पोंनियिन सेलवन

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
Ponniyin Selvan  
चित्र:Ponniyin selvan volume 1.jpg
Volume 1
लेखक Kalki Krishnamurthy
मूल शीर्षक பொன்னியின் செல்வன்
चित्र रचनाकार Maniam
देश India
भाषा Tamil
प्रकार Historical, Romance, Spy, Thriller, Novel
प्रकाशक Kalki
प्रकाशन तिथि 1950s
मीडिया प्रकार Entertainment
पृष्ठ 2400 pages

पोंनियिन सेलवन (तमिल: பொன்னியின் செல்வன், "पोन्नी का बेटा") 2400 पृष्ठ का कल्कि कृष्णमूर्ति द्वारा लिखित 20 वीं सदी का एक प्रसिद्ध तमिल ऐतिहासिक उपन्यास है. 5 संस्करणों में लिखा गया यह उपन्यास अरुलमोज्हीवर्मन की कहानी का वर्णन करता है (जिसे बाद में राजराजा चोला के रूप में ताज पहनाया गया - तमिल इतिहास के महान राजाओं में से एक जिन्होंने 10वीं-11वीं शताब्दी में शासन किया).

पोंनियिन सेलवन को व्यापक रूप से अभी तक का तमिल में लिखित सबसे बड़ा उपन्यास माना जाता है. यह 10 वीं सदी के दौरान चोला साम्राज्य के ऐश्वर्य से संबंधित है. यह कल्कि आवधिक तमिल के अनुसार क्रमानुगत था. यह धारावाही प्रकाशन साढें तीन साल के लिए चला और हर सप्ताह बहुत रूचि के साथ इसके प्रकाशन की प्रतीक्षा की जाती थी.

यह उपन्यास सबसे पहले 1950 दशक के दौरान तमिल साप्ताहिकी कल्कि में 3.5 साल तक अध्याय के रूप में प्रकाशित किया गया था. किताब और लेखक की विशाल लोकप्रियता को ध्यान में रखते हुए तमिलनाडु सरकार द्वारा इस उपन्यास को राष्ट्रीयकृत किया गया था और यह हर किसी के लिए प्रकाशन हेतु एक खुले स्रोत के रूप में उपलब्ध है.

ऐतिहासिक पृष्ठभूमि[संपादित करें]

पोंनियिन सेलवन एक ऐतिहासिक उपन्यास है, जिसमें बहुत से वास्तविक ऐतिहासिक पात्रों और ज्यादातर असली ऐतिहासिक घटनाओं को सम्मिलित किया गया हैं.[1]

चोल राजवंश पर उपलब्ध प्राचीनतम प्रमाण प्रसिद्ध चोल राजा करिकल पेरुवलाथन और उनके बाद के कई अन्य प्रसिद्ध राजाओं जैसे किल्लीवलावन, नेदुन्किल्ली, पेरुन्किल्ली आदि के बारे में है. इस के बाद, ये निशान ठन्डे पड़ जाते है और फिर विजयालय चोल द्वारा पांडीयास और पल्लव को हराकर पुन: चोल राजवंश की स्थापना के साथ दोबारा उभर कर आते है.

विजयालय चोल (848-871 CE) मध्यकालीन चोल वंश के संस्थापक थे. उन्होंने पल्लव के एक प्रमुख जागीरदार से देश को जीता था और पज्हयारु को राजवंश की राजधानी के रूप में स्थापित किया जिसे बाद में सुंदर चोल के शासन के दौरान बदलकर तंजावुर कर दिया गया. उनके पुत्र और उत्तराधिकारी आदित्य I ने पल्लव और कोंगु देश पर विजय प्राप्त की. बाद में, अपने बेटे परान्तका (c 907-955 CE) के नेतृत्व में चोलों ने एक अधिराज्य पर अधिग्रहण प्राप्त किया जिसने राजराजा और कुलोथुंगा चोल के विशाल साम्राज्य को पूर्वाभास प्रदान किया. परान्तका I ने बनास, गंगास, पंड्या और सीलोन के राजा पर जीत हासिल की.

इस तथ्य को और उनकी विजय की सीमा को उनके शिलालेखों से जाना जाता है. उनके शासनकाल के अंत या उनकी मृत्यु से पहले कृष्णा III के नेतृत्व में राष्ट्रकूटों ने तमिल देश पर आक्रमण किया और चोल राजकुमार राजदित्य को तक्कोलम (अराकोणम के निकट) पर c में मार दिया. 948 CE, और तोंदैनादु को जब्त कर लिया जिस पर उन्होंने सदी के एक चौथाई तक शासन किया, जिसने चोलों के प्रभुत्व को उनके पैतृक राज्य, जो आधुनिक युग में तंजावुर और तिरुचिरापल्ली जिलों का गठन करते है, तक सीमित कर दिया.

