर्मिंदा थे और यह भी कि इस रस्म का सन्दर्भ एक बपतिस्मा प्रदान करने वाले चर्च में अनावश्यक था" (पृष्ठ 7). "संक्षिप उपदेशों में ईसा के बपतिस्माई प्रबंध की अनुपस्थिति का मतलब यह नहीं है कि जोहानीन विवरण प्रामाणिक नहीं है और न ही इसका यह सुझाव है कि सिनोप्टिस्ट ने यह कहानी रची कि जॉन उस समय सक्रिय नहीं थे जब ईसा इस रंगमंच पर दिखाई दिए थे। (Mark 1:14 और बराबर) मार्कन परंपरा, उदाहरण के तौर पर, जो काल क्रम के अनुसार फोर्थ गोस्पल की तुलना में थोड़ा पहले की परंपरा है, बतलाता है कि ईसा, जॉन के इतने करीब थे कि जिस समय जॉन कैद थे, ईसा ने एक स्वतंत्र प्रबंध की शुरुआत करने के लिए गलीली की तरफ रूख किया था। ऐसा लगता है कि जॉन और ईसा शुरू में एकसाथ काम करते थे, यह एक ऐसी घटना है जिसे फोर्थ इन्वेंजलिस्ट स्पष्ट करते हैं" (पृष्ठ 98).
  70. चर्चा का आरम्भ (पॉलिस्ट प्रेस 1988), पीपी. 55: "चतुर्थ उपदेश से उद्धृत यह पाठ यह विचार प्रस्तुत करता है कि जिस समय जॉन बेथनी में नहीं थे (Jn 3:23; cf. 01:28) ईसा—जॉन के पूर्व शिष्यों के साथ—बपतिस्मा के प्रबंध का आयोजन करने के लिए जोर्डन क्षेत्र में खुद मौजूद थे। जब ईसा जुडिया के क्षेत्र को छोड़कर चले गए और गलीली में अपना मंत्रालय शुरू किया, तब उन्होंने उनके बपतिस्माई मंत्रालय को स्पष्ट रूप से त्याग दिया था और उपदेश एवं शिक्षण पर अपना ध्यान केन्द्रित किया था।"
  71. जोसेफ स्मिथ ट्रांसलेशन ऑफ़ द बाइबिल, सेंट जॉन चैप्टर 4
  72. डैनियल एस. डपाह, द रिलेशनशिप बिटवीन जॉन द बैप्टिस्ट एण्ड जीज़ज़ ऑफ़ नाज़रेथ: अ क्रिटिकल स्टडी . यूनिवर्सिटी प्रेस ऑफ़ अमेरिका, 2005, पृष्ठ 97
  73. बपतिस्मा. (2009). इनसाइक्लोपीडिया ब्रिटानिका में. 21 मई 2009 को पुनःप्राप्त, इनसाइक्लोपीडिया ब्रिटानिका ऑनलाइन से: http://www.britannica.com/EBchecked/topic/52311/Baptism
  74. धर्मविधि. (2009). इनसाइक्लोपीडिया ब्रिटानिका में. 21 मई 2009 को पुनःप्राप्त, इनसाइक्लोपीडिया ब्रिटानिका ऑनलाइन से: http://www.britannica.com/EBchecked/topic/515366/sacrament
  75. स्टीफन एल. हैरिस, अंडरस्टैंडिंग द बाइबिल. पालो अल्टो: मेफ़ील्ड. 1985. "जॉन" पीपी 302-310.
  76. May, Herbert Gordon; Bruce Metzger (1977). The New Oxford Annotated Bible with the Apocrypha. Oxford: Oxford University Press. pp. 1213–1239. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-19-528348-1. OCLC 3145429. 
  77. Funk, Robert W. (1998). "Matthew". The Acts of Jesus: The Search for the Authentic Deeds of Jesus. San Francisco: HarperSanFrancisco. pp. 129–270. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-06-062978-9. OCLC 37854370. 
  78. Harris, Stephen L. (1985). Understanding the Bible: A Reader's Introduction. पालो आल्टो, कैलिफ़ोर्निया: Mayfield Publishing Company. pp. 266–268. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-87484-696-X. OCLC 12042593. 
  79. Funk, Robert Walter; Roy W. Hoover (1993). "Stages in the Development of Early Christian Tradition". The Five Gospels: The Search for the Authentic Words of Jesus : New Translation and Commentary. New York City: Macmillan Publishers. प॰ 128. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-02-541949-8. OCLC 28421734. 
  80. Strang, Veronica (1997). "Water in the Church". The Meaning of Water. Berg Publishers. प॰ 91. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 1-85973-753-6. http://books.google.com/books?id=A2KNb4x8O6UC&pg=PA90. "Fonts and baptisteries were constructed with taps and channels to ensure that they were supplied with moving water,which, as Schmemann points out, is symbolically crucial: 'The early Christian prescription is to baptize in living water. This is not merely a technical term denoting running water as distinct from standing water… it is this understanding that determined the form and theology of the baptismal font… The characteristic feature of the "baptistery" was that water was carried into it by a conduit, thus remaining "living water".'" 
  81. "(7:01) बपतिस्मा के विषय में, इस तरह से बपतिस्मा प्रदान करना: सबसे पहले इन सभी बातों को कहने के बाद, जीवित जल में, परमपिता और पुत्र और पवित्र आत्मा के नाम पर बपतिस्मा प्रदान करें. (7:2) लेकिन यदि आपके पास कोई जीवित जल न हो, अन्य जल में बपतिस्मा प्रदान करें; और यदि आप ऐसा ठन्डे जल में नहीं कर सकते हैं, तो गर्म जल में करें. (7:3) लेकिन यदि आपके पास इनमें से कुछ न हो, तो परमपिता और पुत्र और पवित्र आत्मा के नाम पर सिर पर तीन बार जल डालें." दिदाचे, अध्याय 7.
