पवित्र आत्मा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
जुआन साइमन गुटिरेज़ की चित्रकारी, कबूतर के रूप में पवित्र आत्मा पवित्र परिवार के ऊपर दर्शाया गया है

त्रिमूर्तिपंथी (ट्रिनीटेरियन) ईसाई धर्म में, पवित्र आत्मा (पूर्व अंग्रेजी भाषा के उपयोग में : होली घोस्ट (पुराने अंग्रेजी में गैस्ट, "आत्मा")) पिता, पुत्र और पवित्र आत्मा की पवित्र त्रिमूर्ति का एक अन्य व्यक्ति है और वह अपने आपमें सर्वशक्तिमान ईश्वर है।[1][2][3] पवित्र आत्मा को ज्यादातर ईसाईयों द्वारा तीन देवताओं में से एक के रूप में नहीं देखा जाता है, बल्कि त्रयात्मक (ट्रायून) ईश्वर के एक रूप की तरह देखा जाता है, जो अपने-आपको तीन व्यक्तियों के रूप में प्रकट करता है, या फिर यूनानी हाइपोस्टेटस में,[4] एक अस्तित्व के रूप में.[5] (ट्रिनिटी के पर्सनहूड (Personhood) का अर्थ अंग्रेजी भाषा में प्रयोग होने वाले "पर्सन" (person) की आम पश्चिमी समझ से मेल नहीं खाता है - इसका अर्थ कोई "व्यक्ति, स्वतंत्र इच्छा तथा चैतन्य गतिविधि का आत्म-कार्यान्वित केंद्र" नहीं होता.)[6][6]

ईसा चरित (गोस्पेल) में ईसामसीह को भविष्यवक्ता मसीहा के रूप में प्रस्तुत किया गया है, जो पानी से नहीं बल्कि पवित्र आत्मा और आग से बप्तिस्मा देता है।[Lk 3:16] ईसामसीह, अंतिम रात्रि भोजन के दौरान, अपने आवेग से ठीक पहले, पिता की ओर से दुनिया में एक अन्य पक्षपोषक (Paraclete), एक पवित्र आत्मा, सत्य की आत्मा [Jn 14:26] भेजने का वादा करते हैं जो, जैसा कि ईश्वर दूत के कार्यों में दर्ज है, ईसामसीह के स्वर्गारोहण के बाद ईश्वर की अदृश्य आध्यात्मिक उपस्थिति के रूप में ईसामसीह के धर्मदूत के नियमों और उनके गिरजा घर के पालन, उपदेश देने, सहूलियत देने के कार्य करेगा.

पवित्र आत्मा के धर्मशास्त्र को न्युमेटोलोजी (pneumatology) कहा जाता है। निसेन पंथ (या नीसियाई पंथ) में भगवान और जीवनदाता के रूप में पवित्र आत्मा संदर्भित है। वह सृष्टिकर्त्ता आत्मा है, जो ब्रह्माण्ड के सृजन से पहले मौजूद था और पिता याहवेह द्वारा अपनी सारी शक्ति के माध्यम से ईसामसीह में सब कुछ डाल दिया. पुराने विधान (ओल्ड टेस्टामेंट) और नए विधान (न्यू टेस्टामेंट) दोनों में, सभी पवित्र धर्मग्रंथों की व्याख्या करने तथा पैगंबरों का नेतृत्व करने की अनुमति देने और प्रेरित करने वाले के रूप में उसे श्रेय दिया गया है। उसकी शक्ति से, ईसामसीह कुंवारी मेरी के गर्भ में पवित्रता के साथ गर्भस्थ हुए.[Lk 1:35] उनके बपतिस्मा के समय वह दैहिक रूप से ईसामसीह पर उतर आया, एक कबूतर के रूप में,[Mt 3:16] और स्वर्ग से एक आवाज सुनी गयी: "तुम मेरे प्यारे बेटे हो".[Lk 3:22] वह आत्माओं का पवित्रकर्ता है, मददगार,[Jn 15:26] सान्त्वनादाता,[Jn 14:16] कृपादाता है, जो आत्माओं को पिता तथा पुत्र की ओर ले जाता है, जिससे वह प्राप्त हुआ है। उसकी दया और कृपा के माध्यम से ईसाई पवित्र आत्मा के फलों को प्राप्त करते हैं।

यह लेख मुख्यधारा के ईसाई धर्म के अंदर और गैर-त्रिमूर्ति ईसाइयों द्वारा ग्रहण की गयी साझा मान्यताओं का वर्णन करता है। इस चर्चा में वे समूह शामिल हैं जिनके मुख्य धार्मिक सिद्धांत मुख्यधारा के ईसाई धर्म के साथ बहुत कम मेल खाते हैं और साथ ही गैर-ईसाई धार्मिक समूहों के बारे में भी चर्चा की गयी है।

अनुक्रम

मुख्यधारा के ईसाई सिद्धांत[संपादित करें]

इन्हें भी देखें: Paraclete

मुख्यधारा के ईसाई धर्म में पवित्र आत्मा को ट्रिनिटी (त्रिमूर्ति) के तीन पुरुषों या व्यक्तियों में से एक समझा जाता है। जैसे कि वह स्वयंकृत है और पूरी तरह से ईश्वर भी है और परमपिता परमेश्वर और ईश्वर के पुत्र के समकक्ष और सहशाश्वत है।[1][2][3] जैसा कि नीसिया पंथ (Nicene Creed) में वर्णित है, वह उस परमपिता और उनके पुत्र से भिन्न है, जबकि वह परमपिता से (या परमपिता और उनके पुत्र से) उत्पन्न है।[2] उसकी पवित्रता नए विधान के सुसमाचार[Mk 3:28-30] [Mt 12:30-32] [Lk 12:8-10] में प्रतिबिंबित होती है, जो यह घोषणा करता है कि पवित्र आत्मा के खिलाफ ईश्वर-निंदा एक अक्षम्य पाप है।

शब्द-व्युत्पत्ति[संपादित करें]

द होली स्पिरिट (पवित्र आत्मा) और द होली घोस्ट (पवित्र प्रेतात्मा) का अर्थ एक समान है। 20वीं सदी से पहले अंग्रेजी में होली स्पिरिट के लिए होली घोस्ट बहुत ही आम नाम था। यह नाम आम प्रार्थना की पुस्तक, कैथोलिक डौय रीम्स बाइबिल और किंग जेम्स वर्जन (केजेवी (KJV)) में प्रयोग होता है और अब भी व्यापक रूप से अंग्रेजी बोलनेवालों, जिनकी धार्मिक शब्दावली बड़े पैमाने पर केजेवी (KJV) से ली गयी हैं, के बीच इस्तेमाल होता है। यह शब्द आज भी अंग्रेज़ी चर्च में पारंपरिक-भाषा के संस्कार में बरकरार है। अंग्रेजी के शब्द घोस्ट का मूल अर्थ स्पिरिट या सोल के समानांतर है; आगे चल कर बाद वाले शब्द को "मृतक की देहमुक्त आत्मा" के विशिष्ट अर्थ में ले लिया गया और आपमानजनक सांकेतिक अर्थ से जोड़ दिया गया।[7]

