शरद पवार

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

शरद पवार भारत के केन्द्रीय मंत्रिमंडल में भुतपुर्वकृषि मंत्री हैं एवं महाराष्ट्र के प्रमुख नेताओं में से एक हैं। श्री पवार भारतीय क्रिकेट नियंत्रण बोर्ड के अध्यक्ष भी हैं।

प्रारंभिक जीवन और परिवार का इतिहास[संपादित करें]

शरद पवारजी का जन्म १२ दिसंबर १९४० को पुणे के बारामती गांव में हुआ था। पिता का नाम गोविंदराव पवार और माता का नाम शारदाबाई पवार है। शारदाबाई पवार पुणे जिला एम. पवार एक ग्यारह बच्चों (सात बेटे और चार बेटियों) गोविंदराव पवार और शारदाबाई (भोंसले) को जन्म की है। गोविंदराव पवार ये निरा केनाल सहकारी सोसायटी के सेक्रेटरी थे।बाद में वे बारामती सहकारी बेंक के व्यवस्थापक नियुक्त हुए।शारदाबाई पवार यह इ स १९३८ में पुणे जिला लोकल बोर्ड शिक्षा समिती की प्रमुख बनी।सांसद सुप्रिया सुळे ये पवार जी की बेटी है तो पूर्व सिंचाईमंत्री अजित पवार ये उनके भतीजे है।गोविंदराव बारामती किसानों की सहकारी (सहकारी Kharedi Vikri संघ) द्वारा नियोजित किया गया था उसकी माँ whilst Katewadi, बारामती से दस किलोमीटर की दूरी पर परिवार के खेत के बाद देखा. भाई बहन की सबसे अच्छी तरह से शिक्षित थे और या तो पेशेवरों थे या अपने स्वयं के व्यवसाय भागा. श्री पवार ने पुणे में BrihanMaharashtra के वाणिज्य (BMCC) कॉलेज में अध्ययन किया। वह एक औसत छात्र था, तथापि, छात्र राजनीति में सक्रिय. श्री पवार पहले राजनीतिक कार्य जब वह Pravaranagar में गोवा के स्वतंत्रता के लिए मार्च 1956 में एक विरोध प्रदर्शन का आयोजन किया था। [2] श्री पवार प्रतिभा शादी है (nee शिंदे). वे एक बेटी, सुप्रिया सदानंद सुले के लिए जो शादीशुदा है और अब राजनीति में सक्रिय है। श्री पवार के भतीजे अजीत पवार भी अपने ही अधिकार में एक प्रमुख राजनीतिज्ञ है। श्री पवार के छोटे भाई, प्रताप प्रभावशाली मराठी दैनिक सकाल अखबार के संपादक है।

जीवन[संपादित करें]

1990 तक शरद पवार बारामती से 1967 में पहली बार के लिए महाराष्ट्र विधानसभा में प्रवेश किया अविभाजित कांग्रेस पार्टी का प्रतिनिधित्व. यशवंतराव चव्हाण शरद पवार की राजनीतिक संरक्षक था। पवार ने कांग्रेस से दूर तोड़ विपक्ष जनता पार्टी के साथ गठबंधन सरकार 1978 में पहली बार के लिए एक समय था जब इंदिरा गांधी 1975 में अविश्वसनीय रूप से आपातकाल की उसे लागू करने के कारण अलोकप्रिय हो गया था पर महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री बनने के फार्म। इस प्रोग्रेसिव डेमोक्रेटिक फ्रंट सरकार फरवरी, 1980 में केंद्र में इंदिरा गांधी के सत्ता में लौटने के बाद बर्खास्त कर दिया गया था। चुनाव कि बाद में, कांग्रेस पार्टी राज्य विधानसभा और ए.आर. में बहुमत जीता अंतुले, राज्य के मुख्यमंत्री के रूप में पदभार संभाल लिया है। पवार ने 1981 में कांग्रेस के प्रेसीडेंसी पदभार संभाल लिया है। पहली बार के लिए, वह बारामती संसदीय निर्वाचन क्षेत्र से 1984 में लोकसभा का चुनाव जीता। उन्होंने यह भी बारामती से मार्च 1985 के राज्य विधानसभा चुनाव जीता और थोड़ी देर के लिए राज्य की राजनीति में जारी पसंदीदा और लोकसभा से इस्तीफा दे दिया। इंडियन कांग्रेस (सोशलिस्ट) उनकी पार्टी राज्य विधानसभा में 288 के बाहर 54 सीटों जीता और वह विपक्ष के नेता बने।

