हँसी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
दिल खोलकर हँसने वाला एक नीगरो व्यक्ति

हँसी या हास्य मानव भावनाओं की अभिव्यक्ति की एक प्रक्रिया है। किसी भी मनुष्य को हँसी आ सकती है। परन्तु हँसी को कुछ लोग केवल मुस्कुराहट तक सीमित रखते हैं, कुछ लोग मुस्कुराने के साथ-साथ मुँह भी खोलते हैं और कम से कम उनके आगे दाँत भी दिखाई पड़ते हैं। हँसी मामूली और औपचारिक हो सकती है जिसमें चेहरा ज़्यादा हिलता नहीं तो कभी लोग सर और शरीर हिला-हिलाकर हँसते हैं। बहुत ज़्यादा हँसने और देर तक हँसने को कहकहा कहते हैं।

आम धारणा के विपरीत, ज्यादातर हँसी चुटकुलों या ऐसे अन्य हास्यपद कारणों से नहीं आती।[1]

मनुष्य विभिन्न कारणों से हँस सकता है। उनमें से कुछ प्रमुख कारण इस प्रकार हैं:

  • खुशी
  • सफलता का एहसास
  • शर्माना
  • किसी चुटकुले पर प्रतिक्रिया व्यक्त करना
  • दूसरों की भूल-चूक या उन लोगों की मूर्खता पर हँसना

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "Why We Laugh". मूल से 13 सितंबर 2018 को पुरालेखित.