1901 में बाइबिल के अमेरिकी मानक संस्करण को होली स्पिरिट के नाम से अनुदित किया गया, जो कि 1881-1885 के अंग्रेजी संशोधित संस्करण पर आधारित है। लगभग सभी आधुनिक अंग्रेजी अनुवाद ने इसी अनुकूलता का पालन किया है।

स्पिरिट के लिए यूनानी शब्द न्यूमा (pneuma) है और नए विधान (न्यू टेस्टामेंट) में 385 बार पाया जाता है। इसका इस्तेमाल सामान्य अर्थ में आत्मा (स्पिरिट) के साथ ही साथ पवित्र आत्मा के लिए होता है और इसका अर्थ वायु या सांस भी हो सकता है।

दैवीय क्रिया-कलाप[संपादित करें]

माना जाता है कि ईसाई के जीवन या चर्च में पवित्र आत्मा विशिष्ट दैवीय कार्य संपन्न करती है। जो निम्नलिखित हैं:

  • पाप की दोषसिद्धि . अभिशप्त व्यक्ति को उसके पापपूर्ण कार्यों और परमेश्वर के सामने पापियों के रूप में उनकी नैतिकता, दोनों के लिए पवित्र आत्मा समझाने का काम करती है।[8]
  • धर्मांतरण के लिए प्रवृत्त करना . किसी व्यक्ति को ईसाई धर्म-मत के प्रति निष्ठा के तहत लाने के अनिवार्य हिस्से के रूप में पवित्र आत्मा के काम को देखा जाता है।[9] नया आस्तिक "आत्मा के रूप में फिर से जन्म" लेता है।[10]
  • ईसाई जीवन को सक्षम बनाना . माना जाता है कि पवित्र आत्मा का वास हरेक आस्तिक व्यक्ति में होता है तथा वह उन्हें सदाचार और निष्ठावान जीवन जीने में समर्थ बनाती है।[9]
  • वह एक दिलासा देनेवाले या हिमायती के रूप में रक्षा करती है, या समर्थन करती है़ या वह वकील के रूप में काम करती है़ विशेष रूप से परमेश्वर के आगे पेशी के समय.
  • प्रेरणा और धर्मशास्त्र की व्याख्या. पवित्र आत्मा ईसाई और/या चर्च को धर्मग्रंथ लिखने और व्याख्या करने दोनों ही करने के लिए प्रेरित करती है .[11]

ईसामसीह[संपादित करें]

ऐसा माना जाता है कि पवित्र आत्मा सक्रिय होती है, विशेष रूप से ईसामसीह के जीवन में, पृथ्वी में उन्हें अपने कार्य को पूरा करने के लिए सक्षम करती है। पवित्र आत्मा के विशेष कार्य इस प्रकार हैं:

  • उनके जन्म का कारण . ईसामसीह के जन्म के सुसमाचार विवरण के अनुसार, वे एक मानव पिता के द्वारा नहीं, बल्कि पवित्र आत्मा द्वारा गर्भस्थ हुए और कुंवारी मेरी से उनका जन्म हुआ था। "अवतार के रूप में उनके अस्तित्व की शुरुआत" पवित्र आत्मा के कारण हुई. एपोस्टल पंथ (Apostles' Creed) का कहना है कि ईसामसीह "पवित्र आत्मा द्वारा गर्भस्थ हुए और वर्जिन मेरी से पैदा हुए".[12][13]
  • बपतिस्मा में उनका अभिषेक हुआ .[9]
  • उनकी सेवा का सशक्तिकरण . बपतिस्मा (जिसमें पवित्र आत्मा को सुसमाचार में "स्वर्ग से एक कबूतर के रूप में उतरने" का वर्णन है) के बाद ईसामसीह की सेवा को शक्ति में संचालित किया गया और पवित्र आत्मा की दिशा में अग्रसरित किया गया।[9]

आत्मा का फल[संपादित करें]

ईसाइयों का मानना है "पवित्र आत्मा का फल। आत्मा का फल" ईसाई धर्म में पवित्र आत्मा के कार्यों द्वारा पुण्यात्मा की विशेषताओं से उत्पन्न होता है। ये वे हैं, जो गलाशीयन्स 5:22-23 में सूचीबद्ध हैं: "लेकिन आत्मा का फल लव, जॉय, पीस, पेशेंस, काइंडनेस, गुडनेस, फैथफुलनेस, जेंटलनेस और सेल्फ-कंट्रोल."[14] रोमन कैथोलिक चर्च ने इस सूची में उदारता, नम्रता और शुद्धता को जोड़ दिया है।[15]

आत्मा के उपहार[संपादित करें]

ईसाइयों का मानना है कि पवित्र आत्मा ईसाइयों को 'उपहार' देती है। विशिष्ट क्षमताओं वाले ये उपहार ईसाई व्यक्तियों को प्रदान किए जाते हैं।[9] उपहार के लिए यूनानी शब्द करिश्मा के द्वारा ये जाने जाते हैं, जिनसे यह शब्द करिश्माई हो जाता है। नया विधान (न्यू टैस्टमैंट) तीन अलग-अलग ऐसे उपहार प्रदान करता है, जो कि अलौकिक (चिकित्सा, भविष्यवाणी, बोली) से लेकर विशिष्ट आह्वान (शिक्षा) से संबद्ध से लेकर हरेक ईसाई से अपेक्षित कुछ हद तक (विश्वास) तक श्रेणीबद्ध होते है। ज्यादातर यह माना जाता है कि ये सूचियां संपूर्ण नहीं होती है और अन्य अपनी सूची तैयार करते हैं। संत एम्ब्रोस ने पवित्र आत्मा के सात उपहारों के बारे में लिखा है कि बपस्तिमा के समय आस्तिकों पर इन उपहारों की बाढ़ ला दी जाती है (यशायाह 11:1-2): 1. बुद्धिमत्ता की आत्मा; 2. समझ की आत्मा; 3. सम्मति की आत्मा; 4. क्षमता की आत्मा; 5. ज्ञान की आत्मा; 6. धार्मिकता की आत्मा; 7. पवित्र भय की आत्मा.[16]

प्रकृति और इन उपहारों की घटना, विशेषकर अलौकिक उपहारों को लेकर (कभी-कभी करिश्माई तोहफा कहलाता है), पवित्र आत्मा के अस्तित्व के बारे में ईसाइयों के बीच सबसे बड़ी असहमति बनी हुई है।

एक राय यह है कि ईसाई धर्मदूतीय युगों के लिए अलौकिक तोहफों के वितरण की विशेष व्यवस्था हुआ करती थी, क्योंकि उस समय गिरजाघर की स्थिति अनोखी थी और वर्तमान समय में प्रदान किया जाना दुर्लभ हो गया है।[17] यह विचार कैथोलिक गिरजाघरों[3] और मुख्यधारा के अन्य ईसाई समूहों का है। वैकल्पिक राय यह है, मुख्यत: पेंटेकोस्टल (पेंटाकोस्टल) संप्रदायों और करिश्माई आंदोलन ने इसका समर्थन किया कि गिरजाघरों द्वारा पवित्र आत्मा और उसके कार्यों की उपेक्षा के कारण अलौकिक उपहारों का अभाव होता है। हालांकि मोंटेनिस्ट (Montanists) जैसे कुछ छोटे समूहों में 19वीं शताब्दी के अंत में पेंटेकोस्टल (पेंटाकोस्टल) आंदोलन के विकास तक अलौकिक उपहार का चलन विरल था।[17]

