"अवोगाद्रो का नियम": अवतरणों में अंतर

नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
सम्पादन सारांश नहीं है
छो (106.66.3.50 (Talk) के संपादनों को हटाकर रोहित साव27 के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया)
टैग: वापस लिया
No edit summary
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब संपादन
 
: ''समान [[तापमान|ताप]] व [[दाब]] पर सभी [[आदर्श गैस|आदर्श गैसों]] के समान [[आयतन]] में कणों या अणुओं की संख्या समान होती है। ''
 
(Equal volumes of ideal or perfect gases, at the same temperature and pressure, contain the same number of particles, or molecules.) Class 11th NCERT ke anusar आवोगाद्रो का नियम सन 1811 में आवोगाद्रो ने प्रस्तावित किया कि समान ताप और दाब पर सभी गैसों के समान आयतन में अणुओं की संख्या सामान होनी चाहिए उन्होंने परमाणु और अणु के बीच अंतर व्याख्या की जो आज आसानी से समझ में आती है यदि हम हाइड्रोजन और ऑक्सीजन की जल बनाने की अभिक्रिया को दोबारा देखे तो यह कह सकते हैं कि आयोजन के दो आयतन और ऑक्सीजन का एक आयतन आपस में संयुक्त होकर जल के दो आयतन देते हैं और ऑक्सीजन लेश मात्र भी नहीं बचती ese agadhro ke rule smjha jata hai
 
== परिचय ==
गुमनाम सदस्य

नेविगेशन मेन्यू