उनकी कांग्रेस के लिए लौटने उस समय शिवसेना के उदय के लिए एक कारण के रूप में उद्धृत किया गया है। जून 1988 में, भारत के प्रधानमंत्री और कांग्रेस अध्यक्ष राजीव गांधी को तो वित्त मंत्री और शरद पवार महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री सुधाकरराव चव्हाण के रूप में प्रतिष्ठापित केंद्रीय मंत्रिमंडल में निर्णय लिया गया कि मुख्यमंत्री के रूप में चव्हाण की जगह चुना. शरद पवार ने राज्य की राजनीति है, जो राज्य में कांग्रेस पार्टी के प्रभुत्व के लिए एक संभावित चुनौती थी में शिवसेना के उदय की जाँच का कार्य किया था [प्रशस्ति पत्र की जरूरत]. 1989 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस पार्टी 48 के बाहर महाराष्ट्र में 28 सीटें जीती. फरवरी 1990 के राज्य विधानसभा चुनावों में शिवसेना और भारतीय जनता पार्टी के बीच गठबंधन कांग्रेस के लिए एक कड़ी चुनौती है। कांग्रेस राज्य विधानसभा में पूर्ण बहुमत से कम गिर गया, 288 के बाहर 141 सीटें जीतकर. शरद पवार के मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली थी फिर से 12 स्वतंत्र एम के समर्थन के साथ 4 मार्च 1990 को विधायक. १९६७ में शरद पवार ने महाराष्ट्र विधानसभा में प्रवेश किया। यशवंतराव चव्हाण शरद पवार के राजनीतिक संरक्षक थे। राजकरण इ स १९५६ में शालेय जीवन में उन्होंने गोवा मुक्ती सत्याग्रह का समर्थन करने के लिए विद्यार्थीयों का मेला आयोजित किया। यहाँ से उनके राजकीय जीवन की शुरुआत हुई। कॉलेज में उन्होंने विद्यार्थी संघटन का नेतृत्व किया। इस दौरान उन्होंने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री यशवंतराव चव्हाण को आमंत्रित किया था। पवारजी ने उस समय किए भाषण से यशवंतराव चव्हाण खूप पभावित हुए और यशवंतराव के कहने पर पवार ने युवक काँग्रेस पक्ष में प्रवेश किया। चव्हाण ने पवार में नेता गुण पहचाने और पवार उनके शिष्य बन गए। जब चव्हाण पुना आए थे तब पवार को अनेक बार वैयक्तिक तौर पर मार्गदर्शन किया।उम्र के २४ वे साल में पवार महाराष्ट्र राज्य के युवक कॉग्रेस के अध्यक्ष बन गए। तभी से पवार जी को यशवंतराव चव्हाण जी का राजकीय उत्तराधिकारी के तौर पर पहचाना गया। इ.स. १९६६ में पवार जी को युनेस्को की छात्रवृत्ती मिली। उसके कारण उन्हें पशिचम जर्मनी, फ्रान्स, इंगलेंड आदि विदेशों में जाने का अवसर मिला और वहाँ पर राजकिय पक्ष संगठन का नजदीकी से अध्ययन करने का मौका भी मिला।

