समद्विबाहु समलम्ब

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
समद्विबाहु समलम्ब

समद्विबाहु समलम्ब (Isosceles trapezium/ isosceles trapezoid ज्यामिति की एक आकृति है।ak zamin kI chorai 42 or 42 fit hai lambai 62 or 79 fit hai to chetrfal or Kone ki lambai kya hogi

परिभाषा[संपादित करें]

यदि किसी समलंब में समान्तर भुजाओं के अतिरिक्त अन्य दो भुजाएं बराबर हों तो वह समलंब समद्विबाहु समलंब कहलाता है। [1]

विशेष समद्विबाहु समलंब[संपादित करें]

समद्विबाहु समलम्ब special cases

समद्विबाहु समलंब में तीन भुजाएं भी समान हो सकती हैं।इसे समत्रिबाहु समलंब( trisosceles trapezoid)[1] कहते हैं। आयत और वर्ग भी विशेष समद्विबाहु समलंब की आकृतियां हैं। (पार्श्व चित्र में देखिये )

विशेषता[संपादित करें]

  • समद्विबाहु समलंब के दोनों विकर्ण समान होते हैं।
  • यदि समलंब की तीन भुजाएं समान हैं तो समलंब के दोनों विकर्ण समान होंगे।
  • आयत भी एक समलंब है इसके भी दोनों विकर्ण सामान हैं।
  • वर्ग भी एक समलंब है इसके भी दोनों विकर्ण समान हैं।

सन्दर्भ[संपादित करें]