शरभ

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
Sharabha
Munneswaram Sharabha.jpg
श्री लंका के मुन्नेश्वरम मंदिर में शरभ रूपधारी शिव, नरसिंह रूपी विष्णु को वश में करते हुए।]]
संबंध शिव के अवतार
जीवनसाथी प्रत्यंगिर

हिन्दू मिथकों के अनुसार ‘शरभ’ भगवान शिव के एक अवतार माने जाते है। इनके शरीर का आधा भाग सिंह का, तथा आधा भाग पक्षी का था। संस्कृत साहित्य के अनुसार वे दो पंख, चोंच, सहस्र भुजा, शीश पर जटा, मस्तक पर चंद्र से युक्त थे। वे सिंह और हाथी से भी अधिक शक्तिशाली माने जाते है। वे किसी घाटि को एक ही छलांग में पार कर सकने की क्षमता रखते थे। शिवमहापुराणम् में इनकी कथा का वर्णन आता है। तत्पश्चात् के साहित्य में शरभ एक ८ पैर वाले हिरण के रूप में वर्णित है।[1][2]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Pattanaik, Devdutt (2006). Shiva to Shankara decoding the phallic symbol. Sharabha (Shiva Purana). Indus Source. पपृ॰ 123–124. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-81-88569-04-5.
  2. "शरभ". Monier Williams Sanskrit-English Dictionary. पृ॰ 1057. मूल से 2012-02-26 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 18 January 2010.

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]