टाइटानियम

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

टाइटेनियम तत्व का सबसे पहले सन् 1791 में ग्रेटर ने पता लगाया तथा सन् 1795 में क्लापराथ ने इसका नाम टाइटेनियम रखा। इसके मुख्य खनिज इलमिनाइट तथा रुटाइल हैं। दूसरे खनिज स्थुडोब्रुकाइट, (Fe4 (TiO4) 3), एरीजोनाइट, (Fe2 (TiO3)3), गाइकीलाइट (MgTiO3) तथा पायरोफेनाइट, (MnTiO3) इत्यादि हैं

धातु के क्लोराइड के वाष्प को द्रवित सोडियम के ऊपर से पारित करने पर, अथवा पोटासियम के साथ अवकरण से, अथवा धातु के हेलोजन लवण या ऑक्साइड के कैल्सियम, मैग्नीशियम या ऐल्यूमिनियम द्वारा अवकरण से यह धातु प्राप्त होती है। बुसे (सन् 1853) ने पोटासियम टाइटेनेट, सोडियम सल्फेट और सल्फयूरिक अम्ल के विद्युद्विच्छेदन द्वारा सफेद टाइटेनियम प्राप्त किया था।

गुणधर्म[संपादित करें]

यह लोहे जैसी धातु है। इसका आपेक्षिक घनत्व 3.49 से 3.59 तक तथा द्रवणांक लगभग 2,000 सें0 है। यह हवा में स्थायी है, परंतु 1,200 डिग्री सें0 ताप तक गरम करने पर टाइटेनियम ऑक्साइड, (TiO2), बनता है हैलोजन सरलता से इस धातु को आक्रांत करते हैं। फ्लोरीन सबसे आसानी से तथा आयोडीन देर में और ऊँचे ताप पर आक्रांत करता है। यह नाइट्रोजन, फॉस्फोरस, बोरॉन तथा सल्फर से ऊँचे ताप पर क्रिया करके नाइट्राइड, फॉस्फाइड, बोराइड तथा सल्फाइड बनाती है। हाइड्रोल्कोरिक अम्ल, सल्फ्यूरिक अम्ल तथा नाइट्रिक अम्ल इसको सरलता से आक्रांत करते हैं। ऑक्सीकारक पदार्थ जैसे पोटासियम क्लोरेट, पोटासियम परमैंगेनेट इत्यादि, की इस पर बड़ी तीव्रता से क्रिया होती है।

ताँबे के साथ यह क्यूप्रोटाइटेनियम, चाँदी के साथ आरजेंटोटाइटेनियम एवं ऐल्यूमिनियम के साथ कई प्रकार की मिश्रधातुएँ, जैसे (Al3Ti2) ऐ4टाइ (Al4Ti) और (Al3Ti) बनता है।

इसके सब लबण पानी में टूट जाते हैं। अम्लीय विलयन में हाइड्रोजन पेराँक्साइड, (H2O2), डालने से नारंगी रंग उत्पन्न होता है। अवकारक पदार्थ, जैसे जिंक अथवा टिन, की उपस्थिति में सल्फ्यूरिक अम्ल में टाइटेनियम के लवण नीला अथवा बैंगनी रंग देते हैं। ऐलिज़रिन सल्फोनिक अम्ल टाइटेनियम के लवणों के साथ बैंगनी रंग देते हैं।

टाइटोनियम 2, 3 तथा 4 संयोजकतावाले लवण बनाता है। जैसे (Ti F3), (Ti F4), (Ti Cl2), (Ti Cl3), (Ti Cl4), (Ti Br2), (Ti Br4), (Ti I2), (Ti I3), (Ti I4), (Ti2 S3), (Ti2 SO4), Ti2(SO4)3 तथा (Ti (SO4)2, (TiO2) से तरह तरह के टाइटेनेट, जैसे (K2 Ti3 O7), (Zn3 Ti4 O7), (Mn2 TiO4), (CoTiO3) इत्यादि बनते हैं।

