विसर्पण

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
ग्लेशियर में बर्फ की गति, ठोस पदार्थों में विसर्पण (क्रीप) का एक उदाहरण है।

पदार्थ विज्ञान में, लगातार प्रतिबल के प्रभाव में बने रहने पर किसी ठोस पदार्थ की धीरे-धीरे अपना आकार/रूप बदल देने की प्रवृत्ति विसर्पण (creep) कहलाती है। इसे मन्द विरूपण और शीत प्रवाह (cold flow) भी कहते हैं। यह लंबे समय तक उच्च स्तर के तनाव (किन्तु उस पदार्थ के पराभव सामर्थ्य से कम) के परिणामस्वरूप हो सकता है । उन पदार्थों में विसर्पण अधिक गंभीर समस्या है जो लंबे समय तक अधिक ताप (आम तौर पर उनके गलनांक के पास) पर बने रहते हैं।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

संदर्भ[संपादित करें]