साफ़ो

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
A stone bust of a woman with long hair
बस्ट साफ़ो, खुदा हुआ Σαπφω Ερεσια (साफ़ो एरेसिया, "एरेसोस के साफ़ो")।  5 वीं शताब्दी ईसा पूर्व के एक ग्रीक मूल की रोमन  प्रति।

साफ़ो (/ˈस्æf//ˈsæf/; अटारी ग्रीक Σαπφώ [sapːʰɔ̌ː], Aeolic ग्रीक Ψάπφω, Psappho [psápːʰɔː]) (सी. 630 – सी. 570 ईसा पूर्व) लेस्बोस द्वीप से एक पुरातन यूनानी कवि थी।[a] साफ़ो की कविता प्रगीतक कविता थी, और उसे प्यार के बारे में अपनी कविताएं के लिए सबसे अधिक जाना जाता है। उसकी अधिकतर कविताएं अब खो चुकी हैं, और जो बची हैं वह भी खंडित रूप में मिलती हैं। और यहाँ तक प्रगीतक कविता का सवाल है साफ़ो के नाम मात्र तीन टोटके संरक्षित रहे हैं, लेकिन यह वास्तव में हेलेनिस्टिक अनुकरण है।

साफ़ो के जीवन संबंधी बहुत कम जाना जाता है। वह लेस्बोस द्वीप से एक धनी परिवार से थी, हालांकि उसके माता-पिता दोनों के नाम  अनिश्चित हैं। प्राचीन सूत्रों का कहना है कि उसके तीन भाई थे  जिनमें से दो के नाम का उल्लेख भाइयों कविता में है जिसका पता 2014 में चला। उनको 600 ई. पू.,के आसपास सिसिली निर्वासित किया गया था और संभव है 500 ई. पू तक हो काम करना जारी रखा।

Sappho की कविता प्राचीन काल के अधिक अरसे में अच्छी तरह से जाना जाता था और इसकी बहुत प्रशंसा की जाती थी  और उसको हेलेनिस्टिक अलैग्जैन्द्रिया के प्रमुख विद्वानों द्वारा प्रमुख समझे जाते नौ प्रगीत कवियों में समझा जाता था। आज भी Sappho की कविता को असाधारण माना जाता है, और उसके काम ने अन्य लेखकों को आज तक प्रभावित करना जारी रखा है। अकादमिक हलकों के बाहर, वह शायद एक ही सेक्स के लिए इच्छा के एक प्रतीक के रूप में, विशेष रूप से महिलाओं के बीच सब से अधिक जाना जाता है।

जीवन[संपादित करें]

Red-figure vase painting of a woman holding a lyre.  On the left, a bearded man with a lyre is partially visible.
साफ़ो की सभ से पुरानी बची हूई छवियों में से एक, सी. 470 ई. पू.। उसे एक और लेस्बियन और साफ़ो के समकालीन कवि अलेसीअस के बगल में खड़े दिखाया गया है।

कामुकता और समुदाय[संपादित करें]

Painting depicting, on the right, a man, seated, playing a lyre; on the left, four women sitting, and one standing, watching him.
दोनों प्राचीन और आधुनिक दुनिया में, साफ़ो को विषमलैंगिक के रूप में चित्रित किया गया है। लॉरेंस अल्मा-तादेमा की इस पेंटिंग में साफ़ो कवि अल्सेईअस को निहार रही है।

आज, साफ़ो महिला समलैंगिकता का प्रतीक है; आम शब्द लेस्बियन साफ़ो के लिए एक संकेत है।[b][1] हालांकि, उसे हमेशा ऐसा नहीं माना जाता रहा। शास्त्रीय अथीनियान कॉमेडी में Sappho को एक अनेक संबंध रखने वाली विषमलैंगिक औरत के रूप में पेश किया गया था,[2] और यह हेलेनिस्टिक दौर में जाकर हूया कि पहली ग्वाहिएँ संरक्षित रह पाई जो स्पष्ट Sappho की होमो कामुकता की चर्चा करती हैं। [3] हालांकि, इन प्राचीन लेखकों का यह मानना मालूम नहीं होता की Sappho के अन्य महिलाओं के साथ वास्तव में यौन संबंध थे, और देर बाद दसवीं सदी में सुदा ने यह रिकॉर्ड किया है कि Sapph पर "बदनाम करने के लिए यह आरोप लगाया गया," कि उसके अपने "महिला विद्यार्थियों" के साथ यौन संबंध थे।[4]

A painting of a nude woman, lying on a rock, and holding a lyre, while a second woman, kneeling, performs cunnilingus on her.  In the background, one mermaid performs cunnilingus on another, and a different pair of mermaids kiss.  A Greek temple is visible behind them.
एक पेंटिंग की Sappho द्वारा eroticist Édouard-हेनरी Avril चित्रण , यौन व्यवहार में एक ahistorical सामान्यीकृत शास्त्रीय संदर्भ में.

नोट[संपादित करें]

  1. The fragments of Sappho's poetry are conventionally referred to by fragment number, though some also have one or more common names. The most commonly used numbering system is that of E. M. Voigt, which in most cases matches the older Lobel-Page system. Unless otherwise specified, the numeration in this article is from Diane Rayor and André Lardinois' Sappho: A New Edition of the Complete Works, which uses Voigt's numeration with some variations to account for the fragments of Sappho discovered since Voigt's edition was published.
  2. The adjective "sapphic", and the related "sapphist", "sapphism" etc. all also come from Sappho.

संदर्भ[संपादित करें]

  1. Most 1995, पृ॰ 15.
  2. Most 1995, पृ॰ 17.
  3. Rayor & Lardinois 2014, पृ॰ 5.
  4. Hallett 1979, पृ॰ 448.