हिमाचल प्रदेश की कला

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

हिमाचल प्र्देश भारत का एक राज्य है। हिमाचल प्रदेश की कला और शिल्प के उदाहरण है कालीन, चमड़े का काम, शॉल, पेंटिंग, मेटलवेयर और लकडी की पेंटिंग आदि। पश्मीना शाल एक ऐसा उत्पाद है जो अत्यधिक मांग में है। रंगीन हिमाचली टोपियां भी प्रसिद्ध है।[1] एक जनजाति डॉम, सोफे, कुर्सियां, बास्केट और रैक जैसी बांस की वस्तुओं के निर्माण में विशेषज्ञ हैं। बुनाई, नक्काशी, पेंटिंग, या चीज़िंग को हिमाचलियों के जीवन का हिस्सा माना जाता है। हिमाचल विशेष रूप से कुल्लू ,शॉल डिजाइन करने के लिए प्रसिद्ध है।[2] महिलाएँ मिट्टी के बर्तनों और बढ़ईगीरी में पुरुषों में सक्रिय भाग लेते हैं। सदियों से, मंदिरों, घरों, मूर्तियों आदि के निर्माण के लिए हिमाचल में लकड़ी का उपयोग किया गया है।

बुनाई[संपादित करें]

हिमाचल के चरम ठंड सर्दियों में ऊन बुनाई की जरुरत होती है। हिमाचल के लगभग हर घर में एक गड्ढे करघा होती है। ऊन को शुद्ध माना जाता है और इसे एक अनुष्ठान के रूप में इस्तेमाल किया जाता है। एक प्रसिद्ध् वस्तु शॉल है जो अलग अलग जीवंत रंग और पैटर्न में यहाँ उपलब्ध होते है। कालीन और कंबल भी हिमाचल की जीवनशैली का एक महत्वपूर्ण हिस्सा हैं।

लकड़ी के शिल्प[संपादित करें]

हिमाचल भारत के उन कुछ क्षेत्रों में से एक है, जहां लकड़ी ने संरचनात्मक सामग्री के रूप में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। लकड़ी के शिल्प के लिए प्रसिद्ध स्थान चंबा, टिज़ा, कल्प, किन्नौर जिले और कुल्लू हैं।

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. http://www.discoveredindia.com/himachal-pradesh/culture-in-himachal-pradesh/
  2. http://www.fibre2fashion.com/industry-article/2776/handmade-kashmiri-pashmina?page=1