  82. Metzger, Marcel (1997). "The Order of Baptism in the Didache". History of the Liturgy: The Major Stages. Collegeville Township, Minnesota: Liturgical Press. pp. 25–26. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-8146-2433-2. http://books.google.com/books?id=z6V2wb2ckPcC&pg=PA25. "The Didache recognizes the superior value of running water for the baptismal immersion but does not impose it as a necessary condition… The regulations of the Didache also forsee the case in which immersion is impossible for lack of water and prescribe baptism by pouring water three times on the candidate's head." 
  83. Lacoste, Jean-Yves (2005). Encyclopedia of Christian Theology: G – O. Milton Park: Routledge. प॰ 1607. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-5795-8250-8. "According to the Didache (1st century), baptism should be done by a triple immersion in running water." 
  84. Meeks, Wayne A. (2006). "Baptism: ritual of initiation". In Margaret Mary Mitchell and Frances Margaret Young. The Cambridge History of Christianity. Cambridge: Cambridge University Press. pp. 160–161. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-521-81239-9. http://books.google.com/books?id=6UTfmw_zStsC&pg=PA160. "The Didache, representing practice perhaps as early as the beginning of the second century, probably in Syria, also assumes immersion to be normal, but it allows that if sufficient water for immersion is not at hand, water may be poured three times over the head (7:3)." 
  85. Dau, W. H. T.। (1995)। "Baptism". The International Standard Bible Encyclopedia: A – D। संपादक: Geoffrey W. Bromiley। Michigan: William B. Eerdmans Publishing Company। “This seems to say that to baptize by immersion was the practice recommended for general use, but that the mode of affusion was also valid and enjoined on occasions”
  86. Dau, W. H. T.। (1995)। "Baptism". The International Standard Bible Encyclopedia: A – D। संपादक: Geoffrey W. Bromiley। Michigan: William B. Eerdmans Publishing Company। “It is frankly admitted by paedo-baptist scholars that the NT gives no warrant for infant baptism”
  87. Bromiley, Geoffrey William (1985). "baptizo". In Gerhard Kittel and Gerhard Friedrich. Theological dictionary of the New Testament. Grand Rapids, Michigan: William B. Eerdmans Publishing Company. प॰ 94. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-8028-2404-8. OCLC 11840605. http://books.google.com/books?id=ltZBUW_F9ogC&pg=PA92. "Infant baptism, which cannot be supported from NT examples…" 
  88. Miller, Randolph A. (2002). A Historical and Theological Look at the Doctrine of Christian Baptism. iUniverse. प॰ 140. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9780595215317. "It is often maintained that the Didache, a very early second-century document describing the practices of the first-century church, including baptism, knows nothing of infant baptism and excludes the possibility of it in the early church because of the fasting and confession of the candidate mentioned in the text." 
  89. Williams, J. Rodman (1996). Renewal Theology: Systematic Theology from a Charismatic Perspective. Grand Rapids, Michigan: Zondervan. प॰ 236. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9780310209140. OCLC 36621651. "For example, the Didache has a section on baptism (as we have seen) that concludes with this statement: 'And before the baptism, let the one baptizing and the one who is to be baptized fast. …Also, you must instruct the one who is to be baptized to fast for one or two days beforehand' (The Apostolic Fathers 7:4). Obviously none of this is applicable to infants" 
  90. Wiley, Tatha (2002). Original sin: origins, developments, contemporary meanings. New York City: Paulist Press. प॰ 38. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-8091-4128-0. OCLC 50404061. "The Didache’s assumption of adult baptism offers evidence that its author did not suppose human beings were in need of divine forgiveness from birth" 
  91. Fanning, William। (1907)। "Baptism". Catholic Encyclopedia। New York City: Robert Appleton Company। अभिगमन तिथि: February 24, 2009
  92. नवछात्र. (2009). इनसाइक्लोपीडिया ब्रिटानिका. 20 मई 2009 को पुनःप्राप्त, इनसाइक्लोपीडिया ब्रिटानिका ऑनलाइन से: http://www.britannica.com/EBchecked/topic/99350/catechumen
  93. Cross, Frank Leslie; Elizabeth A. Livingstone (2005). "Nicene Creed". The Oxford dictionary of the Christian Church. Oxford: Oxford University Press. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-19-280290-9. OCLC 58998735. [page needed]
  94. Cross, Frank Leslie; Elizabeth A. Livingstone (2005). "Sacrament". The Oxford dictionary of the Christian Church. Oxford: Oxford University Press. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-19-280290-9. OCLC 58998735. [page needed]
  95. Ristow, Sebastian (2005). "Baptismal Font from the Cologne Baptistery". Cologne Cathedral. http://www.koelner-dom.de/17216.html?&L=1. अभिगमन तिथि: February 24, 2009. 
  96. "matter" (बात) और "form" (फ़ार्म या प्रपत्र) शब्द सूचकांक में नहीं मिलते हैं और न ही ये अनुभाग 1131 में दिए गए धर्मविधियों की परिभाषा में दिखाई देते हैं। किताब के इलेक्ट्रॉनिक प्रपत्र की एक खोज से "matter" (बात) शब्द का कोई उदाहरण नहीं मिलता है और "form" (प्रपत्र) केवल अनुभाग 1434 में ही मिलता है, जिसका शीर्षक "द मेनी फार्म्स ऑफ़ पेनंस इन क्रिश्चियन लाइफ" है, जो धर्मविधियों के बारे में नहीं है।
  97. "Baptism and Its Purpose". Lutheran Church – Missouri Synod. http://www.lcms.org/pages/internal.asp?NavID=2607. अभिगमन तिथि: February 24, 2009. 
  98. Luther, Martin (2009) [1529]. "The Sacrament of Holy Baptism". Luther's Small Catechism. http://www.bookofconcord.org/smallcatechism.html#baptism. अभिगमन तिथि: February 24, 2009. 
