जेसिका लाल

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
Jessica Lall
जन्म 5 जनवरी 1965
India Flag of भारत
मृत्यु अप्रैल 29, 1999(1999-04-29) (उम्र 34)
New Delhi Flag of India.svg भारत
व्यवसाय Actor, Model

जेसिका लाल (1965-1999) नई दिल्ली में एक मॉडल थी, 29 अप्रैल 1999 को, उसकी तब गोली मार कर ह्त्या कर दी गयी जब वो एक भीड़ भरी उच्चवर्गीय पार्टी में एक प्रतिष्ठित बारमेड की तरह काम कर रही थी[1]. दर्जनों गवाहों ने कातिल के रूप में हरियाणा में एक धनी कांग्रेस नेता विनोद शर्मा के बेटे सिद्धार्थ वशिष्ठ उर्फ मनु शर्मा की निशानदेही की थी. कुलनाम "लाल (Lall)" कभी कभी मीडिया में "लाल (Lal)" की तरह बोला जाता है.

सात साल चले मुक़दमे के बाद 21 फरवरी 2006 को, मनु शर्मा और अन्य कई लोगों को बरी कर दिया गया.

मीडिया और जनता के जबरदस्त दबाव के बाद, अभियोजन पक्ष ने अपील की और दिल्ली उच्च न्यायालय ने कार्यवाही का आयोजन फास्ट ट्रैक पर दैनिक सुनवाई के साथ 25 दिनों तक किया. निचली अदालत के फैसले को कानूनन दोषपूर्ण पाया गया, और मनु शर्मा को जेसिका लाल की हत्या करने का दोषी पाया गया था. 20 दिसंबर, 2006 को उसे आजीवन कारावास की सजा सुनाई गयी.

पृष्ठभूमि[संपादित करें]

1999 की गर्मी के दौरान, एक प्रमुख सोशलाइट बीना रमानी महरौली के क़ुतुब कालेनेड में कुतुब मीनार को देखती एक नवीकरण की गयी हवेली के भीतर अपने नए खुले "टैमरिंड कोर्ट" रेस्तरां में "थर्सडे स्पेशल नाइट्स" के नाम से विशेष आयोजन करती थीं[2].

29 अप्रैल 1999 को, यह उस मौसम का सातवां और आखिरी थर्सडे स्पेशल था, बीना रमानी के कनाडाई पति जार्ज मैलहोट छह महीने की अवधि की विदेश यात्रा को मनाने के लिए भी ये आयोजन किया गया था. हालांकि रेस्तरां को अभी भी शराब का लाइसेंस प्राप्त करना था[3], सावधानी से चिह्नित किये गए 'क्यूसी (QC)' कूपन से पेय खरीदे जा सकते थे, और उस रात को जेसिका लाल, बीना रमानी की बेटी मालिनी रमानी, दोस्त शायन मुंशी और दूसरों के साथ कई माडल और मित्र 'वन्स अपोन ए टाइम' बार में पेय परोस रहे थे[2].

इससे पहले, रात में 10 बजे, पूर्व केंद्रीय मंत्री विनोद शर्मा का 24 साल का बेटा मनु शर्मा उर्फ सिद्धार्थ वशिष्ठ, अपनी चंडीगढ़ यात्रा छोड़ कर के, दिल्ली की कोका-कोला बाटलिंग यूनिट में जनरल मैनेजर, 32 वर्षीय अमरिंदर सिंह कोहली (टोनी)के फ्रेंड्स कालोनी स्थित घर पहुचा, जहां टोनी का एक सहकर्मी 30 वर्षीय आलोक खन्ना, उत्तर प्रदेश में संभल के एक राजनेता, राज्य सभा सदस्य डी.पी.यादव का बेटा विकास यादव भी साथ मिल गए. चारों ने कुछ जाम पिए और दो अलग-अलग कारों में महरौली जा पहुचे. वे रात 11.15 बजे क़ुतुब कालेनेड में टैमरिंड कोर्ट पहुचे, मनु शर्मा थर्सडे स्पेशल नाइट्स में पहले भी शामिल हो चुका था; बाद में उन लोगों ने कुछ पेय के लिए आदेश किया और रुके रहे[2]. शहर में कहीं और से, कार्यक्रम प्रबंधन विशेषज्ञ शाहाना मुखर्जी ने रात दस बजे मॉडल जेसिका लाल को उसके घर से अपने साथ में लिया, और पार्टी में ले गयी, जहां उसे उस रात शायन मुंशी की तरह विशिष्ट बारटेंडर बनना था[4].

