साइबरस्टॉकिंग

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

साइबरस्टॉकिंग का तात्पर्य इंटरनेट या अन्य इलेक्ट्रॉनिक माध्यमों का उपयोग करके किसी व्यक्ति, समूह या संगठन को डंठल या परेशान करने से है। इसमें कोई झूठे आरोप, मानहानि, बदनामी और परिवाद शामिल हो सकते हैं। साइबरस्टॉकिंग में निगरानी, पहचान चुराना, धमकियां देना , बर्बरता, सेक्स के लिए याचना, या ऐसी जानकारी एकत्र करना शामिल हो सकता है जिसका इस्तेमाल धमकी, शर्मिंदगी या उत्पीड़न के लिए किया जा सकता है।

साइबर स्टाकिंग विभिन्न राज्य विरोधी, बदनामी और उत्पीड़न कानूनों के तहत एक अपराध है। एक दोषी को जेल सहित हमलावर के खिलाफ निरोधक आदेश (रेस्ट्राइनिंग ऑर्डर ), परिवीक्षा या जुर्माना भुगतना पढ़ सकता है।

अन्य कृत्यों से साइबर स्टाकिंग को भेदना[संपादित करें]

क्या साइबर-ट्रोलिंग और साइबर-स्टैकिंग के बीच अंतर करना महत्वपूर्ण है ? अनुसंधान से पता चला है कि ट्रोलिंग हानिकारक नहीं है परन्तु अगर यह लगातार अभियान का हिस्सा है, तो हानिकारक हो सकता है।

टीएम प्रेरणा मोड गुरुत्वाकर्षण विवरण
1 विश्राम का समय साइबर bantering साइबर trolling पल में और जल्दी से पछतावा
2 सामरिक साइबर प्रवंचना साइबर trolling पल में लेकिन अफसोस और जारी नहीं है
3 सामरिक साइबर-धमकी साइबर पीछा समस्याओं का कारण बनने के लिए बाहर जाएं, लेकिन एक निरंतर और नियोजित दीर्घकालिक अभियान के बिना
4 प्रभुत्व साइबर hickery साइबर पीछा एक या अधिक विशिष्ट व्यक्तियों को लक्षित करने के लिए समृद्ध मीडिया बनाने के रास्ते से बाहर जाता है