  99. Luther, Martin (2009) [1529]. "Of Infant Baptism". Luther's Large Catechism. http://www.bookofconcord.org/largecatechism/6_baptism.html. अभिगमन तिथि: February 24, 2009. 
  100. विलियम एच. ब्रैक्नी. "डूइंग बैपटिज्म बैप्टिस्ट स्टाइल: बिलीवर्स बैपटिज्म." बैपटिस्ट हिस्ट्री एण्ड हेरिटेज सोसायटी. 16 जुलाई 2008. ऑनलाइन: http://www.baptisthistory.org/pamphlets/baptism.htm
  101. इरविन फाल्बश, ज्योफ्री विलियम ब्रोमिले, डेविड बी. बैरेट, द इनसाइक्लोपीडिया ऑफ़ क्रिश्चियनिटी (विलियम बी. एर्डमैन्स पब्लिशिंग, 1999 ISBN 0-8028-2413-7), पृष्ठ 562
  102. दिदाचे, अध्याय 7: "सिर पर तीन बार पानी डालो"
  103. http://www.etymonline.com/index.php?term=immersion
  104. John Piper, सं. "1689 Baptist Catechism". http://www.desiringgod.org/AboutUs/OurDistinctives/ABaptistCatechism/. अभिगमन तिथि: 3 फ़रवरी 2010. 
  105. Cross, Frank Leslie; Elizabeth A. Livingstone (2005). "Immersion". The Oxford Dictionary of the Christian Church. Oxford and New York: Oxford University Press. प॰ 827. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-19-280290-9. OCLC 58998735. 
  106. पाइनहर्स्ट यूनाइटेड मेथोडिस्ट चर्च की वेबसाइट पर प्रकाशित अध्ययन
  107. वैज्ञानिक संदर्भों में दो शब्दों को अक्सर परस्पर विशेष समझा जाता है। इसके उदाहरण गणित में मिलते हैं (देखें - राल्फ अब्राहम, जेरोल्ड ई. मार्स्डेन, ट्यूडर एस. रा इयु, मेनिफोल्ड्स, टेंसर एनालिसिस, एण्ड एप्लीकेशंस, पृष्ठ 196 और क्लॉस फ्रित्ज्श, हैंस ग्रौएर्ट, फ्रॉम होलोमोर्फिक फंक्शन्स टु कॉम्प्लेक्स मेनिफोल्ड्स, पृष्ठ 168), चिकित्सा में (इफेक्ट ऑफ़ इमर्शन, सब्मर्शन, एण्ड स्क्यूबा डाइविंग ऑन हार्ट रेट वैरिएबिलिटी) और भाषा शिक्षण (इमर्शन इन ए सेकेंड लैंग्वेज इन स्कूल).
  108. कैथोलिक इनसाइक्लोपीडिया, लेख बैप्टिस्मल पात्र
  109. http://www.merriam-webster.com/dictionary/submerge
  110. Cross, Frank Leslie; Elizabeth A. Livingstone (2005). "Submersion". The Oxford dictionary of the Christian Church. Oxford: Oxford University Press. प॰ 1563. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-19-280290-9. OCLC 58998735. पृष्ठ 1563; सीएफ. Wilson, Louis Charles (1895). The History of Sprinkling. Cincinnati: Standard Publishing. OCLC 4759559. [page needed]
  111. साउदर्न बैप्टिस्ट कन्वेंशन का आधिकारिक वेबसाइट आधारभूत विश्वास, उपशीर्षक "बैपटिज्म एण्ड द लॉर्ड्स सपर". 04-08-2009 को पुनःप्राप्त.
  112. जैसे Colossians 2:12–13 और Romans 6:2–13
  113. विलियम एच. ब्रैक्नी. "बपतिस्मा आस्तिक." बैपटिस्ट हिस्ट्री एण्ड हेरिटेज सोसायटी.18 जून 2009. http://www.baptisthistory.org/pamphlets/baptism.htm
  114. Disciples.org, कॉपीराइटयुक्त क्रिश्चियन चर्च (डिसिपल्स ऑफ़ क्राइस्ट) बपतिस्मा, 08-04-2009 को उद्धृत, "ठीक जिस तरह बपतिस्मा ईसा मसीह की मौत, दफ़न और मृतोत्थान का प्रतिनिधित्व करता है, ठीक उसी तरह यह पश्चातापी आस्तिक की पुरानी आत्मा की मौत और दफ़न और ईसा की शरण में एक नए मानव के पावन जन्म का प्रतीक है।
  115. Disciples.org क्रिश्चियन चर्च (डिसिपल्स ऑफ़ क्राइस्ट): एक संशोधित उत्तर अमेरिकी मुख्यधारा मध्यम संप्रदाय, 08-04-2009 को उद्धृत, "हमारे बपतिस्मा की परम्पराएं और लॉर्ड्स सपर सांसारिक हैं। आस्तिक के विसर्जन का काम करते समय अधिकांश भक्तगण अन्य चर्चों के बपतिस्मा की पुष्टि करते हैं।"
  116. स्टुअर्ट एम. मैटलिन्स, आर्थर जे. मैगिडा, जे. मैगिडा, हाउ टु बी ए परफेक्ट स्ट्रेंजर: ए गाइड टु एटिक्वेट इन ऑदर पीपल्स रिलीजियस सेरिमोनियल्स, वूड लेक पब्लिशिंग इंक., 1999, ISBN 1-896836-28-3, 9781896836287, 426 पृष्ट, अध्याय 6— चर्च्स ऑफ़ क्राइस्ट
  117. रॉन रोड्स, द कम्प्लीट गाइड टु क्रिश्चियन डिनोमिनेशंस, हार्वेस्ट हाउस पब्लिशर्स, 2005, ISBN 0-7369-1289-4
  118. बैट्सेल बैरेट बैक्सटर, हू आर द चर्च्स ऑफ़ क्राइस्ट एण्ड व्हाट डू दे बिलीव इन? वेबैक मशीन पर Archived जनवरी 31, 2008 at the Wayback Machine. में और यहां, यहां और यहां ऑनलाइन उपलब्ध
  119. टॉम जे. नेटल्स, रिचर्ड एल. प्रैट जूनियर, जॉन एच. आर्मस्ट्रोंग, रॉबर्ट कोल्ब, अंडरस्टैंडिंग फोर व्यूज़ ऑन बैपटिज्म, जोंडरवैन, 2007, ISBN 0-310-26267-4, 9780310262671, 222 पृष्ठ
  120. "एड्वेंटिस्ट के बारे में." सेंट लुइस यूनिफाइड स्कूल. 18 जून 2009. http://slus.org/index.php?option=com_content&view=article&id=66&Itemid=82
  121. द चर्च ऑफ़ जीसस क्राइस्ट ऑफ़ लैटर-डे सेंट्स का आधिकारिक वेबसाइट आधारभूत विश्वास, उपशीर्षक "बपतिस्मा एवं पुष्टिकरण". 08-04-2009 को पुनःप्राप्त.
