खेल

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
बचपन का खेल.एसोसिएशन फुटबॉल, ऊपर दिखाया गया है, एक टीम खेल है जो सामाजिक कार्यों को भी प्रदान करता है।

खेल, कई नियमों एवं रिवाजों द्वारा संचालित होने वाली एक प्रतियोगी गतिविधि है। खेल सामान्य अर्थ में उन गतिविधियों को कहा जाता है, जहां प्रतियोगी की शारीरिक क्षमता खेल के परिणाम (जीत या हार) का एकमात्र अथवा प्राथमिक निर्धारक होती है, लेकिन यह शब्द दिमागी खेल (कुछ कार्ड खेलों और बोर्ड खेलों का सामान्य नाम, जिनमें भाग्य का तत्व बहुत थोड़ा या नहीं के बराबर होता है) और मशीनी खेल जैसी गतिविधियों के लिए भी प्रयोग किया जाता है, जिसमें मानसिक तीक्ष्णता एवं उपकरण संबंधी गुणवत्ता बड़े तत्व होते हैं। सामान्यतः खेल को एक संगठित, प्रतिस्पर्धात्मक और प्रशिक्षित शारीरिक गतिविधि के रूप में परिभाषित किया गया है, जिसमें प्रतिबद्धता तथा निष्पक्षता होती है। कुछ देखे जाने वाले खेल इस तरह के गेम से अलग होते है, क्योंकि खेल में उच्च संगठनात्मक स्तर एवं लाभ (जरूरी नहीं कि वह मौद्रिक ही हो) शामिल होता है। उच्चतम स्तर पर अधिकतर खेलों का सही विवरण रखा जाता है और साथ ही उनका अद्यतन भी किया जाता है, जबकि खेल खबरों में विफलताओं और उपलब्धियों की व्यापक रूप से घोषणा की जाती है।

जिन खेलों का निर्णय निजी पसंद के आधार पर किया जाता है, वे सौंदर्य प्रतियोगिताओं और शरीर सौष्ठव कार्यक्रमों जैसे अन्य निर्णयमूलक गतिविधियों से अलग होते हैं, खेल की गतिविधि के प्रदर्शन का प्राथमिक केंद्र मूल्यांकन होता है, न कि प्रतियोगी की शारीरिक विशेषता. (हालांकि दोनों गतिविधियों में "प्रस्तुति" या "उपस्थिति" भी निर्णायक हो सकती हैं).

खेल अक्सर केवल मनोरंजन या इसके पीछे आम तथ्य को उजागर करता है कि लोगों को शारीरिक रूप से स्वस्थ रहने के लिए व्यायाम करने की आवश्यकता है।

हालांकि वे हमेशा सफल नहीं होते है, खेल प्रतियोगियों से खेल भावना का प्रदर्शन करने और विरोधियों एवं अधिकारियों को सम्मान देने व हारने पर विजेता को बधाई देने जैसे व्यवहार के मानदंड के पालन की उम्मीद की जाती है।

व्युत्पत्ति[संपादित करें]

"खेल" ("स्पोर्ट") शब्द की पुराने फ्रेंच शब्द देस्पोर्ट (desport) से उत्पत्ति हुई है, जिसका अर्थ "अवकाश" है।

इतिहास[संपादित करें]

2सरी शताब्दी AD, माय्रण के डिस्कोबोलोस के रोमन पीतल की कटौती.

प्राप्त कलाकृतियों और ढांचों से पता चलता है कि चीन के लोग लगभग 4000 ईसा पूर्व से खेल की गतिविधियों में शामिल थे।[1] ऐसा प्रतीत होता है कि चीन के प्राचीन काल में जिम्नास्टिक एक लोकप्रिय खेल था। तैराकी और मछली पकड़ना जैसे खेलों के साथ कई खेल पूरी तरह से विकसित और नियमबद्ध थे इनका संकेत फराहों के स्मारकों से मिलता है।[2] मिस्र के अन्य खेलों में भाला फेंक, ऊंची कूद और कुश्ती भी शामिल थी। फारस के प्राचीन खेलों में जौरखानेह (Zourkhaneh) जैसा पारंपरिक ईरानी मार्शल आर्ट का युद्ध कौशल से गहरा संबंध था।[3] अन्य खेलों में फारसी मूल के पोलो और खेल में सवारों का द्वंद्वयुद्ध शामिल हैं।