अलौकिक उपहार की प्रासंगिकता में आस्तिक कभी-कभी पवित्र आत्मा के बपतिस्मा या पवित्र आत्मा के पूरक के बारे में कहा करते हैं, जिसकी उन उपहारों को प्राप्त करने के क्रम में ईसाई को अनुभव करने की जरूरत है। बहुत सारे गिरजाघर मानते हैं कि पवित्र आत्मा का बपतिस्मा रूपांतरण के समान है और यह भी कि पवित्र आत्मा में सभी ईसाई बपतिस्मा द्वारा परिभाषित होते हैं।[17]

प्रतीक[संपादित करें]

होली स्पिरिट डव का चित्रण (सेंट चार्ल्स चर्च, वियना, में सीलिंग फ्रेस्को, 1700)

पवित्र आत्मा को सिद्धांततः और बतौर बाइबिल अक्सर रूपक और प्रतीक दोनों से जाना जाता है। धर्मशास्त्र की दृष्टि से कहा जाए तो ये प्रतीक पवित्र आत्मा और उनके कार्यों को समझने की कुंजी है और यह केवल कलात्मक निरूपण ही नहीं है।[3][18]

  • जल - बपतिस्मा में पवित्रा आत्मा के कार्य को निरूपित करती है, कुछ इस तरह से कि "एक आत्मा [आस्तिक] के द्वारा सभी का बपतिस्मा हो गया", इसीलिए वे "एक आत्मा को पी लेने के लिए बने हैं".[1Cor 12:13] इस प्रकार ईसामसीह क्रूस पर चढ़ाए जाने से[Jn 19:34] पवित्र आत्मा निजी तौर पर पानी में भी बस जाती है[1 Jn 5:8] जैसा इसके स्रोत और शाश्वत जीवन पर ईसाई धर्म में बताया जाता है।[18][19]
  • अभिषेक - प्रतीकात्मक अभिषेक के साथ तेल पवित्र आत्मा के महत्व को बताता है, एक विंदु पर यह पवित्र आत्मा का पर्याय बन जाता है। आत्मा के आने को उनका "अभिषेक" कहा गया है।[2Cor 1:21] कुछ संप्रदायों में इसकी पुष्टि में अभिषेक का चलन है; (पूर्वी गिरजाघरों में "क्रिस्मेशन"). पवित्र आत्मा द्वारा इसे पूरी तरह से प्राथमिक अभिषेक के साथ जोड़ कर समझा जा सकता है, जो कि ईसामसीह का है। ईसामसीह (हिब्रू में, मसीहा (messiah)) जिसका अर्थ परमेश्वर की आत्मा द्वारा किसी का "अभिषेक" होने से है।[18][19]
  • अग्नि - पवित्र आत्मा के कार्यों का ऊर्जा में रूपांतरण का प्रतीक है। जीभ के रूप में "जैसे कि अग्नि", पवित्र आत्मा पेंटाकोस्ट की सुबह अपने शिष्यों के भीतर विश्राम करती है।[18][19]
  • बादल और प्रकाश - आत्मा वर्जिन मेरी पर उतरती है और उसे "निष्प्रभ" कर देती है, ताकि वह गर्भधारण करे और ईसामसीह को जन्म दे सके. रूपांतरण के शिखर पर, आत्मा "बादल में उतरती है और निष्प्रभ कर देती है" ईसामसीह, मूसा और एलिय्याह, पीटर, जेम्स और जॉन को और एक आवाज़ बादलों से निकल कर आती है, जो कहती है' यह मेरा पुत्र है, मेरे द्वारा चुना गया है; इसकी बातें सुनो.

!'"[19][19][Lk 9:34-35]

  • कबूतर. जब ईसामसीह अपने बपस्तिमा के जल से निकल कर ऊपर आते हैं, एक कबूतर के रूप में पवित्र आत्मा नीचे आती है और उनके साथ रहती है।[18][19][Mt 3:16]
  • वायु आत्मा वायु की तरह है "जो जहां कहीं भी होगी, वहां बहती रहती है"[Jn 3:8] और "स्वर्ग की एक ध्वनि के रूप में प्रचंड वायु जैसी चलती है" के रूप में वर्णित है।[Acts 2:24][18]

मुख्यधारा ईसाई सिद्धांत में बदलाव[संपादित करें]

कैथोलिक धर्म[संपादित करें]

रोमन कैथोलिक धर्मशास्त्र के अनुसार पवित्र आत्मा का प्राथमिक काम गिरजाघर के माध्यम से होता है। धार्मिक शिक्षा (कैटकिज़म) के अनुसार: "ईसामसीह और पवित्र आत्मा का मिशन गिरजाघर में पूरा होता है, जो कि ईसामसीह की देह और पवित्र आत्मा का मंदिर है .[...] गिरजाघर के संस्कारों के माध्यम से, ईसामसीह अपनी पुण्यात्मा से संपर्क करते हैं और अपनी देह के सदस्यों की आत्मा का पवित्रीकरण करते हैं। "

6ठी सदी के आसपास, नीसिया पंथ ने फिलिओक (Filioque) शब्द को जोड़ा, जिसे पवित्र आत्मा के शिक्षा के सिद्धांत के रूप में परिभाषित किया गया, जो पिता से पुत्र को प्राप्त होता है।" जबकि पूर्वी कैथोलिक गिरजाघरों को फिलिओक में निहित सैद्धांतिक शिक्षा को मानना अपेक्षित था, सेवाओं के दौरान जब इसका पाठ किया जाए तो संप्रदाय का सारा कुछ ले लेना उनके लिए जरूरी नहीं था।

पूर्वी परम्परानिष्ठा (ऑर्थोडॉक्सी)[संपादित करें]

पूर्वी ऑर्थोडॉक्सी का दावा है कि परमपिता देवत्व का शाश्वत स्रोत है, जिससे पुत्र शाश्वत रूप से पैदा होता है। सामान्य रूप से रोमन कैथोलिक गिरजाघर और पश्चिमी ईसाई धर्म के विपरीत, परम्परागत (ऑर्थोडॉक्स) चर्च ने पवित्र आत्मा की शोभा का वर्णन करते हुए फिलिओक (और पुत्र) के उपयोग को ग्रहण नहीं किया। 589 में थर्ड काउंसिल ऑफ टोलेडो में पहली बार फिलिओक का जि़क किया गया और 11वीं सदी में रोमन कैथोलिक गिरजाघर द्वारा मूलमंत्र में इसे जोड़ा गया। पवित्र आत्मा के लिए माना जाता है कि शाश्वत रूप से परमपिता से उत्पन्न होता है, ऐसा ईसामसीह का John 15:26 में कहना है; न कि परमपिता और पुत्र से, जैसा कि रोमन कैथोलिक और प्रोटेस्टेंट गिरजाघर दावा करते हैं। पवित्र त्रिमूर्ति (ट्रिनिटी) के बारे में ऑर्थोडॉक्स सिद्धांत को विश्वास के प्रतीक में (नीसिया-कोनस्टैंटिनोपोलियाई पंथ (Nicene-Constantinopolitan Creed)) संक्षिप्त कर दिया गया है। ऑरीएन्टल ऑर्थोडॉक्स का उपयोग और इसकी शिक्षा ईस्टर्न ऑर्थोडॉक्स से मेल खाती है। असीरियन चर्च ऑफ द ईस्ट ने फिलिओक के बगैर पंथ के मूल नुस्खे को बरकरार रखा है।

