वास्तविक प्रतिबिम्ब

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
उत्तल लेंस तथा अवतल दर्पण से निर्मित वास्तविक प्रतिबिम्ब

प्रकाशिकी में जब किसी वस्तु से निकलने वाली किरणें प्रकाशीय युक्ति/युक्तियों से निकलने के बाद वास्तव में किसी बिन्दु पर मिलतीं हैं तो उस बिन्दु पर वास्तविक प्रतिबिम्ब (real image) बनता है। जिस तल में किरणें मिल रहीं हैं, उस तल पर कोई पर्दा (स्क्रीन) रखा जाय तो प्रतिबिम्ब उस पर्दे पर दिखेगा। वास्तविक प्रतिबिम्ब के कुछ उदाहरण नीचे दिये गये हैं-

  • (१) सिनेमा के परदे पर दिखने वाली प्रतिबिम्ब वास्तविक है। यह प्रक्षेपक से आती है।
  • (२) कैमरा के डिटेक्टर (फिल्म, या अन्य चीज) पर बनने वाली प्रतिबिम्ब ,
  • (३) आँख के रेटिना पर बनने वाली प्रतिबिम्ब भी वास्तविक है। आंख के अन्दर एक फोक्स दूरी बदलने में सक्षम उत्तल लेंस होता है।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]