  122. ब्रोशर: "जेनोवा के गवाह-वे कौन हैं? वे क्या विश्वास करते हैं?", पृष्ठ 13 [1]
  123. Cyril of Jerusalem, Catechetical Lecture 20 (On the Mysteries. II. of Baptism) Romans 6:3-14 http://www.newadvent.org/fathers/310120.htm
  124. डगलस एलन फोस्टर और एंथोनी एल. डनावंट, द इनसाइक्लोपीडिया ऑफ़ द स्टोन-कैम्पबेल मूवमेंट: क्रिश्चियन चर्च (डिसिपल्स ऑफ़ क्राइस्ट), क्रिश्चियन चर्च्स/चर्च्स ऑफ़ क्राइस्ट, चर्च्स ऑफ़ क्राइस्ट, विलियम बी एर्डमैन्स पब्लिशिंग, 2004, ISBN 0-8028-3898-7, 9780802838988, 854 पृष्ठ, बैपटिज्म पर प्रविष्टि
  125. हेरोल्ड हज़ेलिप, गैरी होलोवे, रान्डेल जे. हैरिस, मार्क सी. ब्लैक, थेयोलॉजी मैटर्स: इन ऑनर ऑफ़ हारोल्ड हज़ेलिप: आंसर्स फॉर द चर्च टुडे, कॉलेज प्रेस, 1998, ISBN 0-89900-813-5, 9780899008134, 368 पृष्ठ.
  126. Nicodemos the Hagiorite. "Concerning Thoughts". Exomologetarion. http://www.orthodoxinfo.com/praxis/exo_thoughts.aspx. 
  127. Tertullian. "Of the Persons to Whom, and the Time When, Baptism is to Be Administered". In Philip Schaff. Ante-Nicene Fathers. http://www.ccel.org/ccel/schaff/anf03.vi.iii.xviii.html. 
  128. "Baptism in Jesus' Name". Apostolic Network. http://www.apostolic.net/biblicalstudies/name.htm. अभिगमन तिथि: February 25, 2009. [अविश्वनीय स्रोत?]
  129. "Water Baptism in Jesus' Name is Essential unto Salvation". http://www.apostolic-voice.org/tracts/water_baptism.htm. अभिगमन तिथि: February 26, 2009. [अविश्वनीय स्रोत?]
  130. "Baptism, Eucharist and Ministry—Faith and Order Paper No. 111". World Council of Churches. 1982. http://www.oikoumene.org/en/resources/documents/wcc-commissions/faith-and-order-commission/i-unity-the-church-and-its-mission/baptism-eucharist-and-ministry-faith-and-order-paper-no-111-the-lima-text/baptism-eucharist-and-ministry.html#c10471. अभिगमन तिथि: March 1, 2009. 
  131. "Becoming a Christian: The Ecumenical Implications of Our Common Baptism". World Council of Churches. 1997. http://www.oikoumene.org/index.php?id=2672. अभिगमन तिथि: May 13, 2007. 
  132. कैनन क़ानून की संहिता, कैनन 869; cf. जॉन पी. बील, जेम्स ए. कोरिडेन, थॉमस जे. द्वारा कैनन क़ानून की संहिता पर नई टीका, पीपी. 1057-1059.
  133. "Response of the Congregation for the Doctrine of the Faith". Vatican.va. June 5, 2001. http://www.vatican.va/roman_curia/congregations/cfaith/documents/rc_con_cfaith_doc_20010605_battesimo_mormoni_en.html. अभिगमन तिथि: February 25, 2009. 
  134. कॉन्ग्रिगेशन फॉर द डॉक्ट्रिन ऑफ़ द फेथ द्वारा 5 जून 2001 की घोषणा.
  135. "The Question Of The Validity Of Baptism Conferred In The Church Of Jesus Christ Of Latter". Ewtn.com. August 1, 2001. http://www.ewtn.com/library/Theology/MORMBAP1.HTM. अभिगमन तिथि: February 25, 2009. 
  136. "Topic Definition: Baptism". Lds.org. http://www.lds.org/ldsorg/v/index.jsp?vgnextoid=bbd508f54922d010VgnVCM1000004d82620aRCRD&locale=0&index=2&sourceId=1af539b439c98010VgnVCM1000004d82620a____. अभिगमन तिथि: February 25, 2009. 
