हिन्दूताश दर्रा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
अंतरिक्ष से ली गई इस तस्वीर में कंगशेवार​ बस्ती को पूषा बस्ती से जोड़ता हुआ हिन्दूताश दर्रा दर्शाया गया है
सन् १८७३ के इस नक्शे में हिन्दूताग़ दर्रा दिखाया गया है

हिन्दूताश दर्रा (अंग्रेजी: Hindutash Pass) या हिन्दूताग़​ दर्रा मध्य एशिया में चीन द्वारा नियंत्रित शिनजियांग क्षेत्र में स्थित कुनलुन पर्वतों का एक ऐतिहासिक पहाड़ी दर्रा है। यह काराकाश नदी की घाटी में स्थित कंगशेवार​ नामक एक उजड़ी हुई बस्ती को योरुंगकाश नदी की घाटी में स्थित पूषा नामक शहर से जोड़ता है और आगे चलकर यही सड़क महत्वपूर्ण ख़ोतान तक जाती है।[1]

नाम का अर्थ[संपादित करें]

शिनजियांग की स्थानीय उईग़ुर भाषा में 'हिन्दू ताश' का मतलब 'भारतीय पर्वत' या 'भारतीय शिला' होता है। यह दर्रा भारतीय-प्रभावित ख़ोतान राज्य को लद्दाख़ के ज़रिये भारत की मुख्यभूमि से जोड़ता था, जिस से इसका नाम पड़ा है।

विवरण[संपादित करें]

हिन्दूताश दर्रा पूर्वी कुनलुन शृंखला में स्थित है जहाँ दो अन्य महत्वपूर्ण दर्रे भी मौजूद हैं - संजू दर्रा और इल्ची दर्रा। संजू दर्रा शाहीदुल्ला खेमे के पास है और हिन्दूताश दर्रे से पश्चिमोत्तर में है जबकि इल्ची दर्रा हिन्दूताश से दक्षिण-पूर्व में है। यह पूरा क्षेत्र भारत के अक्साई चीन इलाक़े से उत्तर और पूरोत्तर में पड़ता है, जो वर्तमान में चीन के क़ब्ज़े में है। १८५७ में जर्मन खोजयात्री रॉबर्ट श्लागिंटवाईट (Robert Schlaginweit) ने सुम्गल नामक एक खेमे से चलकर यह दर्रा पार किया था और इसका ब्यौरा देते हुए कहा था कि यह लगभग १७,३७९ फ़ुट (५,४५० मीटर) कि ऊँचाई पर है और इसके शिकार पर तीखी ढलान पर एक हिमानी (ग्लेशियर) स्थित है जिसमें कई बर्फ़ीली खाइयाँ हैं।[2]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Ruins of desert Cathay: personal narrative of explorations in Central Asia and westernmost China, Sir Aurel Stein, Archaeological Survey of India, B. Blom, 1968, ... successfully pushed across the glacier-covered Hindu-tash Pass, some 17,400 feet above the sea, into the high valley of Pusha. For nearly half a century the latter has figured in our maps as almost the only local name ...
  2. The Journal of the Royal Geographical Society, Volume 48, Royal Geographical Society (Great Britain), 1878, ... On the Karakash River, above Fotash, is a camping-ground called Sumgal, from which Robert Schlagintweit crossed the Kuen Luen Range by the Hindu-tagh Pass, estimated by him at 17,379 feet high. At the top of this pass is a glacier much crevassed and extremely steep ...