"..I won't give you a sip even if you give me a thousand bucks!"
Jessica Lall to Manu Sharma, before she was shot at
(overheard by Malini Ramani). [2]

यह एक व्यस्त रात थी, पेय जल्दी ही खत्म हो गए, लगभग रात के 2 बजे मनु शर्मा एक जाम की मांग की जिसके लिए जेसिका ने मना कर दिया, उसने एक हजार रुपए देने की पेशकश की कोशिश की, उसे भी उसने मना कर दिया. हालांकि आगे वहां क्या हुआ इसके बारे में अलग-अलग मत हैं, जल्दी ही नशे और गुस्से की हालत में मनु शर्मा ने जेसिका लाल पर बहुत नज़दीक से दो गोलियां चला दीं, पहली गोली छत पर जा कर लगी. दूसरी घातक साबित हुई, क्योंकि यह जेसिका को कनपटी पर लग गयी थी, जो अब घुटने टेककर बैठ गयी और वह तुरंत बेहोश हो कर गिर गई. बीस मिनट बाद, उसे एक कार में (सफ़दरजंग एन्क्लेव में) आशलोक अस्पताल में ले जाया गया था, और बाद में उसी रात में उसकी चोटों के कारण उसे अपोलो अस्पताल ले जाया गया[2]. पुलिस शरीर को शवपरीक्षण के लिए अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS)में ले कर आयी. डॉ आर के शर्मा और डॉ. सुधीर गुप्ता एम्स (AIIMS) के शव परीक्षण शल्य चिकित्सक थे, जिन्होंने बाद में अभियोजन पक्ष को इस मामले में विभिन्न स्तरों पर महत्वपूर्ण फोरेंसिक राय दी.

इस आपाधापी में, लगभग 90 प्रतिष्ठित मेहमानों और दिल्ली की चारों ओर बिखरी हुई चमक के बीच अपराधी आलोक खन्ना, अमरदीप सिंह गिल (टोनी), और विकास यादव, एक साथ, वहां से आलोक की कार में चुपचाप निकल गए, जबकि मनु शर्मा कुछ देर के लिए एक किलोमीटर दूर स्थित एक गांव में जा छिपा. तीनों ने अमित झिंगन को अपने वसंत कुंज स्थित निवास पर छोड़ दिया, और टोनी के 'फ्रेंड्स कालोनी' स्थित निवास पर पहुचे, जहां बाद में पूरे रास्ते दो पहिया वाहन की सहायता से चल कर पहुचा मनु शर्मा भी उनके साथ शामिल हो गया.

बाद में, मनु शर्मा ने अमित झिंगन को बुलाया, जिसकी सफ़ेद मारुती जिप्सी में मनु शर्मा, विकास यादव, और अमित क़ुतुब कोलोनेड के आगे महरौली क्षेत्र तक गए, जहां पास के एक गाँव में अमित से बालू के ढेर में से हथियार खोद कर निकालने को कहा, जहां गोली चलने के तुरंत बाद जा कर छिपे मनु ने इसे छिपा दिया था. इसके बाद, झिंगन ने मनु को टोनी के निवास पर छोड़ दिया और घर लौट आया.

पुलिस सूत्रों के अनुसार, मनु शर्मा ने एक और दोस्त को जिसका नाम टीटू था, सांसद डी.पी.यादव के घर, बुलाया यहाँ विकास यादव छुपा हुआ था.टीटू संयुक्त राज्य अमेरिका से भारत, एक शादी में शामिल होने आया था. वहां पर उसे छुपाने के लिए हथियार दिया गया था. टीटू के बारे में फिर कुछ पता नहीं लगा, ऐसा लगता है कि हथियार को(जो कि एक 0.22 बोर की पिस्तौल थी), छुपाने के बाद वह संयुक्त राज्य अमेरिका भाग गया[5]. मनु शर्मा ने विकास यादव के गाजियाबाद स्थित निवास में रात बिताई, बाद में उनके भागने में इस्तेमाल किये गए वाहन, टाटा सिएरा, को नोएडा में लावारिस पाया गया था [6].

जहां मनु शर्मा और उसका परिवार तथा विनोद शर्मा और उसका परिवार फरार हो गए[7][8], वहीं आलोक खन्ना और अमरदीप सिंह गिल(टोनी)को 4 मई को गिरफ्तार कर लिया गया. 8 मई को, बीना रमानी, उसका पति जॉर्ज मेलहॉट और उसकी बेटी मालिनी रमानी को अवैध बार "टैमरिंड कोर्ट" चलाने के लिए उत्पाद शुल्क अधिनियम के तहत गिरफ्तार कर लिया गया, मनु शर्मा द्वारा पूछताछ के दौरान किए गए खुलासे के आधार पर मनु शर्मा के साथी अमित झिंगन को भी वसंत कुंज से धारा 201 के साथ 120 के तहत(सबूत मिटाने के षड्यंत्र के लिए)गिरफ्तार कर लिया गया. दिल्ली की एक अदालत ने, बीना रमानी ब्रिटिश नागरिक होने के कारण, उसके पति जॉर्ज मेलहॉट एक कनाडाई होने के कारण, और मालिनी रमानी एक अमेरिकी होने के कारण, रमानी परिवार को जमानत दे दी, हालांकि उनके पासपोर्ट जब्त कर लिए गये; और अमित झिंगन को 21 मई तक न्यायिक हिरासत में भेज दिया .[5][9]

