संविधान दिवस (भारत)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
संविधान दिवस
संविधान दिवस
किसी भी संशोधन से पहले भारतीय संविधान की प्रस्तावना के मूल पाठ
आधिकारिक नाम संविधान दिवस
अन्य नाम भारत का कानून
मनाने वाले भारत
महत्त्व भारत ने 1949 में संविधान को अपनाया
तिथि 26 नवम्बर
उत्सव स्कूलों में संविधान से संबंधित गतिविधियाँ, समानता के लिए दौड़, विशेष संसदीय सत्र
संबन्धित भारतीय संविधान
अवधि 1 दिन
आवृत्ति (फ्रीक्वेंसी) वार्षिक
नियतिकरण (शेड्यूलिंग) इसी दिन प्रत्येक वर्ष
पहली बार भारत सरकार द्वारा 2015 में, आंबेडकरवादी लोगों द्वारा दशकों पूर्व से
भारतीय संविधान के पिता डॉ॰ बी आर आंबेडकर संविधान सभा के अध्यक्ष डॉ॰ राजेन्द्र प्रसाद को भारतीय संविधान सुपूर्द करते हुए, 26 नवंबर 1949

संविधान दिवस (26 नवम्बर) भारत गणराज्य का संविधान 26 नवम्बर 1949 को बनकर तैयार हुआ था। संविधान सभा के निर्मात्री समिति के अध्यक्ष डॉ॰ भीमराव आंबेडकर के 125वें जयंती वर्ष के रूप में 26 नवम्बर 2015 को संविधान दिवस मनाया गया। डॉ॰ भीमराव आंबेडकर जी ने भारत के महान संविधान को 2 वर्ष 11 माह 18 दिन में 26 नवम्बर 1949 को पूरा कर राष्ट्र को समर्पित किया।[1] गणतंत्र भारत में 26 जनवरी 1950 से संविधान अमल में लाया गया।

आंबेडकरवादी और बौद्ध लोगों द्वारा कई दशकों पूर्व से ‘संविधान दिवस’ मनाया जाता है। भारत सरकार द्वारा पहली बार 2015 से डॉ॰ भीमराव आंबेडकर के इस महान योगदान के रूप में 26 नवम्बर को "संविधान दिवस" मनाया गया।[2][3] 26 नवंबर का दिन संविधान के महत्व का प्रसार करने और डॉ॰ भीमराव आंबेडकर के विचारों और अवधारणाओं का प्रसार करने के लिए चुना गया था।[4]

सन्दर्भ[संपादित करें]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]