सुख

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

सुख एक अनुभूति हैं। इसमे आनन्द, अनुकूलता, प्रसन्नता, शांति इत्यादि की अनुभूति होती हैं उसे सुख कहा जाता हैं। सुख की अनुभूति मन से जूड़ी हुई हैं और बाह्य साधनो सेभी सुख की अनुभूति हो सकती हैं और अन्दर क आत्मानुभव से बिना किसी बाह्य साधन एवम अनुकूल वातावरण के बिना भी हरहँएश सुख की अनुभूति हो सकती हैं। नारद ने युधिष्ठिर को सुख की परिभाषा बताते हुए सबसे पहले 'अर्थ' की बात कहा था। उनके मत में यदि मनुष्य के पास निम्नलिखित ६ वस्तुएँ हों तो वह सुखी है-

अर्थागमो नित्यमरोगिता च, प्रिया च भार्या प्रियवादिनी च।
वश्यस्य पुत्रो अर्थकरी च विद्या षड् जीवलोकस्य सुखानि राजन् ॥
हे राजन छः चीजे अपने पास होना जीवलोक में 'सुख' हैं - अर्थागम (पैसा आवे), निरोग काया, प्रिय पत्नी, प्रियवादिनी पत्नी, आज्ञाकारी पुत्र, अर्थकरी विद्या।

सूख और दुख क्या है ____

दुख ==जब किसी इच्छा की पूर्ति नही होती है तो मन में पीढ़ा होती है जैसे शरीर में चोट लगने पर होती है उसी प्रकार जैसे दिल टूटना अपमान होना असफल होने पर ।

सुख == जब किसी इच्छा की पूर्ति होती है तब मन में आनंद उत्पन्न होता है जैसे कुछ अच्छा खाने में स्वाद आता है खुश होने के कुछ कारण सफलता मान सम्मान मिलना किसी का प्रेम मिलना ।

दुख को अधिकांश लोग रोते है वही सुख में प्रसन्न रहते है । जीवन में कोई भी दुख व सुख स्थाई नहीं रहता है जैसे आज किसने कोई लक्ष्य प्राप्त किया फिर नया लक्ष्य बन जाता है उसी प्रकार लक्ष्य प्राप्त ना होने पर लक्ष्य बदल जाता है ।

समझा जाऐ तो जीवन में सुख दुख आता जाता है ।