19 मई को, विकास यादव दिल्ली पुलिस के मुख्यालय में गया और आत्मसमर्पण कर दिया है, लेकिन केवल कुछ ही घंटों के बाद वह बाहर आ गया, क्योंकि वह इम्फाल की अदालत से अग्रिम जमानत के कागज़ात ले कर आया था. पुलिस ने उसे उस दिन गिरफ्तार नहीं करने का फैसला लिया, क्योंकि उच्च न्यायालय मणिपुर के आदेश के अनुसार, उसे गिरफ्तार होते ही दो महीनों की जमानत दी गई थी. प्रेस के माध्यम से बात करने के समय उसने कहा, "मनु,(मुख्य आरोपी)" मेरे घर आया था और रात वहां रात बिताना चाहता था .मैंने सिर्फ उसे रुकने की अनुमति दी थी, नहीं जानते हुए कि क्या हुआ है". [10]विकास यादव अंततः 30 मई को पकड़ा गया[6]. बाद में, 9 जुलाई को दिल्ली उच्च न्यायालय ने उसकी जमानत रद्द कर दी, फिर भी विकास यादव कुछ समय के लिए पुलिस हिरासत को टालने में कामयाब रहा[11] सितम्बर, 1999 में, एक सत्र अदालत ने विकास यादव को इस शर्त के साथ अंतरिम जमानत दे दी कि अदालत के सामने सुनवाई शरू होने के एक सप्ताह पहले वो आत्मसमर्पण करके ताजा जमानत लेने की प्रार्थना करेगा[12].

3 अगस्त 1999 को, दिल्ली पुलिस ने मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट की अदालत में आरोप पत्र दायर किया, जिसमें सिद्धार्थ वशिष्ठ उर्फ मनु शर्मा, मुख्य अभियुक्त नामित था और उस पर भारतीय दंड संहिता की धाराओं 302 (हत्या), 201(सबूत नष्ट करना), 120( ख)(आपराधिक षड्यंत्र), और 212(संदिग्धों को शरण); और शस्त्र अधिनियम की धारा 27, 54 और 59 के तहत आरोप लगाया. जबकि दूसरे अभियुक्तों जैसे विकास यादव, कोका कोला कंपनी के अधिकारी आलोक खन्ना और अमरदीप सिंह गिल(साजिश और सबूत नष्ट करने के लिए); श्याम सुंदर शर्मा, अमित झिंगन, योगराज सिंह, हरविंदर चोपड़ा, विकास गिल, राजा चोपड़ा, रविंदर कृष्ण सूदन और धनराज को (अभियुक्त को आश्रय और सबूत नष्ट करने देने के लिए)आईपीसी की विभिन्न धाराओं 120(ख), 302, 201 और 212 के तहत आरोपित किया था.[6]

मनु शर्मा ने पुलिस को एक बयान दिया, जिसमे उसने जेसिका लाल को गोली मारना स्वीकार किया, इस बयान को टेप किया गया था. "उस समय चुनौती के विचार से गोली चलाई थी. यह सुनना शर्मनाक था कि एक हजार रुपये का भुगतान करके भी मुझे एक घूंट भी पीने को नहीं मिलेगा." इस आडियो टेप को प्राप्त करके टीवी चैनल एनडीटीवी (NDTV) पर प्रसारित किया गया, लेकिन यह गवाही कानूनी रूप से प्रभावी नहीं थी. बाद में, हालांकि स्वीकारोक्ति वाले बयान से वो मुकर गया, और दोषी नहीं की दलील मुकदमे में दाखिल की गयी.

मनु शर्मा हरियाणा राज्य के प्रमुख नेताओं में से एक का विनोद शर्मा का बेटा है, जो कांग्रेस पार्टी से जुड़े हैं. इससे पहले राष्ट्रीय मंत्रिमंडल में एक मंत्री रह चुके, विनोद शर्मा मुक़दमे के निर्णय की घोषणा के दौरान हरियाणा सरकार के एक मंत्री थे.

बाद में, समाचार पत्रिका तहलका के एक स्टिंग आपरेशन के द्वारा ये उजागर किया गया कि विनोद शर्मा ने प्रमुख गवाहों को अपने पक्ष में करने के लिए कैसे रिश्वत का भुगतान किया, और विनोद शर्मा ने 6 अक्टूबर 2006 को हरियाणा की मंत्रिपरिषद से इस्तीफा दे दिया.

मनु की चाचियों में से एक, भारत के पूर्व राष्ट्रपति, शंकर दयाल शर्मा की बेटी है.

प्रारंभिक मुकदमा[संपादित करें]

जेसिका लाल हत्या मामले की सुनवाई अगस्त 1999 में शुरू हुई, जिसमे मनु पर हत्या और उसके दोस्तों पर सबूत नष्ट करने और आपराधिक संदिग्धों को पनाह देने जैसे आरोपों को लगाया.

