सदस्य:Tania.Ramesh1106/प्रयोगपृष्ठ

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

=उपक्षेप=

माँ की माँ को नानी कहते हैं। नानी वह व्यक्ती कहलाती है जो अपने पोते को खुष करने के लिए कुछ भी करने को तैयार है |

=महत्व=

केहने मे नानी माँ की माँ कहलाती हैं, लेकिन उनका महत्व हमारे जीवन में काफी अधिक हें। नानी वही होती है जो हमे उस मिठाई का एक और तुकडा देने के लिए हमेशा तैयार रहती है जबकी हम एक पूरा डब्बा गुल कर चुके होते हैं | दुनिया में शायद ही कोइ और है जो हमे महाभारत और रामायण के किस्से इतने प्यार के साथ और विस्तार में सुना सके। उन्हें अपनी नींद की चिन्ता नही रहती, वो तो अपने कहाँनियों से हमे सुलाने की कोशिश में जुटी रहती हैं। एक नानी का ही दिल होता है जो हमारे दर्द को हमारे आँखो से ही पहचान लेती हैं। नानी हमेशा अपने पोतो के बारे में सोचती है निरपेक्ष की वे उनके साथ है की नहीं। वह अपने पोतों को जितना प्यार करती है, वे नहीं समझ पायेंगे।

विशय[संपादित करें]

नानी केवल है जो बडो में से बच्चों के लिए समय बनाती हैं। वो अंगिनत खेल, वो हज़ार चुटकुले, वो परियो और राक्षसो की कहानियाँ, वह हमरे नानी की ही तो देन होती हैं | इन कहानियों से ही हम अपने भाइयों और बहनों के साथ मिलकर खूब मज़ा उठाते है | नानी वो होती है जो बच्चों की छोटी-बडी प्रश्नो की जवाब आवश्यक देती हैं। जीवन में लोग सबसे महत्वपूर्ण पाठ अपने नाना-नानी से सीखते हैं, क्योंकी वे बच्चो को वह चीज सिखा सकते है जो वे अपने माँ-बाप से न सीख सकते।

योगदान[संपादित करें]

दुनिया में ऐसे कम ही खुशनसीब होते हैं जिन्हे अपने नानी के साथ रहने का सुख मिलता हैं | उनमे से भी कम इसकी कीमत को समझते है | शायद ही हम उनसे उतना प्रेम कर सके जितना वह हम से करती हैं लेकिन यह महत्वपूर्ण हैं कि हम उन्हे पूरा आदर और सम्मान दे | नानी का प्यार भगवान का दिया वह तोफा है जो सबको नही मिल्ता | कुछ लोग अपनी सारी जिंदगी अपने नाना नानी से शर्म करके निकाल देते हैं | हमें खुशी तो बहुत होती हैं जब हमारी नानी हमे रुपयो का लिफ्फा थमाती हैं लेकिन हम यह समझने मे भूल कर जाते हैं कि उस लिफ्फे का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा वह धन नहीं बल्कि उससे जुडा आशीर्वाद और प्यार होता हैं |

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]