  137. "पाठकों के सवाल", द वॉचटॉवर, 1 मई 959, पृष्ठ 288, "इस प्रकार, जब ईसा को 1914 ईस्वी में राजा के रूप में विराजित किया गया था तब उस समय उनके सत्तारूढ़ स्थिति की मान्यता में सभी सच्चे ईसाइयों को फिर से बपतिस्मा प्रदान करने की जरूरत नहीं थी।"
  138. "जेनोवा'स विटनेसेस एन्ड्युर फॉर हिज़ सॉवरेन गॉडशिप", द वॉचटॉवर, 15 सितम्बर 1966, पृष्ठ 560, "1919 के बाद से पुनर्जन्म के दशकों में, पृथ्वी के विभिन्न हिस्सों के विभिन्न धार्मिक सम्प्रदायों के सच्चे दिल वाले पादरियों ने पश्चाताप करते हुए जेनोवा के सच्चे मंत्रियों के रूप में फिर से बपतिस्मा लेकर और विधिवत पादरी बनकर नौकरी की तरह के लोगों के आसार अभिषेक के पादरीपद की सेवाओं को स्वीकार किया है।"
  139. "सच्ची ईसाइयत फल-फूल रही है", द वॉचटॉवर, 1 मार्च 2004, पृष्ठ 7, 9 अप्रैल 2009 को उद्धृत, "जिस समय ईसाई जगत के धर्मज्ञानी, मिशनरी और चर्च जाने वाले लोग अपने-अपने चर्चों में विवाद के सभा की आंधी में हाथापाई पर उतारू होते जा रहे हैं, उसी समय दुनिया भर में सच्ची ईसाइयत फल-फूल रही है। दरअसल, सच्चे ईसाई... एकमात्र सच्चे ईश्वर, जेनोवा के एकीकृत ईसाई पूजा में जेनोवा'स विटनेसेस से जुड़ने के लिए आपको आमंत्रित करते हैं।"
  140. जेनोवा'स विटनेसेस— प्रोक्लेमर्स ऑफ़ गॉड्स किंगडम, जेनोवा'स विटनेसेस, "चैप्टर 31: हाउ चोज़न एण्ड लेड बाई गॉड", पृष्ठ 706, "जाहिर है, जब 1914 में अंत के समय की शुरुआत हुई, तब ईसाइयत के इन चर्चों में से एक भी चर्च, एक सच्ची ईसाई मंडली के लिए बाइबिल के इन मानकों के बराबर नहीं था। क्या, हालांकि, बाइबिल छात्रों के बारे में, जेनोवा'स विटनेसेस के रूप में उस समय जाने जाते थे?"
  141. "The Minister of Baptism". Code of Canon Law. Vatican Publishing House. 1983. http://www.vatican.va/archive/ENG1104/_P2W.HTM. अभिगमन तिथि: February 25, 2009. 
  142. "Parishes, Pastors, and Parochial Vicars". Code of Canon Law. Vatican Publishing House. 1983. http://www.vatican.va/archive/ENG1104/__P1U.HTM. अभिगमन तिथि: February 25, 2009. 
  143. "Canon 677". Code of Canons of the Eastern Churches. 1990. http://www.intratext.com/IXT/ENG1199/__PIT.HTM. अभिगमन तिथि: February 26, 2009. 
  144. Ware, Kallistos (1964). The Orthodox Church. New York City: Penguin Books. प॰ 285. 
  145. "आरोनिक प्रीस्टहुड", प्रीस्टहुड एण्ड ऑग्ज़िल्यरी लीडर्स गाइडबुक, © 1992, 2001 इंटलेक्चुअल रिज़र्व, इंक. द्वारा, 16 सितम्बर 2009 को उद्धृत, "जिन भाइयों के पास आरोनिक प्रीस्टहुड है, उन्हीं भाइयों को कुछ ख़ास पादरीपन अध्यादेशों का पालन करने का अधिकार है। पादर बपतिस्मा प्रदान करने का काम सकते हैं"
  146. "पाठकों के सवाल", द वॉचटॉवर, 1 अगस्त 1973, पृष्ठ 480, "बपतिस्मा के संबंध में, इस बात पर भी ध्यान दिया जा सकता है कि यदि कोई अन्य मानव गवाह उपस्थित न भी हो, तो बपतिस्मा प्रदान करने का काम कोई समर्पित पुरुष भी कर सकता है।"
  147. "द जनरल प्रीस्टहुड टुडे", द वॉचटॉवर, 1 मार्च 1963, पृष्ठ 147, "चूंकि वह एक मंत्री है, इसलिए किसी भी सक्षम पुरुष सदस्य को अंत्येष्टि, बपतिस्मा और विवाह का काम करने के लिए और परमेश्वर की मृत्यु के वार्षिक स्मरणोत्सव में इस सेवा का आयोजन करने के लिए कहा जाता है।"
  148. लन्दन बैप्टिस्ट कॉन्फेशन ऑफ़ 1644. वेब: लन्दन बैप्टिस्ट कॉन्फेशन ऑफ़ 1644.29 दिसम्बर 2009
  149. Jeremiah 31:31-34, Hebrews 8:8-12, Romans 6
  150. "द बैप्टिस्ट फेथ एण्ड मेसेज," साउदर्न बैप्टिस्ट कन्वेंशन. अपनाया, 14 जून 2000. 29 जुलाई 2009 को एक्सेस किया गया: http://www.sbc.net/bfm/bfm2000.asp#vii
  151. वी. ई. हावर्ड, व्हाट इज द चर्च ऑफ़ क्राइस्ट? चौथा संस्करण (संशोधित) सेन्ट्रल प्रिंटर्स एण्ड पब्लिशर्स, पश्चिम मोनरो, लुइसियाना, 1971
  152. रीस ब्रायंट, बैपटिज्म, व्हाई वेट?: फेथ्स रेस्पोंस इन कन्वर्ज़न, कॉलेज प्रेस, 1999, ISBN 0-89900-858-5, 9780899008585, 224 पृष्ठ
  153. एडवर्ड सी. व्हार्टन, द चर्च ऑफ़ क्राइस्ट: द डिस्टिंक्टिव नेचर ऑफ़ द न्यू टेस्टामेंट चर्च, गोस्पल एडवोकेट को., 1997, ISBN 0-89225-464-5
  154. एवरेट फर्ग्यूसन, द चर्च ऑफ़ क्राइस्ट: ए बाइबिलिकल एक्लेसियोलॉजी फॉर टुडे, विलियम बी एर्डमैन्स पब्लिशिंग, 1996, ISBN 0-8028-4189-9, 9780802841896, 443 पृष्ठ
  155. डगलस ए. फोस्टर, "चर्च्स ऑफ़ क्राइस्ट एण्ड बैपटिज्म: ऐन हिस्टोरिकल एण्ड थ्योलोजिकल ओवरव्यू," रेस्टोरेशन क्वार्टरली, खंड 43/अंक 2 (2001)
  156. डगलस एलन फोस्टर और एंथोनी एल. डनावंट, द इनसाइक्लोपीडिया ऑफ़ द स्टोन-कैम्पबेल मूवमेंट: क्रिश्चियन चर्च (डिसिपल्स ऑफ़ क्राइस्ट), क्रिश्चियन चर्च्स/चर्च्स ऑफ़ क्राइस्ट, चर्च्स ऑफ़ क्राइस्ट, विलियम बी एर्डमैन्स पब्लिशिंग, 2004, ISBN 0-8028-3898-7, 9780802838988, 854 पृष्ठ, पुनर्जनन पर प्रविष्टि
  157. केजेवी, इटालिक्स प्रविष्ट.