टाइटेनियम बहुत से संकीर्ण यौगिक भी बनाता है और इस गुण में जिरकोनियम, हाफ्नियम तथा थोरियम से बहुत मिलता है। इसके द्विलवण भी अधिक संख्या में मिलते हैं। इसके मुख्य संकीर्ण यौगिक ऐमाइन तथा ऑक्सीजन युक्त पदार्थ, चीलेट, ऑक्सैलेट, कैटीकोल तथा हैलोजेन इत्यादि हैं।

उपयोग[संपादित करें]

इसकी मिश्रधातुएँ बड़े महत्व की हैं और लोहस और अलोहस धातुओं के शोधन में काम आती हैं। इसके यौगिक कागज, कपड़ा, चमड़ा, ऊन इत्यादि रँगने तथा चीनी मिट्टी के बरतनों पर लुक करने के काम आते हैं।

अंग्रे: Titanium   –   जा: チタン   –   रू: Титан
Ti-TableImage.png
आवर्त सारणी में स्थिति
चिन्ह: Ti
परमाणु संख्या: 22
chemical series: transition metals
Ti,22.jpg
Electron shell 022 Titanium.svg
नमूना
इलेक्ट्रॉनिक ढांचा


समूह → 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18
↓ आवर्त
1 1

2
या
2 3
4
वि

5
टा
6
प्रा
7
भू
8
जा
9
10
Ne
3 11
Na
12
Mg

13
Al
14
Si
15
P
16
S
17
Cl
18
Ar
4 19
K
20
Ca
21
Sc
22
Ti
23
V
24
Cr
25
Mn
26
Fe
27
Co
28
Ni
29
Cu
30
Zn
31
Ga
32
Ge
33
As
34
Se
35
Br
36
Kr
5 37
Rb
38
Sr
39
Y
40
Zr
41
Nb
42
Mo
43
Tc
44
Ru
45
Rh
46
Pd
47
Ag
48
Cd
49
In
50
Sn
51
Sb
52
Te
53
I
54
Xe
6 55
Cs
56
Ba
*
72
Hf
73
Ta
74
W
75
Re
76
Os
77
Ir
78
Pt
79
Au
80
Hg
81
Tl
82
Pb
83
Bi
84
Po
85
At
86
Rn
7 87
Fr
88
Ra
**
104
Rf
105
Db
106
Sg
107
Bh
108
Hs
109
Mt
110
Ds
111
Rg
112
Uub
113
Uut
114
Uuq
115
Uup
116
Uuh
117
Uus
118
Uuo

* लैन्थनाइड 57
La
58
Ce
59
Pr
60
Nd
61
Pm
62
Sm
63
Eu
64
Gd
65
Tb
66
Dy
67
Ho
68
Er
69
Tm
70
Yb
71
Lu
** ऐक्टिनाइड 89
Ac
90
Th
91
Pa
92
U
93
Np
94
Pu
95
Am
96
Cm
97
Bk
98
Cf
99
Es
100
Fm
101
Md
102
No
103
Lr

आवर्त सारणी के इस प्रचलित प्रबन्ध में लैन्थनाइड और ऐक्टिनाइड को अन्य धातुओं से अलग रखा गया है। विस्तृत और अति-विस्तृत आवर्त सारणीओं में f-ब्लॉक और g-ब्लॉक धातुओं को भी एक साथ प्रबन्धित किया जाता है।

आवर्त सारणी में तत्त्वों की श्रेणियाँ

धातु उपधातुएं अधातु
क्षारीय धातुएँ क्षारीय मृदा धातु आंतरिक संक्रमण तत्व सन्धिगत तत्व अन्य धातु अन्य अधातु हैलोजन्स उत्कृष्ट गैस
लैन्थेनाइड्स ऐक्टिनाइड्स
परमाणु क्रमांक रंग मानक ताप व दाब अवस्था को दर्शाते हैं (0 °C and 1 atm)
ठोस द्रव गैस
किनारे प्राकृतिक उपस्थिति दर्शाते हैं
आदि क्षय से कृत्रिम अनान्वेषित