प्राचीन यूनानी काल में कई तरह के खेलों की परंपरा स्थापित हो चुकी थी और ग्रीस की सैन्य संस्कृति और खेलों के विकास ने एक दूसरे को काफी प्रभावित किया। खेल उनकी संस्कृति का एक ऐसा प्रमुख अंग बन गया कि यूनान ने ओलिंपिक खेलों का आयोजन किया, जो प्राचीन समय में हर चार साल पर पेलोपोनेसस के एक छोटे से गांव में ओलंपिया नाम से आयोजित किये जाते थे।[4]

प्राचीन ओलंपिक्स से वर्तमान सदी तक खेल आयोजित किये जाते रहे हैं और उनका विनियमन भी होता रहा है। औद्योगिकीकरण की वजह से विकसित और विकासशील देशों के नागरिकों के अवकाश का समय भी बढ़ा है, जिससे नागरिकों को खेल समारोहों में भाग लेने और दर्शक के रूप में मैदानों तक पहुंचने, एथलेटिक गतिविधियों में अधिक से अधिक भागीदारी करने और उनकी पहुंच बढ़ी है। मास मीडिया और वैश्विक संचार माध्यमों के प्रसार से ये प्रवृत्तियां जारी रहीं. व्यवसायिकता की प्रधानता हुई, जिससे खेलों की लोकप्रियता में वृद्धि हुई, क्योंकि खेल प्रशंसकों ने रेडियो, टेलीविजन और इंटरनेट के माध्यम से व्यावसायिक खिलाड़ियों के खेल का बेहतरीन आनंद लेना शुरू किया। इसके अलावा व्यायाम और खेल में शौकिया भागीदारी का आनंद लेने का रिवाज भी बढ़ा.

नई सदी में, नए खेल, प्रतियोगिता के शारीरिक पहलू से आगे जाकर मानसिक या मनोवैज्ञानिक पहलू को बढ़ावा दे रहे हैं। इलेक्ट्रॉनिक खेल संगठन दिन पर दिन लोकप्रिय होते जा रहे हैं।

क्रियाएं, जहां परिणाम गतिविधि पर निर्णय से निर्धारित होता है, उन्हें प्रदर्शन या प्रतिस्पर्धा माना जाता है।

खेल भावना[संपादित करें]

खेल भावना एक दृष्टिकोण है, जो ईमानदारीपूर्वक खेलने, टीम के साथियों और विरोधियों के प्रति शिष्टाचार बरतने, नैतिक व्यवहार और सत्यनिष्ठा दिखाने तथा जीत या हार में बड़प्पन के प्रदर्शन की प्रेरणा देता है।[5][6]

खेल भावना एक आकांक्षा या लोकाचार को अभिव्यक्त करती है कि गतिविधि का आनंद खुद गतिविधि ही उठाये. खेल पत्रकार ग्रांटलैंड राइस का प्रसिद्ध कथन है कि "यह अहम नहीं है कि तुम हारे या जीते, अहम यह है कि तुमने खेल कैसा खेला", आधुनिक ओलिंपिक भावना की अभिव्यक्ति इसके संस्थापक पियरे डी कॉबिरटीन ने इस प्रकार की है कि "सबसे महत्वपूर्ण बात है।..जीतना नहीं, बल्कि इसमें हिस्सा लेना" ये इस भावना की विशिष्ट अभिव्यक्ति हैं।

खेल में स्वस्थ प्रतिस्पर्धा और जानबूझकर आक्रामक हिंसा के बीच की रेखा को पार करने से ही हिंसा पैदा होती है। एथलीट, कोच, प्रशंसक, कभी अभिभावक कभी-कभी गुमराह वफादारी, प्रभुत्व, क्रोध, या उत्सव के तौर पर लोगों और संपत्ति को हिंसा की भेंट चढ़ा देते हैं। राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय खेल प्रतियोगिताओं में हुरदंग और गुंडागर्दी आम बात हो गयी है और यह एक बड़ी समस्या बन गयी है।

व्यावसायिकता[संपादित करें]

आधुनिक खेलों के नियम, जटिल होते हैं और इनका अत्यधिक आयोजन होता है।

खेल के मनोरंजन वाले पहलू, मास मीडिया के प्रसार और अवकाश के लिए समय बढ़ने के साथ-साथ खेलों में व्यावसायिकता बढ़ी है। इसकी वजह से कुछ-कुछ संघर्ष के हालात भी पैदा हुए हैं, जहां भुगतान का चेक मनोरंजक पहलुओं से ज्यादा अहम हो जाता है या जहां खेलों को ज्यादा से ज्यादा मुनाफेदार और लोकप्रिय बनाने की कोशिश की जाती है और इस तरह कुछ महत्वपूर्ण परंपराएं लुप्त होती जाती हैं।