  158. "Code of Canon Law, canon 849". Intratext.com. May 4, 2007. http://www.intratext.com/IXT/ENG0017/_P2T.HTM. अभिगमन तिथि: February 25, 2009. 
  159. ओर्डो इनिशिएशन्स क्रिस्टने एडल्टोरम, एडिटियो टाइपिका, वेटिकन सिटी, टाइपिस पोलिग्लोटिस वेटिकनिस, 1972, पृष्ठ 92, सीएफ लैटरन चतुर्थ डे फिडे कैथोलिक, डीएस 802, सीएफ फ्लोरेंस, डेक्रेटम प्रो आर्मेनीस, डीएस, 1317.
  160. सीएफ. जिरह, 1260
  161. जेट मैगज़ीन, 4 अगस्त 1955, पृष्ठ 26 ऑनलाइन.
  162. ऑर्गनाइज़्ड टु डू जेनोवा'स विल, जेनोवा'स विटनेसेस द्वारा प्रकाशित, पृष्ठ 182.
  163. ऑर्गनाइज़्ड टु डू जेनोवा'स विल, जेनोवा'स विटनेसेस द्वारा प्रकाशित, पृष्ठ 217-218.
  164. वॉचटॉवर, 1 जून 1985
  165. वॉचटॉवर, 15 मई 1970, पृष्ठ 309.
  166. "द जनरल प्रीस्टहुड टुडे", द वॉचटॉवर, 1 मार्च 1963, पृष्ठ 147
  167. "पाठकों के सवाल", द वॉचटॉवर, 15 नवम्बर 1986, पृष्ठ 31
  168. ऑर्गनाइज़्ड टु डू जेनोवा'स विल, जेनोवा'स विटनेसेस द्वारा प्रकाशित, पृष्ठ 215, "बपतिस्मा प्रदान करने का काम आमतौर पर जेनोवा'स विटनेसेस के सम्मेलनों और सभाओं में किया जाता है।"
  169. "पाठकों के सवाल", द वॉचटॉवर, 1 अगस्त 1973, पृष्ठ 479-480
  170. "पुएर्टो रिको और वर्जिन द्वीप समूह", 1987 यरबुक ऑफ़ जेनोवा'स विटनेसेस, पृष्ठ 71
  171. पादरीपद के कर्तव्य और आशीर्वाद: पादरीपद पाने वालों के लिए बुनियादी मैनुअल, भाग बी: पादरीपद के अध्यादेशों का पालन, §बपतिस्मा.
  172. देखें, उदाहरणार्थ, ग्रंथों की मार्गदर्शिका: बपतिस्मा, बपतिस्मा प्रदान करना, §प्रोपर ऑथोरिटी .
  173. देखें, उदाहरणार्थ, बाबिल शब्दकोष: बपतिस्मा, ¶2.
  174. सिद्धांत और प्रसंविदा देखें 68:25, 27.
  175. बुक ऑफ़ मोर्मोन देखें, मोरोनी 8:4-23.
  176. http://www.lds.org/ldsorg/v/index.jsp?vgnextoid=bbd508f54922d010VgnVCM1000004d82620aRCRD&locale=0&sourceId=1ec52f2324d98010VgnVCM1000004d82620a____ मृतक के लिए बपतिस्मा
  177. "Apology, Proposition 12". Qhpress.org. http://www.qhpress.org/texts/barclay/apology/prop12.html. अभिगमन तिथि: July 28, 2009. 
  178. "Why does The Salvation Army not baptise or hold communion?". The Salvation Army. फ़रवरी 28, 1987. http://www1.salvationarmy.org.uk/uki/www_uki.nsf/vw-print/C28E39B2CA06E8F98025708A003D9FAC?openDocument. अभिगमन तिथि: July 28, 2009. 
  179. Havard, David M.. "Are We Hyper-Dispensationalists?". Berean Bible Society. http://www.bereanbiblesociety.org/articles/1011392439.html. अभिगमन तिथि: January 19, 2009. 
  180. Luke 3:16, John 1:33, Matt 3:11 Acts 1:5
  181. Ephesians 5:26, Acts 19:1-5
  182. Matthew 3:12, Luke 3:17, [2]
  183. Apuleius (1998). "11.23.1". The golden ass, or, Metamorphoses. trans. E. J. Kenney. New York City: Penguin Books. pp. 208–209. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-14-043590-5. OCLC 41174027. http://books.google.com/books?id=EF44Zv5yFUcC&pg=PA208. 
  184. Hartman, Lars (1997). Into the Name of the Lord Jesus: Baptism in the Early Church. Edinburgh: T&T Clark. प॰ 4. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-567-08589-9. OCLC 38189287. 
  185. Siddique Katiya. "Cleanliness in Islam, abulation wadu Seven pre-requisites of Prayer". As-sidq.org. http://www.as-sidq.org/ghusul.htm. अभिगमन तिथि: February 25, 2009. 