विधानसभा-

।१९६७ में राज्य विधानसभा चुनाव में वे बारामती मतदान केंद्र से चुने गए।वसंतराव नाईक निंबाळकर के मंत्रिमंडल में उन्हें राज्य मंत्रीमंडल का दर्जा प्राप्त हुआ।उस वक्त वे २९ वर्ष के थे। १९७२ और १९७८ के चुनाव में भी वे विजयी हुए। १९७८ में वसंतदादा पाटील महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री बने। यशवंतराव चव्हाण के साथ ही वसंतदादा पाटील भी पवार के मार्गदर्शक थे।पर १२ विधायकों को अपने साथ लेकर उन्होंने विरोधी पक्ष के साथ गठबंधन किया। उस समय वसंत दादा पाटील ने पवार पर आरोप लगाया कि पवार ने पीठ पीछे खंजीर खुपसा। मुख्यमंत्री १८ जुलै १९७८ को शरद पवार राज्य के मुख्यमंत्री बने। उन्होंने पुलोद नाम की अलायन्स बनाई। जिसमें इंदिरा कॉग्रेस छोडे हुए १२ विधायक, यस कॉग्रेस और जनता पार्टी शामिल थी।उस समय वे सबसे युवा मुख्यमंत्री थे। लेकिन १९८० में इंदिरा गांधी केन्द्र में सत्ता में आने के बाद विरोधी पक्ष की राज्य सरकारे बरखास्त की उसमें महाराष्ट्र की पवार सरकार भी बरखास्त हुई । बरखास्ती के बाद लिए गए विधानसभा चुनाव में कॉग्रेस आए ने २८८ में से १८६ सीटें हासिल की और बैरिस्टर ए.आर अंतुले महाराष्ट्र के नए मुख्यमंत्री वाके चुने गए। उस समय शरद पवार विधानसभा के प्रमुख विपक्षी नेता बने। इ स १९९१ में शरद पवार ने राज्य में कांग्रेस के प्रचार की जिम्मेदारी अपने बलबुते की उसमें ४८ में से ३८ जगहों पर सीटें मिली। प्रधानमंत्री के पद के लिए नरसिंहराव, अर्जुनसिंग और शरद पवार का नाम अखबारों में लिया जा रहा था पर संसदीय पक्ष ने नरसिंहराव को प्रधानमंत्री पद के लिए चुना। इ स १९८७ में शरद पवार ने ९ वर्ष के अंतराल के बाद राजीव गांधी की उपस्थिती में औरंगाबाद में फिर से कॉंग्रेस पक्ष में प्रवेश किया।प्रधानमंत्री और कॉग्रेस अध्यक्ष राजीव गांधी ने शंकर राव चव्हाण कोई केन्द्रीय मंत्रीमडल में अर्थ मंत्री के पद पर नियुक्त किया और शरद पवार को मुख्य मंत्री का पद दिया। २६ जून १९८८ को महाराष्ट्र के मुख्य मंत्री के रूप में शरद पवार ने मुख्यमंत्री पद की दूसरी बार शपथ ली। अब तक कॉंग्रेस को ज्यादा चुनौतियां नही थी। पर बाळासाहेब ठाकरे के पक्ष ने भाजपा के साथ गठबंधन किया इस कारण अनेक वर्ष अबाधित कॉंग्रेस को चुनौती देने के लिए सुसज्जित हो गया था। उन चुनौतियों का सामना करने के लिए और कॉग्रेस पार्टी का वर्चस्व पूर्ववत रखने की जिम्मेदारी शरद पवार पर सो सौपी गई। नवंबर इ स १९८९ के लोकसभा चुनाव में कॉग्रेस पार्टी की ४८ में से २८ जगहों पर जीत हुई। पक्ष की राजस्थान, मध्यप्रदेश, उत्तर प्रदेश इन राज्यों में जैसी अधोगती हुई वैसी महाराष्ट्र राज्य में अधोगती हुई नही। पर १९८४ लोकसभा चुनाव की तुलना में पक्ष ने १५ जगह कम जीती। शिवसेना ने ४ सीटें जीतकर पहिली दफा लोकसभा मे प्रवेश किया। भारतीय जनता पार्टी ने भी १० सीटें हासिल करके दमदार शुरूवात की। लोकसभा चुनाव में प्रभावी काम करने का अच्छा नतीजा यह हुआ कि कार्यकर्ते उत्साह के साथ काम करने लगे। शिवसेना पक्षप्रमुख बाळासाहेब ठाकरे ने देश के कोने कोने में प्रचार किया और कॉग्रेस के सामने चुनौती रखी।राज्य विधानसभा चुनाव में २८८ सीटों में से १४१सीटो पर कॉग्रेस तो ९४ सीटों पर भाजपा आई।राज्य की स्थापना के बाद प्रथम बार कॉग्रेस पक्ष ने विधानसभा मे बहुमत गवॉया।पर १२ अपक्ष विधायकों के बलबुते शरद पवार ४मार्च १९९०को राज्य के फिर से तीसरी दफा मुख्यमंत्री बने। पुनः दिल्ली- प्रधानमंत्री नरसिंहराव ने केंद्रीय मंत्रीमंडल में पवार को संरक्षण मंत्री की जिम्मेदारी दी। २६ जून १९९१ में उनकी केंद्रीय मंत्री के पद पर शपथविधी हुई।महाराष्ट्र में उनकी जगह पर सुधाकरराव नाईक की महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री के पद पर नियुक्ती की गई। राज्य कॉग्रेस के अंतर्गत कलह के कारण सुधाकरराव नाईक को इस्तिफा देना पडा। उसके बाद नरसिंहराव ने शरद पवार को फिर एक बार राज्य के मुख्यमंत्री पद भेजा।६ मार्च १९९३ के दिन शरद पवार चौथी बार महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री बने। दिल्ली की तीसरी फेरी इ. स. १९९६ लोकसभा चुनाव तक पवारजी विधानपरिषद में विरोधी पक्षनेता थे। इ. स.१९९६ लोकसभा चुनाव उन्होंने बारामती से विजय प्राप्त की और फिर राष्ट्रीय राजनीति में आए। जून इ.स. १९९७ में उन्होंने कॉग्रेस अध्यक्ष पद के चुनाव में सीताराम केसरी के खिलाफ चुनाव लड़ा और पराभूत हुए। १९९८ में लोकसभा चुनाव में उन्होंने चुनाव पूर्व रिपब्लिकन पार्टी और समाजवादी पार्टी के साथ एक सहमति से काम करने का फैसला किया। उस चुनाव में उन्होंने ४८ में से ३७ जगहों पर सफलता हासिल की और शिवसेना, भाजपा को सिर्फ १० जगहें मिली। उस समय शरद पवार १२वी लोकसभा मे विरोधी पक्ष नेता बने। १२ लोकसभा बरखास्त होने के बाद १९९९ में पी ए संगमा व तारिक अनवर के साथ शरद पवार ने एसी मांग की कि १३ लोकसभा में कॉग्रेस पार्टी ने इटली में जन्मी सोनिया गांधी के बजाय भारत में जन्मे कोई भी कॉग्रेसी नेता को प्रधानमंत्री पद के लिए उम्मीदवार घोषित किया जाए। कॉग्रेस अध्यक्षा सोनिया गांधी को लिखे हुए पत्र में इन तीनों ने ऐसी बात की कि उच्च शिक्षा प्राप्त कामियाब और काबिल रहनेवाले अनेक व्यक्ति इस ९८ करोड़ भारतीय देश के बाहर जन्मी किसी भी व्यक्ति का नेतृत्व स्वीकार नहीं करेगी क्योंकि यह प्रश्न देश की सुरक्षा, आर्थिक व्यवहार और भारत की राजनैतिक प्रतिमा से और खास करके भारत की अस्मिता से जुड़ी हुई है।इस कारण से कॉग्रेस पार्टी ने शरद पवार यांनी, पी ए संगमा और तारिक़ अनवर इन सब को ६ वर्ष के लिए कॉग्रेस पार्टी से निकाल दिया।