खेल के मनोरंजन पहलू का मतलब यह भी है कि खिलाड़ियों और महिलाओं को अक्सर सेलिब्रिटी की हैसियत हासिल होती है।

राजनीति[संपादित करें]

समय के साथ खेल और राजनीति ने एक-दूसरे को काफी प्रभावित किया है।

जब दक्षिण अफ्रीका में रंगभेद सरकारी नीति थी, खेलों से जुड़े कई लोग, विशेष रूप से रग्बी यूनियन में आम सहमति से एक दृष्टिकोण अपनाया गया कि उन्हें वहां प्रतिस्पर्धात्मक खेलों में हिस्सा नहीं लेना चाहिए. कुछ लोगों को लगता है कि रंगभेद की नीति के खात्मे में इसका एक प्रभावी योगदान था, जबकि दूसरों को लगता है कि यह काफी लंबे समय तक चल सकता था और और अपना सबसे बुरा प्रभाव दिखा सकता था।[7]

[[1936 के बर्लिन में आयोजित ग्रीष्मकालीन ओलंपिक|1936 के बर्लिन में आयोजित ग्रीष्मकालीन ओलंपिक]] एक मिसाल था, शायद पीछे मुड़कर आत्मनिरीक्षण करने का, जहां एक विचारधारा विकसित हुई, जिसने प्रचार-प्रसार के माध्यम से खुद को मजबूत करने के लिए आयोजन का उपयोग किया।

आधुनिक खेल में मोटरीकरण का आगमन हुआ है।

आयरलैंड के इतिहास में, गेलिक खेल सांस्कृतिक राष्ट्रवाद से जुड़े हुए थे। 20वीं सदी के मध्य तक कोई व्यक्ति गेलिक फुटबॉल खेलने, प्रक्षेपण, या गेलिक एथलेटिक एसोसिएशन (GAA) द्वारा प्रशासित खेलों में भाग लेने से रोका जा सकता था, अगर वह ब्रिटिश मूल के फुटबॉल या अन्य खेलों में भाग लेता या समर्थन करता. हाल तक GAA ने गेलिक स्थानों फुटबॉल और रग्बी यूनियन के खेलने पर प्रतिबंध जारी रखा था। यह प्रतिबंध आज भी लागू है, लेकिन क्रोक पार्क में फुटबॉल और रग्बी खेलने की अनुमति देने के लिए कुछ संशोधन किया गया। जबकि लैंसडाउन रोड को पुनर्विकसित किया जा रहा है। हाल तक नियम 21 के तहत, GAA ने भी ब्रिटिश सुरक्षा बलों और RUC के सदस्यों पर गेरिक खेल खेलने पर प्रतिबंध लगा दिया था, लेकिन 1998 में गुड फ्राइडे समझौते के बाद इस प्रतिबंध को हटाया जा सका.

खेल कार्यकलाप के दौरान, या इसकी रिपोर्टिंग में कई बार राष्ट्रवाद उभर कर सामने आ जाता है। राष्ट्रीय दलों में भाग लेने वाले खिलाड़ी या कमेंटेटर और दर्शक पक्षपातपूर्ण दृष्टिकोण अपनाते हैं। कई अवसरों पर ऐसा तनाव खिलाड़ियों या मैदान के भीतर या बाहर के दर्शकों के बीच हिंसक झड़पों को जन्म (फुटबॉल युद्ध देख सकते हैं) देता है। खेल के बुनियादी मूल्यों के विपरीत ये प्रवृतियां अपने हित और प्रतियोगियों के मनोरंजन के लिए अपनाई जाती रही हैं।

शारीरिक कला[संपादित करें]

जिम्नास्टिक्स

खेल की कला के साथ कई समानताएं हैं। आइस स्केटिंगताई ची और उदाहरण के लिए डांसस्पोर्ट, ऐसे खेल हैं जो कलात्मक नजरिये के करीब होते हैं। इसी प्रकार, कलात्मक जिमनास्टिक, शरीर सौष्ठव, पार्कआवर, प्रदर्शन कला, योग, बॉसबॉल, ड्रेसेज, पाक कला जैसी गतिविधियों में खेल और कला दोनों के तत्व दिखते हैं। शायद इसका सबसे अच्छा उदाहरण बुल फाइटिंग (सांड़ों से लड़ना) है, जिनकी खबरें समाचार पत्रों के कला पन्नों में छापी जाती हैं। वस्तुत: कुछ स्थितियों में खेल, कला के इतने करीब होता है कि वह संभवत: खेल की प्रकृति से संबंधित हो जाता है। उपरोक्त "खेल" की परिभाषा एक गतिविधि का विचार व्यक्त करती है, जो सामान्य प्रयोजनों के लिए नहीं होती, उदाहरण के लिए दौड़ना केवल कहीं पहुंचने के लिए नहीं होता, बल्कि अपने लिए दौड़ना है, जैसे कि हम दौड़ने में सक्षम हैं।