प्रोटेस्टेंटवाद[संपादित करें]

उपरोक्त पवित्र आत्मा के धर्मशास्त्र पर रोमन कैथोलिक चर्च की तरह मुख्यधारा के प्रोटेस्टेंटवाद के बहुसंख्यक भी एक ही तरह का विचार रखते हैं। पेंटेकोस्टलवाद (पेंटाकोस्टल ism) और शेष प्रोटेस्टेंटवाद (Protestantism) के बीच उल्लेखनीय अंतर है।[1][20]

अन्य ईसाई विचारधारा[संपादित करें]

प्रत्यावर्तन आंदोलन और ईसामसीह के चर्च[संपादित करें]

19वीं शताब्दी के अंतिम चरण के दौरान, प्रत्यार्वतन आंदोलन में इस दृष्टिकोण को प्रचलित किया गया कि वर्तमान समय में पवित्र आत्मा केवल उत्प्रेरित धर्मशास्त्र के प्रभाव के माध्यम से कार्य करती है।[21] इस तर्कवादी विचारधारा को एलेक्जेंडर कैंपबेल से जोड़ा गया, जो "भावात्मक शिविर बैठकों और उनके दिन के प्रत्यार्वतन के रूप में जो उन्होंने देखा, उससे बहुत अधिक प्रभावित" थे।[21] उनका मानना है कि आत्मा लोगों को मोक्ष की ओर ले जाती है, लेकिन समझा गया कि आत्मा यह काम "शब्दों के अनुनय और विचारों से प्रेरित होकर उसी प्रकार से करती है, जिसमें एक व्यक्ति एक से दूसरे की ओर जाया करता है।" यह विचार बार्टन डब्ल्यू स्टोन पर अभिभावी हुआ, जिनका मानना है कि ईसाई के जीवन पर आत्मा की अधिक प्रत्यक्ष भूमिका होती है।[21] 20वीं सदी से, ईसामसीह के गिरजाघर से कई ऐसे थे जो इस पवित्र आत्मा के परिचालन के "शब्द-केवल" ("word-only") सिद्धांत से अलग हो गये।[22] जैसा कि आंदोलन के एक छात्र का कहना है, "अच्छे या बुरे के लिए हो, जिन लोगों ने तथाकथित शब्द केवल (वर्ड-ओनली) सिद्धांत की हिमायत की थी उनकी पकड़ ईसामसीह के गिरजाघरों के लोगों के मनो-मस्तिष्क पर अब नहीं रही. यद्यपि अपेक्षाकृत रूप से पूर्णतया करिश्माई और तीसरी लहर के विचारों तथा शरीर में ही बने रहने के विचार को कुछ लोगों ने ही अपनाया, लेकिन स्पष्टतया आध्यात्मिक लहरों ने तर्कसंगत चट्टान को खत्म करना शुरू कर दिया."[21]

पेंटेकोस्टलिज्म (Pentecostalism)[संपादित करें]

1618 लगभग में एंथनी वैन डिक की चित्रकारी में पेंटेकोस्ट में पवित्र आत्मा का अवतरण.
इन्हें भी देखें: Pentecostalism

जबकि सभी मुख्यधारा संप्रदायों में पवित्र आत्मा को ईश्वर के रूप में स्वीकार किया गया है, लेकिन पेंटेकोस्टल गिरजाघरों में इस पर विशेष जोर दिया गया है। उन चर्चों में आधुनिक ईसाइयों को लौकिक तथा अलौकिक उपहार, जैसे कि वाणी तथा भविष्यवाणी करने की शक्ति, देने वाले के रूप में देखा जाता है।

पेंटाकोस्टलिज्म नामक ईसाई आंदोलन का नाम पेंटाकोस्ट की घटना से आया, जब यीशु के शिष्य यरूशलेम में इकट्ठे हुए थे तब पवित्र आत्मा के आने की यह घटना है।[Acts 2] पेंटाकोस्टवादियों का मानना है कि जब किसी विश्वासी का "पवित्र आत्मा से बप्तिस्मा" होता है, तब आत्मा के उपहार (जिसे करिश्माता भी कहते हैं) ईसामसीह के शरीर अर्थात चर्च को उन्नत करने के लिए प्राप्तकर्ता में सक्रिय हो जाते हैं। इनमें से कुछ उपहार 1 Corinthians 12 में सूचीबद्ध हैं।

पेंटाकोस्टल आंदोलन पवित्र आत्मा के काम पर विशेष बल देता है और विशेष रूप उन उपहारों पर जिनका उल्लेख ऊपर किया गया है, उनका विश्वास है कि आज भी उपहार दिए जा रहे हैं। पेंटाकोस्टलवाद का अधिकांश मोक्षीय रूप से फिर से जन्म के अनुभव से "पवित्र आत्मा के साथ बप्तिस्मा" को अलग करता है, यह आम तौर पर एक अलग अनुभव है जिसमे इक नए ढंग से ईसाई द्वारा आत्मा की शक्ति प्राप्त होना माना जाता है, इस विश्वास के साथ कि इंजीलवाद की खातिर या चर्च (ईसामसीह का शरीर) तथा समुदाय के अंदर सेवा के लिए ईसाई अधिक तत्परता से प्रतीकों, चमत्कारों और आश्चर्यों को प्रदर्शित कर सकेंगे. कुछ पेंटाकोस्टलवादियों का मानना है कि मोक्ष के लिए आत्मा बपतिस्मा एक आवश्यक तत्व है, "द्वितीय आशीष" नहीं. इन पेंटाकोस्टलवादियों का मानना है कि पवित्रा आत्मा से बपतिस्मा होने पर आत्मा की शक्ति उनके जीवन में विमोचित हो जाती है।

कई पेंटाकोस्टलवादी मानते हैं कि पवित्र आत्मा के इस अन्तःपूरण (infilling) (बप्तिस्म) का निर्देशात्मक प्रारंभिक साक्ष्य है अन्य जबानों में बोल पाने की क्षमता (ग्लोसोलेलिया (glossolalia)), और किसी व्यक्ति विशेष विश्वासी के जीवन में पवित्र आत्मा की उपस्थिति के अनेक आध्यात्मिक अभिव्यक्तियों में से एक है वाणी की अभिव्यक्ति.

