सलमा सुल्तान

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
सलमा सुल्तान
जन्म 16 मार्च 1947 (1947-03-16) (आयु 72)
भोपाल
राष्ट्रीयता भारतीय
शिक्षा इंद्रप्रस्थ कॉलेज
व्यवसाय पत्रकार
जीवनसाथी आमिर किदवई
बच्चे 2

सलमा सुल्तान (जन्म 16 मार्च 1947) एक भारतीय टेलीविजन पत्रकार हैं जिन्होंने दूरदर्शन (चैनल) में समाचार एंकर के रूप में काम किया[1], और बाद में निर्देशक के रूप में काम किया।[2][3][4]

उन्होंने 1967 से 1997 तक 30 वर्षों तक दूरदर्शन में एक एंकर के रूप में काम किया था।[5] वह अब दक्षिण दिल्ली में जंगपुरा इलाके में रहती है।

जीवनी[संपादित करें]

सलमा सुल्तान का जन्म भोपाल में हुआ था। उनके पिता मोहम्मद असगर अंसारी कृषि मंत्रालय में सचिव थे। सलमा की बड़ी बहन हैं मैमूना सुल्तान भोपाल से चार बार कांग्रेस सांसद रहे चुकी हैं। सलमा और मैमुना अफगानिस्तान के शाह शुजा की परपोती थीं। सलमा ने अपनी शिक्षा मध्य प्रदेश के सुल्तानपुर से की और भोपाल से स्नातक। उन्होंने अपनी पोस्ट ग्रेजुएशन अंग्रेजी में इंद्रप्रस्थ कॉलेज, दिल्ली से की।

सलमा सुल्तान आमिर किदवई की विधवा हैं और एक आयकर आयुक्त साद किदवई और कोरियोग्राफर बेटी सना की माँ हैं।

व्यवसाय[संपादित करें]

23 साल की उम्र में उन्हीने दूरदर्शन पर एक उद्घोषक के लिए ऑडिशन दिया और वह चुनी गई। प्रतिमा पुरी और गोपाल कौल दूरदर्शन में नियमित चेहरे थे, जिन्होंने 15 सितंबर 1959 को अपना संचालन शुरू किया था।[6] दूरदर्शन ने 1965 में 5 मिनट का समाचार बुलेटिन शुरू किया। सलमा सुल्तान ने 31 अक्टूबर 1984 को दूरदर्शन की शाम की खबरों में इंदिरा गांधी की हत्या की खबर दी थी।[7]

अपनी सेवानिवृत्ति के बाद, सलमा सुल्तान दूरदर्शन के लिए सामाजिक विषयों पर धारावाहिकों का निर्देशन करने लगी अपने प्रोडक्शन हाउस लेन्सव्यू प्राइवेट लिमिटेड के तहत। उनके धारावाहिक पंचतंत्र से, सुनो कहनी, स्वर मेरे तुमारे और जलते सवाल ने सबका ध्यान आकर्षित किया। 1989 में महाभारत के तुरंत बाद पंचतंत्र से का प्रसारण हुआ करता था और इस धारावाहिक ने बहुत अच्छा प्रदर्शन किया । जलते सवाल महिलाओं के मुद्दों पर एक धारावाहिक था, जिसे 2004 में डीडी न्यूज पर रविवार को सुबह 11 बजे प्रसारित किया गया था।

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "Three Doordarshan-era anchors recall what a dignified era of television news looked like".
  2. Rana Siddiqui Zaman (22 February 2010). "Gracefully yours!". The Hindu. अभिगमन तिथि 13 October 2013.
  3. "Age of innocence". The Hindu. 25 October 2009. अभिगमन तिथि 13 October 2013.
  4. "Wide Angle Screen". The Indian Express. 22 September 2013. अभिगमन तिथि 18 July 2014.
  5. "The Doordarshan Divas". The Times of India. अभिगमन तिथि 13 October 2013.
  6. "The Tribune, Chandigarh, India – Himachal PLUS". The Tribune. अभिगमन तिथि 13 October 2013.
  7. "The riots that could not be televised". The Indian Express. 3 November 2009. अभिगमन तिथि 13 October 2013.