राजदित्य के बाद के अगले पांच राजाओं के नाम विभिन्न ऐतिहासिक सबूतों से जाने जाते है.

गंदारादित्य, एक महान शैव, के बेटे को प्रसिद्ध मधुरंताका बनना था. लेकिन गंदारादित्य एक महान राजा नहीं थे, और उनके शासनकाल के अंत में चोल राज्य के दुश्मनों की संख्या में फिर से वृद्धि शुरू हो गयी. इसके अलावा, उनके बाद उनके भाइयों राजथिथा और अरिंजय दोनों की ताजपोशी नहीं की जा सकी क्योंकि इनमें से पहला तो पहले ही मर चुका था और दूसरा अपना अंत किसी भी क्षण उम्मीद कर रहा था. गंदारादित्य के बाद अरिंजय के बेटे सुंदर चोल या परंथाका द्वितीय, जिस नाम से वह पूर्व में जाना जाते थे, राजा बन गए.

अरिंजय चोल कम उम्र में ही एक लड़ाई में एक मर गए, वह गंदारादित्य के बाद सिंहासन पर बैठने वाले परंथाका द्वितीय के पिता थे.

परान्तका चोल द्वितीय (अरिंजय के बेटे, जिन्हें प्रचलित रूप से सुंदर चोल नाम से भी जाना जाता था क्योंकि वे बहुत आकर्षक थे और उन्होंने बहुत अच्छी तरह से राज्य पर शासन किया था), हालांकि बाद में वे भयंकर रूप से बीमार पड़ गए क्योंकि उनके पैरों को लकवा मार गया था. वे राजराजा, आदित्य करिकला और कुंदवई के गौरवान्वित पिता थे.

आदित्य करिकालन या आदित्य द्वितीय परंथाका द्वितीय के बड़े पुत्र थे जो परंथाका द्वितीय के बाद चोल वंश के स्पष्ट उत्तराधिकारी थे. परन्तु इससे पहले कि वह सिंहासन पर बैठ सके कपट से उन्हें मार दिया गया. उन्हें कदम्बुर मेलाकदाम्बुर सम्बुवारायर मालिगाई में मारा गया है, और

मादुरंत्का, आधिकारिक तौर पर उत्तम चोल, गंदारादित्य और सेम्बियन महादेवी के बेटे थे. हालांकि उन्हें सिंहासन की इच्छा नहीं थी, यह उन पर राजराजा और उनके दोस्त वन्थियादेवा द्वारा जबरदस्ती सौंपा गया था. उन्होंने लगभग 12 वर्षों की अवधि तक शासन किया, उनकी मौत के बाद राजराजा को सिंहासन पर बैठाया गया.

आदित्य करिकालन द्वितीय ने कुछ वर्षों बाद राष्ट्रकुटों से फिर से तोंदैनादु जीत लिया. वे एक महान योद्धा थे. उन्होंने सेवुर के युद्ध मैदान में कई बार साहसिक प्रदर्शन किया और लंबे समय से शासन कर रहे मायावी पांडिया राजा वीरापंदिया को मौत की सजा दी. आदित्य की मौत पर, उत्तराधिकार चोल साम्राज्य के एक समुदाय के रूप में विवादित हो गया था. अधिकांशत श्रेष्ठजन और व्यक्ति लोकप्रिय राजकुमार अरुल्मोज्हिवर्मन (राजराजा चोल) को सिंहासन पर बैठाना चाहते थे, लेकिन वह खुद अपने चाचा मदुरंताका उथाम्मा चोल को राजा बनाये जाने के पक्ष में थे. आखिरकार, अरुल्मोज्हिवर्मन ने मधुरंताका द्वारा मुकुट स्वीकार करने हेतु एक योजना बनाई. उसके बाद, अरुल्मोज्हिवर्मन राजाराजन 985 CE में राजा बन गया. उनके शासनकाल में अत्युत्तम चोल साम्राज्य को अद्वितीय महिमा और सबसे बड़ी प्रसिद्धि और समृद्धि प्राप्त हुई.


पोंनियिन सेलवन राजा राजा चोल को दिया गया उपनाम था. अरुल्मोज्हिवर्मन का मूल शीर्षक राजकेसरी वर्मन , मुम्मुदी-सोला-देवा था. वह परान्तका चोल द्वितीय उर्फ सुंदरा चोल और रानी वानामादेवी के दूसरे पुत्र थे. राजा राजा चोलन की एक बड़ी बहन, कुंदवई और एक बड़े भाई, आदित्य करिकालन थे. उनके मन में अपनी बहन, जिसने अपने जीवन के आखिरी पल तंजावुर में अपने छोटे भाई के साथ बिताये, के लिए बहुत आदर था और उन्होंने अपनी पहली बेटी का नाम उनके नाम पर रखा.