  186. सुरा 2:138
  187. "US Grand Lodge, OTO: Ecclesia Gnostica Catholica". Oto-usa.org. March 19, 1933. http://www.oto-usa.org/egc.html. अभिगमन तिथि: February 25, 2009. 
  188. "Ecclesia Gnostica Catholica: Baptism: Adult". Hermetic.com. http://www.hermetic.com/sabazius/bapadult.htm. अभिगमन तिथि: February 25, 2009. 
  189. गुड न्यूज़ . अंक 3. सेंट लूई, एमओ. 2003. पृष्ठ 18-19[verification needed]
  190. "The Thirty-Nine Articles". Anglicans Online. April 15, 2007. http://anglicansonline.org/basics/thirty-nine_articles.html. अभिगमन तिथि: February 25, 2009. 
  191. "The Baptist Faith & Message". Southern Baptist Convention. June 14, 2000. http://www.sbc.net/bfm/bfm2000.asp. अभिगमन तिथि: February 25, 2009. 
  192. Huston, David A. (2003). "Speaking in Tongues in the Church: A Look at the Purpose of Spiritual Utterances". Rosh Pinnah Publications. http://www.gloriouschurch.com/html/Speaking-In-Tongues-In-The-Church.asp. अभिगमन तिथि: February 25, 2009. [अविश्वनीय स्रोत?]
  193. Huston, David A. (2003). "Questions and Answers about The Doctrine of the Oneness of God". Rosh Pinnah Publications. http://www.gloriouschurch.com/html/Oneness-Questions-And-Answers.asp. अभिगमन तिथि: February 25, 2009. [अविश्वनीय स्रोत?]
  194. "Baptism". http://thechristadelphians.org/htm/pamphletz/p0004m.htm. अभिगमन तिथि: August 22, 2007. [अविश्वनीय स्रोत?]
  195. "Baptism". Bible Q & A. 2001. http://www.christadelphia.org/pamphlet/p_bibleqa.htm#20. अभिगमन तिथि: August 22, 2007. [अविश्वनीय स्रोत?]
  196. Levin, David. "Forgiveness". http://www.god-so-loved-the-world.org/english/levin_forgiveness.htm. अभिगमन तिथि: August 22, 2007. [अविश्वनीय स्रोत?]
  197. Norris, Alfred (November 12, 2006). "His Cross and Yours". http://www.god-so-loved-the-world.org/english/norris_hiscrossandyours.htm. अभिगमन तिथि: August 22, 2007. 
  198. Morgan, Tecwyn (2006). "What Exactly is Christian Baptism?". Understand the Bible for Yourself. Christadelphian Bible Mission. http://www.god-so-loved-the-world.org/english/morgan_utb14_what_exactly_is_christian_baptism.pdf. अभिगमन तिथि: February 26, 2009. [अविश्वनीय स्रोत?]
  199. "चर्च ऑफ़ क्राइस्ट केवल विसर्जन द्वारा ही बपतिस्मा क्यों प्रदान करते हैं?" वेब: चर्च ऑफ़ क्राइस्ट केवल विसर्जन द्वारा ही बपतिस्मा क्यों प्रदान करते हैं?
  200. "Topic Definition— Baptism". The Church of Jesus Christ of Latter-day Saints. 2008. http://lds.org/ldsorg/v/index.jsp?vgnextoid=bbd508f54922d010VgnVCM1000004d82620aRCRD&locale=0&sourceId=1af539b439c98010VgnVCM1000004d82620a____. अभिगमन तिथि: February 25, 2009. 
  201. धर्मग्रन्थ के सन्दर्भों के साथ देवत्व की बाद वाले दिनों में संत की और अधिक सम्पूर्ण व्याख्या के लिए धर्मग्रंथों की मार्गदर्शिका: देव, देवत्व देखें.
  202. वरशिप द ओनली ट्रू गॉड, जेनोवा'स विटनेसेस द्वारा प्रकाशित (2002, 2006), "चैप्टर 12: द मीनिंग ऑफ़ योर बैपटिज्म", पृष्ठ 118, "यह निष्कर्ष निकालना गलत होगा कि बपतिस्मा अपने आप में मुक्ति का एक गारंटी है। इसका केवल तभी महत्व है जब एक व्यक्ति ईसा मसीह के माध्यम से जेनोवा को अपने आपको सच्चे मन से समर्पित है और उसके बाद ईश्वर की इच्छा को पूरा करता है और अंत तक उनका विश्वासपात्र बना रहता है।"
  203. "पाठकों के सवाल", द वॉचटॉवर, 1 मई 1979, पृष्ठ 31, "बाइबिल से पता चलता है कि सम्पूर्ण विसर्जन द्वारा बपतिस्मा बहुत महत्वपूर्ण होता है। इसलिए जब कभी एक व्यक्ति की हालत की वजह से असामान्य कदम उठाना जरूरी हो जाता है, तो उसे बपतिस्मा दिया जाना चाहिए यदि पूरी तरह संभव हो. ...वर्तमान काल में जेनोवा'स विटनेसेस ने सम्मेलनों में बपतिस्मा की व्यवस्था की है। [हालांकि], पूरी तरह से वैध बपतिस्मा स्थानीय स्तर पर बड़े घरेलू स्नान ताबों में भी प्रदान किया जाता है। ...बेशक, हो सकता है कि कुछ गंभीर मामले में बपतिस्मा कुछ समय के लिए बिल्कुल असंभव लगे. तो हम विश्वास है कि हमारे दयालु स्वर्गीय पिता समझ जाएंगे".
