शेखावाटी चित्रकारी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
एम्बर किले
Glories by Kiitsu Suzuki, early 19ty century.jpg|अंगूठाकार|भारतिय चित्रकारी]]

शेखावाटी चित्रकारी दिवारो को सजाने के लिये की जाती है। यह राजस्थान के शेखावाटी क्षेत्र में उत्पन्न हुई थी। इस क्षेत्र पर आजादी से पहले शेखावत क्षत्रियों का शासन होने के कारण इस क्षेत्र का नाम शेखावाटी प्रचलन में आया। शेखावाटी की हवेलिया अपनी दीवार के चित्रों के लिए दुनिया भर में जानी जाती है। इन भित्तिचित्रों के विषय देवता, राजा, फूल और दैनिक जीवन से दृश्यों को दर्शाता हैं। शेखावाटी चित्र गोरों को भी दर्शाते हैं। के रूप में पगड़ी के एक समुद्र में अपने विपरीत दिशा में पैदल सेना के दृश्यों में, टोपी से पहचाना जा सकता है। इसके बजाय इसे बारीकी से इतालवी फ्रेस्को 14 वीं सदी के आसपास विकसित तकनीक जैसा दिखता है।[1]

इतिहास[संपादित करें]

शुरू में केवल प्राकृतिक रंगद्रव्य रंग का प्रयोग किया गया जैसे काजल (लैंप काला) काले रंग के लिए, सफेदा (चूने) सफेद रंग के लिए, गेरू (लाल पत्थर) लाल के लिए, नील (इंडिगो) नीले के लिए, केसर नारंगी के लिए और पेवरी (पीली मिट्टी) पीला के लिए इस्तेमाल किया गया। शेखावाटी में, फ्रेस्को चित्रकारों चितारा बुलाया जाता था जो कि कुम्हार जाति के थे। वे भी राजमिस्त्री कहा जाता था, क्योंकि वे दोनों चित्रकला के कार्यों को अच्छी तरह से इमारतों के निर्माण के रूप में प्रदिर्शित किया करते थे। हवेलियों की दीवारों पर बने चित्रण के लिए दुनिया भर में जाना जाता है। इन भित्तिचित्रों के विषयों दैनिक जीवन से देवताओं, राजाओं, फूल और दृश्यों को दर्शाती हैं। चितेरा कहलाने वाले चित्रकारो को इस में उत्कृष्टता हासिल थी। नर्हद (१,५०८ ई. में निर्मित) और झुनझुनु (हंसा 1680-82 राम द्वारा निर्मित) पर छतरियों चित्रकला के इस फार्म के ठीक नमूने हैं।

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "Shekhawati Paintings". मूल से 24 मई 2011 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 18 मार्च 2012.