सिन्डर शंकु

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

सिंडर शंकु या राख शंकु एक ज्वालामुखी कृत स्थलरूप हैं। ज्वालामुखी उदभेदन के साथ शिलाखण्डो और राख की प्रधानता से शंकु बनते हैं। इनके किनारे उत्तल ढाल वाले होते हैं। इसी कारण सिन्डर शंकु इन्हे कहते हैं।

निर्माण[संपादित करें]

इनका निर्माण राख धूल व असंगठित पदार्थों से होता है। अतः ये कम ऊँचे होते हैं। इनमें तरल (लावा) का अभाव होता है। इनका ढाल 30° से 45° तक होता है। मैक्सिको में जोरिल्ला व पारिक्यूटीन तथा लुजोन द्वीप में कैमिग्विन इसी प्रकार के शंकु है।[1]

संरचना[संपादित करें]

उदाहरण[संपादित करें]

  • सिसली का ज्वालामुखी
  • हवाई द्वीप का ज्वालामुखी

आकृति[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

ज्वालामुखी निसरण से बनी आकृति पृथ्वी
आश्रित शंकु | काल्डेरा शंकु | गुम्बद शंकु | मिश्रित शंकु | लावा शंकु | लावालव शंकु | शिल्ड शंकु | सिन्डर शंकु
  1. विद्या इंटरमीडिएट भौतिक एवं मानव भूगोल