राष्ट्रवादी- इ. स. १९९९ जून मध्ये शरद पवार ने राष्ट्रवादी पक्ष की स्थापना की। १९९९ के विधानसभा चुनाव में किसी भी एक पक्ष को बहुमत नहीं मिला। राष्ट्रवादी पक्ष और कांग्रेस पक्ष आपस में मिले और विलासराव देशमुख राज्य के मुख्यमंत्री बने। २०१४ के लोकसभा चुनाव के बाद पवार का राष्ट्रवादी काँग्रेस पक्ष केन्द्र में मनमोहन सिंग के नेतृत्व में यु.पी.ए सरकार में शामिल हुआ।२२ मई २००४ को शरद पवार ने देश के क्रुषी मंत्री का पद ग्रहण किया। २९ मई २००९ को उन्होंने क्रुषी, सार्वजनिक वितरण मंत्री की जबाबदारी संभाली। जुलै २०१० को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद का अध्यक्ष पद स्वीकारने के बाद पक्ष कार्य को अधिक समय देने की इच्छा मनमोहन सिंग को व्यक्त करते हुए अपना कार्यभार कम करवाया। क्रिकेट राजनीति के साथ ही क्रिकेट यह पवारजी का पसंदीदा क्षेत्र है। २९ नवंबर २००५ को वे भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड के अध्यक्ष नियुक्त हुए। १ जुलाई २०१० को पवारजी ने आंतरराष्ट्रीय क्रिकेट बोर्ड का पदभार ग्रहण किया। जगमोहन दालमिया के बाद वे दूसरे भारतीय है। शिक्षा संस्था पवार जी का शिक्षा संस्था में सक्रिय सहभाग है। निम्न लिखित शिक्षा संस्था में उनका सहभाग रहता है। विद्या प्रतिष्ठान, बारामती क्रुषी विकास प्रतिष्ठान, बारामती रयत शिक्षा संस्था, सातारा वसंतदादा पाटील शुगर इन्स्टिट्यूट, मांजरी पुणे शिव प्रसारक विद्या मंडल, मालेगाव चरित्र व आत्मचरित्र साहेब , लेखक व संपादक-सोपान गाडे लोकनेते शरद राव पवार, लेखक-राम कांडगे Sharad Pawar-A Mass Leader ( Dipak Borgave)