चार गवाह जो शुरू में कह रहे थे कि उन्होंने ह्त्या होते देखी थी अंततः मुकर गए. शायन मुंशी, जो एक मॉडल और दोस्त था और जेसिका लाल के बगल में खडा हो कर पेय परोस रहा था, उसने अपनी कहानी पूरी तरह से बदल दी; पुलिस के साथ पहले से दर्ज गवाही के बारे में उसने कहा कि लिखावट हिंदी में थी, एक ऐसी भाषा जिससे वो वाकिफ नहीं था, और इसे हटा दिया जाना चाहिए. करण राजपूत और शिवदास यादव ने भी कुछ नहीं देखा था, जबकि परीक्षित सागर ने कहा कि वह घटना से पहले ही उस स्थान को छोड़ चुका था. जेसिका की बहन के साथ एक बातचीत में, करन राजपूत ने कथित रूप से एक टेप रिकॉर्डिंग चलाई [13] जिसमे कुछ दोस्तों के साथ ये चर्चा हो रही थी कि कैसे विनोद शर्मा के लोग कई गवाहों को पहले से ही "अपने पक्ष" में कर चुके हैं.

इसके अलावा, यह प्रतीत हो रहा था कि हत्या में इस्तेमाल किये गये कारतूस बदल दिए गये थे. हालांकि बंदूक कभी बरामद नहीं हुई थी, इन कारतूसों को फॉरेंसिक मूल्यांकन के लिए भेजा गया था, जहाँ यह पता चला कि वे दूसरे हथियारों से चलाये गए थे. इसने अभियोजन पक्ष के मामले और कमजोर कर दिया.[कृपया उद्धरण जोड़ें]

शायन मुंशी की गवाही[संपादित करें]

शायन मुंशी कोलकाता के एक प्रसिद्ध नेत्र रोग विशेषज्ञ का बेटा था, जहां उसने प्रतिष्ठित डॉन बोस्को स्कूल में अध्ययन किया था. एक महत्वाकांक्षी मॉडल और जेसिका लाल का परिचित, शायन मुंशी जिस समय गोली चली उस समय जेसिका के साथ बार के पीछे का काम संभाल रहा था. अपने प्रारंभिक वक्तव्य में उसने स्पष्ट कहा कि मनु शर्मा ने दो बार बंदूक चलाई, एक बार हवा में, और एक बार जेसिका पर. इस गवाही को पुलिस द्वारा अपनी प्रथम सूचना रिपोर्ट (एफआईआर (FIR)) में दर्ज किया गया है, जो शायन द्वारा हस्ताक्षरित है. हालांकि, सुनवाई के दौरान उसने ये दावा किया कि वह हिन्दी नहीं जानता था उसे इस बारे में पता नहीं था कि उसने किस पर हस्ताक्षर किए थे.

सुनवाई में, शायन ने कहा कि मनु शर्मा ने केवल एक बार गोली चलाई थी, और वो भी हवा में. उसने मनु के कपडे ध्यान पूर्वक बताये. बाद में, उसने कहा कि एक और गोली, किसी और के द्वारा चलाई गयी, जो जेसिका को लगी. इस आदमी की पोशाक के बारे में वो गोलमाल बोल रहा था, और कह रहा था कि उसने "हल्के रंग" की शर्ट पहन रखी थी. इसने "दो बंदूक सिद्धांत" को जन्म दिया- जिसका साथ फोरेंसिक रिपोर्ट ने दिया जिसमे कहा गया था कि गोलिया विभिन्न हथियारों से चली थी.

बरी होने के बाद, शायन मुंशी पर तीव्र दबाव था, जो पहले से ही एक सफल मॉडलिंग कैरियर शुरू कर चुका था. वह खाना पकाने से सम्बंधित एक टीवी शो के संचालन में[14] तथा अन्य गतिविधियों में शामिल था.

13 मई 2006 को, उसे कोलकाता हवाई अड्डे पर हिरासत में ले लिया, जब वो बैंकॉक के लिए अपनी पत्नी पीया राय चौधरी के साथ उड़ान भरने वाला था.

निचली अदालत द्वारा बरी[संपादित करें]

लगभग एक सौ गवाहों के साथ व्यापक सुनवाई के बाद, अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश एस.एल.भयाना की अध्यक्षता वाली दिल्ली ट्राएल अदालत ने 21 फरवरी, 2006 को जेसिका लाल ह्त्या काण्ड में 9 आरोपियों को बरी कर दिया. जिनको बरी किया गया वो थे, मनु शर्मा, विकास यादव, मनु के चाचा श्याम सुन्दर शर्मा, अमरदीप सिंह गिल और आलोक खन्ना, बहुराष्ट्रीय शीतल पेय की कंपनी के दोनों पूर्व अधिकारी, क्रिकेटर युवराज सिंह के पिता योगराज सिंह, हरविंदर चोपड़ा, विकास गिल और राजा चोपड़ा. सभी 12 आरोपियों में से दो, रविंदर किशन सुदन और धनराज फरार थे, वही निचली अदालत ने आरोप तय करने के समय अमित झिंगन को मुक्त कर दिया था.