कल्कि के अन्य स्रोत पत्थर शिलालेख, तांबा की प्लेटें और अन्य किताबें थीं. तंजावुर के एक महान मंदिर में एक पत्थर पटलिका है जिस पर निम्नलिखित शिलालेख है: "राजा राजा चोलर की प्रतिष्ठित बड़ी बहन, वन्दियादेवन अजवर परंथाकर कुन्दवैयर की पत्नी".[1] हिस्ट्री ऑफ लेटर चोलाज़ पुस्तक में वन्दियाठेवन, बाना राजकुमार, एक वास्तविक ऐतिहासिक चरित्र, जो इस उपन्यास के नायक है, के संदर्भ में पांच पंक्तिया है. षड़यंत्रकारियों के नाम भी पत्थर शिलालेख से ही प्राप्त हुए है.[2]

विभिन्न राजाओं की गतिविधियों के बारे में जानकारी भी इन शिलालेखों और तांबे की प्लेटों, जैसी कि एन्बिल में पाई गयी है, से प्राप्त हुई है. थिरुवालान्गादु की तांबे प्लेटो से यह पता चलता है कि " चोला लोग इस बात के लिए बहुत उत्सुक थे कि सुन्दर चोल के बाद अरुल्मोज्हिवर्मन को सिंहासन पर बैठना चाहिए और उनके देश पर शासन करना चाहिए. लेकिन अरुल्मोज्हिवर्मन सिंहासन के लिए, अपने चाचा उत्तम चोल, उनके दादा के बड़े भाई गंदारादित्य के बेटे, के अधिकार का सम्मान किया करते थे और इसलिए उन्हें राजा का ताज पहनाया".

कथानक का सारांश[संपादित करें]

कहानी वन्दियाठेवन, एक आकर्षक युवक जो युवराज आदित्य करिकालन की तरफ से राजा और राजकुमारी को संदेश देने के लिए चोल देश जाता है, के आसपास घूमती है. कहानी वन्दियाठेवन की चोल देश और युवा राजकुमार अरुल्मोज्हिवर्मन की श्रीलंका यात्रा के बीच भ्रमण करती है. कहानी जागीरदार और क्षुद्र सेनापति द्वारा रची गयी साजिश के कारण प्रतीयमानतः अशांति और गृहयुद्ध के संकेत को देखते हुए देश में राजनीतिक शांति स्थापित करने के उद्देश्य से अरुल्मोज्ही (मुकुट से पहले राजा राजा कहा जाता था) को वापस लाने के लिए उनकी बहन कुंदवई के द्वारा किये गए प्रयासों से संबंधित है.

परान्तक चोल के दूसरे बेटे गंदारादित्य को सिंहासन पर बैठाया गया था क्यूंकि उनके पहले बेटे राजदित्य की मृत्यु एक युद्ध में हो गई थी. गंदारादित्य की मौत के समय उनके बेटे मदुरंथाका बच्चे थे इसलिए उनके भाई अरिंजय को सिंहासन पर बैठाया गया था. अरिंजय की मृत्यु के बाद उनके बेटे परान्तका द्वितीय, सुन्दर चोल को सिंहासन पर बैठाया गया था. उनके दो बेटे, आदित्य करिकालन और अरुल्मोज्ही वर्मन और एक बेटी कुंदवई थी.

कहानी की शुरुआत में ही सम्राट सुन्दर चोल को बीमार और अपाहिज दिखाया गया है. आदित्य करिकालन उत्तरी कमान के जनरल है और कांची में रहते है और अरुल्मोज्हिवर्मन (जो बाद में राजा राजा चोल के रूप में प्रसिद्ध हुए थे) युद्ध में श्रीलंका में है और उनकी बहन कुंदवई पिरात्ति पज्हयारै में चोल राजा के घर में रहती हैं.

जब अफवाह फैलती है कि सुन्दर चोल और उनके बेटों के खिलाफ एक साजिश रची गयी है, इससे कहानी को गति प्रदान की गयी है. एक व्यक्ति जो पंड्या साजिश की एक झलक प्राप्त कर लेता है वह वाना कबीले वल्लावारायण वन्दियाठेवन का एक योद्धा है. हालांकि पुस्तक का शीर्षक पोंनियिन सेलवन है परन्तु पुस्तक का नायक वन्दियाठेवन, आदित्य करिकालन का दोस्त है.