यह सौंदर्य मूल्यबोध के आम विचार के करीब है, जो वस्तु के सामान्य उपयोग से निकले विशुद्ध कार्यकारी मूल्य से ऊपर है। जैसे, सौंदर्यबोध वाली मनभावन कार वह नहीं है जो ए से बी को मिलती है, बल्कि जो अनुग्रह, शिष्टता और करिश्मे से हमें प्रभावित करती है।

उसी तरह, उंची कूद जैसे खेल के प्रदर्शन में सिर्फ बाधाओं से बचने या नदियों को पार करने की गतिविधि हमें प्रभावित नहीं करती. इसमें दिखी योग्यता, कौशल और शैली से हम प्रभावित होते हैं।

कला और खेल के बीच संभवतः स्पष्ट संपर्क प्राचीन ग्रीस के समय से है, जब जिमनास्टिक और कालिस्थेनिक्स (calisthenics) ने प्रतिभागियों द्वारा प्रदर्शित शारीरिक गठन, शक्ति और 'एरेट' सौंदर्य की सराहना शुरू की. कौशल के रूप में 'कला' आधुनिक अर्थ प्राचीन ग्रीक शब्द 'arete से संबंधित है। इस दौर में कला और खेल की निकटता ओलंपिक खेलों के जरिये दिखी, जैसा कि हमने खेल और कलात्मक उपलब्धियों दोनों के समारोहों, कविता, मूर्तिकला और वास्तुकला में देखा है।

तकनीक[संपादित करें]

खेल में प्रौद्योगिकी की एक महत्वपूर्ण भूमिका है, चाहे उसका किसी एथलीट के स्वास्थ्य के लिए उपयोग किया जाये या एथलीट्स की तकनीक या उपकरण की विशेषताओं के रूप में.

उपकरण चूंकि खेल और अधिक प्रतिस्पर्धी हो गए हैं, इसलिए बेहतर उपकरणों की जरूरत बढ़ी है। नई तकनीक के प्रयोग से गोल्फ क्लब, फुटबॉल हेलमेट, बेसबॉल के बल्ले, फुटबॉल की गेंद, हॉकी स्केट्स और अन्य उपकरणों में उल्लेखनीय बदलाव देखे गये हैं।

स्वास्थ्य पोषण से लेकर चोटों के इलाज तक, समय के साथ मानव शरीर के ज्ञान में बढोत्तरी होने के कारण एक खिलाड़ी की संभावनाएं भी बढ़ी हैं। एथलीट अब ज्यादा उम्र का होने के बावजूद खेलने में सक्षम हैं, उनके चोट जल्दी ठीक हो रहे हैं और पिछली पीढ़ियों के एथलीटों की तुलना में अधिक प्रभावी ढंग से प्रशिक्षित हो रहे हैं।

अनुदेश प्रौद्योगिकी के विकास ने खेलों में अनुसंधान के लिए नये अवसर पैदा किये हैं। अब खेल के पहलुओं का विश्लेषण संभव है, जिन्हें पहले पहुंच से बाहर समझा जाता था। गति के चित्र लेने से लेकर खिलाड़ी की गति या उन्नत कंप्यूटर सिमुलेशन को पकड़ने से मॉडल भौतिक स्थितियों को कैद करने में सक्षम होने के कारण एथलीट के क्रियाकलापों को समझने और उनमें सुधार करने की क्षमता पैदा हुई है।

शब्दावली[संपादित करें]

शो जम्पिंग, एक घुड़सवारी खेल.

ब्रिटिश अंग्रेजी में खेल की गतिविधियां सामान्य संज्ञा "खेल" के रूप में चिह्नित हैं। अमेरिकी अंग्रेजी में "खेल" का अधिक इस्तेमाल किया जाता है। अंग्रेजी की सभी बोलियों में, "खेल" एक से अधिक विशिष्ट खेलों के लिए इस्तेमाल किया जाता है। उदाहरण के तौर पर, "फूटबॉल और तैराकी, मेरे पसंदीदा खेल हैं", सभी अंग्रेज़ी बोलने वालों को स्वाभाविक लगेगा जबकि "मैं खेल का आनंद लेता हूं", उत्तरी अमेरिकियों को "मैं खेलों का आनंद लेता हूं" की तुलना में कम स्वाभाविक लगेगा.

