सेन्सो-जी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
सेन्सो-जी
浅草寺
धर्म संबंधी जानकारी
सम्बद्धताशो-कैनन (स्वतंत्र पाठशाला)
देवताशो कैनन बोसात्सू
(Āryāvalokiteśvara)
अवस्थिति जानकारी
अवस्थिति2-3-1 असाकुसा, ताईतो, टोक्यो
देशजापान
वास्तु विवरण
संस्थापककाईशो
निर्माण पूर्ण628
वेबसाइट
www.senso-ji.jp

सेन्सो-जी (金龍山浅草寺 Sensō-ji), एक प्राचीन बौद्ध मंदिर है जो असुकुसा, टोक्यो, जापान में स्थित हैं। यह टोक्यो का सबसे पुराना और महत्वपूर्ण मंदिर हैं। पूर्व में बौद्ध धर्म के तेंदई संप्रदाय से जुड़ा यह मन्दिर, द्वितीय विश्व युद्ध के बाद यह स्वतंत्र हो गया। मंदिर के समीप पांच मंजिला पैगोड़ा, शिंतो मंदिर, असकुसा मंदिर[1] के साथ-साथ कई पारंपरिक सामान कि दुकानें नाकाइज-डोरी स्थित हैं।[2]

सेन्सो-जी कैनन मंदिर दया की बौद्ध देवी, गुनाईन को समर्पित हैं, और दुनिया में सबसे अधिक यात्रा किये जाने वाला आध्यात्मिक स्थल हैं, जहाँ सालाना 30 मिलियन से अधिक आगंतुक आते हैँ।[3][4]

नए साल में आगंतुकों की संख्या के लिए यह जापान में शीर्ष 10 मंदिरों में से एक हैं।

इतिहास[संपादित करें]

किंवदंती वाले, दो मछुआरे भाई हिनोकुमा हामानारी और हिनोखुमा टोकनेरी कि चित्रकारी।
सेन्सोजी में एक चित्रण

यह मंदिर बोधिसत्व कैनन (अवालोकीतेश्वर) को समर्पित हैं। किंवदंती के अनुसार, दो मछुआरे भाई हिनोकुमा हामानारी और हिनोखुमा टोकनेरी को 628 में सुमिदा नदी में कैनन की एक प्रतिमा मिली थी। उनके गांव के प्रमुख हाजिनो नाकामोतो ने मूर्ति की पवित्रता को पहचाना और असकुसा में स्थित अपने घर को एक छोटे मंदिर में बदल कर इसकी स्थापना कर दी ताकि गांव के लोग कैनन की पूजा कर सके।[5] पहला मंदिर 645 ईस्वी में स्थापित किया गया था, जो इसे टोक्यो का सबसे पुराना मंदिर बनाता हैं।[6] टोकुगावा शोगुनेट के शुरुआती वर्षों में, टोकागुवा आईयासु ने टोकूगावा कबीले के संरक्षक मंदिर के रूप में सेंसो-जी को नामित किया।[7] निशिनोमिया इयारारी मंदिर सेन्सो-जी के मंदिर परिसर में स्थित हैं, और एक टोरी के द्वारा मन्दिर के पवित्र मैदान में प्रवेश किया जाता है। द्वार पर एक कांस्य पट्टिका लगी हुई हैं जिसमें उन लोगों को सूचीबद्ध किया गया हैं, जिन्होंने टोरी के निर्माण में योगदान दिया था।[8]

द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान, बमबारी से मंदिर को नष्ट कर दिया गया था। इसे पुनः बाद में बनाया गया और आज यह जापानी लोगों के पुनर्जन्म और शांति का प्रतीक है। आंगन में एक पेड़ है जो हवाई हमलें के दौरान बमबारी से मिट गया था, यहाँ पुराने वृक्ष के ठूंठ से फिर से नया वृक्ष उग आया हैं, और मंदिर के समान ही एक प्रतीक हैं।

मंदिर मैदान[संपादित करें]

सेन्सो-जी मंदिर मैदान
तीर्थयात्री दुकानों से सामान खरीदते हुए।

सेंसो-जी, टोक्यो के सबसे बड़े और सबसे लोकप्रिय त्योहार, संजा मात्सुरी का केन्द्र हैं। यह वसंत के अंत में 3-4 दिनों से अधिक समय तक के लिये होता हैं, आसपास के गलियों को सुबह से शाम तक यातायात के लिये बंद कर दिया जाता हैं।

कई पर्यटक, जापानी और विदेशी, हर साल सेंसो-जी घुमने आते हैं। आसपास के इलाकों में कैटरिंग, और खाने वाले स्थानों के कई परंपरागत दुकानें हैं, जहाँ पारंपरिक व्यंजन (हाथ से बने नूडल्स, सुशी, टेम्पपुरा आदि) मिलते हैं। नाकामीस-डोरी, द्वार से मंदिर की ओर से जाने वाली एक सड़क हैं, जहाँ किनारों में लगी छोटी-छोटी दुकानों में पन्खे, उकीयो-ए (लकड़ी ब्लॉकों प्रिंट), किमोनो और अन्य वस्त्र, बौद्ध स्क्रॉल, पारंपरिक मिठाई, गोड्ज़िला खिलौने, टी-शर्ट और मोबाइल फोन के कवर आदी की बिक्री होती हैं। मंदिर के भीतर एक विशिष्ट चिंतनशील उद्यान हैं, जिसे विशिष्ट जापानी शैली में बनाया गया हैं।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "Sensō-ji". GoJapanGo. मूल से 28 मार्च 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2008-10-23.
  2. "Sensoji Temple - Tokyo Travel Guide | Planetyze". Planetyze (अंग्रेज़ी में). मूल से 11 अगस्त 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2017-06-27.
  3. "संग्रहीत प्रति". मूल से 25 नवंबर 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 28 नवंबर 2017.
  4. "संग्रहीत प्रति". मूल से 1 दिसंबर 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 28 नवंबर 2017.
  5. Davis, James P. (September 2001). "Senso-ji (Pure Land) Buddhist Temple, Asakusa, Tokyo, Japan". University of South Carolina. मूल से 29 जुलाई 2012 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2008-10-23.
  6. World's greatest sites Archived 2008-03-18 at the वेबैक मशीन accessed May 2, 2008
  7. McClain, James et al. (1997). Edo and Paris, p. 86. Archived 2017-01-13 at the वेबैक मशीन
  8. McClain, p. 403. Archived 2017-01-13 at the वेबैक मशीन

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]