सामग्री पर जाएँ

सुहाग रात

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से

सुहागरात(हिंदी: सुहाग रात, उर्दू: سہاگ رات, बांग्ला: বাসর রাত, ফুলশয্যা)भारतीय लोगों के अनुसार या सनातन (हिंदू) धर्म के अनुसार विवाह की दूसरी रात को सुहागरात के नाम से जाना जाता हैं , य़ह रात पति पत्नी की पहली रात है जिससे वो एक दूसरे के बारे में जान ले इसलिए इसे विशेष माना जाता है। इसमें बेड को फ़ूलों से सजाया जाता है।[1]

सामान्यतः इस प्रथा को भारत में जैन, बौद्ध , सिक्ख और मुस्लिम भी मानते हैं।

रीति

सुहाग रात वाले दिन नवविवाहित जोड़े के बिस्तर को फूलों से सजाया जाता है, जिनके बारे में माना जाता है कि यह उनके रिश्ते में मिठास लाता है। यह वैदिक हिंदू विवाहों में पालन किया जाने वाला एक महत्वपूर्ण रिवाज है। यह परंपरा जैन, बौद्ध और मुसलमानों तक भी फैली हुई है। कुछ क्षेत्रों में, विशेष रूप से पूर्वी भारत में, "सुहाग रात" को "चौथी रात" भी कहा जाता है क्योंकि यह अनुष्ठान शादी की चौथी रात को मनाया जाता है[2][3]यह प्रथा है कि दंपति अगली सुबह जल्दी उठकर किसी और से पहले स्नान करते हैं और अपने कपड़े बदलते हैं। पिछली रात पहने गए कपड़ों को गंदा माना जाता है क्योंकि धोबी अगली सुबह सफाई के लिए उन्हें लेने के लिए आता है। सुहाग रात का विस्तार हनीमून टूर तक हो सकता है[4]हालाँकि कुछ धर्मों में युगल व्यवहार भिन्न हो सकते हैं।[5]

सन्दर्भ

  1. "Hindu Wedding". मूल से 30 अक्तूबर 2014 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 22 November 2014.
  2. "Oriya Wedding". अभिगमन तिथि 1 November 2012.
  3. "Bengali Wedding". अभिगमन तिथि 22 November 2014.
  4. "Suhag Raat Customs". मूल से 22 नवंबर 2014 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 22 November 2014.
  5. "Suhag Raat". अभिगमन तिथि 22 November 2019.