गैर-त्रिमूर्त्तिवादी विचार[संपादित करें]

परम्परावादी (और्थोडॉक्स) ईसाई सिद्धांत से गैर-त्रिमूर्तिवादी (Non-trinitarian) विचार उल्लेखनीय रूप से भिन्न हैं और आम तौर पर दो श्रेणियों में आते हैं। कुछ समूहों का मानना है कि पवित्र आत्मा परमेश्वर पिता और परमेश्वर पुत्र से एक अलग सत्ता है और किसी अन्य मायने में कोई अलग अस्तित्व होने के बजाय वह उनके साथ 'एक' है; लैटर डे संतों का विश्वास इस श्रेणी में आता है। अन्य लोगों का मानना है कि ईश्वर (अर्थात मोडलिज्म) के कुछ पहलू या कार्य पवित्र आत्मा को संदर्भित हैं; जेहोवाज विटनेस (Jehovah's Witness), क्राइस्टाडेल्फियन (Christadelphian), यूनिटी चर्च और वननेस पेंटाकोस्टलिज्म (Oneness Pentecostalism) विश्वास इस श्रेणी में आते हैं।

लैटर डे सेंट्स (Latter Day Saints)[संपादित करें]

लैटर डे सेंट आंदोलन में, पवित्र प्रेतात्मा (आम तौर पर पवित्र आत्मा का समानार्थी) को ईश्वरीयमूर्ति (पिता, पुत्र और पवित्र प्रेतात्मा)[23] का तीसरा भिन्न सदस्य मना जाता है,[24] और उसके पास एक "आत्मा" रुपी शरीर होता है,[25] जो कि उसे पिता और पुत्र से अलग करता है जिनके पास जैसा कि कहा जाता है "मनुष्य की तरह मूर्त" शरीर होते हैं।[26]

वननेस पेंटाकोस्टलिज्म (Oneness Pentecostalism)[संपादित करें]

अन्य मोडलिस्ट समूहों की तरह, वननेस पेंटाकोस्टलिज्म कहता है कि पिता से अलग या भिन्न होने के बजाय पवित्र आत्मा ईश्वर का एक रूप है, यह पिता का ही बस एक अन्य नाम है और परमपिता परमेश्वर, उसके पुत्र और पवित्र आत्मा के बीच को फर्क नहीं है।

जेहोवा के गवाह[संपादित करें]

जेहोवा के गवाह का मानना है कि पवित्र आत्मा असली मानव नहीं है, बल्कि परमेश्वर की शक्ति है, जैसे कि परमेश्वर की दिव्य "सांसे" या "ऊर्जा", जिसका इस्तेमाल उनकी इच्छा को पूरा करने और सृजन, मुक्ति, पवित्रता औ दिव्य मार्गदर्शन के उद्देश्य में होता है और वे इस शब्द का सामान्य तौर पर लाभ नहीं उठाते.[27] जेहोवा के गवाह एक विवरणिका एवेन लैमसन को उद्धृत करता है: "... परमपिता, पुत्र और... पवित्र आत्मा (एं) एक जैसी नहीं होती हैं, न ही संख्यात्मक सार के रूप में और न ही एक में तीन... तथ्य इसके ठीक विपरीत है।"[28]

क्रिस्टाडेलफियन[संपादित करें]

क्रिस्टाडेलफियनों (Christadelphians) का मानना है कि वाक्यांश पवित्र आत्मा परमेश्वर की क्षमता या मन/चरित्र के लिए संदर्भित है।[29]

यूनिटी गिरजाघर[संपादित करें]

यूनिटी गिरजाघर धार्मिक शब्दों परमपिता परमेश्वर, परमेश्वर और पवित्र आत्मा की आध्यात्मिक व्याख्या बौद्धिक गतिविधि: बुद्धि, कल्पना और अभिव्यक्ति के तीन स्वरूप में करता है। वे मानते हैं कि यह एक प्रक्रिया है जिसमें सभी अभिव्यक्ति समा जाती है।[30]

गैर-ईसाई दर्शन[संपादित करें]

बहाई धर्म[संपादित करें]

बहाई धर्म की अवधारणा सबसे महान आत्मा की है, जिसे परमेश्वर की सीमा के रूप में देखा जाता है।[31] इसका इस्तेमाल आमतौर पर परमेश्वर के दूत/पैगंबर के ऊपर परमेश्वर की आत्मा के अवतरण का वर्णन करने के लिए किया जाता है, जो कि परमेश्वर के आविर्भाव के रूप में जाना जाता है, तथा इनमें ईसामसीह, मुहम्मद और बहाउल्ला शामिल हैं।[32] बहाई में ऐसा माना जाता है कि पवित्र आत्मा वाहक है जिसके माध्यम से परमेश्वर का ज्ञान सीधे उनके दूत के साथ जुड़ जाता है और विभिन्न धर्मों में, अलग-अलग तरह से जैसे मूसा का झाड़ी जलाना, जो कि पारसियों के लिए पवित्र अग्नि है, ईसामसीह के पास कबूतर, मुहम्मद का दूत ग्रेब्रियल और बहाउल्ला के पास स्वर्ग की अप्सरा का इसमें वर्णन किया गया है।[33] बहाई धर्म इस अवधारणा को खारिज कर देता है कि देवत्व में पवित्र आत्मा परमेश्वर का साझेदार है, बल्कि मानता है कि विशुद्ध सार परमेश्वर की विशेषता है।[34]

इस्लाम धर्म[संपादित करें]

इस्लाम धर्म में, एक दूत के रूप में सृजित आत्मा जो दैविक कार्य करता है या संदेश देता है, वह आमतौर पर दूत गैब्रियल (अरबी: जिब्रेल) या रुहूल कुदस (हिब्रू में रुअच हकोदेश) के साथ जोड़ कर देखा जाता है और वह पवित्र आत्मा कहलाता है, लेकिन वैकल्पिक रूप से परमेश्वर से सृजित आत्मा जिससे उसने आदम में जान फूंका, जन्नत के दूत और पैगंबर से प्रेरित होता है। ट्रिनिटी में विश्वास कुरान में स्पष्ट रूप से वर्जित है और यह भयानक पाप कहलाता है। यही मत परमेश्वर (अल्लाह) के द्वैतवाद पर भी लागू होता है।[35][36]

यहूदी धर्म[संपादित करें]

यहूदी धर्म में परमेश्वर की अवधारणा द्वैतवाद की है और त्रिमूर्ति को विधर्मी माना गया है।[कृपया उद्धरण जोड़ें] बहरहाल, रुहूल कुदस (पवित्र आत्मा) शब्द तल्मूड (Talmudic) या मिद्रासी (Midrashic) साहित्य में पाया जाता है। कुछ मामलों में, इसका अभिप्राय पैगंबर की प्रेरणा होता है, जब‍कि अन्य इसे अमूर्त भौतिक विषय (हाइपोस्टैटजेशन (hypostatization)) के रूप में या परमेश्वर के लिए लक्षणांलकार में इस्तेमाल करते है।[37] कुछ हद तक रब्बी में "पवित्रा आत्मा" का मानवीकरण किया गया है, लेकिन यह परमेश्वर की गुणवत्ता उसकी एक विशेषता के रूप में है; न कि देवत्व में प्रतिनिधि के आध्यात्मिक विभाजन के रूप में, जैसा कि ईसाई धर्म में है।[38]

शेखिनाह भी देखें.

