सिद्ध (जैन धर्म)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
सिद्ध आत्मा को जैन मंदिरों में इस रूप में पूजा जाता हैं

सिद्ध शब्द का प्रयोग जैन धर्म में भगवान के लिए किया जाता हैं। सिद्ध पद को प्राप्त कर चुकी आत्मा संसार (जीवन मरण के चक्र) से मुक्त होती है। अपने सभी कर्मों का क्षय कर चुके, सिद्ध भगवान अष्टग़ुणो से युक्त होते है।[1] वह सिद्धशिला जो लोक के सबसे ऊपर है, वहाँ विराजते है।

पंच परमेष्ठी[संपादित करें]

जैन दर्शन के अनुसार पाँच पद स्थित जीव पूजनिय हैं। इन्हें पंच परमेष्ठी कहते हैं। सिद्ध इसमें अरिहंतों के बाद आते है।

आठ मूल गुण[संपादित करें]

जैन दर्शन के अनुसार सिद्धों के अनन्त गुण होते हैं जिसमें निम्नलिखित आठ गुण प्रधान होते हैं-[2]

  1. क्षायिक समयक्त्व
  2. केवलज्ञान
  3. केवलदर्शन
  4. अनन्तवीर्य
  5. अवगाहनत्व
  6. सूक्ष्मत्व
  7. अगुरुलघुत्व
  8. अव्यबाधत्व

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

सन्दर्भ सूची[संपादित करें]