सुपरमून

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
20 दिसंबर 2010 को लिए गए पूर्ण चाँद की तस्वीर (बाएँ) और 19 मार्च 2011 के सुपरमून की तस्वीर (दायें)

सुपरमून एक खगोलीय घटना है, जिसमें चाँद, पृथ्वी के सबसे नजदीकी स्थिति में आ जाता है, जिसके परिणामस्वरूप पृथ्वी से चाँद सामान्य दिखने वाले आकार से अधिक बड़ा दिखाई देता है। यह कोई खगोलिय शब्द नहीं है, ये शब्द आधुनिक ज्योतिष की देन है। ऐसा माना जाता है कि इस दौरान समुद्र में ज्वार आने के साथ साथ उन चट्टानों में भी ज्वार आता है। इस कारण भूकंप की घटना होती है, लेकिन इसका कोई ठोस प्रमाण नहीं है।

घटना[संपादित करें]

साल भर में 12 से 13 बार पुर्णिमा या नए चाँद दिखने की घटना होती है, जिसमें से मात्र तीन या चार को ही सुपरमून के रूप में वर्गीकृत किया जाता है।