हँसी से मृत्यु

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
क्रिसिपस जिसकी कथित रूप से हँसी से मृत्यु हुई थी।
अन्सेल्म फ़र्बाख़ द्वारा रचित Der Tod des Dichters Pietro Aretino

हँसी से मृत्यु एक दुर्लभ प्रकार की मौत है, जो सामन्यतः पूर्णहृदरोध या श्वासावरोध के कारण होती है, और इसके पीछे हँसी का बेरोक-टोक दौर होता है। इस प्रकार की मृत्यु की घटनाएँ प्राचीन यूनान के समय से लेकर आधुनिक काल में भी देखे गए हैं।

हँसी से शरीर को होने वाले लाभ[संपादित करें]

  • इससे ऊर्जा मिलती है।
  • बढ़ती आयु पर रोक लगती है।
  • दिमाग़ ठीक चलता है।
  • यह अच्छी नींद के लिए फायदेमंद है।
  • हंसने से बढ़ती है प्रतिरोधी क्षमता।
  • दर्द से आराम मिलता है।
  • व्यक्तित्व में सकारात्मकता आती है।[1]

हँसी के जोखिम[संपादित करें]

जहाँ हँसी के कई लाभ हैं, वहीं इसमें जोखिम भी है। इन जोखिमों के कारण जीवन भी समाप्त हो सकता है। कुछ प्रमुख जोखिम इस प्रकार से हैं:

  • अंडकोश बढ़ जाने के रोग की संभावना।
  • तेज़-तेज़ अंदाज़ में हँसने से दूषित वातावरण में से साँस बेरोक-टोक अन्दर जाती है, जो शरीर के लिए हानिकारक है।
  • दमे की बीमारी हो सकती है।
  • मनुष्य में असंयम उत्पन्न हो सकता है।
  • सरदर्द को न्योता मिल सकता है।[2]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]