शरद पवार यांचे लोक माझे सांगाती नावाचे मराठी आत्मचरित्र आहे. 

पुरस्कार- पद्मविभूषण २०१७

1990 के दशक[संपादित करें]

चुनाव अभियान के दौरान पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की हत्या कर दी गई। मीडिया में रिपोर्ट है कि पवार का नाम पी.वी. के उन लोगों के साथ साथ प्रधानमंत्री के पद के लिए विचार किया जा रहा था थे नरसिंह राव और एनडी तिवारी हालांकि कांग्रेस संसदीय दल के निर्वाचित पी.वी. अपने नेता के रूप में नरसिंह राव और वह प्रधानमंत्री के रूप में 21 जून 1991 को शपथ ली थी। राव पवार रक्षा मंत्री के रूप में प्रतिष्ठापित करना का फैसला किया। 26 जून 1991 पर, पवार कि पोर्टफोलियो के रूप में पदभार संभाल लिया है, मार्च 1993 तक जारी. महाराष्ट्र में पवार का उत्तराधिकारी के बाद, सुधाकरराव नाईक नीचे कदम रखा, राव पवार राज्य के मुख्यमंत्री के रूप में वापस भेज दिया। उन्होंने मुख्यमंत्री के रूप में अपने चौथे और सबसे विवादास्पद कार्यकाल के लिए शपथ दिलाई गई 6 मार्च 1993 को प्रशस्ति पत्र की जरूरत लगभग तुरंत, मुंबई, भारत की वित्तीय राजधानी है, और महाराष्ट्र राज्य की राजधानी में बम - विस्फोटों की श्रृंखला के साथ 12 मार्च 1993 को हिलाकर रख किया गया था।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]