रस्ताफरी धार्मिक आंदोलन[संपादित करें]

ईसाई धर्म से बाहर एक धार्मिक आंदोलन विकसित हुआ, जो रस्ताफरी कहलाया, यह होली ट्रिनिटी और पवित्र आत्मा की अपनी अनूठी व्याख्या करता है। हालांकि बहुत सारे मामूली बदलाव है, ये आमतौर पर यह कहते हैं कि यह हैले सेलासी है, जो परम पिता परमेश्वर और परमेश्वर दोनों को मूर्त कर देता है; जबकि होली (बल्कि "होला ") यानि पवित्र आत्मा रस्ता धर्म में विश्वास करनेवालों (देखें 'आई एंड आई' ('I and I') में) और हर मानव जाति में पाया जाता है। रस्ता यह भी कहता है कि मानव शरीर ही सच्चा गिरजाघर है और यह भी कि इस गिरजाघर (या "संरचना ") में पवित्र आत्मा का वास होता है।

कला में चित्रण[संपादित करें]

इन्हें भी देखें: पश्चिमी कला में परमपिता परमेश्वर

जॉर्डन में जब ईसामसीह का बपस्तिमा होता है तब पवित्र आत्मा उन पर एक कबूतर के रूप में उतरती हैं; इस विवरण के आधार पर पवित्र आत्मा को हमेशा कबूतर के रूप में दर्शाया गया है। उद्घोषणा के बहुत सारे चित्रों में पवित्र आत्मा को एक कबूतर के रूप में दिखाया गया है, जैसे ही महादूत गैब्रियल घोषणा करते हैं कि ईसामसीह मेरी के गर्भ में आ रहे हैं, मेरी की ओर एक प्रकाश की किरणें बढ़ने लगती हैं।

चित्र:RubensAnnunciation1.jpg
रूबेंस, 1628 द्वारा घोषणा
पेट्रो पेरुगिनो, 1498 लगभग द्वारा मसीह के बपतिस्मा
15 वीं सदी में प्रकाशित पांडुलिपि एक पवित्र आत्मा के अवतरण.मुसी कोंडे, चैन्टिली.
चित्र:Cathedral of Saint Mary & Saint John (Holy Spirit).jpg
स्टेंड ग्लास में सेंट मैरी और सेंट जॉन (बिशप) के कैथेड्रल, क्युज़न सिटी, फिलिपींस
फिलिपो लिपि द्वारा दृश्य, 1459
परमेश्वर के दोनों हाथ (अपेक्षाकृत असामान्य) और क्राइस्ट के बपतिस्मा में डव के रूप में पवित्र आत्मा, वेरोचिओ द्वारा, 1472.

एक कबूतर महान संत ग्रेगरी के कान में भी देखा जा सकता है जैसा कि अन्य गिरजाघरों के फादर लेखकों या उनके सचिवों द्वारा उनके ‍किए गए कामों के दिए गए वर्णन में दर्ज है।

कबूतर उसके भी समानानंतर है, जो जल प्रलय के बाद नूह के लिए जैतून की शाखा के साथ आता है (शांति के प्रतीक के रूप में) और रबी परंपरा में पानी की सतह के ऊपर कबूतर का होना परमेश्वर की उपस्थिति को दर्शाता है।

द बुक ऑफ एक्ट्स ने हवा के रूप में पेंटेकोस्ट में परमेश्वर के दूत के ऊपर उतरते हुए पवित्र आत्मा का वर्णन किया है और लपलपाती हुई अग्नि को परमेश्वर के दूत के ऊपर विश्राम करते हुए दिखाया गया है। कल्पना के आधार पर इस विवरण में पवित्र आत्मा को कभी-कभी अग्नि शिखा के प्रतीक के रूप में दिखाया गया है।

लिंग[संपादित करें]

इन्हें भी देखें: Gender of God in Christianity

यहूदी धर्म[संपादित करें]

हिब्रू भाषा के ग्रंथों में, हिब्रू बाइबिल के पुराना विधान (ओल्ड टेस्टामेंट) में पवित्र आत्मा (रुअच एडोनिया, रुअच एल, रुअच एलोहिम आदि) संज्ञा का स्त्रीलिंग है। इसके अलावा, परमेश्वर की दिव्य उपस्थिति शेखिनाह में है और यह भी स्त्रीलिंग है। यहूदी धर्मशास्त्र का कहना है कि वे एक ही चीज नहीं हैं (पवित्र आत्मा दिव्य उपस्थिति के समान नहीं है); बहरहाल, दोनों ही संज्ञा पेपे (pepe) स्त्रीलिंग है।

इस्लाम[संपादित करें]

पवित्र आत्मा शब्द का अनुवाद अरबी भाषा القدس الروح में किया गया है और सभी कुरानों में इसका इस्तेमाल पुंलिंग के रूप में किया गया है।

अरबी भाषा में "पवित्र आत्मा" سكينة के रूप में नहीं किया गया है जैसा कि इसका इस्तेमाल सकिनाह में स्त्रीलिंग के रूप में किया गया है। शब्द सकिनाह का अर्थ विश्राम अवस्था है।

ईसाई धर्म[संपादित करें]

ईसामसीह ने घोषणा की, "ईश्वर आत्मा है और जो उनकी पूजा करते हैं, उन्हें आत्मा और सच्चाई में पूजना होगा."[Jn 4:24] यूनानी ग्रंथ में आत्मा शब्द से पहले कोई आलेख नहीं है और यह शब्द की गुणवत्ता और इसके सार पर जोर देता है। इसके अलावा, पहले वाक्य में आत्मा शब्द जोर देने के लिए आया है। शाब्दिक भाव कुछ इस तरह होगा, "निश्चित तौर पर उनके सार में आत्मा परमेश्वर है।"

डिस्कवरी बिबिकल इक्वालिटी में "गॉड, जेंडर एंड बिबिकल मेटाफोर" शीर्षक के तहत एक अध्याय में कहा गया कि परमेश्वर को पुंलिंग शब्द के रूप में देखा जाना वह तरीका है जिसमें हम ईश्वर पर अलंकारिक भाषा में बात करते हैं, लेकिन इस भाषा में यह प्रतिबिंबित नहीं होता है कि वह वास्तव में कौन है। लेखक इस बात को दोहराता है कि परमेश्वर आत्मा है और बाइबिल मानवीकरण और अवतारवाद के जरिए ईश्वर को पेश करता है, जो केवल ईश्वर की समानता को दर्शता है।[39]

God is not a sexual being, either male or female─something that was considered to be true in ancient Near Eastern religion. He even speaks specifically against such a view in Num 23:19, where the text has God saying he is not a man [ish], and in Deut 4:15-16, in which he warns against creating a graven image of himself in "the likeness of male and female." But though he is not a male, the "formless" deity (Deut 4:15) has chosen to reveal himself largely in masculine ways.[39]

कला में जब पवित्र आत्मा को एक मानवीय देह के रूप का प्रयोग करके पेश किया जाता है, तो वह रूप आमतौर पर पुरुष के शरीर का होता है, ऐसी शारीरिक विशेषताओं द्वारा वास्तविकता को पेश करने का इसका तात्पर्य नहीं होता है। उदाहरण के लिए, तीन समरूप व्यक्तियों के रूप में त्रिमूर्ति (Trinity) के चित्रण के दुर्लभ मामले में पवित्र आत्मा पुरुष का प्रतिनिधित्व करता है, पिता और पुत्र के चित्रणों की शैली में.