अदालत द्वारा आरोप मुक्ति का बताया गया आधार था,"पुलिस जेसिका लाल पर इस्तेमाल किये गए हथियार को नहीं पा सकी थी, साथ ही साथ अपने इस सिद्धांत को भी नहीं स्थापित कर पायी कि दो गोलिया, जिनके खोल घटना स्थल से मिले थे,एक ही हथियार से चलाये गए थे ,; पुलिस के सभी तीन चश्मदीद गवाह, टैमरिंड कोर्ट के बिजली मेकेनिक शिव लाल यादव, अभिनेता शयन मुंशी और रेस्टोरेंट के एक आगंतुक करन राजपूत मुक़दमे में गवाही से पलट गए" , इसके अतिरिक्त पुलिस परिस्थितियों की उन कड़ियों को नहीं जोड़ सकी जो घटना तक पहुचा सके और उस हथियार को नहीं पा सके जो अपराध में प्रयुक्त हुआ[15].

अपने 179 पेज के फैसले में, अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश [एएसजे-(ASJ)]एस.एल.भयाना ने कहा कि पुलिस ने शर्मा के खिलाफ झूठा 'सबूत पेश करने' और 'बनाने' का प्रयास किया. फैसला बार बार संकेत करता है कि अभियोजन पक्ष शुरू से ही झूठे गवाह लाने और सबूत गढ़ने की कोशिश कर रहा है, ताकि मामला बचाव के लिहाज से कठिन होता जाए. निष्कर्ष में, वो अभियुक्त पक्ष के वकील के इस आरोप इस बात से सहमत हुए,"कि 30 अप्रैल, 1999 को पुलिस ने आरोपियों को फ़साने का फैसला ले लिया था."फैसला पढ़िए.

फैसले में पुलिस को इस बात के लिए गलत बताया कि बजाय इसके कि सबूत की सहायता से कातिलों तक पहुचा जाये, पहले उसने अभियुक्त तय कर लिए और फिर उनके खिलाफ सबूत इकट्ठा किये. क्योंकि अभियोजन पक्ष संदेह से परे अपराध की स्थापना में विफल रहा है, सभी नौ अभियुक्त बरी हो गए.

प्रयुक्त कानूनी खामियां[संपादित करें]

फैसले के बाद कई विशेषज्ञों ने भारतीय साक्ष्य अधिनियम 1872 की खामियों पर उंगलियां उठा कर इशारा किया, विशेष रूप से इसकी धारा 25-29:25 पर. पुलिस अधिकारी को दिया गया बयान साबित बयान नहीं माना जाएगा.पुलिस अधिकारी को दिया गया कोई बयान, आरोपी व्यक्ति के खिलाफ साबित नहीं होगा. 26. अभियुक्त जबकि पुलिस की हिरासत में हो उसका दिया गया बयान उसके खिलाफ नहीं साबित होगा. किसी भी व्यक्ति के द्वारा पुलिस अधिकारी की हिरासत में दिया गया बयान, जब तक कि वो एक मजिस्ट्रेट की उपस्थिति में न दिया जाय, उस व्यक्ति के खिलाफ साबित बयान नहीं माना जाएगा. हालांकि, शुरू में ये धाराएं बचाव पक्ष की रक्षा के लिए बनी थी ताकि पुलिस की यातना के कारण कोई बयान ना दिया जाय, यह बाद में कई दोषी प्रतिवादी द्वारा गलत इस्तेमाल भी किया गया है, और इस केस में भी यही हुआ, जहां कई गवाहों ने पूछताछ के दौरान पुलिस को दी अपनी गवाही वापस ले ली.[16].

परिणाम[संपादित करें]

एक जबरदस्त हंगामे के साथ, सैकड़ों हजारों लोगों ने ई-मेल और एसएमएस के द्ववारा याचिका पर अपना गुस्सा जताया, और दूसरे कई लोगों ने इस तथाकथित न्याय की भ्रूणहत्या का उपचार माँगा, जिसे मीडिया चैनलों और समाचारपत्रों ने राष्ट्रपति को भेज दिया. जल्द ही, एनडीटीवी समाचार चैनल ने पुनः मुकदमे को चलाने के आग्रह वाले दो लाख से अधिक सेलफोन संदेश प्राप्त किये और दिखाए[3]. समाचार पत्र हिन्दुस्तान टाइम्स द्वारा आयोजित एक सर्वेक्षण ने ये दिखाया कि भारत में क़ानून प्रवर्तन पर सार्वजनिक लोगों का विश्वास 10 के स्केल पर 2.7 था. जनता का दबाव बढ़ रहा था, और समाचार पत्र सुर्खियाँ जैसे "किसी ने जेसिका को नहीं मारा" दिखा रहे थे, और टीवी चैनल पर एसएमएस पोल चल रहे थे. मॉडल, फैशन डिजाइनर, दोस्त, रिश्तेदार और अन्य लोगों ने दिल्ली में इंडिया गेट फैसले के विरोध में मोमबत्ती की रोशनी में प्रार्थना सभा आयोजित की, जिसके बाद एक और बड़ी प्रार्थना सभा आयोजित की, साथ ही उन्होंने एक सप्ताह लम्बे विशेष टी-शर्ट (नारा:हम जेसिका लाल ह्त्या काण्ड की पुनः जांच का समर्थन करते हैं, सच को बाहर आने दें)अभियान को मनु शर्मा के गृह नगर, चंडीगढ़ में चलाया.चंडीगढ़ में विरोध एक युवा स्वयंभू कार्यकर्ता के नेतृत्व में हो रहा था.(जो अब न्याय और अधिकार लड़ने वाले संगठन ह्युमन राइट्स प्रोटेक्शन ग्रुप का मुखिया था, जिसे पहले "मिडिल फिंगर प्रोटेस्ट्स" के नाम से जाना जाता था). सैकड़ों छात्रों, एम्एनसी(MNC) के अधिकारियों के साथ सेवानिवृत्त सेना अधिकारियों और आईएएस(IAS) अधिकारियों ने विरोध में भाग लिया.[1][3].

