सदस्य:Megha raghu/प्रयोगपृष्ठ/1

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

हस्तक्षेप और विवर्तन[संपादित करें]

हस्तक्षेप[संपादित करें]

हस्तक्षेप
        यदि दो था अधिक प्रकाश तरंगों निरंतर माध्यम पर यात्रा करती है, तो य्रत्योक लहर माध्यम के किसी भी बिंदु पर, दुसरे के स्वतंत्र होने पर अपना विस्यापन पैदा करती है । उस बिंदु पर परिणामस्वरुप विस्थापन अलग-अलग तरेगों के अतिसंवेदनशीलता का सिद्धांत है जो प्रकाश के हस्तक्षेप का आधार बनाता है । नतीजतन, अधिकतम चमक के क्षेत्र ओर न्युनतम चमक के क्षेत्रों एकांतर रुप से मध्यम में गडित होगा । यह सीधे बैडं था परिपत्र के छल्ले के रुप में हो सकता है था किसी जटिल आकार का हो सकता हैं । इस प्रकार बनाया गया वैकल्पिक उज्ज्वल और गहरा बैंड को हस्तक्षेप के किनारे कहा जाता है। इसे प्राप्त करने  के लिए हस्तक्षेप लहरों को सुसंगत स्रोतों से होने केलिए, उन्हें समान आथाम, समान तरंगों को बाहर करना चहिए। दो स्वतंत्र स्रोत कभी भी सुसंगत नहीं हो सकते।
दो था अधिक सुसंगत स्रोतों से हलकी तरंगों की अतिसंवेदनशीलता के कारण प्रकाश ऊजो के पुनर्वितरण की धटना को हस्तक्षेप कहा जाता है। दो स्रोतों केलिए सुसंगत होना:

१) एक स्रोत दुसरे से प्राप्त किया जाता चाहिए। २)दोनों स्रोत एक ही मुल स्रोत से प्रप्त किए जाने चाहिए।

       इस प्रकार एक स्रोत और इसकी अभासी छवि था एक ही स्रोत की दो आभासी छवियां सुसंगत स्रोत के रुप में कार्य कर सकती है। लेजर शोर सही संकीर्णता के लिए एक बहुत अच्छा उदाहरण है। पुरी तरह से एक रंग का प्रकाश,एक विशिषट दिशा में व्यावहारिक रुप से शुन्य चौड़ाई और अनंत तीव्रता की वर्णक्रमीय पंक्ति दे, लेजर से प्रप्त की जा सकती है। सुसंगत स्रोतों के रुप में लेजर का उपयोग करने के फायदे है:

१) यह प्रकाश के शुद्ध मोनोक्रैमिक को बाहर निकालता है। २) सभी रेडिएटर्स चरण में और एक ही दिशा में फेंक देते है। लेजर के इन गुणों को यह कहना असंभव है कि दो अलग-अलग, लेकिन एक ही प्रकार के लेजर स्रोत स्वतंत्र समन्वित स्रोतों की सभी शर्तों को पूरा करते है।

विवर्तन[संपादित करें]

विवर्तन
         विवर्तन विभिन्न धटनाओं को संदर्भित करता है, जब एक लहर एक बाधा एक भट्ठा का समाना करता है। यह बाधा के ज्यामितीय छाया के क्षेत्र में एक बाधा था एपर्चर के कोनों के चारों ओर प्रकाश की झुकाव के रुप में परिभाषित किया गया है। इन लक्षणों का प्रदर्शन तब होता है,जब एक तरंग एक भट्ठा का सामना करता है जो उसके तरंग दैर्ध्य के आकार में तुलनीय है। विधटन सभी तरंगों के साथ होता है, जिनमें ध्वनि तरंगों, पानी की लहरें, और विदुयत चुम्बकीय तरंग जैसे ध्श्यमान प्रकाश, एक्स-रे और रेटियो तरंग शामिल है।

अंतर[संपादित करें]

विवर्तन तब होता है जब भी प्रवाही लहरों में इस तरह के बदलाव आते हैं, इसका प्रभाव आम तौर पर लहरों के लिए सबसे स्पष्ट होता है, जिनकी तरंग दैर्ध्य लगभग विवर्तनिय वस्तु था भट्ठा के आयामों के बराबर होती है। हस्तक्षेप बैंड और विवर्तन बैंड के बीच अंतर है :

१) हस्तक्षेप फर्श बराबर चौड़ाई के हैं जबकि विवर्तन फेंग असमान चौड़ाई के हैं। २)हस्तक्षेप पैटर्न में न्युनतम तीव्रता का क्षेत्र आमतौर पर लगभग संपुर्ण अंधेरा होता है जबकि विवर्तन पैटने में, न्युनतम तीव्रता के क्षेत्र केवल न्युनतम उज्ज्वल होते हैं और कभी काला नहीं होते हैं।

संदर्भ[संपादित करें]

[1][2]

  1. https://en.wikipedia.org/wiki/Diffraction
  2. https://www.britannica.com/science/interference-physics