कुछ ईसाई समूह हैं, जो यह सिखाते है कि पवित्र आत्मा स्त्री है, या इसका स्वरूप स्त्री का है। बाइबिल की मूल भाषाओं में जहां पवित्र आत्मा का तात्पर्य है वहां वह ज्यादातर क्रियाओं के लिंगों पर आधारित हैं। हिब्रू में आत्मा (रुअच (ruach)) के लिए शब्द स्त्रीलिंग है।[40] यूनानी भाषा में (न्यूमा (pneuma)) शब्द क्लीवलिंग है,[40] और अरामी, जिस भाषा में आमतौर पर माना जाता है ईसामसीह बोलते थे, यह शब्द स्त्रीलिंग है। ज्यादातर भाषाविदों द्वारा ऐसा नहीं माना गया है कि व्यक्ति के लिंग का उसके नाम के साथ कोई महत्व है। बाइबिल मामलों में जहां पवित्र आत्मा के सर्वनाम के लिए पुरुषवाचक सर्वनाम का और आत्मा के लिए विपरीत लिंग का प्रयोग होता हैं।[Jn 16:13][40]

सिरियाई भाषा, जिसका प्रयोग आमतौर पर ईसा पूर्व 300 साल पहले होता था, की उत्पत्ति अरामी से हुई है। पुराने मियाफिसाइट गिरजाघर (बाद में यह सिरियन ऑथ्रोडॉक्स चर्च बन गया) द्वारा दिए गए सिरियाई भाषा के दस्तावेज में आत्मा शब्द का स्त्रीलिंग र्धमशास्त्र का उत्थान बताता है, जिसमें पवित्र आत्मा को स्त्रीलिंग माना गया है।[41]

1977 में ब्रांच डेविडियन गिरजाघर के नेता रोडन लोईस ने औपचारिक रूप से सिखाना शुरू किया कि पवित्र आत्मा स्वर्गीय स्वरूप में महिला हैं; यहूदी, ईसाई और अन्य स्रोत के विद्वान और शोधकर्ताओं का ऐसा कहना है।[कृपया उद्धरण जोड़ें]

समान सीख वाले कुछ अन्य स्वतंत्र मुक्तिदाता यहूदी धर्म के दल हैं[42] और कुछ अन्य "मुख्यधारा" के संप्रदायों के साथ जुड़े कुछ विद्वान भी हैं, जबकि ये संप्रदाय अपने आपकों अनिवार्य रूप से जताया नहीं करते, जिनके पास देवत्व के तीसरे सदस्य की स्त्रीलिंग व्याख्या करनेवाला लेखन कार्य है।[43][44][45]

यूनिटी गिरजाघर के सह-संस्थापक चार्ल्स फिलमोर का मानना है कि पवित्र स्पष्टतया परमेश्वर के स्वरूप का स्त्रीलिंग है, इसीलिए "जेहोवा का प्यार" और "प्रेम हमेशा स्त्रीलिंग है" ऐसा माना जाता है।[46]

चर्च क्राइस्ट ऑफ लैटर-डे सेंट्स में लिंग "शाश्वत पहचान और प्रयोजन की अनिवार्य विशेषता" के रूप में देखा गया है।[47] एलडीएस (LDS) गिरजाघर का मानना है कि हमारे पृथ्वी पर निवास करने से पहले आध्यात्मिक देह में लिंग से परिभाषित होकर, हमारा अस्तित्व आध्यात्मिक रूप से विद्यमान रहता है,[48] और यह भी कि पवित्र आत्मा भी ऐसी ही देह है, लेकिन वह देवत्व का अंश हो गयी थी। एलडीएस (LDS) गिरजाघर का मानना है कि देवत्व का तीनों अंश पुरुष है।[49]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

  • पवित्र आत्मा के साथ बपतिस्मा
  • विश्वास उपचारात्मक
  • ईसाई धर्म में परमेश्वर
  • चमत्कार
  • आत्मा-शास्त्र (न्युमैटोलॉजी)
  • लक्षण और चमत्कार
  • आत्मा में मृत

संदर्भ[संपादित करें]