सुरेंद्र शर्मा, जो पुलिस जांच के लिए जिम्मेदार निरीक्षक था,हौज खास जैसी महत्वपूर्ण जगह से एक नौकरशाही ओहदे पर स्थानांतरित कर दिया गया. पुलिस भी अपनी पहले की जांच की संभावित सोची समझी अयोग्यता के खिलाफ एक जांच शुरू कर दी.

18 अप्रैल 2006 को, न्यायमूर्ति मनमोहन सरीन व न्यायमूर्ति जे.एम.मलिक की एक डिविजन बेंच ने मनु शर्मा को 1 लाख रुपये (2000 अमरीकी डालर)की जमानत पर रिहा कर दिया.[17] उन्होंने दिल्ली पुलिस की खिचाई की और उससे ये आग्रह किया कि पुन: सुनवाई की प्रक्रिया में कम से कम देरी लगना सुनिश्चित करें.

अपील और उच्च न्यायालय में सजा[संपादित करें]

25 मार्च 2006 को दिल्ली उच्च न्यायालय ने जेसिका लाल हत्या आरोपमुक्ति के खिलाफ पुलिस की एक अपील स्वीकार की, मुख्य अभियुक्त मनु शर्मा तथा आठ अन्य के खिलाफ जमानती वारंट जारी करते हुए उनके देश छोड़ने पर रोक लगा दी. यह एक पुनः सुनवाई नहीं थी, बल्कि केवल एक पहले से ही निचली अदालत में रखे जा चुके साक्ष्यों के आधार पर अपील मात्र थी.

9 सितम्बर 2006 को, समाचार पत्रिका तहलका ने एक स्टिंग ऑपरेशन टीवी चैनल स्टार न्यूज, पर दिखाया, जिसने ये बताया कि किस प्रकार गवाहों को रिश्वत दे कर पर दबाव बना कर उनकी पहले की गवाही को वापस लेने पर मजबूर किया गया. इस खुलासे में, गवाहों को लाखों रुपए के भुगतान के लिए, विनोद शर्मा का नाम मुख्य रूप से सामने आया.[18] केंद्रीय कांग्रेसी नेताओं के दबाव के कारण, विनोद शर्मा को हरियाणा मंत्रिमंडल से इस्तीफा दे दिया.

फैसला[संपादित करें]

15 दिसंबर, 2006 को न्यायमूर्ति आर.एस.सोढ़ी और न्यायमूर्ति पी.के.भसीन की उच्च न्यायालय की बेंच ने एक 61 पन्ने के फैसले में मनु शर्मा को मौजूदा सबूतों के आधार पर दोषी करार दिया.

निर्णय ने कहा कि निचली अदालत बीना रमानी और दीपक भोजवानी जैसे गवाहों की गवाही पर ध्यान नहीं देकर ढीलापन दर्शाया है: "ज्ञानवान जज को पूरे सम्मान के साथ, हम इस बिंदु पर ध्यान दिलाना चाहते हैं कि गवाहों की विश्वसनीयता का परीक्षण करने का ये तरीका शायद ही सबूत के मूल्यांकन का एक नियम मात्र है... जाहिर है, यह दिमाग के इस्तेमाल में की गयी गलती को दर्शाता है, और एक विशिष्ट अंत, जैसे कि दोषमुक्ति की ओर जल्दबाजी के दृष्टिकोण को भी दर्शाता है." [19]

विशेष रूप से, प्रमुख गवाह शायन मुंशी की गंभीर आलोचना हुई, और उसे आपराधिक कार्यवाही का सामना करना पड़ सकता है. उसकी अपनी ही एफआईआर को पलटने के बारे में फैसला बताता है:"[मुंशी] अब दावा कर रहा है कि उक्त कथन हिन्दी में दर्ज किया गया था, जबकि उसने अंग्रेजी में पूरी कहानी बतायी थी क्योकि वो हिन्दी नहीं जानता था... हमें मुंशी का ये स्पष्टीकरण विश्वसनीय नहीं लग रहा है." दो बंदूक सिद्धांत के बारे में है मुंशी की गवाही के बारे में, फैसला कहता हैं: "अदालत में उन्होंने पलटी खा कर एक नया वर्णन प्रस्तुत कर दिया कि वहाँ बार काउंटर में दो लोग थे .... उनके इस पहलू पर [हमें] किसी भी तरह ये संदेह नहीं है कि पूरी तरह से झूठ बोल रहा है... " [20]

21 फरवरी को सभी 32 गवाहों को जो मुकर गए हैं अदालत के समक्ष प्रस्तुत हो कर ये समझाने को कहा गया कि झूठी गवाही देने के लिए क्यों न उन पर मुकदमा चलाया जाय.