ऐसा वन्दियाठेवन के माध्यम से होता है कि हम अरुल्मोज्हिवर्मन, राजकुमार जिसे सभी लोग प्यार करते है, और पेरिया पज्हवेत्तुरायर, चांसलर जो साठ साल की उम्र में नंदिनी से शादी करते है, जैसे उपन्यास के पात्रों से मिल पाते हैं. अपनी जवानी में आदित्य करिकालन को नंदिनी के साथ प्यार हो गया था, लेकिन आदित्य करिकालन द्वारा वीरापन्द्यां (जो शायद उसका प्रेमी था) के मार दिए जाने पर वह प्रतिशोधी हो गयी और चोला वंश को नष्ट करने की कसम खाती है. हमारी मुलाकात कुंदवई देवी से भी होती है जो साजिश की खबर सुनने के बाद वन्दियाठेवन को अरुल्मोज्हिवर्मन के लिए तुरंत वापस आने का एक संदेश लेकर श्रीलंका भेजती हैं.

इनके अलावा, वहां मदुरंथाका तेवर (जिन्हें साजिश करने वाले लोग राजा बनाना चाहते हैं), गंदारादित्य और अनिरुध ब्रह्मरायर का बेटा, सुन्दर चोलर का प्रधानमंत्री और ऐसा व्यक्ति जिसकी आंखें और कान हर जगह है, जैसे अन्य पात्र भी हैं. लेकिन किताब में सबसे अदभुत चरित्र ब्रह्मरायर के जासूस अज्ह्वरकड़ियां नम्बी का है, वह एक वैष्णव है जो बहस के लिए शैवों को चुनौती देने के लिए देश के चारों ओर घूमता रहता है. वह प्रधानमंत्री के लिए जानकारी इकट्ठा करता है और हमेशा वन्दियाठेवन के आसपास रहता है जिससे मुसीबत के दौरान उसका बचाव कर सके.

इसमें कुछ सुंदर महिलायें भी हैं जैसे वनाठी, कोदुम्बलुर की राजकुमारी जो अरुल्मोज्ही से प्यार करती है; पून्कुज्हाली, नाविक औरत जो भावी राजा को श्रीलंका पहुंचाती है; मंदाकिनी, मूक और बधिर सौतेली माँ और रक्काम्मल, एक केवट की पत्नी जो पंड्या षड़यंत्रकारियों का समर्थन करता है. इनमें सबसे यादगार नंदिनी है जिसके बारे में कहा गया है कि उसके सौंदर्य में किसी भी आदमी को प्रभावित करने की शक्ति है.

पून्कुज्हाली की मदद से वन्दियाठेवन श्रीलंका में पहुंचता है, अरुल्मोज्हिवर्मन मिलता है, और उनका करीबी दोस्त बन जाता है. श्रीलंका में अरुल्मोज्हिवार्मन को पता चलता है कि उनके पिता ने श्रीलंका के निकट एक द्वीप में जन्म से बहरी और गूंगी लड़की के साथ कुछ समय बिताया था. वह उससे मिलता है और उन्हें उसकी चित्रकारी से पता चलता है कि उस लड़की और उनके पिता के दो बच्चों है. ये बच्चे कौन हैं और क्या वे सिंहासन के लिए सही है? बाद में एक दिन थिरुपुराम्बयम जंगल में वन्दियाठेवन देखता है कि नंदिनी और पंड्या षड़यंत्रकारियों ने एक छोटे लड़के को सिंहासन पर बैठा रखा है और सबने उसके सामने एक शपथ ली. यह लड़का कौन है और उसे सिंहासन पर आरूढ़ होने के कौन से अधिकार प्राप्त हैं?

श्रीलंका से वापस आते समय अरुल्मोज्हिवर्मन एक चक्रवात में फंस जाता है और गायब हो जाता है. अफवाह फैल जाती है कि वह मर चुका है, लेकिन वह जीवित होता है और नागपट्टिनम में चूड़ामणि विहारं नाम के एक बौद्ध मठ में रहता है. फिर धीरे धीरे वितरित परिवार का कोडांतरण शुरू होता है. इस बीच षड़यंत्रकारी एक दिन का चयन करते है जिस दिन राजा और उनके पुत्रों दोनों की हत्या कर दी जाएगी.