  204. एलसीएमएस बपतिस्मा पुनर्जनन, 18 दिसम्बर 2009 को लिया गया
  205. ईएलसीए बपतिस्मा विधियां, 18 दिसम्बर 2009 को लिया गया
  206. एलसीएमएस बपतिस्मा विधियां, 18 दिसम्बर 2009 को लिया गया
  207. ईएलसीए शिशु बपतिस्मा दृष्टिकोण, 18 दिसम्बर 2009 को लिया गया
  208. एलसीएमएस शिशु बपतिस्मा दृष्टिकोण, 18 दिसम्बर 2009 को लिया गया
  209. "By Water and the Spirit: A United Methodist Understanding of Baptism". The United Methodist Church. http://archives.umc.org/interior.asp?ptid=4&mid=992. अभिगमन तिथि: 2007–08–02. "In United Methodist tradition, the water of baptism may be administered by sprinkling, pouring, or immersion." 
  210. "History and Exposition of the Twenty-five Articles of Religion of the Methodist Episcopal Church". Eaton & Mains. p. 295-312. http://books.google.com/books?id=7swrAAAAYAAJ&pg=PA237&lpg=PA237&dq=meaning+of+article+7+articles+of+methodist+religion&source=bl&ots=ufI1EYuaUP&sig=HsggEl5m7kH1G-hRdagnUACfAkA&hl=en&ei=9MXnS4adKIW0lQfOyqiVAw&sa=X&oi=book_result&ct=result&resnum=5&ved=0CC8Q6AEwBA#v=onepage&q=infant&f=false. अभिगमन तिथि: 2007–08–02. 
  211. "By Water and the Spirit: A United Methodist Understanding of Baptism". The United Methodist Church. http://archives.umc.org/interior.asp?ptid=4&mid=992. अभिगमन तिथि: 2007–08–02. "John Wesley retained the sacramental theology which he received from his Anglican heritage. He taught that in baptism a child was cleansed of the guilt of original sin, initiated into the covenant with God, admitted into the church, made an heir of the divine kingdom, and spiritually born anew. He said that while baptism was neither essential to nor sufficient for salvation, it was the "ordinary means" that God designated for applying the benefits of the work of Christ in human lives. On the other hand, although he affirmed the regenerating grace of infant baptism, he also insisted upon the necessity of adult conversion for those who have fallen from grace. A person who matures into moral accountability must respond to God's grace in repentance and faith. Without personal decision and commitment to Christ, the baptismal gift is rendered ineffective.
    Baptism as Forgiveness of Sin. In baptism God offers and we accept the forgiveness of our sin (Acts 2:38). With the pardoning of sin which has separated us from God, we are justified—freed from the guilt and penalty of sin and restored to right relationship with God. This reconciliation is made possible through the atonement of Christ and made real in our lives by the work of the Holy Spirit. We respond by confessing and repenting of our sin, and affirming our faith that Jesus Christ has accomplished all that is necessary for our salvation. Faith is the necessary condition for justification; in baptism, that faith is professed. God's forgiveness makes possible the renewal of our spiritual lives and our becoming new beings in Christ.
    Baptism as New Life. Baptism is the sacramental sign of new life through and in Christ by the power of the Holy Spirit. Variously identified as regeneration, new birth, and being born again, this work of grace makes us into new spiritual creatures (2 Corinthians 5:17). We die to our old nature which was dominated by sin and enter into the very life of Christ who transforms us. Baptism is the means of entry into new life in Christ (John 3:5; Titus 3:5), but new birth may not always coincide with the moment of the administration of water or the laying on of hands. Our awareness and acceptance of our redemption by Christ and new life in him may vary throughout our lives. But, in whatever way the reality of the new birth is experienced, it carries out the promises God made to us in our baptism."
     
  212. "By Water and the Spirit: A United Methodist Understanding of Baptism". The United Methodist Church. http://archives.umc.org/interior.asp?ptid=4&mid=992. अभिगमन तिथि: 2007–08–02. "The United Methodist Church does not accept either the idea that only believer's baptism is valid or the notion that the baptism of infants magically imparts salvation apart from active personal faith." 
  213. http://ag.org/top/Beliefs/Statement_of_Fundamental_Truths/sft_full.cfm
  214. स्कॉट हान, लियोन जे. सुप्रीनंट, कैथोलिक फॉर ए रीज़न: स्क्रिप्चर एण्ड द मिस्ट्री ऑफ़ द फैमिली ऑफ़ गॉड (एमाउस रोड पब्लिशिंग, 1998 ISBN 0-9663223-0-4, 9780966322309), पृष्ठ 135.
  215. पॉल हाफनर, द सैक्रमेंटल मिस्ट्री (ग्रेसविंग पब्लिसिंग, 1999 ISBN 0-85244-476-1, 9780852444764), पृष्ठ 36.
  216. सेवंथ-डे एड्वेंटिस्ट मिनिस्टर्स हैन्डबुक, एड. मिनिस्टरियल एसोसिएशन, द जनरल कॉन्फरेंस ऑफ़ सेवंथ-डे एड्वेंटिस्ट्स (सिल्वर स्प्रिंग, मैरीलेंड, 1997), 199.
  217. सेवंथ-डे एड्वेंटिस्ट चर्च मैनुअल: संशोधित 2005 17वां संस्करण, एड. द सेक्रेटरिएट ऑफ़ जनरल कॉन्फरेंस ऑफ़ सेवंथ-डे एड्वेंटिस्ट्स (हेगर्सटाउन, मैरीलेंड: रिव्यू एण्ड हेराल्ड, 2005), 30.

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

संबंधित लेख और विषय[संपादित करें]

लोग और अनुष्ठानिक वस्तुएं[संपादित करें]

संसाधन[संपादित करें]

Wikisource-logo.svg
विकिसोर्स में इस लेख से सम्बंधित, मूल पाठ्य उपलब्ध है:
  • Jungkuntz, Richard (1968). The Gospel of Baptism. St. Louis: Concordia Publishing House. OCLC 444126. 
  • Scaer, David P. (1999). Baptism. St. Louis: The Luther Academy. OCLC 41004868. 

बाहरी लिंक्स[संपादित करें]