20 दिसंबर, 2006 को, मनु शर्मा को आजीवन कारावास की सज़ा सुनायी गयी. अन्य आरोपियों, विकास यादव और अमरदीप सिंह गिल, को सबूत नष्ट करने के लिए चार साल कारावास की सज़ा सुनाई गयी. [21]

मनु शर्मा के वकील आर.के. नसीम ने कहा कि निर्णय की अपील सुप्रीम कोर्ट में की जाएगी, क्योंकि बीना रमानी को चश्मदीद गवाह मानने के मामले में फैसला, गलत था.

एक व्यापक रूप से फ़ैली एक मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, मुक़दमे के बाद मनु शर्मा ने अपने एक दोस्त से हिन्दी में कहा: मेरा भाग्य यही था, तकदीर का फैसला यही था .(मेरा भाग्य यही था. तकदीर का फैसला यही था)[20]

मीडिया में मनु के दोषी साबित होने पर व्यापक उत्सव का माहौल था, जहां इसे इस बात के सबूत के तौर पर देखा जा रहा था कि लोगों की आवाज न्याय का पहिया चला सकती है. भारत में ऐसे केसों के पिछले रिकॉर्ड को देखते हुए(जैसे संजीव नंदा का केस), यह महसूस किया गया कि जेसिका लाल और प्रियदर्शिनी मट्टू मामले में दोष तय होना इस बात का संकेत है कि सबसे ताकतवर भी कानून से ऊपर नहीं थे.

2008 की राजकुमार संतोषी द्वारा बनायी गयी फिल्म, हल्ला बोल,, जेसिका लाल की बार में की गयी ह्त्या के जैसी स्थिति पर बनायी गयी है, और दोषी के छूटने पर इसी जैसे जनता के आक्रोश को जताती है, जो उन्हें अंतिम मुक़दमे तक और सज़ा तक ले जाती है[22].

दिल्ली सरकार ने मनु शर्मा को 30 दिनों का पैरोल दिया

24 सितम्बर 2009 को, दिल्ली के उप राज्यपाल ने जेल से मनु शर्मा को इस आधार पर 30 दिन की पैरोल दे दी कि उसको उसकी बीमार मां को देखभाल करनी है, और उसके पारिवारिक व्यवसाय को भी देखभाल की ज़रुरत है जो उसकी अनुपस्थिति में सही स्थिति में नहीं चल रहा था. कुछ मीडिया रिपोर्ट में यह दावा भी किया गया कि उसे अपनी दादी की मृत्यु के बाद के अनुष्ठान करने है. लेकिन, वे पूरी तरह झूठ साबित हुए क्योंकि शर्मा की दादी की मृत्यु 2008 में हो गयी थी.[23] इस पैरोल को अगले 30 दिनों तक और बढ़ा दिया गया. मनु शर्मा इस दौरान एक नाईट क्लब में पार्टी मनाता देखा गया, और उसकी माँ, जो बीमार थी परिवार द्वारा चंडीगढ़ में चलाये जा रहे पिकाडिली होटल में एक पत्रकार सम्मलेन को संबोधित करती दिखी, जिसमे वह एक महिला क्रिकेट प्रतियोगिता को बढ़ावा दे रही थी.[24]

10 नवंबर, 2009 को, मीडिया के हंगामा करने के कारण, दोषी द्वारा बताये गए कारणों की सही जांच के बिना पैरोल देने और बढाने के लिए आलोचना होने के कारण दिल्ली सरकार ने इस बात पर विचार करने का फैसला किया कि क्या पैरोल को रद्द कर दिया जाये, क्योकि शर्मा सप्ताहांत में दिल्ली के एक नाईट क्लब में गया था. लेकिन मनु शर्मा ने अगले ही दिन, अपने पैरोल के समाप्त होने के दो सप्ताह के पहले ही तिहाड़ जेल में आत्मसमर्पण कर दिया.[कृपया उद्धरण जोड़ें] सुप्रीम कोर्ट ने जेसिका लाल की हत्या के मामले में हाईकोर्ट के फैसले को सही ठहराया. मुख्य आरोपी मनु शर्मा ने 19 अप्रैल 2010 को दिल्ली उच्च न्यायालय द्वारा दी गयी आजीवन कारावास की सजा को चुनौती दी.

