कोलार

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
कोलार
—  शहर  —
श्री कोलारम्मा मंदिर
श्री कोलारम्मा मंदिर
समय मंडल: आईएसटी (यूटीसी+५:३०)
देश Flag of India.svg भारत
राज्य कर्नाटक
ज़िला कोलार
जनसंख्या 113,299 (2001 के अनुसार )
क्षेत्रफल
ऊँचाई (AMSL)

• 822 मीटर (2,697 फी॰)

Erioll world.svgनिर्देशांक: 13°08′N 78°08′E / 13.13°N 78.13°E / 13.13; 78.13 कोलार (कन्नड़: ಕೋಲಾರ)कर्नाटक प्रान्त का एक शहर है। यह कर्नाटक के कोलार जिला में आता है। कोलार भारत के पुराने स्थलों में से है। इस जगह के निर्माण में चोल और पल्लव का योगदान रहा है। मध्‍यकाल में यह विजयनगर के शासकों के अधीन रहा। कोलार में कई पर्यटन स्थल है जहां आप जा सकते हैं। हैदर अली के पिता का मकबरा कोलार की पुरानी इमारतों में से है।

भूगोल[संपादित करें]

कोलार की स्थिति 13°08′N 78°08′E / 13.13°N 78.13°E / 13.13; 78.13[1] पर है। यहां की औसत ऊंचाई है 822 मीटर (2,697 फ़ुट)।

coor title dm|30|31|N|77|25|E|region:IN_type:city

इतिहास[संपादित करें]

कोलार के इतिहास का सम्बन्ध कई प्रमुख दन्तकथाओं से है। इसका सम्बन्ध मुलबगल तालुक के अवनी से है। इसे अवनी क्षेत्र के नाम से भी जाना जाता है। ऐसा माना जाता है कि ऋषि वाल्मीकि (रामायण महाकाव्य के रचनाकार) यहां पर ठहरें थे। इसके अलावा श्रीराम लंका से अयोध्या वापस आ रहे थे तो वह भी कुछ समय के लिए यहां पर रूके थे। राम द्वारा सीता को ठुकराए जाने पर सीता जी अपने दोनों पुत्रों लव व कुश के साथ अवनी में ही शरण लिया था।

प्रमुख आकर्षण[संपादित करें]

कोलारम्मा मंदिर[संपादित करें]

एल आकार में बने इस मंदिर में दो प्रमुख मंदिर दुर्गा (कोलारम्मा) और सप्तमात्रा स्थित है। सप्तमात्रा काफी बड़ा मंदिर है। यह मंदिर द्रविडियन शैली में बना हुआ है। विमान इस शैली की प्रमुख विशेषता होती है। इस मंदिर का निर्माण ग्याहरवीं शताब्दी में हुआ था। इस मंदिर के भीतर महाद्वार बना हुआ है।

कुरूदमेल[संपादित करें]

यह काफी प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर मुलाबगल, होयसल वंश की राजधानी से 12 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। इस मंदिर में कुरूदमेल गणेश की 13.5 फुट ऊंची प्रतिमा स्थापित है।

सोमेश्‍वर मंदिर[संपादित करें]

यह मंदिर विजयनगर शैली का अनूठा उदाहरण है। यह मंदिर हजारों की संख्या में श्रद्धालुओं को अपनी ओर आकर्षित करता है।

कोटी लिंगेश्‍वर[संपादित करें]

कम्मासन्द्रा गांव कोलार से 6 किलोमी. की दूरी पर स्थित है। यहां 80 लाख से भी अधिक लिंग स्थापित है। 108 फीट से अधिक ऊंचा लिंग यहां का प्रमुख आकर्षण है। पर्यटकों के लिए यहां रहने व मुफ्त खाने की सुविधा उपलब्ध है।

सोने की खान[संपादित करें]

यह सोने की खान कोलार से 27 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। इसके अलावा यहां कुछ समय पहले ही बी.ई.एम.एल की स्थापना की गई है।

कोलर पर्वत[संपादित करें]

कोलर बेत्ता या कोलर पर्वत सतश्रीगा पर्वत के नाम से भी जाना जाता है। यह स्थान प्रसिद्ध पर्यटन स्थलों में से एक है।

बाहरी सूत्र[संपादित करें]

संदर्भ[संपादित करें]

  1. Falling Rain Genomics, Inc - Kolar