सदस्य:Sirisha1610555/1

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search


 सीमान्त की उपयोगिता कम करने का कानून
आल्फ्रेड मारशेल


अर्थशास्त्र सामाजिक विज्ञान की महारानी के रूप मे जाना जाता है। सामाजिक विज्ञान के रूप मे अर्थशास्त्र आर्थिक सवालो के साथ संबंधित है। यह व्यवस्थित रूप मे व्यक्तियो, समाज और अर्थशास्त्र के आर्थिक व्यवाहार से संबंधित सवालो की एक बडी विविधता की व्याख्या करना चहता है। अर्थशास्त्र कैई कानून और विभिन्न अर्थशास्त्रियो द्वारा योगदान सिदान्तो है। इनमे से बहुत ही प्रसिद्ध है।सीमान्त की उपयोगिता कम करने का कानून शुरू मे एच एच गोसेन ने परिचय दिया था। लेकिन अलफ्रेड मारशेल ने व्यवस्थित निर्मान किया था। अलफ्रेड मारशेल के अनुसार , "एक व्यक्ति की प्रव्रत्ति का उपभोग करने के लिए एक ही उपभोग्य सामग्रियो की संख्या मे व्रध्दि के साथ घटता है"। [1]

सीमान्त कम करने का शर्तो[संपादित करें]

सीमांत उपयोगिता को कम करने का कानून कुछ दिया शर्तो के तहत रखती है। मुख शर्तो है-

१ एक वस्तु की सभी इकाइयो का आकार, रंग, डिजाइन, गुणवत्ता आदी मे समान होना चाहिए। २ अच्छी की इकाई मानक होना चाहिए। कमोडिटी की इकाइया बहुत छोटी या बडी नही होनी चाहिए। अन्यथा कानून क संधारण नही होगा। ३ उपभोग की प्रक्रिया के दौरान स्वाद मे कोई बदलाव नही होना चाहिए । ४ वहा खपत मे निरंतरता होना चाहिए और अगर कोई खपत मे कोई तोडा है तो समय अन्तराल कम होना चाहिए। ५ स्थानापन्न वस्तुओ की कीमतो मे कोई बदलाव नही होना चाहिए।

इन मान्यतो को देकते हुए सीमान्त की उपयोगिता को कम करने का कानून सर्वमान्य रहता है। मानव सीमान्त की उपयोगिता कम करने के बारे मे सामान्यीकरण तो कुछ और सार्वभोमिक है कि यह एक कानून के रुप मे जाना जाता है। उदाहरण के लिए पैसे के स्नचय , टिकटा का स्नर्गह, पराने चित्रो और पुस्तको आदी सीमान्त की उपयोगिता शुरू मे वृद्धि हो सकती है लेकिन कमी नही।[2]

अपवादो[संपादित करें]

सीमांत उपयोगिता को कम करने के कानून के अपवाद कुछ अपवाद हैं, जहां सीमांत के कानून को कम करने का कानून लागू नहीं होता है । कुछ अपवाद निंन के रूप में है १ धन

२ शौक और दुर्लभ चीजें

३ मध्यपान

हीरा

५ प्रदर्शन की बातें

कानून का महत्व[संपादित करें]

सीमांत उपयोगिता को कम करने का कानून कई मायनों में बहुत महत्व का है. इसके महत्व के मुख्य कारण हैं:

१ मांग के कानून का आधार-उपभोक्ता केवल कम कीमत पर बड़ी मात्रा में खरीदने के लिए तैयार है क्योंकि किसी वस्तु की अतिरिक्त इकाई की खपत सीमांत उपयोगिता को कम कर देती है

२  उपभोग व्यय का आधार-सीमांत उपयोगिता कम करने के कानून के आधार प्रदान करता है कि कैसे उपभोक्ता विभिंन वस्तुओं की खरीद पर अपनी आय खर्च करना चाहिए । उपभोक्ता को अपनी आय इस तरह से खर्च करनी चाहिए कि विभिन्ना वस्तुओं पर खर्च होने वाले धन की अंतिम इकाई उसे समान सीमांत उपयोगिता दे।

३ प्रगतिशील कराधान का आधार-प्रगतिशील कराधान उस कराधान की प्रणाली को संदर्भित करता है जिसके अंतर्गत आय में वृद्धि के साथ कराधान की दर बढ़ जाती है. इसका तात्पर्य यह है कि प्रगतिशील कराधान के तहत करों का बोझ गरीबों की तुलना में अमीरों पर अधिक है. इस का आधार सीमांत उपयोगिता को कम करने का कानून है क्योंकि यह तात्पर्य है कि एक अमीर आदमी को सीमांत उपयोगिता एक गरीब आदमी से अधिक है।

  1. https://www.investopedia.com/terms/l/lawofdiminishingutility.asp
  2. https://en.wikipedia.org/wiki/Marginal_utility