उच्चतम न्यायालय द्वारा आजीवन कारावास की सजा[संपादित करें]

19 अप्रैल, 2010 को उच्चतम न्यायालय द्वारा दोषी को आजीवन कारावास की सजा के लिए मंजूरी दे दी गयी.[25] दो जजों की बेंच ने दिल्ली उच्च न्यायालय के निर्णय को कायम रखते हुए कहा कि,"अभियोजन ने अपराध के स्थल पर मनु शर्मा की उपस्थिति को उचित संदेह से परे साबित कर दिया है".[25] मनु शर्मा उर्फ सिद्धार्थ वशिष्ठ के लिए उच्चतम न्यायालय में वरिष्ठ अधिवक्ता राम जेठमलानी ने पैरवी करते हुए उच्च न्यायालय के इस फैसले पर ये कहते हुए हमला किया कि उसने निचली अदालत के दोषी को दोषमुक्त करने के फैसले को दरकिनार कर दिया था. उन्होंने आरोप लगाया कि उच्च न्यायालय की खंडपीठ ने शर्मा को दोषी बताने का अपना मन बना लिया था. सॉलिसिटर जनरल गोपाल सुब्रमण्यम ये कहा कि अपराध में उसकी भागीदारी के लिए मनु शर्मा के खिलाफ पर्याप्त सबूत था.

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

संदर्भ[संपादित करें]

  1. दिल्ली मॉडल की हत्या के लिए भारत में अभियान बीबीसी समाचार, दिल्ली, 9 मार्च, 2006.
  2. एक मॉडल की हत्या इंडिया टुडे, मई 1999 17.
  3. हत्या में बरी किया जाने पर भारत के अमीर पर गुस्सा फूटा न्यूयॉर्क टाइम्स मार्च 13, 2006.
  4. मैं जेसिका को पार्टी के लिए ले गया:गवाह Rediff.com, 5 नवम्बर 2001.
  5. बीना रमानी पकड़ी गयी.छोड़ दी गयी. पति, बेटी भी एक्साईस जाल में द ट्रिब्यून, 9 मई, 1999.
  6. मनु शर्मा, विकास यादव पर जेसिका लाल की हत्या का आरोप लगाया गया है rediff.com, 3 अगस्त, 1999.
  7. मॉडल के कातिल का महाजाल को टालना जारी Rediff.com, मई 3, 1999.
  8. मॉडल की हत्या के बाद पूर्व मंत्री का परिवार फरार Rediff.com, मई 3, 1999.
  9. मनु का एक और दोस्त गिरफ्तार इंडियन एक्सप्रेस, मई 9, 1999.
  10. विकास यादव का समर्पण, फिर भी गिरफ्तारी से बचा Rediff.com, 19 मई, 1999.
  11. विकास यादव फिर से भागता फिर रहा है Rediff.com, 9 जुलाई, 1999.
  12. जेसिका हत्या मामले में विकास यादव को जमानत दी गई Rediff.com, 21 मई, 2001.
  13. rediff.com:रीडिफ़ साक्षात्कार/अजीत लाल, हत्या की शिकार जेसिका लाल के पिता
  14. "Anchors away". http://cities.expressindia.com/fullstory.php?newsid=120243. 
  15. जेसिका लाल हत्या मामले के सभी अभियुक्त बरी द हिंदू, 22 फ़रवरी 2006.
  16. क्यों मनु शर्मा बच गया , 2006, www.lehigh.edu,March 13, 2006.
  17. Onkar Singh. "Jessica case: Manu Sharma granted bail". http://www.rediff.com/news/2006/apr/18jessica.htm. अभिगमन तिथि: 2006-12-27. 
  18. "Transcript of the news expose “Case Ke Kaatil”, produced by Tehelka, and aired on Star News (translation)". Star News/Tehelka. 2006-09-26. http://www.tehelka.com/story_main19.asp?filename=Ne093006JESSICA.asp. अभिगमन तिथि: 2006-10-07. 
  19. जेसिका मामले में प्रमुख गवाह कोर्ट द्वारा झूठा करार दिया गया
  20. PTI (2006-12-20). "Manu Sharma gets life term". http://www.navhindtimes.com/articles.php?Story_ID=122127. अभिगमन तिथि: 2006-12-27. 
  21. Sanghita Singh (2006-12-20). "Manu Sharma gets life term". DNA, Mumbai. http://www.dnaindia.com/report.asp?NewsID=1070294. अभिगमन तिथि: 2006-12-27. 
  22. Jan 11, newkerela.com
  23. http://timesofindia.indiatimes.com/news/city/delhi/Manu-Sharma-out-on-30-day-parole/articleshow/5052879.cms
  24. http://in.news.yahoo.com/242/20091110/1334/tnl-jessica-lal-s-murderer-parties-cm-de.html
  25. http://beta.thehindu.com/news/national/article403180.ece?homepage=true जेसिका केस:सुप्रीम कोर्ट ने मनु शर्मा के अपराधी होने की पुष्टि की

र्य्र्झ्र्क्जोएफ्य्होइओइर्ग्फ्ज्ग्पोज्क्प्ग्म भि[प्य्[रिय्-०रिय्-०रि ओ२७८८९९८४९९०५४क्ल्ग्क्ल ओज्ग्जोप्घ्क्र्पोवेप मो[प्[प्प्,ब्,ल्ब्ल्][ ब्क्भ्फ्द्स् ह्ग्फ्ह्क्फ्ह्ब्ग्;ह्[ल्ह्;[ग्फ्ह्फ्ह्ह्ह्घ्ह्ह्

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]