  1. Millard J. Erickson (1992). Introducing Christian Doctrine.. Baker Book House. प॰ 103. 
  2. T C Hammond; Revised and edited by David F Wright (1968). In Understanding be Men:A Handbook of Christian Doctrine. (sixth ed.). Inter-Varsity Press. pp. 54–56 and 128–131. 
  3. "Catholic Encyclopedia:Holy Spirit". http://www.newadvent.org/cathen/07409a.htm. 
  4. Wikisource-logo.svg  "Person". Catholic Encyclopedia। (1913)। New York: Robert Appleton Company। में चर्चा देखें
  5. ग्रुडेम, वेन ए. 1994. व्यवस्थित धर्मशास्त्र: बाइबल सिद्धांत को एक परिचय. लीसेस्टर, इंग्लैंड: इंटर-वैरिसिटी प्रेस, ग्रांड रैपिड्स, एमआई: जोंडर्वैन. पृष्ठ 226.
  6. ओल्सन, रोजर ई. द स्टोरी ऑफ़ क्रिस्चन थिओलॉजी: ट्वेंटी सेंच्रिज़ ऑफ़ ट्रेडिशन एमद रिफॉर्म .डाउनर्स ग्रोव: इंटर-वैरिसिटी प्रेस, 1999. ISBN 139780830815050. :pp. 185-6.
  7. "Norfolk schools told Holy Ghost 'too spooky'". The Guardian (London). 2005-04-11. http://education.guardian.co.uk/faithschools/story/0,13882,1457028,00.html. अभिगमन तिथि: 2010-05-04. 
  8. पवित्र आत्मा और उसका उपहार. जे. ओसवाल्ड सैंडर्स. इंटर-वैरिसिटी प्रेस. अध्याय 5.
  9. Millard J. Erickson (1992). Introducing Christian Doctrine.. Baker Book House. pp. 265–270. 
  10. हालांकि "फिर से जन्म लेना" शब्द का उपयोग अक्सर इंजील ईसाइयों द्वारा किया जाता है, ज्यादातर संप्रदायों का मनना है कि नव ईसाई "नया सृजन" और "फिर से जन्म लेना" है। उदाहरण के लिए कैथोलिक विश्वकोश देखें [1]
  11. T C Hammond; Revised and edited by David F Wright (1968). In Understanding be Men:A Handbook of Christian Doctrine. (sixth ed.). Inter-Varsity Press. प॰ 134. 
  12. Millard J. Erickson (1992). Introducing Christian Doctrine.. Baker Book House. pp. 267–268. 
  13. Karl Barth (1949). Dogmatics in Outline. New York Philosophical Library. प॰ 95. 
  14. गलाशीयन्स 5:22-23 है, दरअसल कहने का तात्पर्य मानव-आत्मा से है, पवित्र आत्मा नहीं, जैसा कि गलत समझ लिया गया है। पहले पद्य के संदर्भ में पढ़ा जाए तो यह दर्शाता है कि यहां मानव-आत्मा के बारे कहा गया है। यूनान में, आत्मा का इसी तरह अनुवाद किया गया है, या तो यह मानव या परमेश्वर की आत्मा है, जिसे इस अध्याय में गलत समझ लिया गया है। इसके अलावा, पवित्र आत्मा फल को वहन नहीं करती, इसलिए उपरोक्त फल वास्तव में मानव आत्मा द्वारा पुनर्निर्मित फल हैं (पुनर्निर्मित - फिर से ईसाई धर्म पैदा होना, पवित्र आत्मा से परिपूर्ण होना) | संपादित = पास्कल पैट्रिक्स (क्राइस्ट एंबेसी चर्च, डबलिन)। लेखक = स्टीफन एफ विनवर्ड | वर्ष = 1981 | शीर्षक = आत्मा के फल | प्रकाशक = इंटर-वर्सिटी प्रेस}}
  15. कैथोलिक चर्च के धार्मिक या मौलिक शिक्षा, धारा 1832.
  16. दे सैक्रामेंटिस 3.8.
  17. Millard J. Erickson (1992). Introducing Christian Doctrine.. Baker Book House. pp. 265–275. 
  18. David Watson (1973). One in the Spirit. Hodder and Stoughton. pp. 20–25. 
  19. कैथोलिक चर्च के धार्मिक या मौलिक शिक्षा.
  20. David Watson (1973). One in the Spirit. Hodder and Stoughton. pp. 39–64. 
  21. डगलस ए. फोस्टर, "वेव्स ऑफ़ द स्पिरिट अगेंस्ट अ रैशनल रॉक: द इम्पैक्ट ऑफ़ द पेंटेकोसैट, कैरिज़मैटिक एंड थर्ड वेव मूवमेंट्स ऑन अमेरिकन चर्चेस ऑफ़ क्राइस्ट." रिस्टोरेशन क्वाटर्ली, 45:1, 2003)
  22. उदहारण के लिए यह देखें, हार्वे फ्लोयड, इज़ द होली स्पिरिट फॉर मी?: अ सर्च फॉर द मीनिंग ऑफ़ द स्पिरिट इन टुडे चर्च, 20 सेंचरी क्रिस्चन, 1981, ISBN 978-0-89098-446-8, पृष्ठ 128
  23. Wilson, Jerry A. (1992). "Holy Spirit". In Ludlow, Daniel H.. Encyclopedia of Mormonism. New York: Mcmillan. प॰ 651. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-02-904040-X. http://contentdm.lib.byu.edu/u?/EoM,3768. "पवित्र आत्मा शब्द का उल्लेख अक्सर पवित्र आत्मा के लिए भी किया जाता है। ऐसे मामलों में पवित्र आत्मा एक व्यक्ति है।"
  24. McConkie, Joseph Fielding (1992). "Holy Ghost". In Ludlow, Daniel H.. Encyclopedia of Mormonism. New York: Mcmillan. प॰ 649. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-02-904040-X. http://contentdm.lib.byu.edu/u?/EoM,3766.  "
  25. डी एंड सी 131:7-8 ("अभौतिक पदार्थ जैसी इसमें कोई चीज नहीं है। सभी आत्मा पदार्थ है, लेकिन यह कहीं अधिक सूक्ष्म और विशुद्ध है़ और केवल विशुद्ध आंखों द्वारा ही पहचाना जा सकता है; हम इसे नहीं देख सकते; लेकिन जब हमारा शरीर शुद्ध हो जाएगा, तब हम इसे देखेंगे कि यह सब पदार्थ है।")
  26. डी एंड सी 130:22.
  27. "Is the Holy Spirit a Person?". Awake!: 14–15. July 2006. http://www.watchtower.org/e/200607a/article_01.htm. "In the Bible, God’s Holy Spirit is identified as God’s power in action. Hence, an accurate translation of the Bible’s Hebrew text refers to God’s spirit as “God’s active force.”". 
  28. "इज़ आईटी क्लीयरली अ बाइबल टीचिंग?", शुड यू बिलीव इन द ट्रिनिटी?, © 1989 वॉच टॉवर, पृष्ठ 7, रिप्रोड्यूस्ड हियर.
  29. Broughton, James H.; Peter J Southgate. The Trinity: True or False?. UK: The Dawn Book Supply. http://www.biblelight.org/trin/trinind.htm. 
  30. http://www.unitypaloalto.org/beliefs/twenty_questions.html
  31. `Abdu'l-Bahá (1981) [1904-06]. "The Holy Spirit". Some Answered Questions. Wilmette, Illinois, USA: Bahá'í Publishing Trust. pp. 108–109. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0877431906. http://reference.bahai.org/en/t/ab/SAQ/saq-25.html. 
  32. Taherzadeh, Adib (1976). The Revelation of Bahá'u'lláh, Volume 1: Baghdad 1853-63. Oxford, UK: George Ronald. प॰ 10. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0853982708. http://www.peyman.info/cl/Baha%27i/Others/ROB/V1/p007-011Ch01.html?back=%3C. 
  33. Abdo, Lil (1994). "Female Representations of the Holy Spirit in Bahá'í and Christian writings and their implications for gender roles". Bahá'í Studies Review 4 (1). http://bahai-library.com/abdo_female_holy-spirit. 
  34. `Abdu'l-Bahá (1981) [1904-06]. "The Trinity". Some Answered Questions. Wilmette, Illinois, USA: Bahá'í Publishing Trust. pp. 113–115. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0877431906. http://reference.bahai.org/en/t/ab/SAQ/saq-27.html. 
  35. ग्रिफ़िथ, सिडनी एच. पवित्र आत्मा, क़ुरान का विश्वकोश.
  36. पैट्रिक ह्यूजेस, थॉमस पैट्रिक ह्यूजेस, इस्लाम का शब्दकोश, पृष्ठ. 605.
  37. एलन अंटरमैन और रिव्का होरोविट्ज़, रुअह हा-कोदेश, विश्वकोश जूदाईका (सीडी-रोम (CD-ROM) संस्करण, जेरुसलेम: जूदाईका मल्टीमीडिया/केटर, 1997).
  38. जोसेफ अबेल्सन, द इम्मैनेंस ऑफ़ गॉड इन रैब्निकल लिट्रेचर (लंदन: मैकमिलन और कं, 1912).
  39. हॉउस, एच. वेन (समीक्षक). "गॉड, जेंडर एंड बाइब्लिकल मेटाफ़ॉर." जे ऑफ़ बाइब्लिकल मैनहुड एंड वुमनहुड, 10:1 (स्प्रिंग 2005) पृष्ठ. 64
  40. "Catholic Exchange". http://catholicexchange.com/2006/06/24/83561/. अभिगमन तिथि: 2009-05-13. 
  41. http://www.theology.edu/journal/volume3/spirit.htm
  42. जॉय इन द वर्ल्ड[2]; द टोरा एंड टेस्टमोनी रिवील्ड [3].
  43. "मार्टिन लूथर, प्रोटेस्टैंट मूवमेंट के प्रवर्तक, पवित्र आत्मा को स्त्रीलिंग के रूप में सोचने के लिए शर्मिंदा नहीं है
  44. चर्च फादर्स बिलिव्ड द होली स्पिरिट वाज़ फेमनिन.
  45. उदाहरण के लिए, आर.पी. नेटेल्होर्स्ट, धर्मशास्त्र के क्वार्ट्ज हिल हाई स्कूल के प्रोफेसर (दक्षिणी बपतिस्मा कन्वेंशन के साथ संबंधित) इस विषय पर लिखा है। [4][5][6].
  46. Charles Fillmore. Jesus Christ Heals. pp. 182–183. 
  47. "लिंग शाश्वत पहचान और प्रयोजन की अनिवार्य विशेषता है", एन्साइन, अक्टूबर 2008, 67
  48. "स्त्रेद्निंग द फ़ैमली: क्रियेटेड इन द इमेज ऑफ़ गॉड, मेल एंड फिमेल", एन्साइन, जनवरी. 2005, 48–49
  49. एलडीएस (LDS) विषय: पवित्र आत्मा

बाहरी लिंक्स[संपादित करें]