हिन्दू धर्म में गौतम बुद्ध

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
कुछ हिन्दू बुद्ध (नीचे, मध्य में) को विष्णु के दस अवतारों में से एक अवतार के रूप में मानते हैं। यह लघुचित्र (मिनिएचर) जयपुर से प्राप्त हुआ है।

गौतम बुद्ध को भी हिन्दुओं के वैष्णव सम्प्रदाय में भगवान विष्णु का अवतार माना जाता है।

दशावतार में वर्तमान में ९वाँ अवतार बुद्ध को माना जाता है। भविष्य में अंतिम कल्कि अवतार होगा।

गौतम बुद्ध, विष्णु के अवतार के रूप में

बुद्ध का उल्लेख सभी प्रमुख पुराणों तथा सभी महत्वपूर्ण हिन्दू ग्रन्थों में हुआ है। इन ग्रन्थों में मुख्यतः बुद्ध की दो भूमिकाओं का वर्णन है- युगीय धर्म की स्थापना के लिये नास्तिक (अवैदिक) मत का प्रचार तथा पशु-बलि की निन्दा। नीचे उन कुछ पुराणों में बुद्ध के उल्लेख का सन्दर्भ दिया गया है-

हरिवंश पर्व (1.41)

विष्णु पुराण (3.18)

भागवत पुराण (1.3.24, 2.7.37, 11.4.23) [7]

गरुड़ पुराण (1.1, 2.30.37, 3.15.26) [8]

अग्निपुराण (16)

नारदीय पुराण (2.72)

लिंगपुराण (2.71)

पद्म पुराण (3.252)[9]

तथापि हिन्दू ग्रंथों में जिन बुद्ध की चर्चा हुई है वे शाक्य मुनि (गौतम) से भिन्न हैं-

बुद्धोनाम्नाजनसुतः कीकटेषु भविष्यति (श्रीमद्भागवत)

इस भागवतोक्त श्लोकानुसार बुद्ध के पिता का नाम 'अजन' और उनका जन्म 'कीकट' (प्राचीन?) में होने की भविष्यवाणी की गयी है। जबकि बौद्ध ग्रन्थों के अनुसार गौतम बुद्ध के पिता का नाम शुद्धोदन था और उनका जन्म वर्तमान नेपाल के लुम्बिनी में हुआ था।

स्वामी विवेकानन्द के विचार[संपादित करें]

जैसा कि आप पहले से ही जानते हैं, मैं बौद्ध नहीं हूँ। चीन, जापान, सीलोन उस महान शिक्षक के उपदेशों का पालन करते हैं, किन्तु भारत उसे पृथ्वी पर भगवान के अवतार के रूप में पूजता है। मैं वास्तव में बौद्ध धर्म का आलोचक हूँ, लेकिन मैं नहीं चाहूंगा कि आप केवल इस पर ध्यान केंद्रित करें। सामान्यतः मैं उस व्यक्ति की आलोचना करने से दूर रहूँगा जिसे मैं भगवान के अवतार के रूप में पूजता हूँ। लेकिन हम सोचते हैं कि बुद्ध को उनके शिष्यों ने गहराई से नहीं समझा था। हिंदू धर्म (हिंदू धर्म से मेरा तात्पर्य वैदिक धर्म से है) और जिसे हम आज बौद्ध धर्म कहते हैं, वे दोनों आपस में उससे भी अधिक निकट है जितनी निकतता यहूदी धर्म और ईसाई धर्म के बीच है। ईसा मसीह एक यहूदी थे और शाक्य मुनि हिंदू थे। यहूदियों ने यीशु मसीह को अस्वीकार कर दिया, इसके अलावा, उन्होंने उन्हे क्रूस पर चढ़ाया, जबकि हिंदुओं ने शाक्य मुनि को भगवान के रूप में स्वीकार किया और उन्हें भगवान के रूप में पूजा। लेकिन हम हिंदू, यह दिखाना चाहेंगे कि आधुनिक बौद्ध धर्म के विपरीत, भगवान बुद्ध का शिक्षण, यह है कि शाक्य मुनि ने मौलिक रूप से कुछ भी नया नहीं किया। मसीह की तरह, वह पूरक था लेकिन नष्ट नहीं हुआ। लेकिन यहूदी लोग मसीह को नहीं समझते थे, तो बुद्ध के अनुयायी उनके शिक्षण में जो मुख्य बात थी, उसको महसूस नहीं कर पा रहे थे। जिस तरह यहूदी यह नहीं समझ पाए कि ईसा मसीह पुराने नियम को पूरा करने के लिए उत्पन्न हुए हैं, इसी प्रकार बौद्ध के अनुयायियों ने हिंदू धर्म के विकास में बुद्ध द्वारा उठाए गए अंतिम कदम को नहीं समझा। और मैं फिर दोहराता हूं - शाक्य मुनि विनाश करने नहीं आए थे, बल्कि पूरा करने के लिए आए थे - यह तार्किक निष्कर्ष था, हिंदू समाज का तार्किक विकास ...
हिन्दू धर्म बौद्ध धर्म के बिना नहीं रह सकता, ठीक वैसे ही जैसे हिन्दू धर्म के बिना बौद्ध धर्म। हमें यह समझने की जरूरत है कि इस विभाजन ने हमें क्या दिखाया। बौद्ध धर्म ब्राह्मण धर्म के ज्ञान और दर्शन के बिना खड़ा नहीं हो सकता, जैसे ब्राह्मण धर्म बुद्ध के महान हृदय के बिना नहीं खड़ा नहीं हो सकता। बौद्धों और वैदिक धर्म के अनुयायियों के बीच यह विभाजन भारत के पतन का कारण है। यही कारण है कि भारत में तीस करोड़ भिखारियों का निवास है, और पिछले हजार वर्षों से भारत को विजेताओं द्वारा गुलाम बनाये जाने का कारण भी यही है। आइए हम ब्राह्मणों की अद्भुत बुद्धि को हृदय, महान आत्मा और महान शिक्षक की जबरदस्त मानव-प्रेम शक्ति के साथ जोड़ दें।[1]

सर्वपल्ली राधकृष्णन के विचार[संपादित करें]

बुद्ध का लक्ष्य उपनिषदों के आदर्शवाद को उसके सर्वोत्तम रूप में आत्मसात करना था और इसे मानवता की दैनिक आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए अनुकूल बनाना था। ऐतिहासिक रूप से, बौद्ध धर्म का अर्थ था, लोगों के बीच उपनिषदों की शिक्षाओं का प्रसार। और इसमें उन्होंने जो हासिल किया वह आज भी कायम है। ऐसा लोकतांत्रिक आरोहण हिंदू इतिहास की एक विशिष्ट विशेषता है। जब महान ऋषियों के विचार-रूपी खजाने पर गिने-चुने लोगों का अधिकार था तब महान वैष्णव उपदेशक रामानुज, ने पारायणों के सामने भी रहस्यमय ग्रंथों का पाठ किया था। हम कह सकते हैं कि बौद्ध धर्म, ब्राह्मण धर्म की अपने मूल सिद्धान्तों में वापसी है।

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Vivekananda. Buddhism, The Fulfilment Of Hinduism // Swami Vivekananda: Complete Works / लेखक. Sanjay Kumar. — LBA, 2018. — 358 p. — ISBN 9782377879212.

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]