"खेल" शब्द का उपयोग कभी-कभी शारीरिक गतिविधि के स्तर के अलावा सभी प्रतिस्पर्धात्मक गतिविधियों के लिए किया जाता है। दक्षता वाले खेल और मोटरवाले खेल दोनों ही शारीरिक गतिविधि प्रदर्शित करते हैं, जैसे दक्षता, खिलाड़ीपन और यहां तक कि ऊंचे स्तर पर पेशेवर प्रायोजन भी शारीरिक रूप से खेले जाने वाले खेलों से जुड़े होते है। हवा के खेल, बिलियर्ड्स, ब्रिज, शतरंज, मोटरसाइकिल दौड़ और पावरबोटिंग, सब अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति द्वारा खेल के रूप में मान्यता प्राप्त हैं, क्योंकि IOC द्वारा मान्यता प्राप्त अंतरराष्ट्रीय खेल संघों की एसोसिएशन में उनकी प्रशासकीय निकायों का प्रतिनिधित्व होता है।[8]

दर्शक खेल[संपादित करें]

खेल प्रतिभागियों के लिए मनोरंजन का एक रूप होने के बावजूद बहुत सारे खेल दर्शकों के सामने खेले जाते हैं। ज्यादातर पेशेवर खेल किसी तरह के 'थियेटर', एक स्टेडियम, मैदान, गोल्फ कोर्स, दौड़ ट्रैक, या खुली सड़क पर आम जनता के देखने के प्रावधान (अक्सर इसकी कीमत भी चुकानी पड़ती है।) के तहत खेले जाते हैं।

ऑस्ट्रेलियन रूल्स फुटबॉल

खेल में अब बड़े टीवी दर्शकों या रेडियो श्रोताओं को भी आकर्षित किया जाता है, क्योंकि प्रतिद्वंद्वी प्रसारक कुछ खेलों के प्रसारण 'अधिकार' के लिए बड़ी राशि की बोली लगाते हैं। फुटबॉल विश्व कप, विश्व के लाखों-करोड़ों टीवी दर्शकों को आकर्षित करता है, जैसे 2006 के फाइनल ने अकेले पूरी दुनिया में 700 मिलियन दर्शकों को आकर्षित किया। संयुक्त राज्य अमेरिका में NFL की चैम्पियनशिप खेल- सुपर बाउल- वर्ष का सबसे ज्यादा देखे जाने वाले टेलीविजन प्रसारणों में से एक बन गया। सुपर बाउल रविवार एक तरह से अमेरिका में राष्ट्रीय अवकाश बन जाता है और दर्शकों की संख्या इतनी ज्यादा होती है कि 2007 में प्रति 30 सेकेंड के स्लॉट के लिए 2.6 मिलियन डॉलर की दर से विज्ञापन मिले.

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

Sports के बारे में, विकिपीडिया के बन्धुप्रकल्पों पर और जाने:
Wiktionary-logo-en.png शब्दकोषीय परिभाषाएं
Wikibooks-logo.svg पाठ्य पुस्तकें
Wikiquote-logo.svg उद्धरण
Wikisource-logo.svg मुक्त स्त्रोत
Commons-logo.svg चित्र एवं मीडिया
Wikinews-logo.svg समाचार कथाएं
Wikiversity-logo-en.svg ज्ञान साधन
संबंधित विषय

संदर्भ[संपादित करें]

  1. "Sports History in China". http://chineseculture.about.com/library/weekly/aa032301a.htm. 
  2. "Mr Ahmed D. Touny (EGY), IOC Member". http://www.ioa.leeds.ac.uk/1980s/84085.htm. 
  3. "Persian warriors". http://www.kuwait-info.com/newsnew/NewsDetails1.asp?id=78319&dt=10/13/2006&ntype=World. 
  4. "Ancient Olympic Games". http://www.olympic.org/uk/games/ancient/index_uk.asp. 
  5. "Merriam-Webster". http://www.merriam.com/cgi-bin/dictionary?va=sportsmanship. 
  6. देखें, जैसे, जोएल फिश और सुज़न मागी, 101 वेज़ टू बी अ टेरेफिक स्पोर्ट्स पेरेंट्स, पृष्ठ. 168. फायरसाइड, 2003. [1]डेविड लेसी, "इट टेक्स अ बैड लुज़र टू बिकम अ गुड विनर." द गार्जियन, 10 नवम्बर 2007.
  7. "Sport and apartheid". http://www.blackwell-synergy.com/doi/abs/10.1111/j.1478-0542.2005.00165.x. 
  8. "Recognized non-Olympic Sports". 2007-01-03. http://www.olympic.org/uk/sports/recognized/index_uk.asp. 

आगे पढ़ें[संपादित करें]