क्या षड़यंत्रकारी सुन्दर चोल की हत्या करने और मधुरंथाका को राजा के रूप में सिंहासन पर बैठाने में सफल हो जायेंगे या अरुल्मोज्हिवर्मन को राजा का ताज पहनाया जाएगा? यह एक प्रमुख सवाल है जिस पर कहानी घूमती है. यह पुस्तक पांचवें हिस्से में एक नाटकीय चरमोत्कर्ष पर समाप्त होती है जहां मदुरंथाका चोल के बारे में सच्चाई का पता चलता है.

पात्र[संपादित करें]

  • वल्लावरीयान वन्दियादेवन (वल्लावारायण)- कहानी का हीरो. एक साहसिक, शरारती, भाग्यशाली और आकर्षक नौजवान.
  • अरुल्मोज्हिवर्मन (पोंनियिन सेलवन जो बाद में राजराजा चोल प्रथम बन गए)
  • सुन्दर चोल
  • कुंदवई पिरात्तियर
  • नंदिनी (पज्हुवुर इलायारानी)
  • आदित्य करिकलर (वीरा पांडियन थ्लाई कोंडा कोपरा केसरी)
  • वनाठी-अरुल्मोज्हिवर्मन की पत्नी
  • अनिरुध ब्रह्मरायर - राजा सुन्दर चोल के मुख्यमंत्री
  • सेंथान अमुधन -
  • पून्कुज्हाली (समुधिराकुमारी) - एक सुंदर, बहादुर, गरीब लड़की जो अच्छी तरह गाती है और अंततः चोल साम्राज्य की रानी बन जाती है.
  • आज्ह्वारकड़ियां (थिरुमलाई अप्पन) - मुख्यमंत्री के जासूस. भगवान विष्णु के एक महान भक्त.
  • पेरिया पज्हुवेत्तारैयर
  • चिन्ना पज्हुवेत्तारैयर (कालान्धागा कंदर)
  • सुन्दर चोलर
  • मंधागिनी देवी (ऊमी रानी)
  • मदुरंथाकर (परकेसरी उठामा चोलन)
  • सेम्बियन मा देवी
  • कन्दमरण - सम्बुवारैयर का बेटा .
  • मनिमेकलाई - कन्दमरण की बहन. वह निष्ठा से वन्दियादेवन से प्यार करती है
  • रविदासन (मंधिरावधि)
  • सोमण सम्भावन
  • इदुम्बंकारी
  • देवारालन (परमेस्वरण)
  • सम्बुवारैयर
  • कोदुम्बलुर विक्रम पूधि केसरी
  • मज्हवारायर
  • पर्थिबेन्धरा पल्लवन
  • कुदंथई सोथिदर
  • इसना सिवाबत्तर
  • पिनागापनी
  • मुरुगैयन
  • राकमाल
  • करुथिरुमन

उत्तर कथा[संपादित करें]

कॉपीराइट नियमों और कल्कि समूह द्वारा सख्ती से उनका अनुसरण करने के कारण इस पुस्तक की उत्तर कथा में भाग लेने से कई लेखकों को रोका है (हालांकि कल्कि खुद व्यापक रूप से अन्य लेखकों को पुस्तक के अंतभाषण में भाग लेने के लिए सुझाव देते है). नन्धिपुराथ्त्हू नयागी द्वारा वेम्बू विकिरमण एक उत्तर कथा है जिसमें लेखक ने दोषारोपण उल्लंघन से बचने के लिए सभी प्रमुख पात्रों के लिए अलग अलग वर्तनी का उपयोग किया है.

कल्कि कृष्णमूर्ति द्वारा किये गए कार्यों का राष्ट्रीयकरण होने के बाद पोंनियिन सेलवन के कॉपीराइट अस्तित्व में रह गए हैं. कई प्रकाशक अब वही किताब बिना रॉयल्टी शुल्कों के प्रिंट करते हैं.

बलाकुमरण की उदयर और अनुषा वेंकटेश की कविरी मैन्थान पोंनियिन सेलवन की उत्तर कथा है जो क्रमशः 2000 और 2007 के आसपास प्रकाशित हुई है.

बलाकुमरण की कदिगाई पोंनियिन सेलवन के समान्तर चलती है इसमें रविदासन, नंधिनी के जीवन को दिखाया गया है और यह आदित्य करिकलर की हत्या पर समाप्त होती है.

रूपांतर और सांस्कृतिक संदर्भ[संपादित करें]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

संदर्भ[संपादित करें]

  1. Nilakanta Sastri, K.A.. The Cholas. 
  2. Sadasiva Pandarathar, T.V.. History of Later Cholas. 
  3. http://www.bayareatamilmanram.org/eng/home.php

बाहरी लिंक्स[संपादित करें]

Wikisource
तमिल विकिस्रोत पर इस लेख से संबंधित मूल पाठ उपलब्ध है: