संज्ञानात्मक व्यवहारपरक चिकित्सा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

संज्ञानात्मक व्यवहारपरक चिकित्सा (Cognitive behavioral therapy या CBT) मनोचिकित्सा की वह पद्धति है मनोरोगी के सोचने (संज्ञान) तथा उनके व्यवहार पर ध्यान केन्द्रित करती है।यह व्यवहार चिकित्सा का ही एक रूप है इस पद्धति की मान्यता है कि किसी परिस्थिति के बारे में हमारी सोच ही तय करती है कि उस परिस्थिति में हमे कैसा लगेगा और हम क्या आचरण करेंगे। दो लोग किसी एक ही घटना को दो बिलकुल अलग रूप में ले सकते हैं। अतः इस पद्धति में व्यक्ति के सोचने के तरीके या आचरण अथवा दोनो (सोच और आचरण) को बदलने पर बल दिया जाता है।

यह मनोचिकित्सा पद्धति निम्नलिखित मनोरोगों में कारगर सिद्ध हुआ है-

  • चिन्ता (anxiety)
  • अवसाद (depression)
  • पैनिक
  • एगोराफोबिया
  • सोशल फ़ोबिया
  • बुलिमिया
  • आब्सेसिव कम्पल्सिव डिसार्डर
  • पोस्ट ट्रामेटिक डिसार्डर
  • मनोविदलता
  • स्कीजोफ़्रीनिच

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]