स्वर बैठना/गला बैठना

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

गला बैठना अथवा स्वर बैठना गले की उस अवस्था को कहते हैं जिसमें बोलते समय साथ में साँस भी तेजी से आये, आवाज में कर्कशपन आ जाये अथवा आवाज में तनाव अथवा स्वर कमजोर हो जाये।[1] गला बैठना दुःस्वरता का लक्षण है जिसे गलती से इसके पर्याय के रूप में भी काम में लिया जाता है।[2]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "Hoarseness". NIDCD. 2015-08-18. अभिगमन तिथि 2018-10-28.
  2. "Shortfalls of the American Academy of Otolaryngology-Head and Neck Surgery's Clinical practice guideline: Hoarseness (Dysphonia)". Otolaryngology--Head and Neck Surgery. 143 (2): 175–7, discussion 175-80. August 2010. PMID 20647114. डीओआइ:10.1016/j.otohns.2010.05.026. नामालूम प्राचल |u vauthors= की उपेक्षा की गयी (मदद)