सदस्य:Sathyacharan/डेरिवेटिव्स

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

अर्थ[संपादित करें]

डेरीवेटिव एक ऐसा अनुबंध है जिसका मूल किसी अन्तर्निहित संपत्ति से पाया जाता है। कई सामान्यत उपयोग मे आनेवाले यंत्रो को डेरिवेटिव्स कहा जा सकता है क्योंकि, वे अपना मूल किसी संपत्ति से निकालते है। उदहारण के लिए इक्विटी शेयर्स स्वयं एक डेरीवेटिव है क्योंकि ये अपना मूल इक्विटी के अन्तर्निहित से निकलते है। इसी प्रकार कोई अपने घर के लिए बीमा (इन्सुरांस) लेता है जिससे वो घर के सभी जोखिम से बचा सके।

BSE, Dalal Street (54401248)

डेरिवेटिव्स उन सभी प्रमुक वित्तीय साधनों पर आधारित है जो स्पष्ट रूप से इक्विटी, डेब्ट इंस्ट्रूमेंट्स, विदेशी मुद्रा आदि के रूप में बेचे जाते है। इस प्रकार जब हम डेरिवेटिव्स के बारे मे बात करते है, तो हमारा अक्सर मतलब वित्तीय डेरिवेटिव्स से होता है। डेरिवेटिव्स कही प्रकार के होते है जैसे- फॉरवर्ड्स, फ्यूचर्स, विकल्प और स्वाप्स। अधिकांश डेरिवेटिव्स ओवर-द-काउंटर (ऑफ विनिमय) या बंबई स्टॉक एक्सचेंज के रूप मे एक एक्सचेंज पर ख़रीदे-बेचे जाते है। डेरिवेटिव्स वित्तीय साधनों और अन्य दो शेयर्स और डेब्ट के तीन प्रमुख क्ष्रेणियो मे से एक है।

डेरिवेटिव की सुविधाओं[संपादित करें]

१. डेरिवेटिव्स ऊपरी उपकरणों मे से किसी एक का उपजोग करके या, दो या दो से अधिक उपकरणों का एक संयोजन का उपयोग करके उपयोगकर्ताओं की विभिन्न आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए इस तरह से तैयार किया जा सकता।

२. डेरिवेटिव्स अन्तर्निहित परिसंपत्तियों के भविष्य के मूल्य आंदोलनों के बारे मे अपेक्षाऔ के आधार पर कारोबार किया जा सकता है।

३. वे सभी बंद बैलेंसशीट उपकरणों है।

४. वे परिसंपत्ति मूल्यों के उतार-चढ़ाव के जोखिम को कम करने के लिए एक उपकरण के रूप मे इस्तेमाल किया जा सकता है।

डेरिवेटिव्स के प्रकार[संपादित करें]

महत्वपूर्ण वित्तीय डेरिवेटिव्स इस प्रकार है:-

१. फॉरवर्ड्स

२. फ्यूचर्स

३. विकल्प

४. स्वाप्स

फॉरवर्ड्स[संपादित करें]

फॉरवर्ड्स सभी डेरिवेटिव्स के सबसे पुराना और पेहला है। एक फॉरवर्ड अनुबंध दो पक्षों के बीच एक समझोता पर एक पूर्व निर्धारित कीमत पर भविष्य मे एक निश्चित तिथि पर नकदी के लिए एक परिसंपत्ति के एक सहमति मात्रा का आदान प्रदान करने के लिए संदर्भित करता है। वादा किया परिसंपत्ति मुद्रा, वस्तु, उपकरणों, आदि हो सकता है।

उदाहरण:- १ जून को X एक समझोते पर कपास की ५० गांठे को Y, एक कपास व्यापारी से गठरी प्रति १००० रूपये के स्तर पर १ दिसंबर को खरीदता है। यह एक अनुबंध है जहा X, Y के लिए १ दिसंबर को ५०००० रुपये का भुगतान करता है और Y कपास की ५० गांठे X को बेचता है।

एक फॉरवर्ड अनुबंध मे, एक उपयोगकर्ता (धारक), जो एक निश्चित भविष्य की तारिक मे एक सहमति मूल्य पर निर्दिष्ट संपत्ति खरीदने के लिए वादा करता है वो ‘लंबे स्थिति’ मे होना कहा जाता है। दूसरी ओर, उपयोगकर्ता (धारक), जो एक भविष्य की तारिक मे एक सहमति मूल्य पर बेचने के लिए वादा करता है वो ‘छोटी स्थिति’ मे होना कहा जाता है।

फ्यूचर्स[संपादित करें]

फ्यूचर्स अनुबंध यह है जहा कुछ भविष्य की तारीख मे नकदी के लिए किसी भी संपत्ति या मुद्रा या वस्तु विनिमय करने के लिए, एक सहमति मूल्य पर दो पक्षों के बीच एक समझोता होता है। दोनों अनुबंध करने के लिए पार्टियों को एक दुसरे से आपसी विश्वास होना चाहिए। यह केवल संगठित भविष्य के बाजार मे जगह लेता है।

फ्यूचर्स के प्रकार:-

फ्यूचर्स दो प्रकार में विभाजित किया जा सकता है।

१. कमोडिटी फ्यूचर्स

२. वित्तीय फ्यूचर्स

विकल्प (ऑप्शन)[संपादित करें]

विकल्प अनुबंध खरीदार पर या भविष्य मे एक निर्धारित तिथि से पहले एक पूर्व निर्धारित मूल्य पर खरीद या अन्तर्निहित परिसंपत्ति (शेयर्स, बांड, मुद्रा, वस्तु आदि), बजने के लिए एक विकल्प देता है। कीमत जो पूर्व निर्धारित है उसे ‘हड़ताल मूल्य’ या ‘व्यायाम कीमत’ कहा जाता है।

विकल्प के प्रकार:-

विकल्प दो प्रकार में विभाजित किया जा सकता है।

१. पूट विकल्प

२. डबल विकल्प

पूट विकल्प:- यह ऐसा विकल्प है जो विकल्प धारक को निर्धारित तिथि से पहले पूर्व निर्धारिक मूल्य पर एक अन्तर्निहित परिसंपत्ति को बेचने का अधिकार देता है.

डबल विकल्प:- यह एक ऐसा विकल्प है जिसमे विकल्प धारक को भविष्य मे एक निर्धारित तिथि से पहले एक पूर्व निर्धारित मूल्य पर एक अन्तर्निहित परिसंपत्ति को खरीदने या बेचने के लिए आधीकर देता है.

स्वाप्स[संपादित करें]

स्वैप एक व्युत्पन अनुबंध के माध्यम से दो पक्षों के वित्तीय साधनों का आदान-प्रदान होता है। यह उस बात के लिए बाजार या तो मुद्रा बाजार या ब्याज दर बाजार में उतार चढ़ाव या किसी अन्य बाजार से उत्पन्न होने वाले लाभ लेने के लिए व्यवस्था की है।

संदर्भ[संपादित करें]

१. https://en.wikipedia.org/wiki/Derivative_(finance)

२. http://www.bseindia.com/markets/Derivatives/DeriReports/FAQsBasicsofDerivatives.aspx?expandable=5